Thursday, November 01, 2012

'विदेह' ११६ म अंक १५ अक्टूबर २०१२ (वर्ष ५ मास ५८ अंक ११६) PART IV


३. पद्य









३.७.१.बाल मुकुन्द पाठक- किछु गजल २.सन्दीप कुमार साफी- दूटा कविता

३.८.१.विनीत उत्पल- गजल २.अनिल मल्लिक- गजल ३.किशन कारीगर- (हास्य कविता)
  
जगदीश चन्द्र ठाकुर अनिल
की भेटल आ की हेरा गेल  (आत्म गीत)- (आगाँ)

बिजली कौखन कऽ अबै छली
किछु हँसै छली, किछु कनै छली
सभ बाट अहिल्या सन शापित
नित बाट रामकेर तकै छली

निशिचरक उपद्रवसँ सभठाँ
छल यज्ञस्थल सभ घिना गेल,
हम सोचि रहल छी जीवनमे
की भेटल आ की हेरा गेल।
हम थहाथही करइत रहलहुँ
अन्हड-बिहाड़ि भोगइत रहलहुँ
कूकुर, हाथी आ गहुमनसँ
डरइत रहलहुँ, भगइत रहलहुँ

बतहा हाथी केर तरबा तर
चुट्टी अनगिनती पिचा गेल,
हम सोचि रहल छी जीवनमे
की भेटल आ की हेरा गेल।

हम देखलहुँ सबहक सोझाँमे
बकरीमे खुट्टा बान्हल अछि
सौंसे आकाशक बदलामे
कागत एक टुकड़ी तानल अछि

निर्वासित रहबा केर दुख छल
मैथिलीक भाग्यमे लिखा गेल,
हम सोचि रहल छी जीवनमे
की भेटल आ की हेरा गेल।

देखलहुँ हम नवगछुलीकेँ
देखलहुँ हम पुरना गाछीकेँ
देखलहुँ हम गाछक धोधरिकेँ
देखलहुँ हम गाछक बाँझीकेँ

छल हहरि गेल सभ गाछ, मुदा
लत्ती-फत्ती सभ मोटा गेल,
हम सोचि रहल छी जीवनमे
की भेटल आ की हेरा गेल।

मनकें जे आलोकित केलक
से छल इजोत मिथिला मिहिर
मिथिला दर्शनमाटि पानि
भारतीआ विद्यापति पर्वक

जय जय भैरविकेर शंंखनाद
चेतना-भूमिमे समा गेल,
हम सोचि रहल छी जीवनमे
की भेटल आ की हेरा गेल।

यात्री, हरिमोहन जगा गेला
नित नऽव पराती सुना गेला
आंगन-आंगन आ घर-घरमे
मैथिलीक पूजा सिखा गेला

जय मैथिलीकहइत-कहइत
छल आँखि हुनक डबडबा गेल,
हम सोचि रहल छी जीवनमे
की भेटल आ की हेरा गेल ।


 
ऐ रचनापर अपन मंतव्य ggajendra@videha.com पर पठाउ।
१.जगदीश प्रसाद मण्‍डलक लगभग दर्जन भरि‍ गीत २.मिहिर झा
गजल ३.अमित मिश्र-भगवती गीत/ गजल ४.अच्‍छे लाल शास्‍त्री- दूटा कविता



जगदीश प्रसाद मण्‍डलक
लगभग दर्जन भरि‍ गीत

भीख मांगि‍......

भीख मांगि‍ दुनि‍याँ भि‍खारी
दानी शि‍व कहबै छी यौ।
हे यौ भोलानाथ
दानी शि‍व कहबै छी यौ।

राि‍त-दि‍न समैट‍-समटै छी
भीखमंगा कहबै छी यौ
धड़ि‍ भीख धारा बनै छी
धार भीख बहबै छी यौ
धार भीख......।

खि‍खर सि‍र अकुर-सकुर
चोटी सि‍र पकड़ै छी यौ
धार बनि‍ धड़ा-धड़ा
पहुँच समुद्र धड़ै छी यौ।
पहुँच समुद्र......।

हे यौ भोला बाबा
पहुँच समुद्र धड़ै छी यौ।





बकरी खुट्टी......

बकरी खुट्टी खुटेस-खुटेस
जि‍नगी पाठ पढ़ै छै।
कुन्‍ज भवन, लाल बि‍हारी
लीला रचि‍ रास करै छै।
लीला रचि‍......।

रंग-बि‍रंगक पात खुआ
रस अमरीत चुसै छै।
मन मक्‍खन चोरि‍ छोड़ि‍
गरदनि‍ बान्‍ह पड़ै छै।
मीत यौ, गरदनि‍......।

बीर्त रहि‍तो बकरी जेना
साँढ़-धाकर कहै छै।
मनहाएल-मनहाएल रहि‍तो
उरीति‍ रीति‍ गबै छै।
मीत यौ, उरीति‍......।





अमरा अँचार......

अमरा अँचार चटै छै
मीत यौ, अमरा अँचार चटै छै।

अमौर-मौर बनि‍ बना
अबि‍ते रस बदलै छै।
पानि‍ जीह पाबि‍ पनि‍या
चहटि‍ चुहुटि‍ धड़ै छै।
मीत यौ......।

जेहने फड़क रंग-रूप
तेहने ते पातो धेने छै।
नमहर-नमहर गीरह-गाँठ
बि‍नु गि‍रहेक डारि‍ पकड़ै छै।
मीत यौ......।

चटि‍ते अचार अम अमड़ि‍
अमरजोत देखै छै।
जीवन जन छोड़ि‍-मोड़ि‍
मरण वाणि‍ पकड़ै छै।
मीत यौ......।





घरे-घरे......

घरे-घरे ज्‍योति‍ दीप
गाम अन्‍हार पड़ल छै।
घरे-घर समाज कहि‍-कहि‍
अध-मरल गाम पड़ल छै।
अध-मरल......।

इति‍हास मि‍थि‍ला कहि‍
पुर जनक धाम बनल छै।
वक्र आठ गीत गाबि‍
ज्‍योति‍रमान जगै छै।
ज्‍योति‍रमान......।

बनि‍ कनि‍याँ-पुतरा कठपुतरी
मूक नाच नचैत रहै छै।
राति‍-दि‍न एकबट्ट बरहबट बनि‍
नाचि‍ नाच नचैत रहै छै।
नाचि‍ नाच......।





बेटी कि‍अए......

बेटी कि‍अए बनेलौं, शि‍व यौ
बेटी कि‍अए बनेलौं।
भूख पेट दुख बनि‍ बना
हमरे कि‍अए सजेलौं
हमरे कि‍अए......।

सजि‍ साजि‍ सि‍र सजा
सजायाक्‍ता कि‍अए बनेलौं
कि‍छु ने कामना मनमे ठनने
एहेन कि‍अए बनेलौं।
बेटी कि‍अए......।

मन-मन माली बैसल छै
मालि‍न कि‍अए बनेलौं
मन-मलि‍न मुँह कानि‍-कानि‍
बेटी कि‍अए बनेलौं।
हे शि‍वदान हे बमभोला
बेटी कि‍अए बनेलौं।





मनक भाव......

मनक भाव समेटि‍-समेटि‍
मनोभाव पनपए लगै छै।
सुभाव अभाव कुभाव भव
रूप रंग सजबए लगै छै।
रूप रंग......।

महकि‍ महि‍ परखि‍ नि‍खारि‍
भवन भव सि‍रजए लगै छै।
उक-भाव लपकि‍ लपाक
बि‍न भावुक सजबए लगै छै।
बनि‍ भावुक......।

भाव-भावुक रमकी-चमकी
भाव लोक सि‍रजए लगै छै।
आनन कानन मानन मानि‍
भवानन कहबए लगै छै।
भवानन......।





ि‍सरजन सि‍र......

सि‍रजन सि‍र पकड़ि‍-पकड़ि‍
जड़ि‍ धरती धड़बै छै।
पति‍-पन पाँति‍ पति‍या
उपवन-वन सजबै छै।
भाय यौ, उपवन......।

सजि‍ते वन उफनि‍ उपनि‍
धरती धार बहबए लगै छै।
सुध-असुध कहि‍ सुनि‍-सुनि‍
घटि‍-बढ़ि‍ घाट बनबए लगै छै।
भाय यौ, घटि‍-बढ़ि‍......।

कोने-कानी कुटि‍-कुटि‍
धोबि‍ घाट सेहो बनबै छै।
नि‍रजन, नि‍रमल बसि‍-बसु
हारि‍-जीत दुनि‍याँ कहै छै।
भाय यौ, हारि‍-जीत......।


‍ 




दूधक भूखल......

कनि‍-कनि‍ कानि‍ कहै छै।
कमी-कमी कान पकड़ि‍ पेकड़ि‍
जड़ि‍ कनु अंग धड़ै छै।
भाय यौ, जड़ि‍ कनु अंग धड़ै छै।
कनि‍-कनि‍......।

रंग-रंग कनजरि‍ बनि‍ वन
रंग-रंग मुँह धड़ै छै।
रंग-रंग सुनि‍ गुण-गुनि‍
फलाफल मुँह छि‍टकै छै।
कनि‍-कनि‍......।

जड़ि‍ कोनो फल फलागम
कोनो फुलहरि‍ झड़ै छै।
जड़ि‍-जड़ि‍ कनकि‍-कनकि‍ कान
कलशल डारि‍ कहबै छै।
अपेछि‍त, कलशल डारि‍ कहबै छै।
कनि‍-कनि‍......।




संगे-संग......

संगे-संग न्‍यों घरक खुना गेल
मीत यौ, एके संग न्‍यों खुना गेल।
मीत यौ, ई गड़बड़ भेल उ गड़बड़ भेल?
नै यौ, हँ यौ, हँ यौ, नै यौ, हँ....।
संगे-संग......।

अदलि‍ नीक बदलि‍ अधला
अदलि‍-बदलि‍ बदला गेल।
गारा गर पकड़ि‍-पकड़ि‍, मीत
गारा घेघ बनबैत गेल, मीत यौ.....।
संगे-संग......।

बाम दहि‍न बनु बुझने-सुझने
छटि‍ बाम बूच छटि‍या गेल।
डाली कसतारा सजि‍ सजबए
ई अधला भेल, मीत यौ ई अधला भेल।
संगे-संग......।




चोटी छुबै......

चोटी छुबै चट-चटि‍या
चटि‍या चाट सि‍खै छै।
जीनगानि‍क रंग रभस
जि‍न्‍दादि‍ली गाबै छै।
चोटी छुबै......।

बून-बून अकास बनि‍-बनि‍
धड़-धरती छुबैत रहै छै।
चूह चुहुट साटि‍ सटि‍ छती
दूध-फूल बनबै लगै छै।
चोटी छुबै......।

करम-धरम खेल सि‍र सि‍रजि‍
नचनी नाच नचैत रहै छै।
बाट-बटोही पकड़ि‍-पकड़ि‍
मूंगबा मुँह वि‍लहि‍ चलै छै
चोटी छुबै......।

मिहिर झा
गजल
सारंगीक तार पर जेना फिरैत उँगरी
जूता पर टकुआ संग छै चलैत उँगरी

देश बनल कूडा डिब्बा फैलल सौंसे गंध
कौखन एम्पायर जेकाँ छै उठैत उँगरी

अंग अंग कानि उपर आनि सेहो भरल
लंकाक छोट रहितो छैक तनैत उँगरी

छौड लपेट माछ के निकबैत आ तरैत
पिठाड सों सामा चकेबा के ढोरैत उँगरी

छैक गाम अलग कुल परिवारो अलग
हृदय मिलबै छै सिंदूर करैत उँगरी



अमित मिश्र
भगवती गीत

 
राति सुनहरी,उगल इजोरीया ,चक-मक चमकत चान यौ
भऽ कऽ शेर सबार एथिन मैया हमरो गाम यौ

 
कार्तिक एनिन  गणपति एथिन ,संगमे सब बहिनियाँ एथिन
ललका चुनरी शोभैत हेतै ,रूपसँ मनमोहिनी हेथिन-2
सब मिल करबै हमहू-2बारम्बार प्रणाम यौ
भऽ कऽ शेर सबार . . . . . . .

 
निमियाँकेँ छाँवमे अम्बे ,बनौथिन अपन डेरा यौ
गीतो हेतै झालियो बाजतै ,और बाजतै नगाड़ा यौ-2
झूमऽ लागथिन मैया भवानी-2 संग-संग सगरो गाम यौ
भऽ कऽ शेर सबार . . . . . .

 
कष्ट सबहक दूर करथिन ,करथिन नैया पार यौ
अरहुल फूलक माला बनाबू ,चलू अम्बे द्वार यौ-2
अन्तमे जयकारा लगाबू-2 लऽ दुर्गाकेँ नाम यौ
भऽ कऽ शेर सबार एथिन मैया हमरो गाम यौ-6

 
गजल

उठि कऽ बैसल मरदबा एखनी कुच्छो होतै की
छै समय ई भोरका एखनी कुच्छो होतै की

 
साँप दू मूँहाँ भरल छै सगर घरमे की करबै
बीनपर कठफोड़बा एखनी कुच्छो होतै की

नोट हमरे लोककेँ संग हमरे थानेदारो
देश हमरे चोरबा एखनी कुच्छो होतै की

बाण चललै कोन देखू करेजा छलनी भेलै
घावमे छल नेहिया एखनी कुच्छो होतै की

चान धरि पहुचल मनुख आब तारापर चलि जेतै
काल्हि घर ओतै मुदा एखनी कुच्छो होतै की

पाँति किनको छै गजल हमर भेलै ई कर्मक फल
बादमे लिखबै कता एखनी कुच्छो होतै की

2122-2122-1222-222
 
अच्‍छे लाल शास्‍त्री
पि‍ताक नाओं स्‍व. बि‍लट यादव
गाम- सोनवर्षा

कवि‍ता-
कि‍सानक भेल पि‍सान

देखू सभ जन महग भेल समान
जखन सभसँ सस्‍ता बि‍कैत धान।
कि‍यो अछि‍ चलैत चि‍बबैत पान
जखन अखन कि‍सान भेल पि‍सान।

खेल करैत अछि‍, बीचक दलाल
तेजगर चक्कूसँ करैत हलाल।
अछि‍ भड़ैत दूनू जेबीमे माल
हाल देखि‍ रहल छी सालक साल।

ठोकि‍ रहल अछि‍ सभ समस्‍या ताल
सभ दि‍न कि‍सानकेँ बजरल ताल।
नै कहैत कि‍यो कि‍नको हाल
कहि‍यो दाही अछि‍ कहि‍यो अकाल।

नै एकता जाधरि‍ कि‍सानक भेल
चलैत रहत ताधरि‍ एहने खेल।
कृषि‍ लागतपर हुअए उचि‍त दाम
खुशी हुअए सभ लोक गामक गाम।

जखन कि‍सानपर अछि‍ देशक ताज
सभसँ कमजोर कि‍एक हुनक अबाज।
सरकारकेँ चाही वि‍शेष धि‍यान
सभ बात जानि‍ रहला भगवान।


आबो चेत चलू

जहन हम मनुख बनि‍ एलौं ऋृषि‍-मुनि‍क देशमे
ति‍याग तपस्‍या दान परोपकार उद्देश्‍यमे।
अखनो नै बाजू सूनू देखू कोनो झूठ
असत्‍य अत्‍याचार तोड़ि‍ रहल सत्‍यक घूठ।
देखलौं न्‍यालय-कचहरीमे झूठक बेवहार
राखि‍ मि‍लान केहेन करैत एहेन वि‍चार।
स्‍वदेशीसँ स्‍वदेशी टाका कमा रहल अछि‍
देशक जन-धन प्रगति‍क क्षण सभ गमा रहल अछि‍।
कानून देशक नै मालि‍क जानि‍ रहल अछि‍
गलती करैत चलती धरैत फानि‍ रहल अछि‍।
अंग्रेज भागि‍ गेल मुदा रहि‍ गेल बनल डगर
पूर्खाक कृति‍ धूमि‍ल भेल सगर गाम-नगर।
स्‍वदेश प्रेम नै जि‍नका ओ बनलाह दलाल
नमक हराम देशक देशकेँ करैत हलाल।
कानून जानि‍ मानि‍ प्रगति‍ करैत चलू देसमे
जहन हम मनुख बनि‍ ेएलौं ऋृषि‍-मुनि‍क देशमे।

ऐ रचनापर अपन मंतव्य ggajendra@videha.com पर पठाउ। 

No comments:

Post a Comment

"विदेह" प्रथम मैथिली पाक्षिक ई पत्रिका http://www.videha.co.in/:-
सम्पादक/ लेखककेँ अपन रचनात्मक सुझाव आ टीका-टिप्पणीसँ अवगत कराऊ, जेना:-
1. रचना/ प्रस्तुतिमे की तथ्यगत कमी अछि:- (स्पष्ट करैत लिखू)|
2. रचना/ प्रस्तुतिमे की कोनो सम्पादकीय परिमार्जन आवश्यक अछि: (सङ्केत दिअ)|
3. रचना/ प्रस्तुतिमे की कोनो भाषागत, तकनीकी वा टंकन सम्बन्धी अस्पष्टता अछि: (निर्दिष्ट करू कतए-कतए आ कोन पाँतीमे वा कोन ठाम)|
4. रचना/ प्रस्तुतिमे की कोनो आर त्रुटि भेटल ।
5. रचना/ प्रस्तुतिपर अहाँक कोनो आर सुझाव ।
6. रचना/ प्रस्तुतिक उज्जवल पक्ष/ विशेषता|
7. रचना प्रस्तुतिक शास्त्रीय समीक्षा।

अपन टीका-टिप्पणीमे रचना आ रचनाकार/ प्रस्तुतकर्ताक नाम अवश्य लिखी, से आग्रह, जाहिसँ हुनका लोकनिकेँ त्वरित संदेश प्रेषण कएल जा सकय। अहाँ अपन सुझाव ई-पत्र द्वारा ggajendra@videha.com पर सेहो पठा सकैत छी।

"विदेह" मानुषिमिह संस्कृताम् :- मैथिली साहित्य आन्दोलनकेँ आगाँ बढ़ाऊ।- सम्पादक। http://www.videha.co.in/
पूर्वपीठिका : इंटरनेटपर मैथिलीक प्रारम्भ हम कएने रही 2000 ई. मे अपन भेल एक्सीडेंट केर बाद, याहू जियोसिटीजपर 2000-2001 मे ढेर रास साइट मैथिलीमे बनेलहुँ, मुदा ओ सभ फ्री साइट छल से किछु दिनमे अपने डिलीट भऽ जाइत छल। ५ जुलाई २००४ केँ बनाओल “भालसरिक गाछ” जे http://www.videha.com/ पर एखनो उपलब्ध अछि, मैथिलीक इंटरनेटपर प्रथम उपस्थितिक रूपमे अखनो विद्यमान अछि। फेर आएल “विदेह” प्रथम मैथिली पाक्षिक ई-पत्रिका http://www.videha.co.in/पर। “विदेह” देश-विदेशक मैथिलीभाषीक बीच विभिन्न कारणसँ लोकप्रिय भेल। “विदेह” मैथिलक लेल मैथिली साहित्यक नवीन आन्दोलनक प्रारम्भ कएने अछि। प्रिंट फॉर्ममे, ऑडियो-विजुअल आ सूचनाक सभटा नवीनतम तकनीक द्वारा साहित्यक आदान-प्रदानक लेखकसँ पाठक धरि करबामे हमरा सभ जुटल छी। नीक साहित्यकेँ सेहो सभ फॉरमपर प्रचार चाही, लोकसँ आ माटिसँ स्नेह चाही। “विदेह” एहि कुप्रचारकेँ तोड़ि देलक, जे मैथिलीमे लेखक आ पाठक एके छथि। कथा, महाकाव्य,नाटक, एकाङ्की आ उपन्यासक संग, कला-चित्रकला, संगीत, पाबनि-तिहार, मिथिलाक-तीर्थ,मिथिला-रत्न, मिथिलाक-खोज आ सामाजिक-आर्थिक-राजनैतिक समस्यापर सारगर्भित मनन। “विदेह” मे संस्कृत आ इंग्लिश कॉलम सेहो देल गेल, कारण ई ई-पत्रिका मैथिलक लेल अछि, मैथिली शिक्षाक प्रारम्भ कएल गेल संस्कृत शिक्षाक संग। रचना लेखन आ शोध-प्रबंधक संग पञ्जी आ मैथिली-इंग्लिश कोषक डेटाबेस देखिते-देखिते ठाढ़ भए गेल। इंटरनेट पर ई-प्रकाशित करबाक उद्देश्य छल एकटा एहन फॉरम केर स्थापना जाहिमे लेखक आ पाठकक बीच एकटा एहन माध्यम होए जे कतहुसँ चौबीसो घंटा आ सातो दिन उपलब्ध होअए। जाहिमे प्रकाशनक नियमितता होअए आ जाहिसँ वितरण केर समस्या आ भौगोलिक दूरीक अंत भऽ जाय। फेर सूचना-प्रौद्योगिकीक क्षेत्रमे क्रांतिक फलस्वरूप एकटा नव पाठक आ लेखक वर्गक हेतु, पुरान पाठक आ लेखकक संग, फॉरम प्रदान कएनाइ सेहो एकर उद्देश्य छ्ल। एहि हेतु दू टा काज भेल। नव अंकक संग पुरान अंक सेहो देल जा रहल अछि। विदेहक सभटा पुरान अंक pdf स्वरूपमे देवनागरी, मिथिलाक्षर आ ब्रेल, तीनू लिपिमे, डाउनलोड लेल उपलब्ध अछि आ जतए इंटरनेटक स्पीड कम छैक वा इंटरनेट महग छैक ओतहु ग्राहक बड्ड कम समयमे ‘विदेह’ केर पुरान अंकक फाइल डाउनलोड कए अपन कंप्युटरमे सुरक्षित राखि सकैत छथि आ अपना सुविधानुसारे एकरा पढ़ि सकैत छथि।
मुदा ई तँ मात्र प्रारम्भ अछि।
अपन टीका-टिप्पणी एतए पोस्ट करू वा अपन सुझाव ई-पत्र द्वारा ggajendra@videha.com पर पठाऊ।

'विदेह' २२४ म अंक १५ अप्रैल २०१७ (वर्ष १० मास ११२ अंक २२४)

ऐ  अंकमे अछि :- १. संपादकीय संदेश २. गद्य २.१. डॉ. कैलाश कुमार मिश्र -    मैथिलानी केर उपराग राम सं आ समाज ...