Sunday, February 07, 2010

15

Maithili Word Meaning Senctence Grammer
धान, चाउर, मकइ, बूट कानूक आधार भुजा कऽखयबा योग्यु विभिन्नय प्रकारक अन्नक होइत अछि। लोक
चना, मटर, राहरि, चीन, कुतरुम, जनेरा कानूक आधार भुजा कऽखयबा योग्यु विभिन्नय प्रकारक अन्नक होइत अछि। लोक
चिउर कानूक आधार भुजा कऽखयबा योग्यु विभिन्नय प्रकारक अन्नक होइत अछि। लोक
जनेर, चौ, गहूम कानूक आधार भुजा कऽखयबा योग्यु विभिन्नय प्रकारक अन्नक होइत अछि। लोक
कलहा आइकाल्हि मील द्वारा निर्मित विशेष प्रकारक चाउरक उपयोग मुरही भुजबाक हेतु होइत छैक। एकरा
चापा आइकाल्हि मील द्वारा निर्मित विशेष प्रकारक चाउरक उपयोग मुरही भुजबाक हेतु होइत छैक। एकरा
भेंट, खोभी चओरसँ
एहू तीनू अन्नोक लावा भूजल जाइत अछि। एकरा सभक फऽरकेँ
मडुअनि ढेढ़ीमे सूक्ष्म आकृतिक अन्नी रहैत छैक। भेंटक ढेढीसँ प्राप्तर मड़ुआक आकृतिक अन्नपकेँ
कनसार कानूक कार्यस्थरलकेँ
कंसार कानूक कार्यस्थरलकेँ
कनिसार कानूक कार्यस्थरलकेँ
कनसारी कानूक कार्यस्थरलकेँ
चुल्हाक कंसारमे आगि पजारबाक व्य वस्थाआकेँ
चूल्हाक कंसारमे आगि पजारबाक व्य वस्थाआकेँ
चुलहा कंसारमे आगि पजारबाक व्य वस्थाआकेँ
चूल्हि छोट चुल्हायकेँ
चुइल्ह छोट चुल्हायकेँ
चुलही छोट चुल्हायकेँ
चुल्हिया छोट चुल्हायकेँ
पट्टा चूल्हाल बनयबाक हेतु माटिक आयताकार आधार बनाओल जाइत छैक। एकरा
दाबा अधसुक्खू पट्टाकेँ ठाढ़ कऽ वृत्ताकार पथमे मोड़लापर चुल्हाक घेराक बनैत छैक। एकरा
पुत्ता दूनू छोरक उपरका भागकेँ माटिक दंड द्वारा जोड़ल जाइत छैक। एहिसँ ओहि भागमे बनल आकृतिकेँ
पुत्ती दूनू छोरक उपरका भागकेँ माटिक दंड द्वारा जोड़ल जाइत छैक। एहिसँ ओहि भागमे बनल आकृतिकेँ
मुँह पुत्तीक निचला खुलल भागकेँ चूल्हाक
उझकुन चूल्हा पर देल बासनकेँ दाबाक उपरका सतहासँ किञ्चित ऊपर उठल रखबाक हेतु दाबाक ऊपर तीन ठाम ऊँच कऽ देल जाइत छैक। एहि उँच स्थतलकेँ
आँची चूल्हाथक पेटवला भाग जाहिमे आगि जरैत रहैत छैक, से
अँचिया चूल्हा क पेटवला भाग जाहिमे आगि जरैत रहैत छैक, से
आँछी चूल्हाैक पेटवला भाग जाहिमे आगि जरैत रहैत छैक, से
अँछिया चूल्हा क पेटवला भाग जाहिमे आगि जरैत रहैत छैक, से
एकचुल्हिया एकटा अँछियासँ युक्तत चुल्हाँकेँ
मगजी अँछिया सभकेँ परस्पतर विभाजित करऽवला उपरका माटिक घेराकेँ
पौर चारि ओ अधिक अँछियावला चूल्हायमे जारन पैसेबाक अलग मुँह ओ राख निकालबाक अलग मुँह रहैत छैक। चुल्हाहक परित: स्था‍नकेँ
पौरी चारि ओ अधिक अँछियावला चूल्हायमे जारन पैसेबाक अलग मुँह ओ राख निकालबाक अलग मुँह रहैत छैक। चुल्हाहक परित: स्था‍नकेँ
बीछब चूल्‍हामे विभिन्न‍ गाछक पात जारनिक रूपमे व्य वहृत होइत छैक। गाछीमे छिडि़आयल पातकेँ हाथ द्वारा एक-एक कऽ एकत्र करबाक क्रिया
लोढ़ब चूल्हा मे विभिन्न- गाछक पात जारनिक रूपमे व्य वहृत होइत छैक। गाछीमे छिडि़आयल पातकेँ हाथ द्वारा एक-एक कऽ एकत्र करबाक क्रिया
खड़रब अधिक पातकेँ बहारिकऽ एकठाम जमा करबाक क्रिया
खरड़ खरड़बाक हेतु करचीक समूहसँ बनल औजारक उपयोग होइछ। एकरा
खरड़ा खरड़बाक हेतु करचीक समूहसँ बनल औजारक उपयोग होइछ। एकरा
जल्ला खरड़ल पातकेँ एकठाम बान्हि कऽ उघबाक हेतु रस्सीिक बीनल जालीक उपयोग होइत अछि। एकरा
जलावरी खरड़ल पातकेँ एकठाम बान्हि कऽ उघबाक हेतु रस्सीिक बीनल जालीक उपयोग होइत अछि। एकरा
जलखरी खरड़ल पातकेँ एकठाम बान्हि कऽ उघबाक हेतु रस्सीिक बीनल जालीक उपयोग होइत अछि। एकरा
ढेर पातक समूहसँ गोल कऽ बनाओल थाककेँ
ढेरी पातक समूहसँ गोल कऽ बनाओल थाककेँ
टाल पातक समूहसँ गोल कऽ बनाओल थाककेँ
झोंकब पातकेँ चूल्हिमे प्रवेश करयबाक क्रिया
झोंकारा देब पातकेँ चूल्हिमे प्रवेश करयबाक क्रिया
खोरना झोंकबाक हेतु जाहि काष्ठाखंडक उपयोग होइत छैक, ओकरा
खोरनाठ झोंकबाक हेतु जाहि काष्ठाखंडक उपयोग होइत छैक, ओकरा
खोरनी छोट खोरनाकेँ
खोरनाठी छोट खोरनाकेँ
मटकूर खोरनाक अग्रभागमे आगि पकडि़ लेलापर ओकरा मिझयबाक हेतु एकटा माटिक गोल पात्रमे राखल पानिमे डुबा देल जाइत छैक। एहि पात्रकेँ
खापडि़ जाहि कोहा सभमे अन्नक भूजल जाइत छैक, ओकरा सभकेँ
खपड़ी छोअ खापडि़केँ
खापड़ पैध खापडि़केँ
कूर जाहि कोहा सभमे बालु धिपाओल जाइत छैक, ओकरा सभकेँ
कूरा जाहि कोहा सभमे बालु धिपाओल जाइत छैक, ओकरा सभकेँ
सरबा-डंटा बालुकेँ कूरसँ निकालिकऽ खापडि़मे देबाक हेतु
करछु ई करछुक आकृतिक होयबाक कारणें
लारब अन्न ओ बालुकेँ चलायमान करबाक क्रिया
लरना लारबाक हेतु बाँसक करचीक करीब एक हाथ नाम चारि-पाँच गोट पातर दंडक व्य वहार होइत छैक। एकरा
लारनि लारबाक हेतु बाँसक करचीक करीब एक हाथ नाम चारि-पाँच गोट पातर दंडक व्य वहार होइत छैक। एकरा
लरनी लारबाक हेतु बाँसक करचीक करीब एक हाथ नाम चारि-पाँच गोट पातर दंडक व्य वहार होइत छैक। एकरा
चलौनी लारबाक हेतु बाँसक करचीक करीब एक हाथ नाम चारि-पाँच गोट पातर दंडक व्य वहार होइत छैक। एकरा
भुजनाठी लारबाक हेतु बाँसक करचीक करीब एक हाथ नाम चारि-पाँच गोट पातर दंडक व्य वहार होइत छैक। एकरा
चलना बालु ओ भूजल अन्न‍केँ पृथक् करबाक हेतु बाँस अथवा लोहक एकटा छिद्रमय बासनक उपयोग होइत अछि। एकरा
चलनी बालु ओ भूजल अन्नएकेँ पृथक् करबाक हेतु बाँस अथवा लोहक एकटा छिद्रमय बासनक उपयोग होइत अछि। एकरा
चालनि बालु ओ भूजल अन्नअकेँ पृथक् करबाक हेतु बाँस अथवा लोहक एकटा छिद्रमय बासनक उपयोग होइत अछि। एकरा
सूप बालु ओ भूजल अन्नएकेँ पृथक् करबाक हेतु बाँस अथवा लोहक एकटा छिद्रमय बासनक उपयोग होइत अछि। एकरा
ढाकन चालनिक तरमे बालुकेँ एकत्र होयबाक हेतु माटिक गँहीर बासनक उपयोग होइत छैक।एकरा
ढकना चालनिक तरमे बालुकेँ एकत्र होयबाक हेतु माटिक गँहीर बासनक उपयोग होइत छैक।एकरा
ढकनी एकर छोट प्रभेद
भूजब अन्न केँ तापक योगसँ ओकर आकार, स्वोरूप स्वाआदमे परिवर्तन करबाक क्रिया
भूजा-भर्री भुजला उत्तर प्राप्तर खाद्यकेँ सामान्य् रूपकेँ भ्ज्ञूेजा कहल जाइत छैक। अनेक प्रकारक भूजाक हेतु
भरड़ी भुजला उत्तर प्राप्तू खाद्यकेँ सामान्यप रूपकेँ भ्ज्ञूेजा कहल जाइत छैक। अनेक प्रकारक भूजाक हेतु
चरबन भूजाकेँ चिबाकऽ खायलजयबाक कारणें ओकरा
चारबन भूजाकेँ चिबाकऽ खायलजयबाक कारणें ओकरा
लावा धान, मकइ, चीन आदिकेँ भुजलापर ओकर आकृति मूलसँ चौगुन-पचगुन भऽ जाइत छैक आ ओकर भूजामे मूल स्वकरूप गौण बुझना जाइत छैक। एहन भूजाकेँ
फड़भी जौक भूजाकेँ
फरही जौक भूजाकेँ
फरुही जौक भूजाकेँ
माढ़ चीनक लावाकेँ
माढ़ा चीनक लावाकेँ
माढ़ी चीनक लावाकेँ
फुटहा दलिहनकेँ भुजलापर ओकर खोइंचा दरकि जाइत छैक आ गुददावला भागक झलकऽ लगैत छैक। एकरा
फुटही कम फुटहाकेँ
मुरही चाउरकेँ विशेष विधिसँ भुजलापर निर्मित ओकर पैघ-पैघ लावाकेँ
सातु भूजल बूटक गुद्दावला भागकेँ पीसि कऽ समाठक नड़उ दिससँ आघात द्वारा कुटलापर बनल खाद्यान्नु
चुड़लाइ भूजल चूड़ा, मुरही, भूजल बूटक दा‍लि ओ भूजल तिलकेँ गुड्क पाग दऽ बनाओल गोलाकार वस्तुगकेँ क्रमश-
चुड़लऽडू, मुरलाइ भूजल चूड़ा, मुरही, भूजल बूटक दा‍लि ओ भूजल तिलकेँ गुड्क पाग दऽ बनाओल गोलाकार वस्तुगकेँ क्रमश-
मुड़लऽडू, मसका भूजल चूड़ा, मुरही, भूजल बूटक दा‍लि ओ भूजल तिलकेँ गुड्क पाग दऽ बनाओल गोलाकार वस्तुगकेँ क्रमश-
तिलबा तथा
लाइ आन अन्न क एहि प्रकारें बनाओल वस्तुतकेँ
किर्री मकइकेँ भुजला उत्तर ओकर किछु दाना प्रस्फुुटित भऽ लाबा भऽ जाइत छैक, मुदा किछु दाना भुजलोपर आकृतिमे यथावत् रहि जाइत छैक। एहि दाना सभकेँ
ठुर्री मकइकेँ भुजला उत्तर ओकर किछु दाना प्रस्फुुटित भऽ लाबा भऽ जाइत छैक, मुदा किछु दाना भुजलोपर आकृतिमे यथावत् रहि जाइत छैक। एहि दाना सभकेँ
लवाठी मकइकेँ भुजला उत्तर ओकर किछु दाना प्रस्फुुटित भऽ लाबा भऽ जाइत छैक, मुदा किछु दाना भुजलोपर आकृतिमे यथावत् रहि जाइत छैक। एहि दाना सभकेँ
लवाठी मकइकेँ भुजला उत्तर ओकर किछु दाना प्रस्फुुटित भऽ लाबा भऽ जाइत छैक, मुदा किछु दाना भुजलोपर आकृतिमे यथावत् रहि जाइत छैक। एहि दाना सभकेँ
गलबल तुरत तैयार मकइकेँ छोड़ाकऽ खापिड़मे गर्म कऽ तैयार अन्ऩ
ओड़हा नेरहा सहित आगिक साक्षात् सम्पिर्कमे मकइमे एकम रौद लगाकऽ तैयार अन्नाकेँ
मखानी तुरत तैयार मकइमे एक रौद लगाकऽ भुजलापर कित्र्चित प्रस्फु टित ओ मोलायम खाद्य तैयार होइत छैक। एकरा
सोन्‍ह भूजल अन्न क विशिष्टट स्वा दकेँ
सोन्हअगर सोन्हअ स्वा दसँ युक्तम अन्नह
झूर बेसीकाल धरि भुजलापर भूजाक स्वािद अधिक सोन्ह गर भऽ जाइत छैक। एहन स्थितिमे भूजाकेँ
अतिखाइन अत्याधिक काल धरि भूजल अन्नसक रंग करिछौन भऽ जाइत छैक आ स्वाजद कित्र्चित तीत भऽ जाइत छैक। एहि स्वाऽद विशेषकेँ
रबायल चाउरक अत्यजन्तव कठोर भूजाकेँ
चौरायल चाउरे जकाँ कित्र्चित कठोरतायुक्तक रहने
कुड़कुड़ तुरत भूजल भूजाक कठोतरताक भाव
उलायब भूजाक कठोरतामे अन्नककेँ स्फु टित होयबासँ पूर्वक स्थिति धरि गर्म करबाक क्रिया
उलबा उलओला उत्तर प्राप्तर अन्नाकेँ
उलायल उलओला उत्तर प्राप्तर अन्नाकेँ
उलाओल उलओला उत्तर प्राप्तर अन्नाकेँ
कंसार फूकब कंसारमे आगि प्रज्वतलित करबाक क्रिया
पजारब आग्रि प्रज्व लित करबाक क्रिया
झोंकब कंसार फुकला उत्तर ओकर खापरि तथा कूर ओ ताहिमे देल बालु गर्म होमऽ लगैत छैक। आगि निरन्तलर प्रज्वकलित रखबाक हेतु पात आदि जारनकेँ कनसारक चूल्हिमे भीतर करबाक क्रिया
आँचब झोंकि कऽ आगि प्रज्वकलित रखबाक क्रिया
आँच अँचलासँ उत्पवन्न् ज्वाालाकेँ
पझायब आगिक ज्व‍ला शान्तर होयबका क्रिया
मिझायब आगिक ज्व्ला शान्तर होयबका क्रिया
बुतायब आगिक ज्व्ला शान्तर होयबका क्रिया
हम्बकहरब चुल्हिमे आवाजक संग आगि मिझा जयबाक क्रिया
खोरब आँच शान्तज भेलापर चूल्हिक राख ओ इंधन आदिकेँ चलायमान करबाक क्रिया
खोरनाठब आँच शान्ति भेलापर चूल्हिक राख ओ इंधन आदिकेँ चलायमान करबाक क्रिया
पसाही लागब कखनो-कखने आगि चूल्हालक मुँहसँ बाहर भऽ पातक ढेरीमे पकडि़ लैत छैक। एहि क्रियाकेँ
राख आगि मिझयलाक बाद जारनिक अवशेषकेँ
छाउर आगि मिझयलाक बाद जारनिक अवशेषकेँ
छाइ आगि मिझयलाक बाद जारनिक अवशेषकेँ
धीपब खा‍पडि़ आदिक गर्म होयबाक क्रिया
घानी धिपला उत्तर भुजबाक हेतु अन्नतकेँ खापडि़मे देल जाइत छैक। एक खेपमे जतेक अन्नक खापडि़मे देल जाइत छैक, ओ मात्रा
आँजुर घानीक हेतु दूनू हाथक तरहत्थीेपर अँटल अन्न्केँ भरि
लऽप एक हाथक तरहत्थीँपर अँटल अन्न्केँ भरि
झोरब अन्न केँ ला‍रनि द्वारा चलायमान करैत गर्म करबाक क्रिया
झोलब अन्न केँ ला‍रनि द्वारा चलायमान करैत गर्म करबाक क्रिया
फूटब झोरलासँ अन्न क आन्तारिक भागक प्रस्फु टित होयबाक क्रिया
ताक किछु अन्नन सोझे झोरलासँ फुटि जाइत छैक। किछु अन्नक बालुक संगे झोरल जाइत छैक। ओकर फुटबाक अवस्था क ध्याान राखल जाइत छैक। एहि अवस्था केँ
रोड़ ताकपर सरबा-डंटाक सहायतासँ कूरक गर्म बालु झोरैत अन्नरमे स्फु टित नहि होइत अछि आ कठोर भऽ जाइत अछि। एहन कठोर अन्न केँ
रोड़ायब एकर कठोरता प्राप्ते करबाक क्रिया
पथरायब पाथर जकाँ अत्ययन्तत कठोरता प्राप्तय करबाक क्रिया
पथरा जायब पाथर जकाँ अत्ययन्तब कठोरता प्राप्तय करबाक क्रिया
पडुआ भुजबाक क्रममे जे अन्न खापडि़ आदिसँ उछटि कऽ पौरमे खसि पड़ैत छेक ओकरा
अरिपडुआ भुजबाक क्रममे जे अन्नक खापडि़ आदिसँ उछटि कऽ पौरमे खसि पड़ैत छेक ओकरा
भरपडुआ भुजबाक क्रममे जे अन्नक खापडि़ आदिसँ उछटि कऽ पौरमे खसि पड़ैत छेक ओकरा
उझलब भूजल अन्नखकेँ नीचा दिस राखल चालनिमे खसयबाक क्रिया
उझिलब भूजल अन्नरकेँ नीचा दिस राखल चालनिमे खसयबाक क्रिया
चालब उझिलल अन्नि चालनिकेँ बामा-दहिना डोलाय बालूसँ पृथक् कऽ लेल जाइत छैक। एहि पृथक्करणक क्रिया
भुजाइ अन्नइकेँ भुजबाक हेतु कानूकेँ देय मजदूरी
भार अन्नकक रूपमे देल मजदूरीकेँ
अदहन मुरहीक हेतु चाउर विशेष विधिसँ तैयार कयल जाइत अछि। एकटा विधिमे कोनो बासनमे पानिमे पानिकेँ खौलबाक स्थिति धरि गर्म कयल जाइत छैक। पानिक ई अवस्थाछ विशेष
तारब अदहन भेल पानिमे धान दऽ किछु काल आँच देबाक क्रिया
उसनब तारल धानकेँ उतारि कऽ दू-तीन दिन धरि ओही पानीमे फुलबाक हेतु छोडि़ देल जाइत छैक। पछाति पहिला पानि पसाकऽ अल्पा पानि दऽ ओही पानिक भाफमे ओकरा सिद्ध कयल जाइत छैक। एहि तरहेँ सिद्ध करबाक क्रिया
उसिनब तारल धानकेँ उतारि कऽ दू-तीन दिन धरि ओही पानीमे फुलबाक हेतु छोडि़ देल जाइत छैक। पछाति पहिला पानि पसाकऽ अल्पा पानि दऽ ओही पानिक भाफमे ओकरा सिद्ध कयल जाइत छैक। एहि तरहेँ सिद्ध करबाक क्रिया
भारब दोसर विधिमे तारली धानकेँ पानिसँ छानि खपडि़मे पैघ-पैघ घानी दऽ ओकर जलीय अंशकेँ सुखाओल जाइत छैक। तारल धानकेँ एहि प्रकारें शुष्कध करबाक क्रिया
जमायब भारल धानकेँ दू-तीन दिन धरि झाँपिकऽ रखबाक क्रिया
मोब मुहरीक चाउरमे अल्पब मात्रामे नोन ओ पानिकेँ सानि देबाक क्रिया
मोअब मुहरीक चाउरमे अल्पओ मात्रामे नोन ओ पानिकेँ सानि देबाक क्रिया
मो देय पानिकेँ
पैली मुरहीकेँ जोखि ओ नापिकऽ बेचल जाइत छैक। नपबाक पात्रकेँ
पइली मुरहीकेँ जोखि ओ नापिकऽ बेचल जाइत छैक। नपबाक पात्रकेँ
कोड़ाइ भूजल-बूटकेँ चकरीक सहायतासँ दरड़ल जाइत छैक। दरड़ल बूटक खोंइचावला भागकेँ
दालि गुद्दावला भागकेँ
झटकब कोड़ाइ ओ दालिकेँ सूपक सहायतासँ पृथक् करबाक क्रिया
फटकब कोड़ाइ ओ दालिकेँ सूपक सहायतासँ पृथक् करबाक क्रिया
सातु दालिकेँ जाँतमे पिसलापर जे चिक्कास बनैत छैक, से
सतुआ दालिकेँ जाँतमे पिसलापर जे चिक्किस बनैत छैक, से
चालब पीसल सातुसँ दानाक पैघ-पैघ टुकड़ीकेँ पृथक् करबाक क्रिया
चलौंस चालला उत्तर चालनिक उपराका भागमे जे अवशेष बचि जाइत छैक, ओकरा
चलौंसी चालला उत्तर चालनिक उपराका भागमे जे अवशेष बचि जाइत छैक, ओकरा
चलनौंस चालला उत्तर चालनिक उपराका भागमे जे अवशेष बचि जाइत छैक, ओकरा
गुड़ मधुर सभमे मधुरता उत्प न्न करबाक हेतु गुड़ ओ ओकर विभिन्नन परिष्कृित रूप सबहिक व्यषवहार होइत अछि। कुसियारक रसकेँ गर्म कऽ गाढ़ भेला पर जमओलासँ
मीठा मधुर सभमे मधुरता उत्प न्न करबाक हेतु गुड़ ओ ओकर विभिन्नन परिष्कृित रूप सबहिक व्यषवहार होइत अछि। कुसियारक रसकेँ गर्म कऽ गाढ़ भेला पर जमओलासँ
राब बिनु जमल गुड़केँ
शक्क र गुड़केँ परिशुद्ध कऽ जमओलापर दानासँ युक्तप गुड़क प्रभेदकेँ
भुर्रा चीनी भुल्ल रंगक परिशुद्ध ओ शुष्का शक्ककर जकर सभटा दाना पृथक् पृथक् रहैत छैक, से
चीनी रंगहीन रससँ तैयार सूक्ष्मर दानासँ युक्त पदार्थकेँ
दूध हलुआइक दोसर प्रमुख आधार सामग्री
औंटब दूधकेँ गर्म करबाक क्रिया
उधिआयब औंटबाक क्रममे दूधक द्वारा बासनक ऊपरी विस्तृ त क्षेत्रमे पसवरि जयबाक क्रिया
छाल्हीक औंटल दूधकेँ ठढंयलापर ओकर उपरका सतहपर जमल गाढ़ पपड़ीकेँ
ममुरी छाल्हीढक पातर परतकेँ
मलाइ दूधक सतहपरसँ काछिकऽ निकालल छाल्ही केँ
मलीदा दूधक सतहपरसँ काछिकऽ निकालल छाल्ही केँ
मावा दूधक सार तत्त्वक हेतु
मावा बिनु औंटल दूधकेँ राति भरि छोडि़ देलासँ ओकर ऊपरी भागमे जमल गाढ़ पदार्थकेँ सेहो
गाभ बिनु औंटल दूधकेँ राति भरि छोडि़ देलासँ ओकर ऊपरी भागमे जमल गाढ़ पदार्थकेँ सेहो
गभकच्छूे गाभ निकालल दूधकेँ
डाढ़ी दूध जाहि बासनमे औंटल जाइत छैक ओकर पेनमी दूधक किछतु अंश जरि कऽ पकडि़ लैत छैक। एहि पदार्थकेँ
डढ़ाइन दूध जरलापर ओकर विकृतिकेँ
खिरसा सद्य: प्रसूता गाय-महिंसिक दूधकेँ
मसकब दूध अध्कि काल धरि काँच रहलापर अथवा अन्य कारणसँ दोषयुक्तद भऽ गन्धल करऽ लगैत छैक। एहि स्थितिमे दूधमे अत्यएन्त सूक्ष्मा कण सभी दृष्टिगोचर होमऽ लगैत छैक। दूधक एहि तरहेँ दोषयुक्तक होयबाक क्रिया
दूधक फाटब अधिक दोषयुक्त दूधक पानि पृथक् भऽ जाइत छैक आ ओकर सार तत्त्वक थक्का बनि जाइत छैक। एकरा
फटोन फाटल दूधक थक्कात‍वला अंशकेँ
फटौन फाटल दूधक थक्काक‍वला अंशकेँ
छन्नाँ फाटल दूधक थक्कात‍वला अंशकेँ
छेना फाटल दूधक थक्कात‍वला अंशकेँ
खोआ दूधकेँ खूब औंटलापर ओकर जलीय अंश वाष्पीीकृत भऽ उडि़ जाइत छैक आ सातर तत्त्व गील पदार्थक रूपमे बजि जाइत छैक। एकरा
राबड़ी पातर खोआकेँ
घी हलुआइक तेसर प्रमुख आधार सामग्री
घृत हलुआइक तेसर प्रमुख आधार सामग्री
घिउ हलुआइक तेसर प्रमुख आधार सामग्री
मथब ई दूधेक सारत तत्त्वसँ निर्मित होइत अछि। दूधकेँ संचालित करबाक क्रिया
महब ई दूधेक सारत तत्त्वसँ निर्मित होइत अछि। दूधकेँ संचालित करबाक क्रिया
नेनु मललासँ दूधक सार तत्त्व अलगि जाइत छैक। एहि सार तत्त्वकेँ
मक्ख न मललासँ दूधक सार तत्त्व अलगि जाइत छैक। एहि सार तत्त्वकेँ
माखन मललासँ दूधक सार तत्त्व अलगि जाइत छैक। एहि सार तत्त्वकेँ
दुद्धी मख्खधन निकललाक बाद दूधक अवशिष्टख अंशकेँ
पेड़ब आइकाल्हि दूधकेँ मशीन द्वारा संचालित कऽ मक्खन निकालल जाइत छैक। एहि तरहेँ मक्खकन निकालबाक क्रिया
घोर मक्खलनमे पानि मिलाकऽ दोबारा मथलासँ ओ अधिक कठोर स्व रूप धारण कऽ लेलापर बासनमे बचल पानि ओ मक्खमनक मिश्रित अंशकेँ
मट्ठा मक्खानमे पानि मिलाकऽ दोबारा मथलासँ ओ अधिक कठोर स्वथरूप धारण कऽ लेलापर बासनमे बचल पानि ओ मक्खमनक मिश्रित अंशकेँ
माठा मक्ख नमे पानि मिलाकऽ दोबारा मथलासँ ओ अधिक कठोर स्व रूप धारण कऽ लेलापर बासनमे बचल पानि ओ मक्खमनक मिश्रित अंशकेँ
मखनिञा दूधसँ मक्ख न निकालबाक काय्र वृहत् औद्योगिक चलैत अछि। एहिह उद्योगमे लागल व्यहक्तिकेँ
मखनाहा मक्खहन तैयार करबाक स्थखलकेँ
मखनाही मक्खहन तैयार करबाक स्थखलकेँ
बरकब मक्ख नाकेँ गर्म कयलापर द्रवीभूत होयबाक क्रिया
टाँसब अधिक काल धरि गर्म कऽ ओकर जलीय अंशकेँ सर्वथा वाष्पी कृत करा देबाक क्रिया
तेलक अनेक प्रकारक वस्तुप बनयबामे हलुआइकेँ
कडू तेल तेलहनकेँ पेडि़ कऽ प्राप्तह द्रव. होइत अछि सरिसोक तेलकेँ
कड़आ तेल तेल तेलहनकेँ पेडि़ कऽ प्राप्तह द्रव. होइत अछि सरिसोक तेलकेँ
चिक्ककस एहि सभक अविरिक्त हलुआइक प्रमुख आधार सामग्री मध्यख विभिन्न अन्न्क
चिकसा एहि सभक अविरिक्त‍ हलुआइक प्रमुख आधार सामग्री मध्यख विभिन्न अन्न्क
झोलब कपड़ापर चालबाक क्रिया
कपड़छान करब कपड़ापर चालबाक क्रिया
सुज्जीर गहूमक मोट दानेदार चिक्क सकेँ
चौरट्ठा चाउरक चिक्कासकेँ
चौरठ चाउरक चिक्केसकेँ
चौरेठा चाउरक चिक्कासकेँ
घाटि दलिहनक चिक्क स
घाठि दलिहनक चिक्क स
बेसन दलिहनक चिक्क स
घटिहन हलुआइक काजमे मुख्यकत: उड़ीद, केराओ मूँग ओ बूटक बेसनक उपयोग होइत छैक। एकरा सभकेँ
घठिहन हलुआइक काजमे मुख्यकत: उड़ीद, केराओ मूँग ओ बूटक बेसनक उपयोग होइत छैक। एकरा सभकेँ
गरी अन्य आनुषंगिक आधार सामग्री मध्यय विभिन्नड प्रकारक रंग, खाद्य मसाला ओ अन्यय वस्तु् सभक उपयोग होइत अछि। खाद्य मसालमे
नारिकेरि अन्यक आनुषंगिक आधार सामग्री मध्यय विभिन्न प्रकारक रंग, खाद्य मसाला ओ अन्यय वस्तु् सभक उपयोग होइत अछि। खाद्य मसालमे
नारियर अन्यय आनुषंगिक आधार सामग्री मध्यय विभिन्न प्रकारक रंग, खाद्य मसाला ओ अन्यय वस्तु् सभक उपयोग होइत अछि। खाद्य मसालमे
नारियल, सौंफ, छुहारा अन्यय आनुषंगिक आधार सामग्री मध्यय विभिन्न प्रकारक रंग, खाद्य मसाला ओ अन्यन वस्तुस सभक उपयोग होइत अछि। खाद्य मसालमे
छुहौरा, किसमिस, इलैंची अन्यर आनुषंगिक आधार सामग्री मध्यय विभिन्नत प्रकारक रंग, खाद्य मसाला ओ अन्यय वस्तु् सभक उपयोग होइत अछि। खाद्य मसालमे
इलायची, पोस्ताुदाना अन्यच आनुषंगिक आधार सामग्री मध्यय विभिन्न प्रकारक रंग, खाद्य मसाला ओ अन्यक वस्तु् सभक उपयोग होइत अछि। खाद्य मसालमे
कर-कट्टुक उपयोग होइत अछि। एहि मसाला सभकेँ
मर-मसल्लाि उपयोग होइत अछि। एहि मसाला सभकेँ
हाइड्रो चाशनीकेँ साफ करबाक हेतु
रीठा नाम रसायनक उपयोग होइत छैक। पूर्वमे हाइड्रोक स्थाेन पर
रीठी नाम रसायनक उपयोग होइत छैक। पूर्वमे हाइड्रोक स्था्न पर
कुम्हरर मुरब्बाक नामक मधुर बनयबामे
सजकुम्ह र मुरब्बा नामक मधुर बनयबामे
भतुआ मुरब्बा नामक मधुर बनयबामे
फुलेल मिठाइकेँ सुगन्धित करबाक हेतु ओहिमे विभिन्ने प्रकारक सुगन्ध-द्रव्यस होइत छैक। मिठाइकेँ सुगन्धित करबाक हेतु ओहिमे विभिन्ने प्रकारक सुगन्धि-द्रव्या देल जाइत छेक। एहि द्रव्येकेँ
अतर मिठाइकेँ सुगन्धित करबाक हेतु ओहिमे विभिन्ने प्रकारक सुगन्ध-द्रव्या होइत छैक। मिठाइकेँ सुगन्धित करबाक हेतु ओहिमे विभिन्ने प्रकारक सुगन्धि-द्रव्या देल जाइत छेक। एहि द्रव्येकेँ
सेंट मिठाइकेँ सुगन्धित करबाक हेतु ओहिमे विभिन्ने प्रकारक सुगन्ध-द्रव्या होइत छैक। मिठाइकेँ सुगन्धित करबाक हेतु ओहिमे विभिन्ने प्रकारक सुगन्धि-द्रव्या देल जाइत छेक। एहि द्रव्येकेँ
नोन, मरचाइ नोनगर वस्‍तु बनयबाक हेतु
मिरचाइ नोनगर वस्तुर बनयबाक हेतु
मेरचाइ, प्याकज नोनगर वस्तुर बनयबाक हेतु
पेआज नोनगर वस्तुर बनयबाक हेतु
पिआज नोनगर वस्तुर बनयबाक हेतु
पियाजु नोनगर वस्तुर बनयबाक हेतु
पेआजु, हरदि नोनगर वस्तुर बनयबाक हेतु
हरदी, धनी नोनगर वस्तुर बनयबाक हेतु
धनिञा, जीर नोनगर वस्तुर बनयबाक हेतु
जीरा, मंगरैल, मरीच, सोइंठ, जमाइन नोनगर वस्तुर बनयबाक हेतु
भोंगकुल्हाु हलुआइक अनेक उपकरण होइत छैक। आगि पजारबाक व्य वस्ज्ञा चूल्हि कहल जाइत छैक। जमीनक सतहपर कोड़ल चूल्हि
भमकौला हलुआइक अनेक उपकरण होइत छैक। आगि पजारबाक व्य वस्ज्ञा चूल्हि कहल जाइत छैक। जमीनक सतहपर कोड़ल चूल्हि
भट्ठी ईंटसँ निर्मित कोइलाक चूल्हिकेँ
कड़ाह लोहाक चदरासँ बनल गोलार्द्धक आकृतिक गँहीर ओ पैघ बर्त्तन जकर उपरका भाग खुलल रहैत छैक से
कड़ाही एहिमे विभिन्नन वस्तुे छानल जाइत अछि। छोट कड़ाहकेँ
लोहिया बूँदा लोहाक कड़ाहीकेँ
कान कड़ाह, लोहिया आदिकेँ पकड़बाक हेतु ओकर पार्श्व मे आमने-सामने अद्ध्रवृत्ताकार वलय लागल रहैत छैक। एकरा
कड़ा कड़ाह, लोहिया आदिकेँ पकड़बाक हेतु ओकर पार्श्व मे आमने-सामने अद्ध्रवृत्ताकार वलय लागल रहैत छैक। एकरा
काड़ा कड़ाह, लोहिया आदिकेँ पकड़बाक हेतु ओकर पार्श्व मे आमने-सामने अद्ध्रवृत्ताकार वलय लागल रहैत छैक। एकरा
ताइ जिलेबी छनबाक हेतु समतल आधार ओ करीब चारि आङुर ठाढ़ घेरावला कड़ाहीक उपयोग होइत अछि। एकरा ताइ (सं. तापिका) कहल जाइत छैक।
झाँझ कड़ाहमे देल वस्तुंकेँ तेल अथवा घीसँ पृथक् करबाक हेतु लोहक एकटा छिद्रमय औजारक उपयोग होइत छैक। एकरा
छनौटा कड़ाहमे देल वस्तुककेँ तेल अथवा घीसँ पृथक् करबाक हेतु लोहक एकटा छिद्रमय औजारक उपयोग होइत छैक। एकरा
झरना कड़ाहमे देल वस्तुुकेँ तेल अथवा घीसँ पृथक् करबाक हेतु लोहक एकटा छिद्रमय औजारक उपयोग होइत छैक। एकरा
डंटी एहिमे लोहाक एकटा गोल चदरा रहैत छैक जाहिमे छोट-छोट छिद्र रहैत छैक। एकरा पकड़बाक हेतु लोहाक पैघ छड़ छिद्रमय चदरासँ सम्ब्द्ध रहैत छैक। छड़केँ
छोलनी लोहेक एकटा औजार जे कड़ामहमे देल वस्तुरकेँ लारबाक हेतु प्रयुक्त‍ होइतम अछि से
खुरपी ग्रियर्सन एकरा
खुरचनी ग्रियर्सन एकरा
केओंचा एकर पैघ प्रभेद
करछु विभिन्न पदार्थकेँ एकटा बासनसँ दोसर बासनमे स्थासनान्तसरति करबाक हेतु एकटा औजार
करछुल विभिन्नज पदार्थकेँ एकटा बासनसँ दोसर बासनमे स्थासनान्तसरति करबाक हेतु एकटा औजार
करछी विभिन्नट पदार्थकेँ एकटा बासनसँ दोसर बासनमे स्थासनान्तसरति करबाक हेतु एकटा औजार
करछुल्लीा एहिमे लोहाक छड़क निचला भागमे गोलार्द्धक आकृतिक गँहीर बासन सम्बिद्ध रहैत छैक। छोअ करछुकेँ
डब्बूे पैघ करछुकेँ
गऽज कड़ाहीसँ जिलेबी निकालबाक हेतु लोहाक एकटा पातर ओ नोंखगर छड़क व्यरवहार होइत अछि। एकरा
चिमटा लोहाक एकटा अन्यख औजार जे वस्तु्केँ पकड़बाक हेतु व्य‍वहृत होइछ से
चुट्टा लोहाक एकटा अन्यय औजार जे वस्तु्केँ पकड़बाक हेतु व्यकवहृत होइछ से
चिमटी लोहाक एकटा अन्ये औजार जे वस्तु्केँ पकड़बाक हेतु व्य‍वहृत होइछ से
चुटी छोट चुट्टाकेँ
चुट्टी छोट चुट्टाकेँ
घाँटब खोआ ओ अन्यक पदार्थकेँ मिलयबाक क्रिया
मरदब खोआ ओ अन्यर पदार्थकेँ मिलयबाक क्रिया
दारु मरदबाक हेतु काठक छोलनीक व्यहवहार होइत अछि। एकराय
दाब मरदबाक हेतु काठक छोलनीक व्युवहार होइत अछि। एकराय
दाइब मरदबाक हेतु काठक छोलनीक व्युवहार होइत अछि। एकराय
दाबि मरदबाक हेतु काठक छोलनीक व्युवहार होइत अछि। एकराय
बेलब चिक्कएसकेँ पानिक संगे सानि कऽ गोल-गोल टुकड़ा काटि आ‍ेहिपर दबाब दऽ पातर ओ गोल आकृतिक निर्माण करबाक क्रिया
पाटा बेलबाक हेतु काठक एकटा चिक्कुन तकथा रहैत छैक जकर एकटा छोरपर गोड़ा लागल रहैत छैक। एकरा
बेलना जाहि औजारसँ दबाब देल जाइत छैक, से
बेलनी एहिमे एकटा करीब डेढ़ बीतक लकड़ीक बेलनाकार टुकड़ा रहैत छैक जकर दूनू कात पकड़बाक हेतु मध्यबभागसँ अपेक्षाकृति पातर मूठ बनल रहैत छैक। छोअल बेलनाकेँ
बेलआ बेलल वस्तुब
छूरी खाजा, निमकी आदिकेँ कतरबाक हेतु लोहक
चक्कूकक खाजा, निमकी आदिकेँ कतरबाक हेतु लोहक
लेटना जिलेबी बनयबाक हेतु कपड़ाक एकटा टुकड़ाक व्य़वहार होइत छैक। एकर मध्य‍ भागमे छेद रहैत छैक। कपड़ामे मैदानी भरि छेदसूं घीमे खसाओल जाइत छैक। कपड़ाक ई औजार
नारियली लेटनाक बदला आइकल्हि नारिकेरक खपरोइया अथवा पेनीमे छेद कयल गिलासक उपयोग होइत अछि। नारिकेरक खपरोइयाकेँ
कोइया गिलासकेँ
कुल्हिया गिलासकेँ
साफी कड़ाहीकेँ चुल्हिपरसँ उतारबाक हेतु जाहि कपड़ाक टुकड़ाक व्य़वहार होइत छैक ओकरा
साँचा सेवइ बनयबाक औजार
फर्मा सेवइ बनयबाक औजार
चटुआ सेवइ बनयबाक औजार
साँचा झिल्लीन बनयबाक औजार सेहो
कठौत चिक्कसस सनबाक हेतु काठक गोल ओ चारू कातसँ घेरावला औजारकेँ
कठौता चिक्क स सनबाक हेतु काठक गोल ओ चारू कातसँ घेरावला औजारकेँ
कठौती चिक्क स सनबाक हेतु काठक गोल ओ चारू कातसँ घेरावला औजारकेँ
परात मिठाइ रखबाक हेतु चारि आङुर ठाढ़ कानवला पित्तरक गोल बासन
अढि़या पित्तरक गँहीर बासनकेँ
तब रोटी आदि सेकबाक लोहाक समतल ओ गोल औजारकेँ
तबा रोटी आदि सेकबाक लोहाक समतल ओ गोल औजारकेँ
ताबा रोटी आदि सेकबाक लोहाक समतल ओ गोल औजारकेँ
साँच पकमान बनयबाक हेतु लकड़ीक विभिन्ने खोधामासँ युक्ते औजारकेँ
साँचा पकमान बनयबाक हेतु लकड़ीक विभिन्नक खोधामासँ युक्तक औजारकेँ
सचबा पकमान बनयबाक हेतु लकड़ीक विभिन्ने खोधामासँ युक्ते औजारकेँ
खोञ्चा मिठाइकेँ बेचबाक हेतु हलुआइ चारूकात घेराबासँ युक्तघ काष्ठाक बासनक उपयोग करैत अछि। एकरा
खोमचा मिठाइकेँ बेचबाक हेतु हलुआइ चारूकात घेराबासँ युक्तू काष्ठाक बासनक उपयोग करैत अछि। एकरा
खोइंचा मिठाइकेँ बेचबाक हेतु हलुआइ चारूकात घेराबासँ युक्तघ काष्ठाक बासनक उपयोग करैत अछि। एकरा
तरौना खोञ्चाकेँ बाँसक डमरूक आकृतिक आधार पर राखि कऽ घूमि-फिरि कऽ मिठाइ बेचल जाइत अछि। एहि आधारकेँ
तरौनी खोञ्चाकेँ बाँसक डमरूक आकृतिक आधार पर राखि कऽ घूमि-फिरि कऽ मिठाइ बेचल जाइत अछि। एहि आधारकेँ
बीड़ा दहीक छाँछकेँ पुआर आदिक कऽ बनाओल आधार पर राखल जाइत छैक। एकरा
बिड़बा दहीक छाँछकेँ पुआर आदिक कऽ बनाओल आधार पर राखल जाइत छैक। एकरा
बटखाराब मिठाइ जोखबाक हेतु तराजू ओ
मधुर हलुआइक उत्पा दनमे विभिन्नउ प्रकारक मिष्टानन्न क प्रधानता अछि। एहि मिष्टा्न्नक सभकेँ
मिठाइ हलुआइक उत्पा दनमे विभिन्नउ प्रकारक मिष्टानन्न क प्रधानता अछि। एहि मिष्टा्न्नक सभकेँ
मधुराइ मिष्टा न्न क विशिष्टस स्‍वादकेँ
मधुराँठ कि‍ञि्चन्मा‍त्र मधुतासँ युक्तँ मिठाइकेँ
मधुराह कि‍ञि्चन्माेत्र मधुतासँ युक्तह मिठाइकेँ
मिठाइ दूध, चीनी, मेदा, बेसन आदिक योगसँ बनल खाद्य सामग्रीकेँ
मधुर दूध, चीनी, मेदा, बेसन आदिक योगसँ बनल खाद्य सामग्रीकेँ
रस मिठाइमे चीनीक उपयोग बेसीकाल ओकर रस बनाकऽ कयल जाइत छैक। पानिमे चीनी दऽ गर्म कयलापर बनल पदार्थकेँ
चाशनी मिठाइमे चीनीक उपयोग बेसीकाल ओकर रस बनाकऽ कयल जाइत छैक। पानिमे चीनी दऽ गर्म कयलापर बनल पदार्थकेँ
सिरका मिठाइमे चीनीक उपयोग बेसीकाल ओकर रस बनाकऽ कयल जाइत छैक। पानिमे चीनी दऽ गर्म कयलापर बनल पदार्थकेँ
सीरा मिठाइमे चीनीक उपयोग बेसीकाल ओकर रस बनाकऽ कयल जाइत छैक। पानिमे चीनी दऽ गर्म कयलापर बनल पदार्थकेँ
खाँड़ मिठाइमे चीनीक उपयोग बेसीकाल ओकर रस बनाकऽ कयल जाइत छैक। पानिमे चीनी दऽ गर्म कयलापर बनल पदार्थकेँ
पातर चीनीक अपेक्षा पानिक मात्रा अधिक रहलापर सीराकेँ
मोट ओ कम रहलपापर
काह सीराकेँ अउँठा ओ तर्जनीक बीच लऽ दुनूक दूरी बढ़ाओल जाइत छैक। एहिसँ जे सीराक तार बनैत छैक तकर आधारपर सीरा एकतार, दू तार अथवा तीन तारक बूझलजाइत छैक। सीराकेँ गर्म करबाक क्रममे ओहिसँ निकलल फेनयुक्तग मैलीकेँ
काही सीराकेँ अउँठा ओ तर्जनीक बीच लऽ दुनूक दूरी बढ़ाओल जाइत छैक। एहिसँ जे सीराक तार बनैत छैक तकर आधारपर सीरा एकतार, दू तार अथवा तीन तारक बूझलजाइत छैक। सीराकेँ गर्म करबाक क्रममे ओहिसँ निकलल फेनयुक्तह मैलीकेँ
रोड़ाह चाशनीक पाग कड़ा भऽ गेलापर मिठाइ कठोर भऽ जाइत छैक। एहन मिठाइकेँ
पाक सीराकेँ
पाग सीराकेँ
पागब सीरामे वस्तु केँ डुबाकऽ ओकरा मधुरतायुक्त‍ करबाक क्रिया
भूरा सीरामे वस्तु केँ डुबाकऽ ओकरा मधुततायुक्त‍ करबाक क्रिया
भूरा सीराकेँ गर्म कऽ जलीय अंश जरा देलाक बाद अवशिष्ट चीनीक अंशकेँ
भुर्रा सीराकेँ गर्म कऽ जलीय अंश जरा देलाक बाद अवशिष्ट चीनीक अंशकेँ
टहकायब मिठाइ बनयबाक क्रममे घी अथवा तेलकेँ गर्म करबाक क्रिया
करकायब मिठाइ बनयबाक क्रममे घी अथवा तेलकेँ गर्म करबाक क्रिया
घिवही घीमे बनाओल पदार्थकेँ
तेलही ओ तेलमे बनाओल पदार्थकेँ
तेलपक ओ तेलमे बनाओल पदार्थकेँ
छानब गर्म घी अथवा तेलमे सिद्ध करबाक क्रिया
छनुआँ छनला उत्तर प्राप्त पदार्थकेँ
मखुआ घी-तेलक कि‍ञ्चित स्पआर्श द्वारा बनल वस्तु केँ
पोछुआ घी-तेलक कि‍ञ्चित स्पुर्श द्वारा बनल वस्तु केँ
छानब गर्म घी अथवा तेलमे वस्तुघकेँ सिद्ध करबाक क्रिया
छनुआँ छनला उत्तर प्राप्तस पदार्थकेँ
मखुआ घी-तेलक कि‍ञि्चत स्पआर्श द्वारा बनल वस्तु केँ
सानब मिठाइ बनयबाक हेतु विभिन्नन प्रकारक चिक्क्सकेँ पानिक योग दऽ मिलयबाक क्रिया
लोइया गील कऽ सानल वस्तुिक निपश्चित परिमाणक गोलीकेँ
मोम सानबाक क्रममे चिक्ककसमे देल तेल अथवा घीकेँ
मेन सानबाक क्रममे चिक्ककसमे देल तेल अथवा घीकेँ
मैन सानबाक क्रममे चिक्ककसमे देल तेल अथवा घीकेँ
मो सानबाक क्रममे चिक्ककसमे देल तेल अथवा घीकेँ
मेनदार मेनसँ युक्तम पदार्थकेँ
फेनब बेसनकेँ अपेक्षाकृत पातर कऽ सानल जाइत छैक। एकरा सनबाक क्रममे हाथसँ घुमा-घुमाकऽ मिलयबाक क्रिया
रद्दा लगायब मिठाइकेँ एक-दोसरापर थकियाकऽ रखबाक क्रिया
पचमेर पाँच गोट मधुरक मिश्रणकेँ
गुड़लाठी गुड़केँ पानिक संगे गर्म कऽ ठंढयलापर ओकर नाम-नाम दण्डा्कार मिठाइ बनाओल जाइत छैक। एकरा
गुडक मिठाइ बरकल गुड़मे सोडा मिलाकऽ साँचापर रोटीक आकृतिक मिठाइ बनाओल जाइछ । एकरा
गुड़क रोटी थवा
लालछड़ी बरकल चाशनीमे रंग मिलाय गर्म कऽ शुष्कल कयला पर गीमेमे पंखा, छिट्टा आदिक आकृतिक मिठाइ बनाओल जाइछ। एकरा सभकेँ
गुलाबडढ़ी बरकल चाशनीमे रंग मिलाय गर्म कऽ शुष्कल कयला पर गीमेमे पंखा, छिट्टा आदिक आकृतिक मिठाइ बनाओल जाइछ। एकरा सभकेँ
बतासा बामा हाथमे डब्बु क पकडि़ दहिना हाथे कोनो काठक टुकड़ीसँ थोड़े-थोड़े कऽ चाशनीकेँ ओछाओल कपड़ापर खसाओल जाइत छैक। सुखलापर एकटा अत्य न्तो फोंक मिठाइ बनैत छैक। एकरा
फेना पैघ बतासाकेँ
गोलदाना एहि गर्म चीनीपर ओहि चाशनीकेँ ढारि तीव्र गतिसँ संचाजिलत कयने गोल-गोल आकृतिक मिठाइ तैयार होइत अछि।
इलायचीदाना एहि गर्म चीनीपर ओहि चाशनीकेँ ढारि तीव्र गतिसँ संचाजिलत कयने गोल-गोल आकृतिक मिठाइ तैयार होइत अछि।
अड़ाँ (णा) ची दाना एहि गर्म चीनीपर ओहि चाशनीकेँ ढारि तीव्र गतिसँ संचाजिलत कयने गोल-गोल आकृतिक मिठाइ तैयार होइत अछि।
चीनीक लड्डू चीनीक चाशनी बनाकऽ ओकरा निरन्त र औंटलासँ अत्यबन्त। गाढ़ भेलापर गोल-गोल मिठाइ बनाओल जाइछ। एकरा
गुलाब रेउड़ी चाशनीमे बरक्कातिक हेतु चौरट्ठा सेहो अल्पि मात्रामे मिलाओल जाइत छैक। तिलसँ युक्तज चीनीक लड्डूकेँ मधुरकेँ
सनपापड़ी चाशनीमे सतुआ मिलाकऽ गर्मेमे ओकर तार खिचलासँ बनल मधुरकेँ
हवामिठाइ चीनीक एकटा अत्य न्त फोंक
कसार भूजल चाउरक चिक्कचसकेँ पानि संगे औंटल गुड़क रसमे दऽ गोल-गोल लड्डू बनाओल जाइत छैक। एकरा
भुसबा भूजल चाउरक चिक्कचसकेँ पानि संगे औंटल गुड़क रसमे दऽ गोल-गोल लड्डू बनाओल जाइत छैक। एकरा
शंकर लड्डू भूजल चाउरक चिक्कचसकेँ पानि संगे औंटल गुड़क रसमे दऽ गोल-गोल लड्डू बनाओल जाइत छैक। एकरा
मुरब्बाा सजकुम्हा‍रकेँ छीलिकऽ चूनक पानिसँ धोला उत्तर उसिनलाक बाद चाशनीमे सिद्ध कयला उत्तर
मोरब्बा सजकुम्हासरकेँ छीलिकऽ चूनक पानिसँ धोला उत्तर उसिनलाक बाद चाशनीमे सिद्ध कयला उत्तर
मैदानी पानिमे घोरल मैदाकेँ
जिलेबी एकरा मधुर करबाक हेतु चाशनीमे डुबाओल जाइत छैक। एहि मिठाइकेँ
जिलेबा पैघ जिलेबीकेँ
अमिरती किनारीसँ युक्तम जिलेबीकेँ
इमरती किनारीसँ युक्तम जिलेबीकेँ
इमरिती किनारीसँ युक्तम जिलेबीकेँ
इमिरती किनारीसँ युक्तम जिलेबीकेँ
छेनाह दू-तीन दिनक बासि मैदानिक उपयोग होइत छैक। मैदानी टटका रहलापर कम चाशनी सोखैत छैक। टटका मैदानीसँ बनल जिलेबी कम मुधर होइत छैक। एकरा
खाजा मैदाक अनेक परतसँ युक्त आयताकार आकृतिक मिठाइकेँ
बीट एकर परत सभकेँ
पोत बीट बनयबाक हेतु दूटा संलग्नय भागक बीच कडू तेलओ सुक्ख ल मैदाक परथन देल जाइत छैक। एहि परथन केँ
खजबा एहि मिठाइकेँ घीमे छानि चाशनीक पाग देल जाइत छैक। एकर पैघ आकृतिक प्रभेदकेँ
खजुली छोट आकृतिक प्रभेदकेँ
खजबी वर्गाकार खजुलीकेँ
गुलाबखाजा कोषमे मिष्टाेन्नाक एकटा प्रभेदकेँ
तिनसेरी खाजा तीन सेर मैदासँ निर्मित एक सय खाजामे प्रत्येिक
पनसेरी खाजा आ पाँच सेर मैदासँ निर्मित एक सय खाजामे प्रत्येखककेँ
गाजा मैदामे सोडा ओ मोम मिलाकऽ सानल जाइत अछि। पश्चासत् करीब दू इंच मोट परतक रूपमे पाटापर बेलि वर्गाकार टुकड़ाक रूपमे काटि लेल जाइत अछि। टुकड़ा सभकेँ घीमे छानि चाशनीक पाग देला पर
गाँजा मैदामे सोडा ओ मोम मिलाकऽ सानल जाइत अछि। पश्चालत् करीब दू इंच मोट परतक रूपमे पाटापर बेलि वर्गाकार टुकड़ाक रूपमे काटि लेल जाइत अछि। टुकड़ा सभकेँ घीमे छानि चाशनीक पाग देला पर
सकरपाला नामक मिठाइ बनैत छैक। छोट आकृतिक गँजाकेँ
बलुशाही गाँजाक हेतु तैयार मैदाकेँ हाथसँ मथि छोट-छोट गोली काटि चाँपिकऽ गोल-गोल टिकिया बना लेल जाइत छैक। टिकियाक मध्यइमे आङुरसँ खाधि कऽ देल जाइत छैक। एकरा घीमे सिद्ध कऽ चाशनीक पाग देलापर
बालूशाही गाँजाक हेतु तैयार मैदाकेँ हाथसँ मथि छोट-छोट गोली काटि चाँपिकऽ गोल-गोल टिकिया बना लेल जाइत छैक। टिकियाक मध्यइमे आङुरसँ खाधि कऽ देल जाइत छैक। एकरा घीमे सिद्ध कऽ चाशनीक पाग देलापर
गुजाबजामुन नामक मिठाइ बनैत अछि। एकरा बेलनाकार आकृतिमे बनौला उत्तर
गुलाबजामु नामक मिठाइ बनैत अछि। एकरा बेलनाकार आकृतिमे बनौला उत्तर
लवङलता पोत दऽ ओकर दू-तीन परत बनाकऽ चौड़ाइवला दूनू छोरकेँ सटा कऽ मेडि़ फोंक बेलनक स्विरूप जाइत छैक। घीमे एकरा छानि चीनीक पाग देला पर बनल मिठाइकेँ
लवङलती पोत दऽ ओकर दू-तीन परत बनाकऽ चौड़ाइवला दूनू छोरकेँ सटा कऽ मेडि़ फोंक बेलनक स्विरूप जाइत छैक। घीमे एकरा छानि चीनीक पाग देला पर बनल मिठाइकेँ
लौंगलता पोत दऽ ओकर दू-तीन परत बनाकऽ चौड़ाइवला दूनू छोरकेँ सटा कऽ मेडि़ फोंक बेलनक स्विरूप जाइत छैक। घीमे एकरा छानि चीनीक पाग देला पर बनल मिठाइकेँ
लौंगलता पोत दऽ ओकर दू-तीन परत बनाकऽ चौड़ाइवला दूनू छोरकेँ सटा कऽ मेडि़ फोंक बेलनक स्विरूप जाइत छैक। घीमे एकरा छानि चीनीक पाग देला पर बनल मिठाइकेँ
लौंगलती पोत दऽ ओकर दू-तीन परत बनाकऽ चौड़ाइवला दूनू छोरकेँ सटा कऽ मेडि़ फोंक बेलनक स्विरूप जाइत छैक। घीमे एकरा छानि चीनीक पाग देला पर बनल मिठाइकेँ
लौंगलत्ती पोत दऽ ओकर दू-तीन परत बनाकऽ चौड़ाइवला दूनू छोरकेँ सटा कऽ मेडि़ फोंक बेलनक स्विरूप जाइत छैक। घीमे एकरा छानि चीनीक पाग देला पर बनल मिठाइकेँ
चन्द्रठकला मैदाक टूटा गोल पूरीक मध्यक खोआ भरिकऽ चारू कातसँ गूहिकऽ घरतक छाहन चीनीक पाग देलापर
घेबर अत्य न्त पातर कऽ घोरल मैदाकेँ गर्म घीमे खसा छानि कऽ चीनीक पाग देला पर
सेवइ मैदाक बनल सूत सन-सन टुकड़ीकेँ
फिनी वर्णरत्नाककरमे
फेनी ग्रियर्सन गहूमक चिक्करस ओ चीनीक सहयोगसँ बनल पक्वासन्नचकेँ
बतास फेनी ग्रियर्सन गहूमक चिक्करस ओ चीनीक सहयोगसँ बनल पक्वासन्नचकेँ
बूँदी बूटक बेसनकेँ फेनि पातर कऽ छनौटा पर दऽ गर्म घीपर झारल जाइत छैक। एहिसँ पानिक बूँदक आकृतिक छोट-छोट दाना बनैत छैक। सिद्ध भेलापर चाशनीक पाग देला पर ई मधुर
बुँदिया बूटक बेसनकेँ फेनि पातर कऽ छनौटा पर दऽ गर्म घीपर झारल जाइत छैक। एहिसँ पानिक बूँदक आकृतिक छोट-छोट दाना बनैत छैक। सिद्ध भेलापर चाशनीक पाग देला पर ई मधुर
बुनिञा बूटक बेसनकेँ फेनि पातर कऽ छनौटा पर दऽ गर्म घीपर झारल जाइत छैक। एहिसँ पानिक बूँदक आकृतिक छोट-छोट दाना बनैत छैक। सिद्ध भेलापर चाशनीक पाग देला पर ई मधुर
लड्डू बुनियाँकेँ गोल-गोल आकृतिमे बन्होलापर बुनियाँके
लडू बुनियाँकेँ गोल-गोल आकृतिमे बन्होलापर बुनियाँके
मेहीदाना लड्डू बुनियाँकेँ गोल-गोल आकृतिमे बन्होलापर बुनियाँके
लाड़ु पैघ-पैघ लडूकेँ
लडुबी आ छोट लडूकेँ
नडि़बी वर्णरत्नाककरमे (पृ.-।3) एहि हेतु
लडिबी वर्णरत्नाककरमे (पृ.-।3) एहि हेतु
सकरौड़ी बुनिञाकेँ दूधक संगे बरकओला उत्तर
मुँगबा नामक मधुर बनैत छैक़। मूँगक बेसनक बुनिञासँ बनल लड्डूकेँ
मुगबा नामक मधुर बनैत छैक़। मूँगक बेसनक बुनिञासँ बनल लड्डूकेँ
मोतीचूरक मुदा आब ई शब्दड बुनिञाक कोनो पैघ लड्डूक हेतु रूढ़ भऽ गेल अछि। मूँगक बेसनसँ अत्य न्तँ मेही बुनियाँ बनाकऽ बन्ह लापर बनल लड्डूकेँ
कटबी बेसनक आङुर भरि मोट लत्ती बनाया ओकर छोट-छोट टुकड़ी काटि घीमे छानि पाग देलापर
झडुआ बेसनक आङुर भरि मोट लत्ती बनाया ओकर छोट-छोट टुकड़ी काटि घीमे छानि पाग देलापर
कटुआ बेसनक आङुर भरि मोट लत्ती बनाया ओकर छोट-छोट टुकड़ी काटि घीमे छानि पाग देलापर
पेड़ा पेणा खोआकेँ चीनीक संगे घाँटि शुष्कक भेलापर गोल-गोल लोइया काटि चाँपि कऽ वृत्ताकार मिठाइ बनाओल जाइत छैक। ई
भखरब बरक्कईतिक हेतु खोआमे चौरट्ठा सेहो मिला देल जाइत छैक। चौरट्ठाक मात्रा अधिक भऽ गेलापर पेड़ाक नहिल बन्हपयबाक क्रिया
बरफी शुष्कर खोआकेँ पाटापर बेलि ओकर चौखूट टुकड़ी काटल जाइत छैक। ई मिठाइ
कटबी शुष्कई खोआकेँ पाटापर बेलि ओकर चौखूट टुकड़ी काटल जाइत छैक। ई मिठाइ
रसगुल्लाि छेनाकेँ मरदि कऽ छोट-छोट गोली बनाया चाशनीमे खौलेला पर
रसभरी छेनाकेँ मरदि कऽ छोट-छोट गोली बनाया चाशनीमे खौलेला पर
षिरओला वर्णरत्नाौकरमे रसगुल्लााकेँ हेतु
रसमलाइ दधमे देल रसगुल्लाकेँ
चमचम बगेयाक आकृतिक दूनू कात नोंखगर ओ मध्यनमे चाकर छेनाक मिठाइकेँ
छन्नाकबाड़ा गोल आकृतिक चपता छेनाक मिठाइकेँ
छेनाबाड़ा गोल आकृतिक चपता छेनाक मिठाइकेँ
खिरिसा वर्णरत्नााकरमे
पनितोआ छेनाक गोलीकेँ घीमे सिद्ध कयला उत्तर ओकर रंग कत्थलइ भऽ जाइत छैक। एकरा चाशनीमे डबौलासँ
पनितौआ छेनाक गोलीकेँ घीमे सिद्ध कयला उत्तर ओकर रंग कत्थलइ भऽ जाइत छैक। एकरा चाशनीमे डबौलासँ
पैन्तोँआ छेनाक गोलीकेँ घीमे सिद्ध कयला उत्तर ओकर रंग कत्थलइ भऽ जाइत छैक। एकरा चाशनीमे डबौलासँ
लालजामुन नामक मधुर बनैत छैक। नाम-नाम पनितोआकेँ
कालाजामुन छेनाकेँ सिद्ध करबाक क्रममे अधिक काल धरि आँच देने पनितोआक कवच कठोर आ रंग कारी भऽ जाइत छैक। एकरा
कलाकन्द छेनामे खोआ मिलाकऽ लालजामुनक आकृतिक मधुर बनैत छैक। एकरा
खीरमोहन मरदल छेनाकेँ गोली बनाया तरहत्थीगपर चाँपि गोल आकृतिक बनाया मध्यआमे आङुरसँ खाधि कऽ देल जाइत छैक। एकरा घीमे छानि चाशनीमे डुबओला उत्तर
संदेश छेनाकेँ मथिकऽ चीनीक संब कड़ाहमे दऽ दाबिसँ खूब घाँटल जाइत छैक। पश्चाात् ओकरा हाथपर ठोकि-ठोकि पातर-पातर टिकिया बना लेल जाइत छैक। दू-दूटा टिकियाकेँ परस्पदर साटि कऽ
खडनी, खण्डकउति, मेतिआ, अमृतकुण्डी , सरूआरी, मधुकुपी आइकाल्हि रंग, सेन्टउ, आकृति ओ स्था,न भेदसँ मिठाइ सभक नव-नव नाम सभ भेटैत अछि, मुदा ई सभी पारिभाषिक नहि बनि सकल अछि। वर्णरत्नाककरमे
दलिभिस्ता, मण्डाी, मानसिंही, सारभाजा पकमान मिथिला भाषा कोषमे
हलुआ हलुआइक जातीय नाम जाहि पकमान विशेषपर आधारित अछि से
हलुआ सुज्जीकेँ घीमे भूजि पानि ओ चीनीक योग दऽ खदकओला पर कि‍फञ्चत गोल ओ मोलायम खाद्य बनैत छैक। एकरे
महनभोग कर-कट्टुक देल उत्तम हलुआकेँ
मोहनभोग कर-कट्टुक देल उत्तम हलुआकेँ
लपसी मैदा ओ ओनो चिक्कओससँ हलुआ बनाओल जाइत अछि। हलुआक हेतु प्राचीन शब्दक
लपसी गहूम, चाउर अथवा मड़ुआक चिक्का सकेँ भुजि कऽ ओहिमे पानि ओ गुड़ मिलाकऽ खदकयलापर लसिगर ओ गील पदार्थ बनैत छैक। एकरा
खजूर मेनदार गहूमक चिक्का सकेँ चीनीक संगे सानि नाम-नाम ठोकल वस्तुनकेँ घीमे छनला उत्तर
टिकिया मेनदार गहूमक चिक्का सकेँ चीनीक संगे सानि नाम-नाम ठोकल वस्तुनकेँ घीमे छनला उत्तर
अनरसा चाशनीमे चौरट्ठा दऽ कड़ाहमे खूब घँटैत गर्म कयलापर हलुआ जकाँ शुष्कर भेला उत्तरद ओकर छोट-छोट लोइया बनाय पाटापर देल पोस्ता दानापर दबला सँ
पूरी भारदोरमे सँठबाक हेतु गुड़क संगे सानल गहूमक चिक्कससक लोइया काटि छोट-छोट गोल आकृतिक
गुड़पूरी तेलमे छानि कऽ एकरा सिद्ध कयल जाइत छैक। एहि पकमानकेँ
बेलुआ पूरी तेलमे छानि कऽ एकरा सिद्ध कयल जाइत छैक। एहि पकमानकेँ
ठेकुआ साँचा पर ठोकल अग्रभागमे लोलीयुक्ता पानक आकृतिक पकमानकेँ
ठोकुआ साँचा पर ठोकल अग्रभागमे लोलीयुक्तभ पानक आकृतिक पकमानकेँ
मुड़की साँचा पर ठोकल अग्रभागमे लोलीयुक्तभ पानक आकृतिक पकमानकेँ
खबौनी साँचा पर ठोकल अग्रभागमे लोलीयुक्तभ पानक आकृतिक पकमानकेँ
टिकरी गोल ठकुआकेँ
गुलगुल्लाे गुड़पूरीक चिक्कुसमे पोस्तारदाना मिला ढील कऽ सनला उत्तर तेलमे गोल-गोल पिंडक रूपमे खसाय छनलासँ
पिड़किया मैदाक गोल पूरी बेलि कऽ ओहिपर रइ दऽ आधापर कातवला भागकेँ गूहि देला उत्तर घीमे छनलासँ
पिड़ुकिया मैदाक गोल पूरी बेलि कऽ ओहिपर रइ दऽ आधापर कातवला भागकेँ गूहि देला उत्तर घीमे छनलासँ
पिडि़किया मैदाक गोल पूरी बेलि कऽ ओहिपर रइ दऽ आधापर कातवला भागकेँ गूहि देला उत्तर घीमे छनलासँ
पिड़ाकड़ी मैदाक गोल पूरी बेलि कऽ ओहिपर रइ दऽ आधापर कातवला भागकेँ गूहि देला उत्तर घीमे छनलासँ
पिड़ाकी मैदाक गोल पूरी बेलि कऽ ओहिपर रइ दऽ आधापर कातवला भागकेँ गूहि देला उत्तर घीमे छनलासँ
पिड़ाँकी मैदाक गोल पूरी बेलि कऽ ओहिपर रइ दऽ आधापर कातवला भागकेँ गूहि देला उत्तर घीमे छनलासँ
गूहब पिड़कियाक किनारवला भागमे लहरदार मोड़ उत्पेन्ऩ कऽ ओकर निचला ओ उपरका भागकेँ सम्बकद्ध करबाक क्रिया
पू गहूमक चिक्ककसकेँ गुड़क संग पातर कऽ घोरि गर्म तेलमे सिद्ध कयलासँ
पूअ गहूमक चिक्कससकेँ गुड़क संग पातर कऽ घोरि गर्म तेलमे सिद्ध कयलासँ
पूआ गहूमक चिक्कससकेँ गुड़क संग पातर कऽ घोरि गर्म तेलमे सिद्ध कयलासँ
लूआ पूआ बनायब समाप्ति भेला पर बासनमे लागल चिक्कपस सभकेँ घोरि कऽ लपसी बरकाओल जाइत छैक। एहि लपसी केँ
मलपू दूध, केरा एवं कट्टुक मशाला दऽ कऽ बनाओल उत्तम पूआकेँ
मलपूआ दूध, केरा एवं कट्टुक मशाला दऽ कऽ बनाओल उत्तम पूआकेँ
मालपुआ दूध, केरा एवं कट्टुक मशाला दऽ कऽ बनाओल उत्तम पूआकेँ
सोहारी तऽबपर सेदल गहूमक चिक्क ससँ बनल गोल ओ पातर आकृतिक खाद्यकेँ
लोइया सानल चिक्कतसक एकटा सोहारीक हेतु परिमाणकेँ
गट्टा सानल चिक्कतसक एकटा सोहारीक हेतु परिमाणकेँ
बेलब बेलना द्वारा गट्टाकेँ वृत्ताकार रूप देबाक क्रिया
परथन पाटापर गील चिक्कबस सटबासँ बचयबाक हेतु गट्टामे लगाओल सुक्खमल चिक्कटसकेँ
रोटी विभिन्न प्रकारक चिक्क्ससँ बनल मोट सोहारीकेँ
रोट रोटीक स्थूाल प्रभेद
पराठा घी लगाकऽ सेदल सोहारीकेँ
परोठा घी लगाकऽ सेदल सोहारीकेँ
परौठा घी लगाकऽ सेदल सोहारीकेँ
फराठा घी लगाकऽ सेदल सोहारीकेँ
पूरी छोट ओ पातर सोहारीकेँ घीमे छानि कऽ सिद्ध कयला उत्तर
फुलकी लघु आकृतिक मुदा खूब फूलत पूरीकेँ
कचौड़ी गहूमक चिक्कँसकेँ घी, मँगरैल, नोन आदिक संगे सानि कऽ बनाओल छनुआँ पूरीकेँ
फुइट मूंग खेसारी, केराओ अथवा बूटक उसिनल दालिकेँ
फुटि मूंग खेसारी, केराओ अथवा बूटक उसिनल दालिकेँ
दलिपुरी दालिक फूटि देल पूरीकेँ
फुटिपूरी दालिक फूटि देल पूरीकेँ
पिट्ठा चौरट्ठाकेँ सानि कऽ गोली बना हाथसँ ठोकि कऽ मध्यामे चाकर ओ दूनू कात नोंखगर आकृति बना लेल जाइत छैक। एकरा खौलैत पानिमे सिद्ध कयलासँ
पिट्ठी चौरट्ठाकेँ सानि कऽ गोली बना हाथसँ ठोकि कऽ मध्यामे चाकर ओ दूनू कात नोंखगर आकृति बना लेल जाइत छैक। एकरा खौलैत पानिमे सिद्ध कयलासँ
पीठा चौरट्ठाकेँ सानि कऽ गोली बना हाथसँ ठोकि कऽ मध्यामे चाकर ओ दूनू कात नोंखगर आकृति बना लेल जाइत छैक। एकरा खौलैत पानिमे सिद्ध कयलासँ
बगिया चौरट्ठाकेँ सानि कऽ गोली बना हाथसँ ठोकि कऽ मध्यामे चाकर ओ दूनू कात नोंखगर आकृति बना लेल जाइत छैक। एकरा खौलैत पानिमे सिद्ध कयलासँ
बगेया चौरट्ठाकेँ सानि कऽ गोली बना हाथसँ ठोकि कऽ मध्यामे चाकर ओ दूनू कात नोंखगर आकृति बना लेल जाइत छैक। एकरा खौलैत पानिमे सिद्ध कयलासँ
भक्काे भाफमे सिद्ध कयल चौरट्ठासँ बनल बेलानाकार पकमानकेँ
झिल्लीक नोन फेंटल बेसनकेँ गाढ़ कऽ सानि ओकरा साँचामे भरि दबाब देलासँ बेसनक लच्छीओ निकलैत छैक। एहि लच्छीतकेँ गर्म होइत तेलमे घुमा-घुमाकऽ खसाय छनला उत्तर अनेक अन्त र्वृत्तयुक्ता पदार्थ तैयार होइत अछि। एकरा
सेओ अत्य न्त पातर छिद्रयुक्त साँचा द्वारा गाढ़ ओ नोनगर बेसन पातर-पातर लच्छीा बना तेलमे छनला उत्तर
झिलिआ अत्यआन्त पातर छिद्रयुक्त साँचा द्वारा गाढ़ ओ नोनगर बेसन पातर-पातर लच्छीा बना तेलमे छनला उत्तर
बड़ी नोनगर बेसनक तेलमे छानल गोल-गोल खाद्यकेँ
बड़ चाकर बड़ी
कचुड़ी बेसन अथवा फुलाकऽ पीसल दालिमे कततरल प्या ज, मरचाइ दऽ सानि कऽ तेलमे छनला उत्तर
पेयजुआ बेसन अथवा फुलाकऽ पीसल दालिमे कततरल प्या ज, मरचाइ दऽ सानि कऽ तेलमे छनला उत्तर
पकौड़ी आकृतिमे चपता होइत छैक। गोल कचुड़ीकेँ
पकौड़ा पैघ आकृतिक पकौड़ीकेँ
कच कचुड़ीकेँ झोरओलापर
झोर कच, कचुड़ी ओ कचौडछ़ी शब्दरक मूलमे यैह कच शब्दद बुझना जाइत अछि। कचक जलीय भागकेँ
सिरुआ कच, कचुड़ी ओ कचौडछ़ी शब्द क मूलमे यैह कच शब्दद बुझना जाइत अछि। कचक जलीय भागकेँ
पेयाजी सौंसे प्याँजपर घोरल नोनगर बेसन लपेसि कऽ तेलमे छनलापर
पेयाजू सौंसे प्यानजपर घोरल नोनगर बेसन लपेसि कऽ तेलमे छनलापर
भटवर भाटाक कच्चीलकेँ एही तरहें छनलापर
बैगनी भाटाक कच्चीरकेँ एही तरहें छनलापर
मिरचइया मिरचाइक बनाओल एहने पदार्थ
निमकी मेनदार मैदामे जमाइन, नोन आदि मिलाकऽ तेल अथवा घीमे छनला उत्तर विभिन्नम आकारक
सिंघाड़ा मैदाक सोहारी बेलिकऽ ओकरा बीचोबीच काटि दूनू वृत्तार्द्धक आकृतिमे भुजल आलू आदि भरि कऽ छनला उत्तर
समोसा मैदाक सोहारी बेलिकऽ ओकरा बीचोबीच काटि दूनू वृत्तार्द्धक आकृतिमे भुजल आलू आदि भरि कऽ छनला उत्तर
दालमोट बूटक दालिकेँ पानिमे फुलाय घीमे छनि नोन, मरचाइ आदिक बुकनी मिलाकऽ बनाओल खाद्यकेँ
घुघनी फुलाओल बूटकेँ हरदि, धनिञा, जीर, मरीच, सोंइठ, नोन आदिक संगे रन्हठला उत्तर बनल खाद्यकेँ
छोला मटरक घुघनीकेँ
बड़ा बेसनमे नोन मिलाकऽ बनाओल खाद्यकेँ
बाड़ा बेसनमे नोन मिलाकऽ बनाओल खाद्यकेँ
दहीबड़ा बेसनमे नोन मिलाकऽ बनाओल खाद्यकेँ
दहिबाड़ा बेसनमे नोन मिलाकऽ बनाओल खाद्यकेँ
दम सौंस आलूकेँ उसीनि कऽ सोहलाक बादर नून, हरदि, मिरचाइ, धनिञा, जीर, मरीच आदिक संग झारओलापर बनल खाद्यकेँ
आलूदम सौंस आलूकेँ उसीनि कऽ सोहलाक बादर नून, हरदि, मिरचाइ, धनिञा, जीर, मरीच आदिक संग झारओलापर बनल खाद्यकेँ
तीमन, तरकारी, भुजिया एकर अतिरिक्त अनेक प्रकारक
चिटाइन नोनगर वस्तुत सभ मुख्य त : तेलेमे छानल जाइत अछि। एहि तेलपक सामान सभमे अधलाह तेलक प्रभावसँ उत्पहन्नव विकृत स्वाादकेँ
तेलचिटाइन नोनगर वस्तुप सभ मुख्य त : तेलेमे छानल जाइत अछि। एहि तेलपक सामान सभमे अधलाह तेलक प्रभावसँ उत्पहन्नव विकृत स्वाादकेँ
चिटचिटाइन नोनगर वस्तुप सभ मुख्य त : तेलेमे छानल जाइत अछि। एहि तेलपक सामान सभमे अधलाह तेलक प्रभावसँ उत्पहन्नव विकृत स्वाादकेँ
टटका तत्का ल तैयार खाद्य पदार्थकेँ
बासि एक दिन पूर्व तैयार खाद्य पदार्थकेँ
बसिया एक दिन पूर्व तैयार खाद्य पदार्थकेँ
तेबासि दू दिन पूर्व तैयार खाद्य पदार्थकेँ
बसियानि खाद्यक विकृत स्वारदकेँ
पकतेल छनलाक बाद अवशिष्टर तेलकेँ
लट्टा हलुआइ अपन दोकानमे मिठाइ, नोनगर वस्तुक आदिक अतिरिकत मिथिलाक प्रिय खाद्य चूड़ा-दही अवश्यू रखैत अछि। चूड़ा धानकेँ तारि-भारि कऽ हल्कात भूजल गेला उत्तर उक्ख रिमे धऽ समाठक नड़उ दिसिसँ आघात द्वारा बनाओल पीचल चपता अन्ना थिक। संशिलष्टन चूड़ाक समूहकेँ
लटहा लट्टासँ युक्तप चूड़ाकेँ
तमहा मिथिलाक लटहा चूड़ा ओ खटहा दही नामी अछि। पातर, सुगन्धित ओ नीक चूड़ाक प्रभेद विशेषकेँ
कतरनी मिथिलाक लटहा चूड़ा ओ खटहा दही नामी अछि। पातर, सुगन्धित ओ नीक चूड़ाक प्रभेद विशेषकेँ
जोड़न दही दूधकेँ जमा कऽ बनैत अछि। औंटल दूधमे सुसुमेमे दहीक अल्पे मात्रा मिलाओल जाइत छैक। एकरा
लेसन दही दूधकेँ जमा कऽ बनैत अछि। औंटल दूधमे सुसुमेमे दहीक अल्पे मात्रा मिलाओल जाइत छैक। एकरा
जमब जोड़न देलापर दूधक मूल स्वेरूप छोडि़ कोमल ठोस रूप धारण करबाक क्रिया
जनमब जोड़न देलापर दूधक मूल स्वेरूप छोडि़ कोमल ठोस रूप धारण करबाक क्रिया
सुच्चाक दूधक शुद्धताक हेतु
सजबी सुच्चाु दूधक दहीकेँ
सरही सुच्चाु दूधक दहीकेँ
पौड़ब दहीकेँ जमयबाक क्रिया
कलहा कऽलमे पेड़ल दुद्धीक दहीकेँ
महुआ दही मऽहल दुद्धीक दहीकेँ
गोपाल दही महुआ ओ कलहआ दहीकेँ
छाल्हीआ दहीक उपरका सतहपर जमल पियरौंछ पदार्थकेँ
बरड़ी पड़ब मोट छल्हिगर दहीक छाल्ही्पर भूर बनबाक क्रिया बरड़ी
बरड़ी आ भूर सभकेँ
बरली पललि एगारह अंगुर
कठम जमिकऽ अत्यरन्त संशिलष्ट् दहीकेँ
कठगर जमिकऽ अत्यरन्ती संशिलष्ट् दहीकेँ
भैसाठ खूब कठगर दहीकेँ
ठरकब ठंढक प्रभावसँ दहीक नहि जमबाक क्रिया
तुर्री पातर दहीकेँ
छओ दहीकेँ बासनसँ निकालबाक हेतु एक बेरमे जतेक दही काटल जाइत छैक तकरा
छेओव छओक हेतु प्राचीन शब्दक
अम्महत दहीक अम्ली्य स्वा‍दकेँ
खट्टा दहीक अम्ली्य स्वा‍दकेँ
फुफड़ी अधिक दिनक पौड़ल दहीक उपरका भागमे उत्‍पन्न विकारकेँ
दहिया फुफड़ी अधिक दिनक पौड़ल दहीक उपरका भागमे उत्प न्न विकारकेँ
फुफड़ब आ फुफड़ी बनबाक क्रिया
फुफड़ी पड़ब आ फुफड़ी बनबाक क्रिया
तेलहन जाहि-जाहि अन्न्सँ तेल निकालल जाइत छैक, ओकरा सभकेँ
तेलि तेल पेड़बाक उद्योगमे लागल जाति विशेष
तेली तेल पेड़बाक उद्योगमे लागल जाति विशेष
तेलिआरि तेल पेड़बाक स्थयलकेँ
गोट तेलीक आधार सामग्री मध्यक विभिन्नल प्रकारक तेलहन अबैत अछि। पीत वर्णक अत्य।न्त‍ लघु आकृतिक एकटा तेलहन
सरसो तेलीक आधार सामग्री मध्यक विभिन्नन प्रकारक तेलहन अबैत अछि। पीत वर्णक अत्यतन्त‍ लघु आकृतिक एकटा तेलहन
सरसों तेलीक आधार सामग्री मध्यक विभिन्नन प्रकारक तेलहन अबैत अछि। पीत वर्णक अत्य।न्त‍ लघु आकृतिक एकटा तेलहन
सरिसो तेलीक आधार सामग्री मध्यक विभिन्नन प्रकारक तेलहन अबैत अछि। पीत वर्णक अत्य।न्त‍ लघु आकृतिक एकटा तेलहन
मुन्हीृ काँचे काटि लेलापर एकर दाना चोकटि जाइत छैक। एहन दानाकेँ
मुन्हीं अपुष्टं दानावला सरिसो सेहो
तोरी सरिसोक जातिक कत्थाइ रंगक तेलहन
राइ आ कारी रंगक तेलहनकेँ
रैंची आ कारी रंगक तेलहनकेँ
तिल ठंडा तेलक हेतु
तिल्लीे ठंडा तेलक हेतु
अंडी सजमनिक बीयाकेँ पेडि़कऽ सेहो तेल निकालल जाइत छैक। दीपमे जरयबाक हेतु सजमनिक बीयाकेँ पेडि़कऽ सेहो तेल निकालल जाइत छैक। दीपमे जरयबाक हेतु
रेंड़ी सजमनिक बीयाकेँ पेडि़कऽ सेहो तेल निकालल जाइत छैक। दीपमे जरयबाक हेतु सजमनिक बीयाकेँ पेडि़कऽ सेहो तेल निकालल जाइत छैक। दीपमे जरयबाक हेतु
महुआ, नीम, नारियर, डिठबरना, पितौझिया एकर अतिरिक्त,
गहुआ फऽरसँ सेहो तेल निकालल जाइत छैक। महुआक फऽरकेँ
निमौड़ी आ नीमक फरकेँ
कोल्हक तेल पेड़बाक तेलीक औजार
कोल्हूड तेल पेड़बाक तेलीक औजार
कोल्हुड तेल पेड़बाक तेलीक औजार
केल्हुड तेल पेड़बाक तेलीक औजार
कोल्हुडआर कोल्हुड जाहि ठाम रहैत अछि ओकरा
जङ्घा कोल्हुरमे करीब डेढ़ हाथ व्याहसवला शीशोक जडि़याठ माटिक नीचा तीन हाथ गाड़ल रहैत छैक आ दू हाथ जमीनक सतहसँ ऊपर रहैत छैक। माटिक तरमे गाड़ल रहैत छैक आ दू हाथ जमीनक सतहसँ ऊपर रहैत छैक। माटिक तरमे गड़ल भागकेँ
पेट ऊपरवला भागमे कठौत जकाँ खाधि कयल रहैत छैक। एहि खाधिकेँ
हण्डाए ऊपरवला भागमे कठौत जकाँ खाधि कयल रहैत छैक। एहि खाधिकेँ
कूँड़ ऊपरवला भागमे कठौत जकाँ खाधि कयल रहैत छैक। एहि खाधिकेँ
नियारी पेटक निचला भागसँ एकआ नाला कोल्हुँक आधारक पार्श्वहमे निकलैत छैक। एकरा
चनिञा पेटक निचला भागमे लोह अथवा लकड़ीक एकटा मजगूत टुकड़ा देल रहैत छैक। ई टुकड़ा आकृमि गोल होइत छैक आ एकर व्याहस पेटक भीतरी व्याहसक
पाचड़ चनिञाक ऊपरी भागमे पेटक चाक्ष्‍ कात पेटकेँ घर्षणसँ बचयबाक हेतु भीतरी भागमे लकड़ीक छोट-छोट टुकड़ी सटा-सटा कऽ बिछाओल जाइत छैक। एकरा सभकेँ
पचड़ी चनिञाक ऊपरी भागमे पेटक चाक्ष्‍ कात पेटकेँ घर्षणसँ बचयबाक हेतु भीतरी भागमे लकड़ीक छोट-छोट टुकड़ी सटा-सटा कऽ बिछाओल जाइत छैक। एकरा सभकेँ
पाचडि़ चनिञाक ऊपरी भागमे पेटक चाक्ष्‍ कात पेटकेँ घर्षणसँ बचयबाक हेतु भीतरी भागमे लकड़ीक छोट-छोट टुकड़ी सटा-सटा कऽ बिछाओल जाइत छैक। एकरा सभकेँ
मुहनि चनिञापर एकटा लकड़ीक करीब एक बीत चारि-पाँच हाथक दंड ठाढ़ रहैत छैक। एकरे दबाबसँ कोल्हु।क पेटमे देल तेलहन पिसाइत छैक। एहि दंडकेँ
महन चनिञापर एकटा लकड़ीक करीब एक बीत चारि-पाँच हाथक दंड ठाढ़ रहैत छैक। एकरे दबाबसँ कोल्हु।क पेटमे देल तेलहन पिसाइत छैक। एहि दंडकेँ
मोहनि चनिञापर एकटा लकड़ीक करीब एक बीत चारि-पाँच हाथक दंड ठाढ़ रहैत छैक। एकरे दबाबसँ कोल्हुेक पेटमे देल तेलहन पिसाइत छैक। एहि दंडकेँ
मोहैन चनिञापर एकटा लकड़ीक करीब एक बीत चारि-पाँच हाथक दंड ठाढ़ रहैत छैक। एकरे दबाबसँ कोल्हु।क पेटमे देल तेलहन पिसाइत छैक। एहि दंडकेँ
जाइठ चनिञापर एकटा लकड़ीक करीब एक बीत चारि-पाँच हाथक दंड ठाढ़ रहैत छैक। एकरे दबाबसँ कोल्हु क पेटमे देल तेलहन पिसाइत छैक। एहि दंडकेँ
लाठि चनिञापर एकटा लकड़ीक करीब एक बीत चारि-पाँच हाथक दंड ठाढ़ रहैत छैक। एकरे दबाबसँ कोल्हु।क पेटमे देल तेलहन पिसाइत छैक। एहि दंडकेँ
लाइठ चनिञापर एकटा लकड़ीक करीब एक बीत चारि-पाँच हाथक दंड ठाढ़ रहैत छैक। एकरे दबाबसँ कोल्हु।क पेटमे देल तेलहन पिसाइत छैक। एहि दंडकेँ
मूड़ एकर निचला भाग गोलाकार रहैत छैक। ओहि भागकेँ
मूड़ा एकर निचला भाग गोलाकार रहैत छैक। ओहि भागकेँ
मूड़ी एकर निचला भाग गोलाकार रहैत छैक। ओहि भागकेँ
मुड़वारी एकर निचला भाग गोलाकार रहैत छैक। ओहि भागकेँ
ढेकुआ मोहनक उपरका भागमे समकोणपर मुड़ल एकआ लकड़ीक टुकड़ी ओकरा दबबैत छैक। एकरा
ढुकुआ मोहनक उपरका भागमे समकोणपर मुड़ल एकआ लकड़ीक टुकड़ी ओकरा दबबैत छैक। एकरा
ढेका मोहनक उपरका भागमे समकोणपर मुड़ल एकआ लकड़ीक टुकड़ी ओकरा दबबैत छैक। एकरा
ठकुआ मोहनक उपरका भागमे समकोणपर मुड़ल एकआ लकड़ीक टुकड़ी ओकरा दबबैत छैक। एकरा
ठेकुआ मोहनक उपरका भागमे समकोणपर मुड़ल एकआ लकड़ीक टुकड़ी ओकरा दबबैत छैक। एकरा
कतरी एहि तकथाक एकटा भागमे अर्द्धचन्द्रओकारक खत बनल रहैत छैक। ई खतलाहा भाग कोल्हु क पेटक बाहरी भागसँ सटल रहैत छैक। एहि तकथाकेँ
कतली एहि तकथाक एकटा भागमे अर्द्धचन्द्र।कारक खत बनल रहैत छैक। ई खतलाहा भाग कोल्हुहक पेटक बाहरी भागसँ सटल रहैत छैक। एहि तकथाकेँ
कातल एहि तकथाक एकटा भागमे अर्द्धचन्द्र।कारक खत बनल रहैत छैक। ई खतलाहा भाग कोल्हुहक पेटक बाहरी भागसँ सटल रहैत छैक। एहि तकथाकेँ
कातर एहि तकथाक एकटा भागमे अर्द्धचन्द्र।कारक खत बनल रहैत छैक। ई खतलाहा भाग कोल्हुहक पेटक बाहरी भागसँ सटल रहैत छैक। एहि तकथाकेँ
कातरि एहि तकथाक एकटा भागमे अर्द्धचन्द्र।कारक खत बनल रहैत छैक। ई खतलाहा भाग कोल्हुहक पेटक बाहरी भागसँ सटल रहैत छैक। एहि तकथाकेँ
खरनाठी बाँसक टोनसँ एकटा फट्ठी कोनिआकऽ कतरीमे लागल रहैत छैक।
एकरा
भरनाठी एकटा अन्यग फट्ठी सेहो बाँसक टोनमे बान्ह ल रहैत छैक जकर दोसर छोर कोल्हुकक पेटपर रहैत छैक आ तेलहनकेँ लारबाक काज करैत छैक। एहि फट्ठीकेँ
रेवटी एकटा अन्यफ फट्ठी सेहो बाँसक टोनमे बान्ह ल रहैत छैक जकर दोसर छोर कोल्हुकक पेटपर रहैत छैक आ तेलहनकेँ लारबाक काज करैत छैक। एहि फट्ठीकेँ
उटकनी एकटा अन्यफ फट्ठी सेहो बाँसक टोनमे बान्ह ल रहैत छैक जकर दोसर छोर कोल्हुछक पेटपर रहैत छैक आ तेलहनकेँ लारबाक काज करैत छैक। एहि फट्ठीकेँ
भरसाहा कतरी नीचा दिस दबल रहब तेँ ओहिपर नम्हरर पाथर आदिक ओजन देल रहैत छैक। एकरा
दुकन्नात मोहनमे एकटा पालो लागल रहैत छैक। पालोक एकआ छोरमे कनइल लागल रहैत छैक आ ई छोर बड़दक कान्ह पर धयल रहैत छैक। दोसर छोर दू भागमे बँटल रहैत छैक। ओकरा
सोंटा कतरीक दोसर छोरमे एकटा रस्सी सँ एकटा बाँसक टोन जोड़ल रहैत छैक। एहि टोनकेँ
पगहा सोंटाक दोसर छोरपर एकटा आर रस्सीो लागल रहैत छैक। एकरा
कोल्हुैआ बड़द कोल्हुैक बड़द
खोला एकर आँखिपर पट्टी बान्हँल रहैत छैक। पट्टीकेँ
खोलसा एकर आँखिपर पट्टी बान्हँल रहैत छैक। पट्टीकेँ
अँखिमुन्ना एकर आँखिपर पट्टी बान्हँल रहैत छैक। पट्टीकेँ
अँखिमुन्नी एकर आँखिपर पट्टी बान्हँल रहैत छैक। पट्टीकेँ
अनवट एकर आँखिपर पट्टी बान्हँल रहैत छैक। पट्टीकेँ
पौर जाहि वृत्ताकार परिपथमे ई बड़द चलैत अछि, ओकरा
पौदर जाहि वृत्ताकार परिपथमे ई बड़द चलैत अछि, ओकरा
पौरी जाहि वृत्ताकार परिपथमे ई बड़द चलैत अछि, ओकरा
छन्नाद तेलहन पिचयलासँ तेल चनिञाक तर दऽ नियारी होइत बाहर निकलैत छैक। एहि तेलकेँ नियारीक समक्ष खूनल खाधिमे राखल माटिक बासनमे चुआओल जाइत छैक। एहि बासनकेँ
छन्नीे तेलहन पिचयलासँ तेल चनिञाक तर दऽ नियारी होइत बाहर निकलैत छैक। एहि तेलकेँ नियारीक समक्ष खूनल खाधिमे राखल माटिक बासनमे चुआओल जाइत छैक। एहि बासनकेँ
नरोह नियारीसँ चुबैत तेलकेँ छन्नाी धरि पहुँचबाक हेतु दूनूक बीच एकटा काठक त्रिभुजाकार आकृतिक बासन लागल रहैत छैक। एकरा
निरोह नियारीसँ चुबैत तेलकेँ छन्नाी धरि पहुँचबाक हेतु दूनूक बीच एकटा काठक त्रिभुजाकार आकृतिक बासन लागल रहैत छैक। एकरा
लिलोह नियारीसँ चुबैत तेलकेँ छन्नाी धरि पहुँचबाक हेतु दूनूक बीच एकटा काठक त्रिभुजाकार आकृतिक बासन लागल रहैत छैक। एकरा
खाप उपयोग भेलासँ कोल्हुृक पाचड़ ढील भऽ जाइत छैक। तखन पाचर सभक बीचमे बत्ती ठोकि देल जाइत छैक। एकरा
तरचड़ा पाचड़ अधिक घसा गेला पर ओकरा सभकेँ निकालि देल जाइत छैक आ नव पाचड़ बैसाओल जाइत छैक। ग्रियर्सन पुरान पाचड़क हेतु
पेटपचड़ा ओ नव पाचड़क हेतु
कोल्हूा पचड़ब पाचड़ बदलबाक क्रिया
चिकाइट तेल पेड़बाक बाद कोल्हुडमे तेलहनक अवशेषकेँ बाहर करबाक हेतु लोहक रुखाणी नामक औजारक उपयोग होइत छैक। काजक क्रममे तेली अपन हाथ पोछबाक हेतु जाहि मैल कपड़ाक व्यीवहार करैत अछि से
टाड़ी तेल रखबाक हेतु तेली माटिक बासनक व्यतवहार करैत अछि। नीचा दिस एक आङुर झुकल कानवला लोटाक आकृतिक बासन
टडि़या छोट टाड़ीकेँ
टाड़ा पैघ टाड़ीकेँ
लोटका टाड़ाकेँ मुसलमान
तेलहाँडा तेल रखबाक पैघ पात्रकँा
तेलहाँडी तेल रखबाक पैघ पात्रकँा
तेलहण्डाक तेल रखबाक पैघ पात्रकँा
कोइया टाड़ीसँ तेल निकालबाक हेतु लोहाक एकटा उपकरणक व्य वहार होइत अछि। एहिमे कनेक गोल आकृतिक एकटा चम्मआच रहैत छैक जाहिमे लोहक डंटी ठाढ़ क‍ऽ लागल रहैत छैक। एकरा
बेली एहि कार्यक हेतु बेलक खोइयावला भागमे लकड़ी अथवा बाँसक टुकड़ा लागल करछुलक सेहो व्यावहार होइत छैक। एकरा
चोङा तेल नपबाक हेतु बाँसक पोरसूं अनेक नपना बनाओल जाइत छैक। ई सभ परिमाणक अनुरूप सेर, असेरा, पौआ, अधपइ, कनमा कहल जाइत अछि। एहि नपना सभक हेतु
पैली तेल नपबाक हेतु बाँसक पोरसूं अनेक नपना बनाओल जाइत छैक। ई सभ परिमाणक अनुरूप सेर, असेरा, पौआ, अधपइ, कनमा कहल जाइत अछि। एहि नपना सभक हेतु
तेलबासा शब्दाक सेहो व्यलवहार होइत अछि। मिथिला भाषा कोषमे तेल रखबाक चोङाकेँ
घानी लगायब कोल्हुगमे घानी देबाक क्रिया
धेनुआर घानी किछु कालक बाद तेल तीव्र गतिसँ चूबऽ लगैत छैक। एहि स्थितिमे घानीकेँ
घानी निंघरब तेलहन पेड़ा गेलाक बाद तेल चूब बन्दग होयबाक क्रिया
बहताओन तेल पेड़बाक मजदूरीक रूपमे तेलीकेँ देय अन्नेकेँ
बहतौनी तेल पेड़बाक मजदूरीक रूपमे तेलीकेँ देय अन्नेकेँ
पेड़ब तेलहनकेँ दबाब द्वारा पिसबाक क्रिया
तेल एकरा पेडि़कऽ निकालल द्रवकेँ
चिकनइ एकरा पेडि़कऽ निकालल द्रवकेँ
चिकनै एकरा पेडि़कऽ निकालल द्रवकेँ
कडू तेल सरिसोक तेलकेँ
कड़ुआ सरिसोक तेलकेँ
सुच्चा तेल आन तेल सभी तेलहनक नामसँ अभिहित होइत अछि। कोल्हु क शुद्ध तेलकेँ
खाँटी तेल मील द्वारा पेड़ल शुद्ध तेलकेँ
काइट तेलक मैलकेँ
जमड़ी तेलक मैलकेँ
गादि तेलक मैलकेँ
खल्लीम तेल पेड़ला उत्तर तेलहनक अवशेषकेँ
खइर तेल पेड़ला उत्तर तेलहनक अवशेषकेँ
खरि तेल पेड़ला उत्तर तेलहनक अवशेषकेँ
खरी तेल पेड़ला उत्तर तेलहनक अवशेषकेँ
तेलाह तेल सम्पवर्की वस्तुलकेँ त
चिटाइन तेलाह वस्तुषक सटबाक प्रवृत्ति
चिटचिटाइन तेलाह वस्तुषक सटबाक प्रवृत्ति
तेलचिटाइन तेलाह वस्तुषक सटबाक प्रवृत्ति
तेलचिट तेलचिटाइन वस्तु केँ
चिटचिट तेलचिटाइन वस्तुसकेँ
तेलगर अधिक तेलसँ युक्त‍ खाद्यकेँ
झँसिगर तेलक कटु स्वाकदकेँ
सोन्हक तेलक गंधविशेष
सोन्हगगर सोन्हग गंधसँ युक्तँ तेलकेँ
नोनी नोनिञा सभक आधार सामग्री
नोनियाही नोनिञा सभक आधार सामग्री
नोनछराही नोनिञा सभक आधार सामग्री
रेह ई माटिक घरक देवाल, मालजाल बन्ह बाक स्थाान, गाछी तथा कोनो-कोनो खेतमे बर्षाक बाद उज्जोर रंगक पपड़ीक रूपमे भेटैत अछि। एकरा
कोठी नोनिञा नोनी माटिकेँ जाहि उपकरणमे घुलबैत छल, से
पटवटन एकर चारू कात एक-डेढ़ बीत मोट माटिक देवालक घेरा रहैत छलैक। एकर आधार ढालू होइत छलैक आ एहिपर ईंट ओछाओल रहैत छलैक। ईंटपर बाँसक अनेक टोन सभ देल रहैत छलैक आ तकरा ऊपर खढ़, पुआर, ताकर छाजा आदि ओछाओल रहैत छलैक। बाँसक टोन सभकेँ
पटोटन एकर चारू कात एक-डेढ़ बीत मोट माटिक देवालक घेरा रहैत छलैक। एकर आधार ढालू होइत छलैक आ एहिपर ईंट ओछाओल रहैत छलैक। ईंटपर बाँसक अनेक टोन सभ देल रहैत छलैक आ तकरा ऊपर खढ़, पुआर, ताकर छाजा आदि ओछाओल रहैत छलैक। बाँसक टोन सभकेँ
कोरो एकर चारू कात एक-डेढ़ बीत मोट माटिक देवालक घेरा रहैत छलैक। एकर आधार ढालू होइत छलैक आ एहिपर ईंट ओछाओल रहैत छलैक। ईंटपर बाँसक अनेक टोन सभ देल रहैत छलैक आ तकरा ऊपर खढ़, पुआर, ताकर छाजा आदि ओछाओल रहैत छलैक। बाँसक टोन सभकेँ
कोरइ एकर चारू कात एक-डेढ़ बीत मोट माटिक देवालक घेरा रहैत छलैक। एकर आधार ढालू होइत छलैक आ एहिपर ईंट ओछाओल रहैत छलैक। ईंटपर बाँसक अनेक टोन सभ देल रहैत छलैक आ तकरा ऊपर खढ़, पुआर, ताकर छाजा आदि ओछाओल रहैत छलैक। बाँसक टोन सभकेँ
पनार कोठीसँ पानि चूबाक हेतु बनाओल नालाकेँ
नाद चुबैत पानि कोठीक निकट कयल खाधिमे राखल माटिक बासनमे जमा होइत छलैक। एहि बासन सभकेँ
नादा चुबैत पानि कोठीक निकट कयल खाधिमे राखल माटिक बासनमे जमा होइत छलैक। एहि बासन सभकेँ
नदहा चुबैत पानि कोठीक निकट कयल खाधिमे राखल माटिक बासनमे जमा होइत छलैक। एहि बासन सभकेँ
गड़नी चुबैत पानि कोठीक निकट कयल खाधिमे राखल माटिक बासनमे जमा होइत छलैक। एहि बासन सभकेँ
परछा चुबैत पानि कोठीक निकट कयल खाधिमे राखल माटिक बासनमे जमा होइत छलैक। एहि बासन सभकेँ
चेलुआ शोरा अथवा नोनक उत्पाअदनक हेतु ढेप-चेप चूडि़कऽ कोठीमे राखल माटिकेँ
रस चेलुआपर पानि पटओलासँ पेनी पर दऽ होइत नादमे जमा होम ऽवला ललौन रंगक माटिक सार तत्त्वयुक्तट घोलकेँ
कस चेलुआपर पानि पटओलासँ पेनी पर दऽ होइत नादमे जमा होम ऽवला ललौन रंगक माटिक सार तत्त्वयुक्तय घोलकेँ
सीठ कस खसलाक बाद अवशिष्टक माटिकेँ
सिठ्ठी कस खसलाक बाद अवशिष्टक माटिकेँ
नोनफर सिट्ठीक ढेरीकेँ
खारी औंटबाकाल काछल फेनकेँ
खरिआ खरीकेँ सुखाकऽ
खारी खरीकेँ सुखाकऽ
कारी खरीकेँ सुखाकऽ
पछाड़ी पहिल खेपक बाद अवशिष्टप रसकेँ
काही दोसर खेपमे प्राप्तर शोराकेँ
पकवा ओ नोनकेँ
तेलहा तेसर खेपमे अवक्षेपित शोराकेँ
नीमक ओ नोनकेँ
जराठी तेसर बेर अवक्षेपणक बाद अवशिष्टक रसकेँ
बेचुआ उपयोगमे अनबाक हेतु जराठी ओ सिट्ठीक मिश्रणकेँ
कच्चाण उपर्युक्त विधिसँ प्राप्त शोराकेँ
जरुआ शोरा उपर्युक्त विधिसँ प्राप्त शोराकेँ
आबी शोरा रौदमे रसक वाष्पीरकरणसँ प्राप्तर शोराकेँ
कलमी शोरा कच्चाश शोराकेँ परिशुद्ध कयलापर
नून नोनकेँ
नोन नोनकेँ
बेलदारी नीमक नोनकेँ
नीमक नोनकेँ
रामरस नोनकेँ
नोनगर नोनसँ सम्बमद्ध अनेक शब्दँ प्रचलित अछि। नोनसँ युक्तक खाद्यकेँ
नोनछाह, नोनसँ सम्बतद्ध अनेक शब्दँ प्रचलित अछि। नोनसँ युक्तक खाद्यकेँ
नोनछराह, अधिक नोनगर खाद्यकेँ
अनोन, नोन रहित खाद्यकेँ
मधनोन कम नोनगर खाद्यकेँ
अनोना नोनरहित खाद्य खयबाक व्रतकेँ
मधुमाछी माछीक आकारक कीट विशेष द्वारा विभिन्नव फूलक परागसँ निर्मित एकटा अत्यसन्तए पौष्टिक द्रवकेँ
मक्खीे माछीक आकारक कीट विशेष द्वारा विभिन्नव फूलक परागसँ निर्मित एकटा अत्यसन्तए पौष्टिक द्रवकेँ
मधुमक्खीय माछीक आकारक कीट विशेष द्वारा विभिन्नए फूलक परागसँ निर्मित एकटा अत्यसन्तए पौष्टिक द्रवकेँ
छत्ता मधुमाछीक खोंताकेँ
मधु छोड़ायब छत्तासँ मधु बाहर करबाक व्याुपार
मोम मधु छोड़यबाक व्य वसायमे कुरेड़ीह जाति लागल छथि। मधु छोड़यबाक व्यिवसायमे सह-उत्पाुदनक रूपमे
भौंरा मिथिलामे मधुमाछीक तीन गोट प्रभेद भेटैत अछि। पीताभ पाँखिसँ युक्तप मधुमाछीक सबसँ पैघ आकृतिवला प्रभेद
खोखवला मक्खी चितकाबकर पाँखिवला मध्याम आकृतिक मधुमाछीकेँ
गोइठी कारी रंगक पाँखिवला अत्य न्तल छोट आकृतिक मधुमाछीकेँ
कनौजिया कारी रंगक पाँखिवला अत्य न्तल छोट आकृतिक मधुमाछीकेँ
उक्काछ मधुमाछी घरक देवाल, गाछ आदिपर छत्ता लगबैत अछि। घरक देवालमे दीवार नामक कीट ओ गाछपर घोरन नामक कीटक आक्रमणसँ छत्ता छोडि़ कऽ दण्डा कार उपकरण बनाओल जाइत छैक। एकरा
लुक्काज मधुमाछी घरक देवाल, गाछ आदिपर छत्ता लगबैत अछि। घरक देवालमे दीवार नामक कीट ओ गाछपर घोरन नामक कीटक आक्रमणसँ छत्ता छोडि़ कऽ दण्डा कार उपकरण बनाओल जाइत छैक। एकरा
कटिया मधु रखबाक घैलाकेँ
डोल मधुमाछीक छत्तीकेँ लोहक
बाल्टीीमे मधुमाछीक छत्तीकेँ लोहक
झोड़ा छत्ताकेँ सड़यबाक हेतु कपड़ाक बान्हयल मोटरीकेँ
धोकड़ा छत्ताकेँ सड़यबाक हेतु कपड़ाक बान्हयल मोटरीकेँ
धोकड़ी छोट धोकड़ाकेँ
नर-सर पक्षी मारबाक हेतु कुरेड़ीक वंशनिर्मित औजार
सर लोहाक नोंखगर शूल लागल दंडकेँ
नर शूलसँ रहित दंड सभंकेँ
नाला नर ओ सरक निचला भागमे करीब तीन इंचक खोधर रहैत छैक, जाहिमे दोसर सरक उपरका भाग घोसिया कऽ दूनूकेँ सम्बाद्ध कयल जा सकैत छैक। एहि खोधरकेँ
गुआ नरक उपरका भाग जकरा नालामे पेसल जाइत छैक, से
सिर सर ओ क्रमवर्ती नरकेँ परसपर सम्बरद्ध कऽ बहुत पैघ दंड बनाओल जा सकैत छैक। नरमे ऊपरवला दंडकेँ
भारू ओ नीचावला दंडकेँ
दोमब नर-सरकेँ परस्प र सम्ब द्ध कयला उत्तर ओकर दोलनक क्रिया
कम्पाो पक्षीकेँ फँसयबाक अन्य व्यषवस्थानमे सरमे अनेक कमची बान्हि देल जाइत छैक। एहि कमची सभकेँ
लस्साए कम्पाएमे पक्षीकैँ सटयबाक हेतु ओहिपर लगलाओल पदार्थकेँ
लासा कम्पालमे पक्षीकैँ सटयबाक हेतु ओहिपर लगलाओल पदार्थकेँ
पाचब पीपरक गाछमे अनेक छो मारि कऽ क्षत करआक क्रिया
चोङा लस्साककेएक पोर बाँसक खोलमे राखल जाइत छैक। एहि खोलकेँ
चोंगा लस्सा केएक पोर बाँसक खोलमे राखल जाइत छैक। एहि खोलकेँ
मधु कुरेड़ीक प्रमुख उत्पारदन
चैती मधु मधुक उत्पा्दन मुख्यसत- चैतसँ आषाढ़ मास धरि होइत अछि। चैत मासमे आमक मज्ज।रसँ मधुमाछी मधु बनबैत अछि। ई मधु स्वबच्छम, गाढ़ ओ सुगन्धित होइत अछि। एकरा
बैसक्खार बैसाख मासक मधु
जेठीमधु गाढ़ दानेदार आ हल्का लाल रंगक होइत छैक। जेठ मासक मधु
सूड़ मधुमाछीक पछिला भागमे पातर ओ नोंखगर अंग होइत छैक। एकरा
सूंघ मधुमाछीक पछिला भागमे पातर ओ नोंखगर अंग होइत छैक। एकरा
बिसबिसायब एहिसँ मधुमाछी दंश मारैत छैक। दंश मारलापर पीड़ा होयबाक मादि दैत छैक। खेहारबाक क्रिया
चहेटब मधुमाछी मधु छोड़ौनिहाकेँ खेहारिकऽ दंश मारि दैत छैक। खेहारबाक क्रिया
मन्तुबर छत्ता लग जयबासँ पूर्व कुरेड़ी एकटा मन्त्र् पढ़ैत अछि जकरा
कोढ़ा मधुमाछीक छत्ता अर्द्ध अंडाकार होइत छैक। एकर उपरका भागमे मधु भरल रहैत छैक जकरा
कोरहा मधुमाछीक छत्ता अर्द्ध अंडाकार होइत छैक। एकर उपरका भागमे मधु भरल रहैत छैक जकरा
खखरा अंडा-बच्चाजसँ भरल निचला भागकेँ
मुठरा दबाब द्वारा मधु गाड़ल मुट्ठी भरि कोढ़ाकेँ
मुठला दबाब द्वारा मधु गाड़ल मुट्ठी भरि कोढ़ाकेँ
मोम खाधिमे तरल द्रव दोसर दिन जमि कऽ ठोस पिंडक रूपमे प्राप्तक होइत छैक। एकरा
थक्कीए पिंडक हेतु
थक्का पिंडक हेतु
मोमबत्ती मोमक उपयोग लकड़ीमे पालिसक हेतु आ प्रकाशक साधनक रूपमे होइत छैक। मोमक बेलनाकार दण्डैक मध्यँ भागमे सूत लगाकऽ जे प्रकाशक साधन बनाओल जाइत अछि से
पंछी पक्षीकेँ
चिड़ँइ पक्षीकेँ
चिडि़याँ पक्षीकेँ
बनमुर्गी, परबा सेहो कहल जाइत छैक
। कुरेड़ी द्वारा शिकार कयल गेल प्रमुख खाद्य चिड़ँइ सभ
कबूतर, बनपवा्र, पौरकी, हरियल, मुरैना, महाफ्फा सेहो कहल जाइत छैक
। कुरेड़ी द्वारा शिकार कयल गेल प्रमुख खाद्य चिड़ँइ सभ
महौखा, सिल्ली सेहो कहल जाइत छैक
। कुरेड़ी द्वारा शिकार कयल गेल प्रमुख खाद्य चिड़ँइ सभ
अधनी, मैना, दाबिल, खुर्पाबान, धनेस, डकहर सेहो कहल जाइत छैक
। कुरेड़ी द्वारा शिकार कयल गेल प्रमुख खाद्य चिड़ँइ सभ
डोकहर, करांकुल, गगगन, खयरा बगुला, जलमुर्गा, बगुला, नकटा, दिघोंच सेहो कहल जाइत छैक
। कुरेड़ी द्वारा शिकार कयल गेल प्रमुख खाद्य चिड़ँइ सभ
दिघौंछ, सदूल, लालशर, बगेरी मसरैंची, पिल्लक, सेंगर सेहो कहल जाइत छैक
। कुरेड़ी द्वारा शिकार कयल गेल प्रमुख खाद्य चिड़ँइ सभ
चोथब रन्ह बासँ पूर्व पंछीक पाँखि ओदारबाक किम्रया
सुगा बेचबाक हेतु कुरेड़ी मुख्यकत:
सुग्गा बेचबाक हेतु कुरेड़ी मुख्यकत:
सुग्गा बेचबाक हेतु कुरेड़ी मुख्यकत:
सूआ बेचबाक हेतु कुरेड़ी मुख्यकत:
तोता बेचबाक हेतु कुरेड़ी मुख्यकत:
करार नामक पंछीकेँ पकड़ैत अछि। मधुर स्वपरसँ युकत सूगाक सबसँ पैघ प्रभेदकेँ
अमृतभेला कंठ लग लाल दग्गी हसँ युक्तग सुग्गा‍केँ
टेटिया कर्कश स्वलरवला सूगाक सबसँ छोट आकृतिवला प्रभेदकेँ
बजरी कर्कश स्व रवला सूगाक सबसँ छोट आकृतिवला प्रभेदकेँ
हीरामन सूगाक दन्तमकथा सभमे
सुग्गी वर्णन भेटैत अछि जे अत्यनन्तज चतुर प्रकृति वर्णित भेल अछि। मादा सुग्गा केँ
बिज्जी चाम बेचबाक हेतु कुरेड़ी
सपनौर चाम बेचबाक हेतु कुरेड़ी
तुनकारी एकरा आकृष्टह करबाक हेतु कुरेड़ीक मुँहसँ निकालल ध्व़नि विशेषकेँ
हींग, जाफर, काफरय, विषमा, शंखलाभी, टटैनी, अधकपारी मधु छोड़यबाक धंधा ऋतुसापेक्ष रहबाक कारणें वर्षक अनेक मासमे कुरेड़ी भिक्षाटन कऽ अथवा
पान नामक लताविशेषक
पनेरी पानकेँ काटि-मोडि़ कऽ रूपमे प्रस्तुकत करऽवला जाति
बरेब पान उपजयबाक हेतु जलाशयक निकटक भीठ जमीन उपयुक्त छैक। पान रोपबाक लेल जमीनमे चाक्ष टाट आ ऊपरमे छाँही देल जाइत छैक। जमीनक एहि भागकेँ
बरैठा पान उपजयबाक हेतु जलाशयक निकटक भीठ जमीन उपयुक्त छैक। पान रोपबाक लेल जमीनमे चाक्ष टाट आ ऊपरमे छाँही देल जाइत छैक। जमीनक एहि भागकेँ
बेल बरैठामे‍ जोत- कोड़क हेतु खेतीक सामान्येत औजारक उपयोग होइत छैक। खेत तैयार भेलापर साओन-भादवमे पानक लत्तीक एकटा गाहीहसँ युक्तक टुकड़ी रोपल जाइत छैक। एकरा
कलम बरैठामे‍ जोत- कोड़क हेतु खेतीक सामान्येत औजारक उपयोग होइत छैक। खेत तैयार भेलापर साओन-भादवमे पानक लत्तीक एकटा गाहीहसँ युक्तक टुकड़ी रोपल जाइत छैक। एकरा
बीज बरैठामे‍ जोत- कोड़क हेतु खेतीक सामान्येह औजारक उपयोग होइत छैक। खेत तैयार भेलापर साओन-भादवमे पानक लत्तीक एकटा गाहीहसँ युक्तक टुकड़ी रोपल जाइत छैक। एकरा
सपुरा बरैठामे पानकेँ पतियानीमे रोपल जाइत छैक। एहि पाँ‍ती सभकेँ
साँपुरा बरैठामे पानकेँ पतियानीमे रोपल जाइत छैक। एहि पाँ‍ती सभकेँ
सोपरा बरैठामे पानकेँ पतियानीमे रोपल जाइत छैक। एहि पाँ‍ती सभकेँ
सोफरा बरैठामे पानकेँ पतियानीमे रोपल जाइत छैक। एहि पाँ‍ती सभकेँ
आँतर दूटा सोपराक बीचवला अपेक्षाकृत गँहीर स्थपलकेँ
अँतरा दूटा सोपराक बीचवला अपेक्षाकृत गँहीर स्थपलकेँ
पह दूटा सोपराक बीचवला अपेक्षाकृत गँहीर स्थपलकेँ
पाह दूटा सोपराक बीचवला अपेक्षाकृत गँहीर स्थपलकेँ
पाहे दूटा सोपराक बीचवला अपेक्षाकृत गँहीर स्थपलकेँ
लोइट पानमे निरन्तँर पानि पटबऽ पड़ैत छैक। पानि पटयबाक हेतु कानरहित पैघ घैलकेँ
लोटि पानमे निरन्तकर पानि पटबऽ पड़ैत छैक। पानि पटयबाक हेतु कानरहित पैघ घैलकेँ
लोटी पानमे निरन्तकर पानि पटबऽ पड़ैत छैक। पानि पटयबाक हेतु कानरहित पैघ घैलकेँ
मोइट पानमे निरन्तकर पानि पटबऽ पड़ैत छैक। पानि पटयबाक हेतु कानरहित पैघ घैलकेँ
मटोर पानिक बहाओक कारणेँ सपुराक माटि बहिकऽ अँतरामे चल जाइत छैक। सपुरामे पानक जडि़ लग माटि देबाक हेतु व्यमवहृत छोट सन छिट्टाकेँ
मटोइर पानिक बहाओक कारणेँ सपुराक माटि बहिकऽ अँतरामे चल जाइत छैक। सपुरामे पानक जडि़ लग माटि देबाक हेतु व्यमवहृत छोट सन छिट्टाकेँ
मटोरि पानिक बहाओक कारणेँ सपुराक माटि बहिकऽ अँतरामे चल जाइत छैक। सपुरामे पानक जडि़ लग माटि देबाक हेतु व्यमवहृत छोट सन छिट्टाकेँ
खाद उपजामे वृद्धिक हेतु माटिमे मिलाओल चाउर, जौ, केरावल आदिक चिक्केस, सरिसोक खइर आदि पदार्थकेँ
खाध उपजामे वृद्धिक हेतु माटिमे मिलाओल चाउर, जौ, केरावल आदिक चिक्केस, सरिसोक खइर आदि पदार्थकेँ
इकरी पानक लत्तीकेँ ओकर जडि़ लग उदग्र गाड़ल खरीपर अवलम्बित कराओल जाइत छेक। एकरा
राड़ी लत्तीकेँ इकरीमे बन्हकबाक हेतु
काइस नामक घासक टुकड़ीकेँ
सरपत पानक ढोली बन्ह़बाक हेतु
बन्ह का नामक घासक टुकड़ीसँ बनाओल बन्हटनकेँ
कतरनी पानक सड़लाला भागकेँ कतरबाक हेतु बाँसक दूआ पातर ओ चाकर कमचीसँ बनल औजारकेँ
कमची पानक सड़लाला भागकेँ कतरबाक हेतु बाँसक दूआ पातर ओ चाकर कमचीसँ बनल औजारकेँ
कैंची पनेरी द्वारा पानक पातकेँ कतरबाक हेतु लोहाक गुनचिह्रक आकृतिक औजारकेँ
सरौता सुपारी कटबाक लौह औजारकेँ
काँति कैंची ओ सरौताक प्राचीन नाम
सीकी मोड़ल पानकेँ गँथबाक हेतु बाँसक अत्यथन्त पातर शलाकाकेँ
सिक्कील मोड़ल पानकेँ गँथबाक हेतु बाँसक अत्यथन्त पातर शलाकाकेँ
अँकुरा बेलसँ निकलल शखाकेँ
कनार बेलसँ निकलल शखाकेँ
गछउठौनी अँकुराक लत्तीक रूप धारण कयला उत्तर ओकरा इकरीसँ सम्बओद्ध करबाक व्याओपारकेँ

No comments:

Post a Comment

"विदेह" प्रथम मैथिली पाक्षिक ई पत्रिका http://www.videha.co.in/:-
सम्पादक/ लेखककेँ अपन रचनात्मक सुझाव आ टीका-टिप्पणीसँ अवगत कराऊ, जेना:-
1. रचना/ प्रस्तुतिमे की तथ्यगत कमी अछि:- (स्पष्ट करैत लिखू)|
2. रचना/ प्रस्तुतिमे की कोनो सम्पादकीय परिमार्जन आवश्यक अछि: (सङ्केत दिअ)|
3. रचना/ प्रस्तुतिमे की कोनो भाषागत, तकनीकी वा टंकन सम्बन्धी अस्पष्टता अछि: (निर्दिष्ट करू कतए-कतए आ कोन पाँतीमे वा कोन ठाम)|
4. रचना/ प्रस्तुतिमे की कोनो आर त्रुटि भेटल ।
5. रचना/ प्रस्तुतिपर अहाँक कोनो आर सुझाव ।
6. रचना/ प्रस्तुतिक उज्जवल पक्ष/ विशेषता|
7. रचना प्रस्तुतिक शास्त्रीय समीक्षा।

अपन टीका-टिप्पणीमे रचना आ रचनाकार/ प्रस्तुतकर्ताक नाम अवश्य लिखी, से आग्रह, जाहिसँ हुनका लोकनिकेँ त्वरित संदेश प्रेषण कएल जा सकय। अहाँ अपन सुझाव ई-पत्र द्वारा ggajendra@videha.com पर सेहो पठा सकैत छी।

"विदेह" मानुषिमिह संस्कृताम् :- मैथिली साहित्य आन्दोलनकेँ आगाँ बढ़ाऊ।- सम्पादक। http://www.videha.co.in/
पूर्वपीठिका : इंटरनेटपर मैथिलीक प्रारम्भ हम कएने रही 2000 ई. मे अपन भेल एक्सीडेंट केर बाद, याहू जियोसिटीजपर 2000-2001 मे ढेर रास साइट मैथिलीमे बनेलहुँ, मुदा ओ सभ फ्री साइट छल से किछु दिनमे अपने डिलीट भऽ जाइत छल। ५ जुलाई २००४ केँ बनाओल “भालसरिक गाछ” जे http://www.videha.com/ पर एखनो उपलब्ध अछि, मैथिलीक इंटरनेटपर प्रथम उपस्थितिक रूपमे अखनो विद्यमान अछि। फेर आएल “विदेह” प्रथम मैथिली पाक्षिक ई-पत्रिका http://www.videha.co.in/पर। “विदेह” देश-विदेशक मैथिलीभाषीक बीच विभिन्न कारणसँ लोकप्रिय भेल। “विदेह” मैथिलक लेल मैथिली साहित्यक नवीन आन्दोलनक प्रारम्भ कएने अछि। प्रिंट फॉर्ममे, ऑडियो-विजुअल आ सूचनाक सभटा नवीनतम तकनीक द्वारा साहित्यक आदान-प्रदानक लेखकसँ पाठक धरि करबामे हमरा सभ जुटल छी। नीक साहित्यकेँ सेहो सभ फॉरमपर प्रचार चाही, लोकसँ आ माटिसँ स्नेह चाही। “विदेह” एहि कुप्रचारकेँ तोड़ि देलक, जे मैथिलीमे लेखक आ पाठक एके छथि। कथा, महाकाव्य,नाटक, एकाङ्की आ उपन्यासक संग, कला-चित्रकला, संगीत, पाबनि-तिहार, मिथिलाक-तीर्थ,मिथिला-रत्न, मिथिलाक-खोज आ सामाजिक-आर्थिक-राजनैतिक समस्यापर सारगर्भित मनन। “विदेह” मे संस्कृत आ इंग्लिश कॉलम सेहो देल गेल, कारण ई ई-पत्रिका मैथिलक लेल अछि, मैथिली शिक्षाक प्रारम्भ कएल गेल संस्कृत शिक्षाक संग। रचना लेखन आ शोध-प्रबंधक संग पञ्जी आ मैथिली-इंग्लिश कोषक डेटाबेस देखिते-देखिते ठाढ़ भए गेल। इंटरनेट पर ई-प्रकाशित करबाक उद्देश्य छल एकटा एहन फॉरम केर स्थापना जाहिमे लेखक आ पाठकक बीच एकटा एहन माध्यम होए जे कतहुसँ चौबीसो घंटा आ सातो दिन उपलब्ध होअए। जाहिमे प्रकाशनक नियमितता होअए आ जाहिसँ वितरण केर समस्या आ भौगोलिक दूरीक अंत भऽ जाय। फेर सूचना-प्रौद्योगिकीक क्षेत्रमे क्रांतिक फलस्वरूप एकटा नव पाठक आ लेखक वर्गक हेतु, पुरान पाठक आ लेखकक संग, फॉरम प्रदान कएनाइ सेहो एकर उद्देश्य छ्ल। एहि हेतु दू टा काज भेल। नव अंकक संग पुरान अंक सेहो देल जा रहल अछि। विदेहक सभटा पुरान अंक pdf स्वरूपमे देवनागरी, मिथिलाक्षर आ ब्रेल, तीनू लिपिमे, डाउनलोड लेल उपलब्ध अछि आ जतए इंटरनेटक स्पीड कम छैक वा इंटरनेट महग छैक ओतहु ग्राहक बड्ड कम समयमे ‘विदेह’ केर पुरान अंकक फाइल डाउनलोड कए अपन कंप्युटरमे सुरक्षित राखि सकैत छथि आ अपना सुविधानुसारे एकरा पढ़ि सकैत छथि।
मुदा ई तँ मात्र प्रारम्भ अछि।
अपन टीका-टिप्पणी एतए पोस्ट करू वा अपन सुझाव ई-पत्र द्वारा ggajendra@videha.com पर पठाऊ।

'विदेह' २२५ म अंक ०१ मई २०१७ (वर्ष १० मास ११३ अंक २२५)

ऐ  अंकमे अछि :- १. संपादकीय संदेश २. गद्य २.१. १. राजदेव मण्‍डल -  दूटा बीहैन क था २. रबीन्‍द्र नारायण मिश...