Friday, April 03, 2009

कुंडलिया- आशीष अनचिन्हार

कुंडलिया
बाप मरल अन्हार मे पूतक नाम पावर-हाउस
नोर-माँड़ पिबए माए कनिञा खाए माउस
कनिञा खाए माउस ताहि पर दही चाहबे करी
बिनु सेब-समतोलाक वज्र खसए हरहरी
कह अनचिन्हार कविराय कनिञा चंडीक अंश
भुखले नहि रखथिन्ह त बढ़तैन्ह कोना वंश

'विदेह' २२५ म अंक ०१ मई २०१७ (वर्ष १० मास ११३ अंक २२५)

ऐ  अंकमे अछि :- १. संपादकीय संदेश २. गद्य २.१. १. राजदेव मण्‍डल -  दूटा बीहैन क था २. रबीन्‍द्र नारायण मिश...