Sunday, August 12, 2012

'विदेह' १११ म अंक ०१ अगस्त २०१२ (वर्ष ५ मास ५६ अंक १११) PART IV




मुन्नाजी              
विहनि कथा संसार
अदौ कालसँ चलि आबि रहल अछि कहबाक परिपाटी। कहबाक लेल समाद होइ छै। मुदा ओ क्षणिक सूचना मात्रा होइछ। कहबाक बेगरताक मूलमे यदि कथ्य वा कथानक हुअए। कहबाक लेल समादक विस्तार हुअए ओ कोनो फलकपर विस्तार लऽ कहऽ बलाक पूर्ण विचारकंे संप्रेषित करए, सएह कथाक नाम पबैछ। कथा एक लोकसँ दोसरा लोक धरि एक पीढ़ीसँ दोसरा पीढ़ी धरि मौखिक रूपेँ हस्तान्तरित होइत रहल। से तहिया भेल जहिया लिखबाक जनतब वा सरंजामक अभाव छल।
कथा लेखनक प्रारम्भमे कथ्यकेँ सोझाँ-सोझी राखि देल जाइत छल। ओकर मूल बातकेँ बढ़ा-चढ़ा प्रस्तुत कएल जाइत छल, मुदा हुबहु। जेना पहिने मौखिक हल तकरे प्रतिरूप। ई प्रतिरूप समायन्तरे क्रमिक स्तरपर परिवर्तित होइत रहल। कथाक लेल अंग्रेजीमे स्टोरी शब्द अछि। आगू एकरा गढ़बाक प्रक्रिया आ पछाति मढ़बाक प्रक्रिया शुरू भेल, जे शैलीक रूपेँ सोझाँ आएल। फेर विकासक क्रमे एकरा अगिला चरणमे एकटा औसत सीमामे बान्हल जाए लागल, ओहो कथा रहल मुदा अंग्रेजी शब्द परिवर्तन कऽ नाम फरिछाएल शॉर्ट स्टोरी।
मैथिली सहित अन्यान्यो भाषामे शॉर्ट स्टोरीक शाब्दिक अर्थ लघुकथा कहि प्रारम्भ भेल छोट-छोट कथा रचना। आ ओइ लघुकथाक छोट आकारकेँ सेहो लघुकथाक नामे लिखल आ प्रकाशित कएल जाए लागल। आब लोककेँ व्यस्ततामे ई छोट-छोट कथा सोहाए लगलै। आ पाठकीय उत्साह रचनाकार मनोबल बढ़बैत आत्मविश्वासकेँ दूना केलक। परिणाम स्वरूप ध्ुरझार लिखाए लागल अतिलघुकथा।
‘लघुकथा’ अछि हिन्दी भाषासँ लेल गेल शॉर्ट स्टोरीक उधारी शब्दकोषीय अनुवाद। तकर कारण रहल-पहिल, एकटा नव विधा देखिते मैथिली रचनाकार सब देखाउँसे लिखऽ लगला छोट अकारक कथा। दोसर, जेना हिन्दी साहित्य लेखन अंग्रेजी साहित्यसँ प्रभावित हेबाक संकटसँ उबरि नै पबैए तहिना मैथिली साहित्य रचना, विदेह मैथिली साहित्य आन्दोलसँ पहिने, बहुत लग धरि (पूर्णतः नै) हिन्दी साहित्य लेखनसँ आच्छादित छल। तेँ मैथिली रचनाकारकेँ कखनो एकर मैथिली शब्द जेना हिन्दीक ‘कहानी’ मैथिलीमे ‘कथा’ अछि, (हिन्दीयोमे ठाम ठीम स्टोरीकेँ ‘कथा’ शब्देँ प्रयुक्त देखल जाइए) से नै फुराएल हेतन्हि। तेँ ओ अपने अतिलघुकथाकेँ लिखैत रहलाह लघुकथा। ईहो सोलह आना सत्य अछि जे ई नव विधा जहन मैथिलीमे हस्तान्तरित भेल तखन सनातनीये अतिलघु आकार-मात्राक कथा छल । एकर विकसित रूप तँ बीसम सदीक अन्तिम दशकमे देखाए लागल। जहन कि तकनीकी शिक्षा वा व्यावसायिक शिक्षासँ लगीच एवं वैश्विक परिवर्तनसँ प्रभावित नवका लोकक नव सोच विकसित भेल।
अइ विधाक स्वतंत्र रूपक फरिछौट भेलाक पछाति बेगरता भेल ऐ विधा लेल अपन माटि-पानिसँ जुड़ल, अप्पन भाषिक शब्दक। वर्ष १९९५ मे ‘सहयात्री मंच’ लोहना, मध्ुबनीक साहित्यिक विमर्श प्रस्ताव रखलौं। जकरा हुलसैत सहृदये मैथिलीक कवि, कथाकार श्री राज द्वारा समर्थन कएल गेल। उपस्थित सम जन समवेते स्वीकार कएलनि। उपस्थित जन छलाह- श्री शैलेन्द्र आनन्द, भवनाथ भवन, कुमार राहुल, विजयानन्द हीरा, सच्चिदानन्द सच्चू एवं अन्यान्य।
विहनि कथा (सीड स्टोरी), बीज कथा; स्वयंमे कथाक पूर्ण रूप अछि विहनि कथा। ई ने छोट अकारक कथा छी, आ ने कोनो कथाक छेँट। सामान्येतया कथा कतेको बिन्दुकेँ छुबैत बिरड़ो जकाँ उधियाइत पाठककेँ अपन उद्वेश्य कहबामे सक्षम भऽ पबैए। मुदा विहनि कथा माने  बीज कथा स्वयंमे संपूर्ण कथा अछि। जे पाठककेँ एक मात्र अपने खुटापर खुटेसल सन राखि अपन उद्देश्यक पूर्णताकेँ एक क्रममे बिकछा लेखकीय मनस्थितिकेँ फरिछा दैए। आ पाठक ओइ सोचकेँ हुबहु मगजमे समा स्थिर भऽ जाइए।  
विहनि कथा एकटा बीया सन छोट की पैघ संपूर्ण गाछ हेबाक सामर्थ्य रखैए। तहिना विहनि कथा आकारेँ लघु होइतो कथाक सभ पक्ष, कथ्य, शिल्पकेँ एक खास बिन्दुपर समेटि कथाक संपूर्णता प्रदर्शित करबामे सक्षम अछि। जेना बीया पारबाक पछाति अँकुराइए, फेर दुपतिया सन देखाइत एकटा गाछक रूपमे अपन संपूर्णता पबैए तहिना विहनि कथा भूमिका, कथ्यक स्पष्टीकरणक संग सोद्देश्ये गढ़ल आ मढ़ल जाइए आ लेखकक समस्त विचारकेँ छोट आकारमे सोद्देश्यपूर्ण बना उजागर करबामे सक्षम होइए। जेना कोनो बीया अंकुरा कऽ गाछक सभ पक्ष यथा डारि, पात आदिसँ युक्त होइछ एकटा ठुट्ठ गाछ मात्र नै। तहिना विहनि कथा समस्त गुणेँ भरल-पूरल कथा छी। एहेन कथा नै जे दृष्टांत मात्र भऽ ठमकि जाए। एहेन कथा नै जकर कोनो ओर-छोड़ नै हुअए। विहनि कथा एहनो कथा नै अछि जकरा पूरा पढ़लाक पछाति लेखकक लेखन उद्देश्य बुझबाक लेल कात-करोट मुरियारी देबऽ पड़ए। एकर उद्देश्य सोझाँ सोझी फरिछाएल होइछ।
विहनि कथा लघु अकारे शुरू भेल। आइ ई लघुकायमे ओइ लघुकथाक एकटा विकसित रूप अछि जे संभवतः मैथिलीमे बीसम सदीक अन्तिम दशकमे अपन स्वतंत्र रूपक वा विधाक फरिछौट करबामे सक्षम भऽ सकल। विहनि कथाक संपूर्णताकेँ ऐ तरहँे कहल जा सकैछ- विहनि कथा कथाक संपूर्ण गुणक संग ओइसँ ऊपर उठि, अपन लघुकायमे समेटल एक निश्चित बिन्दुपर ठाढ़ भेल लेखकक उद्देश्यक पूर्ति करबाक संग पाठकक मगजक भरपूर खोराक अछि।
विहनि कथा २१म सदीमे रचनाकार, सम्पादक संग-संग पाठकक बीच सेहो फरिछाएल अछि। तकरे कारण अछि जे आब विहनि कथा छोट गातमे अपन सभ संपूर्णता नेने कागजपर उतरि सोझाँ अबैए। आबक समयमे दृष्टि विहीन नै, दृष्टि सम्पन्न रचनाकार सभ अइ विधाक विकासमे लागल छथि। तेँ ई आब नहिये चुटुक्का कहाइए आ नहिये कथाक छेँट वा दृष्टांत। हम पुनः ई स्पष्ट करैत कहब जे- विहनि कथा ठोस कथ्य, माँजल शिल्पमे कोनो विषयपर वर्णित ओ वौस्तु थिक जे पाठकक मन-मस्तिष्कपर चोट कऽ ओकरा सम्वेदित कऽ चिरकालिक छाप छोड़ि सकबामे सामर्थ्यवान होइए। विहनि कथा, मात्र गुदगुदी करैबला वा चुट्टी काटि बिसबिसी दैबला वौस्तु नै रहि गेल आब। ई रचनाकार आ पाठकक मोनमे समा स्थिर भऽ जाइ बला कथा थिक।
आजुक व्यस्त जीवन मध्य लोककेँ कखनो ओतेक पलखति नै भऽ पबै छै जे ओ आब घंटा-घंटा भरि बैसकी लगा एके रचना पढ़ि मोनकेँ सांत्वना देत। क्षण-क्षण बदलैत परिस्थिति, बदलैत छेब-छटा आ तइ हेतु अधिकसँ अधिक अर्थक जोगार मध्य कटि जाइछ लोकक जिनगी। आजुक लोककेँ मीडियासँ क्षण-क्षण नव आ रोमांचित करएबला खोराक भेटि जाइत अछि तेँ साहित्यक प्रति बहुत रूचि नै बाँचब स्वाभाविक अछि। ओना आइयो उपन्यासकेँ खूब पढ़ल जाइछ। मुदा ओकरा आम पाठक मात्रक खोराक नै कहि सकै छी। तेँ रचनाकारकेँ सेहो आब सम्हरि कऽ सशक्त आ अल्प पलखतिक बीच सामंजस्य बैसाबऽ बला रचना करब आवश्यक अछि। रचनाकार, विशेष कऽ विहनि कथाकारक ई पहिल दायित्व बनैए जे ओ समयक संग चलि पाठकक समय संग भेल व्यस्तताकेँ देखि ओज आ सरल भाषिक रचनासँ विहनि कथा संसारमे योगदान सामर्थ्य हासिल करथु।
पाठकक आजुक क्षण-क्षण बदलैत परिस्थिति मध्य विहनि कथाकारो जिबैत छथि। तँ ओ यदि आजुक बेहाल अर्थ तंत्र, मशीनी युगक मध्य लोकक मशीन सन हएब परिस्थितिकेँ गसिया कऽ पकड़थु। आ अही परिस्थितिकेँ पाठकक सोझाँ परसि कऽ पाठककेँ मजगूती देबामे अपनाकेँ सक्षम करबाक शक्ति अर्जित कऽ रचनारत रहथु। तहन विहनि कथा, विहनि कथाकार आ पाठकक मध्य सामंजस्य बैसि पाओत। पाठकक प्रत्येक क्षणक व्यस्तता, किछु नव करबाक सनक, अर्थोपार्जनक पाछाँ भगैत रहलासँ उपजल तनावसँ मुक्तिक साधन सेहो अछि विहनि कथा। पाठक जखन सभसँ विलग अल्पावधिक लेल खाली भेटल समयक उपयोग करऽ चाहैए तँ ओकर संग देबामे सक्षम अछि विहनि कथा। ऐ सभ बेगरता पूर्ति करबामे सक्षम विहनि कथा अपन फराक जगह छेकबामे सक्षम भेल अछि।
आब विहनि कथाकार जखन समय संग चलि पाठकक मनोस्थितिक अनुकूल रचना देबामे सामर्थ्यवान छथि। ओ अपन पहिल दायित्व पाठकक मोनकेँ भाँपि तदनुकूल रचनासँ पाठककेँ बन्हवामे सक्षम भेल छथि। तहन बेगरता उठै छै एकर मूल्यांकनक। वर्तमानमे एहेन कोनो दृष्टि फरिच्छ समीक्षक वा समालोचक देखार भऽ ऐ विद्यापर काज करबामे सक्षम नै भऽ पौलाह अछि। तकर ठोस कारण अछि बदलैत समय आ परिस्थिति मध्य ओहने सोचक सामंजस्य। जे स्थापित समीक्षक छथि से दू तीन दशक पछातिक नजरिये रचनाकेँ देखबाक प्रयास करताह। हुनका ऐ मे भऽ सकैए किछु नै देखाइन। कारण जे ओ सभ कथाक जइ मूलकेँ देखैत भोगैत एलाह अछि विहनि कथा ओइसँ ऊपरक सोच आ फराक शैलीमे अछि। एकर सत्य आ पूर्ण गात तहिया फरिछाएल जहिया मठाधीश समीक्षक सबहक सोच ओइ कथा, ओकर प्राचीन चरित्र मध्य सन्हिया बैसि गेल। समाजक एकटा समस्या मँहगाइ उदाहरण स्वरूप सनातनी आ चिरायु अछि। ई कहियो खत्म होइबला चीज नै अछि। मुदा तैयो एकर चरित्र आ चेहरा सीढ़ी दर सीढ़ी बदलैत रहैए। आ ओइ संग ओइ मँहगाइक प्रतिफल सेहो ओहिना बदलैत नजरि अबैए। यथा यात्रीजीक कवितामे वर्णित मँहगाइ साहित्यमे चर्चित अछि। आइ ओहेन कोनो नव ठोस रचना मँहगाइपर नै अछि। तहिया लोक भूखे मरैत छल, पेट काटि कऽ जिबैत छल। गदैली ओढ़ि सर्दी कटै छल। आजुक मँहगाइ मध्य कियो भूखे नै मरैए। आ सामान्यो वर्गक लोक कम्मल ओढ़ि आ हीटर जरा सर्दी बितबैए। की ई फर्क सनातनी समीक्षक फरिछेबामे सफल भऽ सकताह? किन्नहुँॅ नै। किएक तँ अइ बदलल स्थितिपर ध्यान देबाक पलखति कहाँ छनि। ओ तँ प्रतिक्षा करै छथि रचनाकारकेँ जुएबाक, रचना चाहे खिज्जा रहि जाउन।
कथासँ जुड़ल लोक विहनि कथा मादे विचार कऽ सकैत छलाह। मुदा हुनकर सभक दृष्टि ‘विहनि कथा’क प्रति फरिच्छ नै छनि, उदाहरणतः रंगकर्मी कुणाल, जे नाटकक संभ्रान्त, परिपक्व ज्ञाता छथि ओहो कथापर लिखबा काल विहनि कथाकेँ अस्तित्वहीन कहि बेरा दै छथि। मायानन्द मिश्र मैथिली कथा धाराक मजगूत खाम्ह छथि, ओ लघुकथा (विहनि कथा)केँ चुटुक्काक संज्ञा देलनि। माया बाबूक सोच समीचीन अछि किएक तँ ओ जइ दशकक सोचक लोक छथि तइमे लघुकथा (विहनि कथा) विद्या फरीछ नै छल। तेँ हुनको ऐ प्रति दृष्टि फरीछ नै हएब स्वाभाविक। ओ कथा विकासक आलेखमे लघुकथा (विहनि कथा)क चर्चे केलन्हि सएह बहुत अछि। [मैथिली कथाक विकास नामक आलेख, साहित्य अकादमी दिल्ली सँ प्रकाशित पोथी -‘मैथिली कथाक विकास’- सं. वासुकी नाथ झा, २००३].
विहनि कथा वा कथाकारक मूल्यांकन हेतु विहनि कथाकार स्वयं ऐ दिशामे कान्ह उठाबथि तँ सही मूल्यांकन संभव भऽ पाओत। मैथिली समीक्षाक एकटा कमजोर तत्व ईहो रहल जे ओ रचनात्मक दृष्टियेँ सड़क छाप होइत छथि। फरिछेबाक ई जे ओ अपन गुणगान मात्रा सुनऽ चाहै छथि। आलोचनामे कमी नै वाह वाही हेबाक चाही। जँ समीक्षक द्वारा हुनकर रचनात्मक दोष वा कमीकेँ उघारि सभक सोझाँ कऽ देल गेल तँ समीक्षक भऽ गेला हुनक कट्टर दुश्मन। आ तकर पछाति हुनका, रचनाकारक मुँहे, अज्ञानी, उदण्ड, स्वार्थी आदि संज्ञासँ जानए लागब। ईहो सोलह आना सत्य अछि जे मैथिली समीक्षामे किछु गोटे कृतित्वसँ पहिने व्यक्तित्वकेँ प्राथमिकता दऽ समीक्षा लिखि रइल छथि। तँ जा धरि रचनाकारमे आलोचनात्मक विचार वा कमी सहबाक सामर्थ्य नै हएत, स्वथ्य आलोचना कतऽ सँ टंाग पसारि सकत वा अपन बैसकीपर बैसि अराम कऽ सकत? ओहने किछु रचनाकार सभ द्वारा समीक्षाकेँ ओलि सधेबाक सूत्रक रूप सेहो ठाम-ठीम प्रयुक्त होइत देखाइत रहल अछि।
आजुक विहनि कथा पहिने हिन्दी भाषासँ उधारी लेल शब्द ‘लघुकथा’ नामे लिखाइत रइल। अखन धरिक मौखिक जनतब अनुसारे लघुकथा शब्द प्रयोगे छपल पहिल कथा १९६८ मे मिथिला मिहिर मे काली कुमार दास लिखित ‘बुड़िबक वर’ छल। अइसँ पहिने छेँट कथा, कटपीस कथा, मिनी कथा, फिलर कथा........आदि नामे ई छपैत रहल छल। एकर पछाति जे रचनाकार विहनि कथामे सक्रिय भेला ओ नाम अछि- डॉ हंसराज, ए. सी. दीपक, तकर पछाति लिली रे, राजमोहन झा, एम. मणिकान्त, अमरनाथ, रामलोचन ठाकुर आदि। अइ नाममे सँ बेशी गोटे विहनि कथा लिखबाक प्रयोगधर्मिता मात्रक निर्वहन केलनि। हँ एम. मणिकान्त मिथिला मिहिरक माध्यमे कतेको वर्ष धरि विहनि कथा लेखनक नियमितता बनौने रहला। मुदा दुखद वा हास्यास्पद बात ई जे वर्त्तमानमे हुनक एको टा रचना उपलब्ध नै अछि। डा. हंसराज जी क मैथिलीक पहिल विहनि कथा संग्रह ‘जे की ने से’ (प्रकाशित १९७२ ई.) मैथिली विहनि कथा पेटारक पहिल सनेस कइल जा सकैए। ऐमे हास्य व्यंग्यसँ भरल लघुकायक कुल ३५ गोट विहनि कथा संग्रहित अछि। पन्नापर अंकित वर्षक अधारे एकर सभ रचना १९६३ सँ १९७२ मध्य लिखल रचना अछि। एकर कथा सभ तत्कालीन राजनैतिक सामाजिक कुव्यवस्थापर चोट करैत लिखल गेल अछि। किछु रचना आइयो प्रासंगिक अछि। हंसराज निश्चित रूपसँ विहनि कथा आन्दोलनक बीया बाउग केलनि आ तेँ आइ विहनि कथाक गाछ झमटगर होइत देखाइए।
किछुए वर्ष पछाति हिनकर अगिला पीढ़ीक श्री अमरनाथ अपन ‘क्षणिका’ विहनि कथा संग्रह प्रस्तुत केलन्हि (वर्ष १९७५ ई. पुर्नप्रकाशन २०११ ई.) आ एकरा एक सीढ़ी आओर ऊपर लऽ जेबाक ठोस प्रयास केलनि। ऐ संग्रहक कथा सभ खलील जिब्रानक कथाक लगीच बुझाइए आ सभ बिन्दुकेँ छुबैत रचना कएल गेल बुझाइए। एकर अधिकांश रचना आइयोक समयसँ मेल खाइत बुझाइए। मुदा लेखकसँ दूरभाषिक वार्तालापक अनुसार राजहंस जकाँ हिनको कोनो रचना तत्कालीन पत्रिकामे प्रकाशित नै भऽ सोझे संग्रहित अछि।
वर्ष १९७५ विहनि कथाक स्वर्णिम शुरूआत वर्षक रूपमे देखार भेल बुझाइए जखन ‘मिथिला मिहिर’ (पाक्षिक) अपन विहनि कथा विशेषांक (लघु कथा विशेषांक नामसँ) निकालि मोकाम तँ नै मुदा बाट अवश्ये देखार केलक। ई साहसिक काज भेल कविक द्वारा ऐ नव विधाक लेल। मिथिला मिहिरक अइ विशेषांकक समय सम्पादक छलाह आदरणीय भीमनाथ झा। ओना तँ ‘अन्हरीक गाए बियेलै तँ सभ डाबा लऽ कऽ दौड़ल’ बला कहावत चरितार्थ होइत देखाएल। फेर २३ बर्ख बीति गेल। खएर! बाँझ गाए गाभिन तँ भेबे कएल.....।
कथानकक नब्जक सुन्नर पकड़ि रखनिहार श्री विभूति आनन्द जी जेबी पत्रिका ‘कुश’ क नवम अंक वर्ष-१९७८ मे पत्रिकाक गातक अनुसार छओ गोट विहनि कथाक समावेश कऽ निकाललनि विहनि कथा विशेषांक (लघुकथांक विशेषांक नामसँ)। अही वर्ष १९७८ जुलाइमे साहित्य अकादमी, दिल्ली द्वारा कथापर आयोजित सेमिनारमे परिचित कथाकार श्री रामदेव झा, कथापर प्रसंगे विहनि (लघु) कथाकेँ शामिल कऽ एक अनुच्छेद लिखि एकर विशिष्टता जतौने छलाह। जइमे विहनि (लघु) कथाक वैश्विक पटलपर खलील जिब्रानक चर्चा आ तुलना एवं मैथिली विहनि (लघु) कथाकार मे सँ अमरनाथ जीक योगदानक चर्चा कएने छलाह।
आठम दशक विहनि कथाक संगोरसँ वंचित रहल। मुदा ई विहनि कथा लिखनिहारक एक टा पैघ हेँज तैयार केलक, जइमे प्रमुख नाम अछि- विभूति आनन्द, शैलेन्द्र आनन्द, श्रीराज, प्रेमकान्त झा, वैकुण्ठ झा, देवशंकर नवीन, प्रदीप बिहारी, ताराचन्द्र वियोगी, चण्डेश्वर खाँ आदि। ई समूह रचनाक दृष्टिये नव अँाखि पाँखिबला छल। साम्यवादी विचारसँ प्रभावित मुदा आपत कालक दुर्दशासँ प्रेरित आ पीड़ित। विहनि कथाक पहिल संग्रह १९७२ मे बहराएल दोसर १९७५ ई. मे आ तकर पछाति अकाल! किएक? २२ वर्षक एहेन खालीपन विहनि कथाक इतिहासकेँ ठमकि जेबाक लेल बाध्य केलक। एकर बाधक छलाह तत्कालीन  संपादक, सरकारी आ निजी समिति-संस्था आ प्रकाशक। मुदा तहूँसँ बेशी जिम्मेवार ऐ पीढ़ीक रचनाकार छला जे अपनाकेँ दुनू विधापर कलम चला भरमा लेलनि वा गद्यक ऐ प्रकारक उस्सर खेत देखि डरि कऽ अपनाकेँ कतिया लेलनि। अइ पीढ़ीक कतिपय रचनाकार ऐ विहनि कथा विधाक राशि नवका रचनाकार सभकेँ पकड़ा निश्चिन्त भऽ सुस्ताए लगलाह। कारण छल जे एकर फरिछाएल रूप मध्य अपन अस्तित्व वा कोनो लाभक जोगार वा प्रतिष्ठिा नै नजरि एलनि। अही बीच आएल तन्त्रनाथ झा समग्र, ओइमे सेहो किछु विहनि कथा संकलित अछि।
मैथिली साहित्यक जिरात मध्य विहनिकथाक प्रसंस्कृत बीया नव रूपे बाउग केलनि अइ पीढ़ीक नवतुरिया। जइमे नाम छल ज्योति सुनीत चौधरी, दुर्गानन्‍द मंडल, कपि‍लेश्वर राउत, धीरेन्‍द्र कुमार, राजदेव मंडल, बेचन ठाकुर, राम प्रवेश मंडल, भारत भूषण झा, मानेश्वर मनुज, उमेश मण्‍डल, जगदीश प्रसाद मण्‍डल (बाल विहनि कथा संग किछु सुन्दर विहनि कथा जेना थल-कमल/ घरडीह/ खाता-खेसरा/ सबूत/ कौआक मैनजन), रामकृष्‍ण मण्‍डल ‘छोटू', परमेश्वर कापड़ि, रघुनाथ मुखिया, ऋषि वशिष्ठ, शिव कुमार झा “टिल्लू”, मिथिलेश कुमार झा, सत्येन्द्र कुमार झा, नवनीत कुमार झा, कौशल कुमार, अनमोल झा, कुमार मनोज कश्यप, विनीत उत्पल, धनाकर  ठाकुर, आशीष अनचिन्हार, सतीश चन्द्र झा, गजेन्द्र ठाकुर, भवनाथ भवन, राम वि‍लास साहु, मुन्‍नी कामत, शंभु कुमार सिंह, संजय कुमार मंडल, मि‍थि‍लेश मंडल, लक्ष्‍मी दास, अमित मिश्र, जगदानन्द झा 'मनु', चन्दन झा, ओमप्रकाश झा, सन्दीप कुमार साफी, जवाहर लाल कश्यप, मिहिर झा, रामदेव प्रसाद मण्डल झारूदार, प्रेमचन्द्र पंकज, अखिलेश मंडल, अमलेन्दु शेखर पाठक, मध्ुकर भारद्वाज, श्रीधरम, देवेन्द्र झा, सच्चिदानन्द सच्चु, मिथिलेश कुमार झा, कुमार राहुल, दिलीप कुमार झा “लूटन”, मुन्नाजी आदिक। ऐ पीढ़िक समूह द्वारा विहनिकथा पर ध्ुरझार काज भेल। अइ ठामसँ असली फरिछौट भेल विहनि कथाक। आ हिन्दीक उधारी शब्द लघुकथा सँ विलग खाँटी शब्द- विहनिकथा स्थापित भेल।
बीसम सदीक अन्तिम दशकक पहिल काज भेल स्व. ए. सी. दीपक जी द्वारा ‘विविध विहनि (लघु) कथा विशेषांक (मार्च-१९९४ मे)। तकरा पछाति नवका पीढ़ी सेहो कान्हपर वीरा उठेलक आ शुरू भेल वैश्विक बदलल सामाजिक परिदृश्य, तकनीकीय भेल नव-नव क्रान्तिक संग जनमल नव अवधरणाक संग विहनि कथा लेल नव-नव काज।
१९७५ ई.मे आएल ‘क्षणिका’ क दू दशक बाद १९९५ ई. केँ विहनि कथाक स्मृतिवर्ष कहि सकैत छी। २० फरवरी १९९५ केँ मुन्नाजी एवं मलयनाथक संयोजनमे हटाढ़ रूपौली, मध्ुबनीमे आयोजित भेल विहनि कथा गोष्ठी, जकर अध्यक्षता केलनि पं यन्त्रनाथ मिश्र आ एकर मंच संचालन कुमार राहुल द्वारा भेल। ऐ अवसरपर उपस्थित विहनि कथा पाठ केनिहार छलाह- भवनाथ भवन, मलययाथ मण्डन, प्रेमचन्द्र पंकज, मुन्नाजी, शैलेन्द्र आनन्द, प्रभु कुमार मंडल, मतिनाथ मिश्र, उमाशंकर पाठक, श्यामाचन्द्र ठाकुर, कुमार राहुल, मीरा कर्ण, ललन प्रसाद, सुनील कर्ण, सच्चिदानन्द सच्चु एवं करणजी। पढ़ल गेल रचना सभपर समीक्षीय टिप्पणीकार छलाह- शैलेन्द्र आनन्द, मुन्नाजी, भवनाथ भवन एवं प्रेमचन्द्र पंकज। हमरा जनतबे विहनि कथाक ई पहिल गोष्ठी छल। ५ मार्च १९९५ केँ सहयात्री मंच लोहना, मध्ुबनी द्वारा मुन्नाजीक विहनि कथा ‘नामरद’ क एकल पाठ आ अइ पर ‘बहस’ क आयोजन कएल गेल। अइमे प्रमुख विचारक छलाह- श्रीराज, शैलेन्द्र आनन्द, विजयानन्द हीरा, भवनाथ भवन एवं प्रेमचन्द्र पंकज। हमरा जनतबे विहनि कथा आ कथाकारपर एहेन ‘बहस’ केर ई पहिल आयोजन छल। जुलाइ १९९५ मे कानपुर सँ बहराइत नवतुरिया त्रैमासिक पत्रिकाक विहनि कथा विशेषांक आएल, संपादक छलाह- प्रेमकान्त झा एवं वैकुण्ठ झा। अइमे १९ गोटेक कुल १९ गोट विहनि कथाक समायोजन छल, आ अइ विहनि कथा विधाक फरिछौट कऽ एकरा नव दिशा देखेबाक प्रयास करैत मुन्नाजीक आलेख अछि, जे कि कोनो विहनि कथा विशेषांकमे ऐ तरहक पहिल आलेख थिक। अही दशकमे प्रारम्भ भेल कथा गोष्ठी सेहो विहनि कथाक बाट बनेबा वा फरिछेबामे उत्प्रेरकक काज करैत रहल। कथा गोष्ठीक जुलाइ १९९७ क महिषीक आयोजनमे एके संग दु गोट पोथीक लोकार्पण भेल, ‘खंड-खंड जिनगी’ (प्रदीप बिहारी) आ ‘शिलालेख’ (तारानन्द वियोगी, जइमे कुल ३५ गोट रचना संकलित भेल अछि)।
२१म सदीमे समय आ परिस्थितिकेँ अकानैत सभ रचनाकार खुलि कऽ विहनिकथा दिस जुमल छथि। पत्रिकाक संपादक सभ किछु कोना अइ लेल समर्पित करऽ लगलाह। अइ नव सदीक नव सोचक पहिल विहनि कथा संग्रह आयल- ‘बुझनूक’ (२००२ ई.), एकर रचनाकार श्री वैकुण्ठ झा जी अपन ३६ गोट रचना लऽ ऐ विधाकेँ बाट देखेबाक ठोस प्रयास केलन्हि। एकर बाद तँ संग्रहक झड़ी लागि गेल बुझू। अगिला संगोर हिन्दी मैथिलीक संयुक्त रचनाकार विहनिक कथाक दिशावाहक श्री देवेशंकर नवीन जी अपना कथा संग्रह-‘हाथी चलय बजार’ (२००४ ई. मे ३१ गोट विहनि कथाक संगोर) संग उपस्थिति दर्ज करौलनि। तँ २००५ ई. मे पुरान सोचक ठोस कथाकार श्री मनमोहन झा जी अपन विहनि कथाक संगोर, मिथिलाक निशापुर मे’ आनि एकरा एक डेग आओर आगाँ बढ़ेबाक प्रयास कएलनि। एकर आमुखमे श्री विजय मिश्र जी एकरा गद्य काव्यक संज्ञा देलनि अछि। वास्तवित रूपेँ तँ गद्य काव्य, काव्यक गद्यात्मक शैली थिक। ईहो सत्य अछि जे विहनि कथा गद्य रहि कविताक पूर्णतः लगीच मानल जाइए। मुदा अइमे संकलित २४ गोट रचना विहनि कथे थिक, आन किछु नै। वर्ष २००७ मे “अहींकेँ कहै छी” (सत्येन्द्र कुमार झाक ५१ गोट विहनि कथाक संग्रह) आएल। ई संग्रह विहनि कथाक प्रति पूर्ण सोझराएल आ दृष्टि फरीछ रचना सबहक संगोर थिक। युवा पीढ़ीक बहुविध, प्रतिभा संपन्न लेखक ओ संपादक श्री गजेन्द्र ठाकुर अपन रचना समग्र- कुरूक्षेत्रम् अर्न्तमनक- मे लघुकथाक संग १६ गोट ठोस आ कथ्य ओ शिल्पगते फरिछाएल विहनि कथा आनि विहनिकथा संसारमे श्रीवृद्धि केलनि अछि। अखन धरि एक लिखे चलैत विहनि कथाक लिख सँ हँटि २०१० ई. मे श्री जगदीश मण्डल जी सभसँ इतर बाल मनोवैज्ञानिक विहनि कथा संग्रह ‘तरेगन’ क संग आन रचनाकार केँ सम्मोहित केलनि। २१ म सदीक पहिल दशकक अन्तिम चरणमे मैथिली ई पाक्षिक ‘विदेह’ अइ विहनि कथाक नव इतिहास लिखबा वा बनेबामे अग्रणी मानल जाएत। अपन ६७म अंक विहनि कथा समायोजनमे देशी आ विदेशी ठोस रचनाक संगोर, एवं अइ विहनि कथाक शास्त्रीय विवेचन कऽ अएना स्वरूप झलका एकर बाटकेँ मोकामक लगीच अनबामे ई पूर्णतः सफल भेल अछि। अइ अंकमे कुल ३२ रचनाकारक ७९ गोट रचना अइ विधाकेँ पूर्णतः फरिछा, सभक सोझाँ अनबामे सौ प्रतिशत सक्षम भऽ देखार भेल अछि। संपादकक अलाबे एकर सफलताक श्रेय छन्हि अइ अंकक अतिथि संपादक-मुन्नाजीकेँ। मुन्नाजी जी बड गम्भीरता पूर्वक सभक समायोजन एवं अपन आलेखेँ दोसरो रचननात्मक प्रकृतिकेँ फरिछेबाक सफल प्रयास केलनि अछि।
लगभग दू दशकसँ अइ विधामे रचनात्मक उपस्थिति दर्ज करबैत रहलाह, आ परिणाम “समय साक्षी थिक” २०११ मे आएल, ई संग्रह श्री अनमोल झा जीक कुल १५० रचनाक अपन जिनगीक भोगल यर्थाथक अएना थिक। २०१२ मे “टेक्नलजी” (अनमोल झा) एवं “टीस” (मिथिलेश झा) संग्रह सेहो विहनि कथाक बखारी भरबामे समर्थ बुझना जाइछ। अनमोल जीक १४९ रचनाक संग्रह सनातनी यथार्थ परसैए। ततै मिथिलेश झा जीक ‘टीस’ क ४५ गोट रचना पाठकक मानसिकताकेँ झंकृत करैए। जे कि विहनि कथाक थाती वा धराउ सदृश अनुभव करैए।
१० दि‍सम्बर २०११केँ ‘सगर राति‍ दीप जरय’क ७५म कथा गोष्ठीुक आयोजन पटनामे कएल गेल, ऐ अवसरपर मुन्नाजी द्वारा मैथिलीक पहिल विहनि कथा पोस्टर प्रदर्शनी कएल गेल छल।
ऐ तरहंे विहनि कथा संसारक परिदृश्य पूर्णतः भरल पूरल भऽ गेल अछि। आइ सभ दिन कियो ने कियो स्वाभाविक रूपेँ जुड़ि अपन योगदान दैत एकरा मोकामक ड्योढ़िपर आनि पट खुलबाक प्रतिज्ञामे ठाढ़ देखाइत छथि। मोकाम भेटि गेलै तँ घर पैसैमे समय नै लगतै।

ऐ रचनापर अपन मंतव्य ggajendra@videha.com पर पठाउ।
१९ जुलाइ २०१२ केँ आशीष अनचिन्हार द्वारा श्री जगदीश प्रसाद मण्डलजीसँ लेल साक्षात्कार
आ. अनचि‍न्‍हार-      काल्हि‍ चेतना सम्मानसँ सम्मानि‍त भेलौं, तइ लेल वि‍देह परि‍वार दि‍ससँ बधाइ।
ज.प्र. मण्‍डल-        आशीषजी, एकरा अहाँ व्‍यक्‍ति‍गत नै वि‍देह परि‍वारक चेतनताक प्रतीक बुझि‍यौ। जे चेतना समि‍ति‍क पत्रि‍का (घर-बाहर) दोसरे पन्नामे जीवि‍त-मृत्‍युक सूची प्रकाशि‍त करैत अछि‍, ओइ सूचीसँ वि‍देह परि‍वार (ई-पत्रि‍का) अखनो धरि‍ काते रहल अछि‍, भलहि‍ं गाम-घरक संस्‍कृति‍मे कि‍अए ने लोहोक इंजन दूबि‍-धान, सि‍नुर-पीठारसँ सुशोभि‍त होइत हुअए। वि‍देह परि‍वार दि‍ससँ आग्रह (चेतना समि‍ति‍केँ) करैत छन्‍हि‍ जे समाजक बदलैत स्‍वरूप (सामाजि‍क, आर्थिक, बौधि‍क, वैचारि‍कपर) नजरि‍ दथि‍ तइ लेल सुझाव अछि‍ जे मैिथली साहि‍त्‍यक जते सम्‍पादक छथि‍, ओ अपना हाथसँ अपन पत्रि‍काक इति‍हास लि‍खि‍ अपन-अपन परि‍चय दथि‍। एक दि‍स मि‍थि‍लाक उद्धारक वि‍चार रखै छि‍ऐ दोसर दि‍स पत्रि‍का सभ पाछू मुँहेँ घुसुकि‍ रहल अछि‍। ऐ लेल के करताह? आइ कोनो समारोहमे धोती-कुर्तासँ लऽ कऽ चुस्‍त पेंट धरि‍क आगमन भऽ रहल अछि‍, धोतीबला तरेतर गुम्हरै छथि‍ जे देखू ने कि‍रदानी। तँ दोसर दि‍स चुस्‍त पैंटबला अँखि‍या-अँखि‍या सुसकारी दइ छथि‍ जे शुभ काजमे पीड़ा धोती पहि‍रि‍ये कऽ नै आएल छथि‍। खैर जे होउ, हमरा सभकेँ वि‍चार कऽ एकटा रास्‍ता बनबए पड़त जे वस्‍त्रक बदलाव समायानुकुल होइत रहल अछि‍। पुरुषोत्तम राम बलकल धारी छलाह। आब ओ युग रहलै।

आ. अनचि‍न्‍हार-      अहाँकेँ चेतना समि‍ति‍ सम्मान सुनि‍ हृदए गद्गद् भऽ गेल। आरो बुझैक जि‍ज्ञासा जगल। सूचना केना भेटल?
ज.प्र. मण्‍डल-        चेतना समि‍ति‍क स्‍थापना दि‍वस १८ जुलाइ छी। १९५४ ई.क १८ जुलाइकेँ कि‍छु संगीक संग यात्रीजी चेतना समि‍ति‍क स्‍थापना केलनि‍। ओना आनो-आन समारोह समि‍ति‍क बीच होइते रहैए मुदा स्‍थायी रूपे १८ जुलाइ स्‍थापना दि‍वसक अवसरपर सभ साल कि‍छु वि‍शेष रूपमे होइते अछि‍। आठ-दस दि‍न पहि‍ने वि‍वेका बाबू (वि‍वेकानन्‍द ठाकुर) जे समि‍ति‍क सचि‍व छथि‍, फोन केलनि‍ जे १८ जुलाइकेँ चेतना समि‍ति‍क स्‍थापना दि‍वस छी जाहि‍ अवसरपर समि‍ति‍ कि‍छु गोटेकेँ सम्मानि‍त करैक ि‍नर्णए केलनि‍ अछि‍। अहाँक आएब अनि‍यार्य अछि‍। ओना डाक द्वारा लि‍खि‍त सूचना सेहो पठा देने छी, मुदा पोस्‍ट–ऑफि‍सक जे क्रि‍या-कलाप छै ताहि‍मे समैपर नहि‍यो पहुँचए। वि‍वेकानन्‍द जीसँ गुआहाटीमे छह मास पूर्व दि‍सम्‍बरमे धर्मशालामे भेँट भेल छल। कि‍छु प्रश्नपर गपो-सप भेल रहए। ममताजी (श्रीमती ममता ठाकुर) दूटा सोहरो गौलनि‍। श्री राम भरोस कापड़ि भ्रमर‍, राजाराम सि‍ंह राठौर एवं नेपालक आरो कतेक लोक सभ रहथि‍ हुनको सभसँ पहि‍ल भेँट भेल छल।
                जखन वि‍वेकानन्‍द जी फोनपर जानकारी देलनि तखन हम गुआहाटीक धर्मशालामे पहुँच गेल रही। जबाव देलि‍यनि‍ जे जरूर आएब। मुदा दू-तीन दि‍नक पछाति‍ संगी सभ फोन केलनि‍ जे बि‍ना लि‍खि‍त सूचनाक जाएब उचि‍न नै। ओ सभ चेतना समि‍ति‍क क्रि‍या-कलापसँ नाखुश छथि‍। प्रश्न उठल जे आब हम कि‍ करब? एके बात कवि‍ता आ कथामे दू-ि‍वधामे बँटि‍ जाइए। एक तँ रौदि‍याह समए भेने कि‍सानक मन ओहि‍ना तबधल अछि‍ तइपर सँ आरो तबधि‍ गेल। जाइ कि‍ नै जाइ, वि‍चि‍त्र ओझरी लागि‍ गेल। मनमे हुअए जे वि‍वेका बाबू कि‍छु करए चाहै छथि‍ तइठाम सहयोग नै करब उचि‍त नै हएत? मुदा जखन संगी सबहक दोहरा-दोहरा फोन आबए लगल तखन ओरो मन दुबि‍धमे पड़ए लगल। १८ जुलाईक ६ बजे सुबह। हम वि‍वेकानन्‍द जीकेँ फोन केलि‍यनि‍ जे अपनेक कार्यक्रममे कोनो व्‍यवधान तँ नै भेल अछि‍? ओ भरि‍सक ओछाइनेपर रहथि‍। आँखि‍ मीड़ि‍ते कहलनि‍ जे नै, ई तँ सभ सालक कार्यक्रम छी हेबे करत। ओना ऐ बीचमे दि‍ल्‍ली चल गेल रही तँए दोहरा कऽ सम्‍पर्क नै भऽ सकल। परसुए एलौं‍ आ काजमे लागल छी।
                पुछलि‍यनि‍- समए केहेन अछि‍? ऐठाम (गाम) पानि‍ भऽ रहल अछि‍।
ओ कहलनि‍- मेघौन तँ एतौ अछि‍ मुदा बून्न नै पड़ैए। हुनकर जबाब सुनि‍ मन मानि‍ गेल एहेन खुशनुमा मौसममे भोज-भात नै हुअए तँ केहेन समैमे हुअए। फोनपर वि‍वेका जी ईहो कहि‍ देलनि‍ जे न्‍यायमूर्ति कि‍शोर कुमार मण्‍डल वि‍शि‍ष्‍ट अति‍थि‍ रहताह। तइ संग न्‍यायमूर्ति राजेन्‍द्र प्रसाद जी, डाॅक्‍टर सहाएब, वि‍जय बाबू, सभ रहबे करताह। हि‍नके सबहक काजो छि‍यनि‍। एक तँ रौदि‍याह समए दोसर भि‍नसुरका झकास रहने सुहावन मौसम रहबे करए, तैयारीक वि‍चार केलौं। झमटगर परि‍वार रहने संगी भेटि‍ये जाइए।फेर कहि‍ देलि‍यनि‍ जे आठ-नअ बजेक बस पकड़ि‍ लेब।

आ. अनचि‍न्‍हार-      कते समए गामसँ पटना जाइमे लगैए?
ज.प्र. मण्‍डल-        आशीषजी, की कहब। ऐबेर हवाई सफरक मौका भेटल। एते-एते दूरीक बीच एको मि‍नटक हेर-फेर नै देखलि‍ऐ। मुदा अपना सबहक तँ भगवाने ने मालि‍क छथि‍। जेना कऽ रखबह भोला तहि‍ना ने हम रहबह। गाड़ीक (ट्रेन) रास्‍ता एहेन बनि‍ गेल अछि‍ जे डेढ़ दू दि‍न तक लागि‍ जाइए। मुदा एन.एच भेलासँ थोड़े सुवि‍धा बढ़ल अछि‍ मुदा तैयो पाँच-छह घंटा तँ लगि‍ये जाइए।

आ. अनचि‍न्‍हार-      जखन पानि‍ होइत रहए तखन बस स्‍टेण्‍ड जाइमे तँ दि‍क्कत भेल हएत?
ज.प्र. मण्‍डल-        दि‍क्कत कि‍ दि‍क्कत भेल। ओना गाड़ीक (दू पहि‍या) सुवि‍धा अछि‍, मुदा पीच्‍छड़मे तँ चारि‍ पएरबला हाथी पि‍छड़ि खसि‍ पड़ैए आ दू पहि‍याक कोन ठेकान। पएरे तीन कि‍लो मीटर जाइक वि‍चार कऽ लेलौं। तखन मन भेल जे छत्ता लऽ लेब। मुदा कते बेर छत्ता बि‍सरि‍ये गेलौं आ कते बेर हराइये गेल। तँए छत्ता नै लऽ जेबाक वि‍चार भेल पानि‍यो कमलै। बूंदा-बुन्‍दीपर आबि‍ गेल रहए।

आ. अनचि‍न्‍हार-      कते बजे पटना पहुँचलि‍ऐ?
ज.प्र. मण्‍डल-        सवा चारि‍ बजे पहुँचलौं। जलखैये कए कऽ चलल रही। भूखो लगि‍ गेल रहए। पुले (गाँधी पुल) लग उतरि‍ पहि‍ने खेलौं। खेलाक पछाति‍ टेम्‍पू पकड़ि‍ एकटा वि‍द्यार्थी डेरापर पहुँचलौं। ओ नि‍रमलि‍येक छथि‍ रवि‍न्‍द्रजी। ओइठाम देह-हाथ पोछि‍ फ्रेश भेलौं। पौने छह बजे राजेन्‍द्र नगर वि‍द्यापति‍ भवन लग पहुँच गेलौं। गेटपर पहुँचलौं आकि‍ आनन्‍दजी (आनन्‍द कुमार झा) सेहो भेट गेलाह। नीक भवन नीक बेवस्‍था। जेना राजधानीक हेबाक चाही तइमे कमी नै। पंखा ताकि‍ बैसलौं। पाँच मि‍नटक पछाति‍ चुन्नूजी (कमल मोहन चुन्नू, घर-बाहर पत्रि‍काक सहयोगी सम्‍पादक) देखलनि‍। देखि‍ते दोसर ठाम बैसा पुछलनि‍ जे कि‍छु खेबो-पीबो करबै। कहलि‍यनि‍ जे रस्‍तेमे खा नेने छी। पानि‍ पीलौं।
समए छहसँ आगू बढ़ि‍ गेल। छह बजे शुरू होइक समए रहैक, गप-सप करैले आनन्‍दजी लगेमे रहथि‍, मुदा बूझि‍ पड़ल जेना चुन्नूजी आ वि‍वेका बाबू काजमे जमि‍ कऽ जुटल छथि‍। पुछलि‍यनि‍- चुन्नूजी, रमणजी (डाॅ. रमानन्‍द झा रमण) केँ नै देखै छि‍यनि‍? कहलनि‍ ओ कथा गोष्‍ठीमे गेल छथि‍। कहि‍ अपन हेमलेट, बैगक जि‍म्‍मा सुमझा कहलनि‍ जे कने एकटा काज केने अबै छी। चुन्नू जीक काज बाधि‍त करैक अर्थ होएत जे काजमे (समारोह) बाधा उपस्‍थि‍त करब। कहलि‍यनि‍, हम कतौ पड़ाएल जाइ छी, अखन जे काज लाधल अछि‍ पहि‍ने ओकरा सम्‍हाररू। चुन्नूजी तँ उठि‍ कऽ चलि‍ गेलाह, मुदा मनमे एकटा नव प्रश्न आबि‍ गेल। ओ ई जे ‘घर-बाहर’ पत्रि‍काक सम्पादक रमणजी छथि‍, तखन अपन जबाबदेहीक काज छोड़ि‍ मद्रास चलि‍ गेलाह, आ गोष्ठी तँ १४-१५ जुलाइक रातिमे रहै, १५ तारीखकेँ बिदा भेने १७ धरि तँ आबिये गेल हेता। खएर ! एना कि‍अए भेल? जखन कि‍ चेतना समि‍ति‍क स्‍थापना दि‍वस १८ जुलाई छी, भरि‍सक यात्रीयो जी (ठीकसँ मोन नै अछि मुदा अनुमान करै छी‍) जखन माँ मि‍थि‍लाकेँ प्रणाम कए पड़ा कऽ अकासमे उड़ैत ओइ चि‍ड़ै जकाँ जे उड़ि‍ते-उड़ि‍ते अंडो दैत अछि‍ तहि‍ना केलनि‍। प्रश्न घुरि‍आए लगल जे अपनो बेटाक मूड़न वा बि‍आह रहए आ साढ़ूओ बेटाक एक्के दि‍न होइ तखन कि‍ कएल जाएत? कि‍यो अपन घर सम्‍हारत आकि‍ भोज खाइले जाएत। मुदा ऐठाम तँ अँटावेसक संभावना छल। चेतना समि‍ति‍क ति‍थि‍ अट्ठावन वर्षसँ मनकेँ पकड़ने अछि‍, कथा गोष्‍ठीक ति‍थि‍ ि‍नर्धारि‍त कएल जाइत अछि‍, तइठाम समए आ दूरीक वि‍चार केने बि‍ना, जँ ति‍थि‍ ि‍नर्धारि‍त कएल जाए तँ कि‍ कहबै? एक तँ ओहि‍ना हम सभ मि‍थि‍लांचलक काजक दौड़मे पछुआएल छी तइपर जँ काजे काजक बाधा बनत तँ कते दूर जा सकब, से तँ सभ बुझि‍ते छी।  तइ बीच वि‍वेकाजी तीन-चारि‍ गोटेक संग आबि‍ कि‍छु-कि‍छु काजक बात पुछलनि‍। कहलि‍यनि‍। तइ बीच अध्‍यक्षा प्रमीला झा सेहो एलीह।
चुन्नूजी धड़फड़ाएल आबि‍ हेलमेट हाथमे लैत चि‍न्‍हा देलनि‍। ओना चेतना समि‍ति‍क सदस्‍य सबहक जानकारी अछि‍, मुदा चेहरासँ चि‍न्‍हारए नै छल‍। तँए अनभुआर जकाँ रही। मुदा कार्यकर्ताक अभाव जरूर बूझि‍ पड़ल वि‍लंबोसँ शुरू भेने बहुत बढ़ि‍या कार्यक्रम भेल।

आ. अनचि‍न्‍हार-      वि‍धि‍वत् कते बजे कार्यक्रम शुरू भेल?
ज.प्र. मण्‍डल-        ऐ प्रश्नक उत्तर ठीक-ठीक नै दऽ सकब। कि‍एक तँ ने अपने घड़ी रखै छी आ ने मोबाइल। मुदा बैसकसँ बूझि‍ पड़ल जे एक-डेढ़ घंटा बि‍लंबसँ कार्यक्रम शुरू भेल। हँ तइ बीच दूटा बात आरो भेल। इन्‍द्रकान्‍त बाबू (डॉ. इन्‍द्रकान्‍त झा) दोसर कतारक कुर्सीपर आगूमे बैसल रहथि‍, ओ अपन चि‍न्‍हारए देलनि‍। मनमे रहबे करए मुदा ओहन बीच रहने गुम रही। हुनकासँ पहि‍ल परि‍चय ओइ दि‍न भेल छल जइ दि‍न मि‍थि‍ला दर्शनमे छपल कथा चुनवाली पढ़ि‍ पहि‍ल बधाइ देलनि‍। गपे-सपक बीच अखि‍लेश बाजल जे लालकक्का (उमेश मण्‍डल) फोन केलनि‍ जे साढ़े दस बजेक बसक टि‍कट कटा लेलौं। तेरह-चौदह नम्‍बर सीट अछि‍।

आ. अनचि‍न्‍हार-      कार्यक्रम केहेन भेल?
ज.प्र. मण्‍डल-        पहि‍ल सम्मान कार्यक्रम भेल। यात्री जीक स्‍थापि‍त चेतना समि‍ति‍क सम्‍मान पाबि‍ बहुत खुशी भेल। उच्‍च न्‍यायालयक न्‍यायमूर्ति कि‍शोर कुमार मण्‍डलक हाथसँ सैकड़ो गण्‍यमान्‍य लोकनि‍क बीच, जइमे बि‍हार सरकारक पूर्व मुख्‍यमंत्री वि‍धान परि‍षदक पूर्व अध्‍यक्ष, उच्‍च न्‍यायालयक पूर्व मुख्‍य न्‍यायमूर्तिक संग माननीय पूर्व सांसद, माननीय वि‍धान पार्षद, अधि‍वक्‍ता, अध्‍यापक, डॉक्‍टर इत्‍यादि‍ चेतना समि‍ति‍क सभ छलाह।

आ. अनचि‍न्‍हार-      साहि‍त्‍यि‍क माहौलमे कार्यक्रम भेल हएत?
ज.प्र. मण्‍डल-        आशीषजी, ई बहुत गंभीर प्रश्न अछि‍। ओना साहि‍त्‍यि‍क माहौल अवश्‍य छल मुदा राजनीति‍क बेसी बूझि‍ पड़ल। अध्‍यक्ष जीक (चेतना समि‍ति‍क अध्‍यक्ष) वक्‍तव्‍य वि‍धि‍वत् छलनि‍, नीक छलनि‍। मुदा मंचक वक्‍ता लोकनि‍ साहि‍त्‍यकेँ मोड़ि‍ राजनीति‍ दि‍स घुसका देलखि‍न। जे गोष्‍ठीक अनुकूल नै रहल। मुख्‍य वक्‍ता छलाह पंडि‍त ताराकान्‍त झाजी (वि‍धान परि‍षदक पूर्व अध्‍यक्ष) जे तेना कऽ वि‍चार मोड़ि‍ देलखि‍न जे बादक वक्ताकेँ बेकावू भऽ गेलनि‍। ओना पूर्व मुख्‍यमंत्री डॉ. जगन्नाथ मि‍श्र, वि‍धान पार्षद आ चेतना समि‍ति‍क संरक्षक वि‍जय बाबू (श्री वि‍जय कुमार मि‍श्र) वि‍धि‍वत अपन वि‍चार रखलनि‍। यात्री जीक स्‍थापि‍त चेतना समि‍ति‍क वि‍चार वि‍न्‍दु गौण पड़ि‍ गेल। तहूमे मैथि‍ली साहि‍त्‍यक बीच, टैगोर साहित्य सम्मान पहि‍ल-पहि‍ल भेटल, जेकर चरचो नै भेल। माननीय न्‍यायमूर्ति राजेन्‍द्र प्रसादजी, अपन वक्‍तव्‍यकेँ कि‍छु हद-तक मोड़लनि‍। ओ यात्री जीक वि‍चारकेँ पकड़ि‍ चेतनाक वि‍षद व्‍याख्‍या केलनि‍। भाषो मनोरंजक छलनि‍। मनोरंजक ऐ लेल जे मैथि‍ली-मगहीक सीमापर रहने कखनो मैथि‍ली कखनो मगही आ कखनो मैथि‍ली-मगही मि‍ला कऽ बजलाह। मुदा अंग्रेजी माहौलमे रहनि‍हार एको शब्‍द अंग्रेजीक प्रयोग नै केलनि‍, ई सभसँ आश्चर्य लागल। समए सेहो बेशी भऽ गेल छलैक। तहूमे बसक टि‍कटक नाओं सुनि‍ आरो मन दोसर दि‍स जाए लगल। हुअए जे बस ने छूटि‍ जाए।
आ. अनचि‍न्‍हार-      अहाँ कि‍ सभ बजलि‍ऐ?
ज.प्र. मण्‍डल-        आभारो व्‍यक्‍त करैक अवसर नै भेटल।

आ. अनचि‍न्‍हार-      भोजन भात केहेन रहलै?
ज.प्र. मण्‍डल-        नीक रहलै। स्‍पष्‍ट शब्‍दमे वि‍वेकाजी कहि‍ देलखि‍न जे अल्‍पाहारक बेवस्‍था अछि‍। मुदा खीर-पूड़ी खुआएब।

आ. अनचि‍न्‍हार-      कते बजे सभा भवनसँ नि‍कललौं?
ज.प्र. मण्‍डल-        दससँ ऊपर बजि‍ गेल। मन छटपटाए लगल जे एक तँ गली-कुच्‍ची रस्‍ता, दोसर थाल-कीच सेहो, रि‍क्‍शा-टेम्‍पू भेटत नै। हारि‍-थाकि‍ बस स्‍टेण्‍ड वि‍दा भेलौं। सरकारी बसक टि‍कट, तँए हुअए जे बस नहि‍ये पकड़ाएत। मुदा कि‍छु दूर गेलापर रि‍क्‍शा भेट गेल। ओ कहलक जे हमरा बूझल अछि‍, बस नि‍श्चि‍त पकड़ाएत। संगमे आनन्‍द कुमार झाजी सेहो रहथि‍, हुनका टि‍कट नै भेलनि‍। भोर होइत घरपर पहुँच गेलौं।

आ. अनचि‍न्‍हार-      छुटल-बढ़ल जे भेल होइ, तइ संबंधमे कि‍छु कहि‍यौ?
ज.प्र. मण्‍डल-        ओना चेतना समि‍ति‍क ि‍नर्णयानुसार चारि‍ गोटेकेँ सम्मानि‍त करैक वि‍चार छलनि‍। पहि‍ल, टैगोर साहि‍त्‍य सम्मानसँ सम्मानि‍त हम (जगदीश प्रसाद मण्‍डल), दोसर, साहि‍त्‍य अकादेमीसँ सम्मानि‍त कवि‍ वि‍नोद जीक (श्री उदय चन्‍द्र झा वि‍नोद), तेसर, युवा साहि‍त्‍यकार आनन्‍द जीक आ चारि‍म, अनुवादक खुशीलाल बाबूकेँ (श्री खुशी लाल झा)। मुदा ओ दुनू गोटे (वि‍नोदजी आ खुशीलाल बाबू) नै पहुँच सकल छलाह।
चेतना समि‍ति‍क सभ नै, मुदा कि‍छु गोटे एहेन सक्रि‍य छलाह जि‍नका वि‍षयमे कि‍छु कहने बि‍ना नै रहि‍ सकै छी। ओ छलाह वि‍जय बाबू (श्री वि‍जय कुमार मि‍श्र), जे खेबा काल घूमि‍-घूमि‍ देखैत रहलाह। दोसर छलीह श्रीमती प्रमीला झा। जे एते उमेर भेलोपर, तहूमे जेहेन परि‍वारक छथि‍, क्रि‍याशील जि‍नगी बना जीवि‍ रहली अछि‍। जे धन्‍यवादक पात्र छथि‍। वि‍वेका बाबू आ चुन्नूजी हृदैसँ चाहि‍तौ, नीक जकाँ नै कऽ पाबि‍ रहल छलाह, तेकर कारण छल दुनू गोटे नव छथि‍ (कार्यक्रमक भारक खि‍यालसँ) मुदा जे जि‍ज्ञासा करैक ललक आ उत्‍साह छन्‍हि‍, जँ सही दि‍शामे बढ़ाबथि‍ तँ जरूर कि‍छु कऽ देखौता। तइ लेल दुनू गोटेकेँ धन्‍यवाद दैत छि‍यनि‍। वि‍वेका बाबूक ई गुण स्‍पष्‍ट देखाएल जे स्‍पष्‍टवादी छथि‍। इमानदारीक अनेको कारणमे स्‍पष्‍ट बाजब सेहो एकटा कारण होइत छैक। सभसँ अंति‍म दृश्य आरो रोचक अछि‍। दस बजैत रहए। कतारबंदी भोजन शुरू भेल। धड़फड़ाएल रहबे करी, जा कऽ पाँति‍मे लगि‍ गेलौं। पाँति‍ नमहर, तैयो पान-सात मि‍नट घुसुकि‍ कऽ कि‍छु आगू बढ़लौं। तीनू गोटे ( हम, आनन्‍दजी आ अखि‍लेस) एके ठाम रही। तही बीच धड़फराएल घुमैत चुन्नूजी पहुँचलाह। देखि‍ते पाँति‍सँ नि‍कालि‍ कुर्सीपर बैसा देलनि‍ आ कहलनि‍ जे नेने अबै छी। गेला तँ धड़फड़ाएले मुदा गरे ने अँटनि‍। दोसर ठाम गरे ने भेटनि‍। हमर मन छनगल जाए जे बस छूटि‍ जाएत। नहि‍ये खाएब तँ कि‍ हेतै, गाड़ी-बसमे अधपेट्टे चलब नीक होइ छै। हुअए जे चुपे-चाप उठि‍ कऽ वि‍दा भऽ जाइ। फेर हुअए जे नाँहक हंगामा ठाढ़ भऽ जेतैक जे दुनू गोटे बीचेमे सँ हेरा गेला। वि‍चार ठमकि‍ गेल। मन पड़ि‍ गेल, बरि‍आती। अपेछि‍त बेटाक बि‍आहमे बरि‍आती गेल रही। ओहन बरि‍आती जि‍नगीक पहि‍ल छल। खाइले बैसलौं, नीक-नीक वि‍न्‍यास बनल रहै। शुरूहेमे भरि‍ पेट चढ़ा देलि‍ऐ। चढ़ौलाक बाद चारू कात चकोना हुअए लगलौं जे कि‍यो एको गोटे उठताह तखन ने उठब। से कि‍म्‍हरो देखबे ने करि‍ऐ। गर-फेरि‍-फेरि‍ बैसए लगलौं। आसन नमहर तँए गर लगा सुति‍यो सकै छी। मुदा जखने सूतब कि‍ अनेरे हल्‍ला हेतै जे एक गोटे खाइते-खाइते ओंघरा गेलाह। अपनेपर खौंझ उठए जे अनेरे एते कि‍अए खेलौं। मुदा करि‍तौं की। चारि‍ घंटा खाइमे बरि‍आती लगौलनि‍। अधमौगति‍ भऽ गेल। हुअए जे ऐसँ नीक जहले जे भुखलो तँ लोक आेंघरा-ओंघरा सुतैए। एतबे नै ऐसँ आगू भेल जे खाइकाल तेहेन गप-सपक ठाहाका चलै जे हुअए कहीं पेटक गुदगुदीक संग खेलहो ने नि‍कलए लगए। कहुना-कहुना कऽ अपनाकेँ दाबि‍-दुबि‍ पार लगेलौं। हाथे धोइकाल ओही भि‍जलाहा हाथे कान पकड़ि‍ सप्पत खेलौं जे एहेन बरि‍आती नै जाएब।
कुल मि‍ला कऽ समारोह प्रशंसनीय रहल। अगि‍ला साल आरो बेसी नीक होइ, ई शुभकामना। देखैक हकार भेटए, तेकर प्रतीक्षा रहत।    
‍    
             

ऐ रचनापर अपन मंतव्य ggajendra@videha.com पर पठाउ।

No comments:

Post a Comment

"विदेह" प्रथम मैथिली पाक्षिक ई पत्रिका http://www.videha.co.in/:-
सम्पादक/ लेखककेँ अपन रचनात्मक सुझाव आ टीका-टिप्पणीसँ अवगत कराऊ, जेना:-
1. रचना/ प्रस्तुतिमे की तथ्यगत कमी अछि:- (स्पष्ट करैत लिखू)|
2. रचना/ प्रस्तुतिमे की कोनो सम्पादकीय परिमार्जन आवश्यक अछि: (सङ्केत दिअ)|
3. रचना/ प्रस्तुतिमे की कोनो भाषागत, तकनीकी वा टंकन सम्बन्धी अस्पष्टता अछि: (निर्दिष्ट करू कतए-कतए आ कोन पाँतीमे वा कोन ठाम)|
4. रचना/ प्रस्तुतिमे की कोनो आर त्रुटि भेटल ।
5. रचना/ प्रस्तुतिपर अहाँक कोनो आर सुझाव ।
6. रचना/ प्रस्तुतिक उज्जवल पक्ष/ विशेषता|
7. रचना प्रस्तुतिक शास्त्रीय समीक्षा।

अपन टीका-टिप्पणीमे रचना आ रचनाकार/ प्रस्तुतकर्ताक नाम अवश्य लिखी, से आग्रह, जाहिसँ हुनका लोकनिकेँ त्वरित संदेश प्रेषण कएल जा सकय। अहाँ अपन सुझाव ई-पत्र द्वारा ggajendra@videha.com पर सेहो पठा सकैत छी।

"विदेह" मानुषिमिह संस्कृताम् :- मैथिली साहित्य आन्दोलनकेँ आगाँ बढ़ाऊ।- सम्पादक। http://www.videha.co.in/
पूर्वपीठिका : इंटरनेटपर मैथिलीक प्रारम्भ हम कएने रही 2000 ई. मे अपन भेल एक्सीडेंट केर बाद, याहू जियोसिटीजपर 2000-2001 मे ढेर रास साइट मैथिलीमे बनेलहुँ, मुदा ओ सभ फ्री साइट छल से किछु दिनमे अपने डिलीट भऽ जाइत छल। ५ जुलाई २००४ केँ बनाओल “भालसरिक गाछ” जे http://www.videha.com/ पर एखनो उपलब्ध अछि, मैथिलीक इंटरनेटपर प्रथम उपस्थितिक रूपमे अखनो विद्यमान अछि। फेर आएल “विदेह” प्रथम मैथिली पाक्षिक ई-पत्रिका http://www.videha.co.in/पर। “विदेह” देश-विदेशक मैथिलीभाषीक बीच विभिन्न कारणसँ लोकप्रिय भेल। “विदेह” मैथिलक लेल मैथिली साहित्यक नवीन आन्दोलनक प्रारम्भ कएने अछि। प्रिंट फॉर्ममे, ऑडियो-विजुअल आ सूचनाक सभटा नवीनतम तकनीक द्वारा साहित्यक आदान-प्रदानक लेखकसँ पाठक धरि करबामे हमरा सभ जुटल छी। नीक साहित्यकेँ सेहो सभ फॉरमपर प्रचार चाही, लोकसँ आ माटिसँ स्नेह चाही। “विदेह” एहि कुप्रचारकेँ तोड़ि देलक, जे मैथिलीमे लेखक आ पाठक एके छथि। कथा, महाकाव्य,नाटक, एकाङ्की आ उपन्यासक संग, कला-चित्रकला, संगीत, पाबनि-तिहार, मिथिलाक-तीर्थ,मिथिला-रत्न, मिथिलाक-खोज आ सामाजिक-आर्थिक-राजनैतिक समस्यापर सारगर्भित मनन। “विदेह” मे संस्कृत आ इंग्लिश कॉलम सेहो देल गेल, कारण ई ई-पत्रिका मैथिलक लेल अछि, मैथिली शिक्षाक प्रारम्भ कएल गेल संस्कृत शिक्षाक संग। रचना लेखन आ शोध-प्रबंधक संग पञ्जी आ मैथिली-इंग्लिश कोषक डेटाबेस देखिते-देखिते ठाढ़ भए गेल। इंटरनेट पर ई-प्रकाशित करबाक उद्देश्य छल एकटा एहन फॉरम केर स्थापना जाहिमे लेखक आ पाठकक बीच एकटा एहन माध्यम होए जे कतहुसँ चौबीसो घंटा आ सातो दिन उपलब्ध होअए। जाहिमे प्रकाशनक नियमितता होअए आ जाहिसँ वितरण केर समस्या आ भौगोलिक दूरीक अंत भऽ जाय। फेर सूचना-प्रौद्योगिकीक क्षेत्रमे क्रांतिक फलस्वरूप एकटा नव पाठक आ लेखक वर्गक हेतु, पुरान पाठक आ लेखकक संग, फॉरम प्रदान कएनाइ सेहो एकर उद्देश्य छ्ल। एहि हेतु दू टा काज भेल। नव अंकक संग पुरान अंक सेहो देल जा रहल अछि। विदेहक सभटा पुरान अंक pdf स्वरूपमे देवनागरी, मिथिलाक्षर आ ब्रेल, तीनू लिपिमे, डाउनलोड लेल उपलब्ध अछि आ जतए इंटरनेटक स्पीड कम छैक वा इंटरनेट महग छैक ओतहु ग्राहक बड्ड कम समयमे ‘विदेह’ केर पुरान अंकक फाइल डाउनलोड कए अपन कंप्युटरमे सुरक्षित राखि सकैत छथि आ अपना सुविधानुसारे एकरा पढ़ि सकैत छथि।
मुदा ई तँ मात्र प्रारम्भ अछि।
अपन टीका-टिप्पणी एतए पोस्ट करू वा अपन सुझाव ई-पत्र द्वारा ggajendra@videha.com पर पठाऊ।

'विदेह' २२४ म अंक १५ अप्रैल २०१७ (वर्ष १० मास ११२ अंक २२४)

ऐ  अंकमे अछि :- १. संपादकीय संदेश २. गद्य २.१. डॉ. कैलाश कुमार मिश्र -    मैथिलानी केर उपराग राम सं आ समाज ...