Friday, January 30, 2009

की नाम राखी एहि कथाक


“हम यादवजीक पत्नी बाजि रहल छी, ओ छथि की?” एकटा गम्भीर स्वर आएल। यादव जी एखने अपन प्रेमिकाक संग बाहर निकलल रहथि । अरिन्दमकेँ किछु नहि फुरएलैक जे की बाजए- “कोनो काजसँ बाहर गेल छथि, एखने दू मिनट पहिने। हुनकर मोबाइलपर फोन कऽ लिअ”।

“मोबाइल नॉन-रीचेबल छन्हि, कोनो ऑफिसक काजसँ गेल छथि की?”

अरिन्दमकेँ आब किछु नहि फुरएलैक-

“नहि, से तँ लागैए जे कोनो व्यक्तिगते काज छन्हि कारण ऑफिसक काज रहितए तँ हमरा बुझल रहितए”।

ओम्हरसँ फोन राखि देल गेल। अरिन्दमकेँ मोन पड़लैक जे यादवजी जाइसँ पहिने मोबाइल बिना ऑफ कएने बैटरी निकालि आ लगा कऽ मोबाइल बन्द कएने छलाह। स्वाइत नॉन-रीचेबल आबि रहल अछि।

अरिन्दम लैपटापपर एक्सेल डॉक्युमेन्टमे ओझराएल हिसाब-किताब ठीक-ठाक करए लगलाह।
किछु दिन पहिने एहिना एकटा स्वर फोनपर आएल रहैक- “यादवजी छथि की?”

“अहाँ के”?
“हम हुनकर पत्नी”। अरिन्दम फोन यादवजीकेँ देने रहए आ यादवजी खूब आह्लादसँ पत्नीसँ गप कएने छलाह। ओहि दिन बॉसक पत्नीक अबाज ओतेक गम्भीर नहि लागल रहैक अरिन्दमकेँ। चुलबुलिया सन अबाज रहैक। होइत छैक, लोकक मोन क्षणे-क्षणे तँ बदलैत रहैत छैक।

अरिन्दम अपन घरक शान्त-प्रशान्त जीवन मे रहैत अछि। कारसँ नित्य अबैत काल रेडलाइटपर हिजड़ा-सभ सभ दिने भेँट होइत छैक। पुरनका कारमे ए.सी. नहि रहैक, से शीसा खसेने रहैत छल। ढेर गप-शप बजैत ओ सभ हाथ-मुँह चमका कऽ की-की सभ सुना दैत रहए। मुदा आब ओ एहिसँ बचबाक लेल शीसा खसबिते नहि अछि। ओ सभ शीसाक बाहरसँ मुँह पटपटबैत किछु कालमे दोसर गाड़ी दिस बढ़ि जाइत अछि। परसू एकटा बालगोविना तमसा कऽ हाथक झुटकासँ ओकर कारमे स्क्रैच लगा देलकैक। पाँच टकाक बदलामे ढेर नुकसान भऽ गेलैक- धुर। के करबैत गऽ डेंटिंग-पेंटिंग, स्क्रैच भने रहत किछु दिन। दिल्लीमे जे एहन चेंछमे डेंटिग पेंटिंग कराबए लागी तँ सभ दिने करबए पड़त। मुदा ई नवका बॉस ज्र् आएल अछि से अरिन्दमक मस्तिष्कमे एकटा भूकम्प आनि देने छैक। रस्तोमे की सभ सोचाइत रहैत छैक।

“काल्हि अहाँक पत्नीक फोन आएल रहन्हि”।

“अच्छा, कखन?” यादवजी बजलाह।

“अहाँक गेलाक किछुए कालक बाद”।

कोनो जवाब बिनु देने यादवजी फोन मिलेलन्हि-

“ऑफिसमे किएक फोन केलहुँ......मोबाइल बेसमेन्टमे नॉन-रीचेबल रहैत छैक, तँ किछु काल प्रतीक्षा कएल नहि भेल...”। खटाकसँ फोन रिसीवरपर बजड़ल। अरिन्दम लैपटॉपसँ मुँह उठा कऽ देखलक। केहन परिवार छैक? साँझमे गामपर पहुँचल होएत तँ पत्नीसँ गपो नहि भेलैक की? गपक फरिछाहटि ऑफिसेसँ फोन कए कऽ रहल अछि।
अरिन्दम डेस्कटॉपक आ वाशिंग मशीन दुनुक हेल्पलाइन नम्बरकेँ फोन मिलेलक, गामपर फुरसति कहाँ भेटैत छैक। घरपर दुनू चीज एके बेर खराप भऽ गेलैक। घरसँ ऑफिस निकलैत काल कनियाँ वाशिंग मशीनक खराब हेबाक तँ बेटा अपन कम्प्युटरपर गेम कैक दिनसँ खरापीक चलते बन्द रहबाक विषयमे कहने रहन्हि।

“कतेक कालसँ फोन इनगेज रखने छी, गप सुनू, ककरो फोन आबए तँ कहबैक जे यादवजीक स्थानान्तरण भऽ गेलन्हि”। बॉस बाहर कतहुसँ फोन कएने रहथिन्ह आ एके सुरमे सभटा बाजि गेल छलाह।

काल्हि साँझमे पत्नीकेँ छोड़ए लेल यादवजी गेल रहथि आ एम्हर हुनकर प्रेमिकाक फोन आएल रहन्हि ऑफिसमे। ओ कोनो होटलक नाम बाजल रहए आ कहने रहए जे यादवजीकेँ होटलक नाम बता देबन्हि ओ बुझि जएताह। अरिन्दम ई मैसेज यादवजीकेँ तखने दऽ देने रहथि। आब आइ नहि जानि कोन कारणसँ एखन धरि ऑफिस नहि आएल अछि। कनियाँ तँ गेलैक नैहरि आ तखन आब ककर फोन अएतैक जकरा कहबैक जे एकर स्थानान्तरण भऽ गेलैक।
फोन तँ नहि आएल मुदा ओ आएलि रहए, बॉसक प्रेमिका। आइ ओ अपन नामो बतेलक, बड्ड नीक नाम रहैक ओकर- पारुल।

“यादवजी कतए गेलथि”।

“हुनकर स्थानान्तरण भऽ गेलन्हि”। अरिन्दम बाजल।

“अच्छा”। ई कहि ओ चलि गेलि।

“अहाँकेँ फोनपर आएल प्रश्नक उत्तरमे ई कहबाक रहए, सोझाँ आएल लोककेँ नहि”। ओकर सहकर्मी रोहिणी हँसैत बाजलि।

“हम कनेक भाँसि गेल छी। आब आइसँ ऑफिसक फोन रिसीव करबाक भार अहाँपर”। अरिन्दम बाजल।

रोहिणी एहि गपकेँ हँसीमे लेने रहए मुदा अरिन्दम तखनेसँ सभटा फोन रिसीव केनाइ छोड़ि देलक।

एहन नहि रहए जे बॉस कार्यालय अब् नहि छल। जखन धरि ओ कार्यालयमे रहैत छल बेशी काल अपने फोन रिसीव करैत रहए, काजमे सेहो फुर्तिगर रहए।

“एकटा गप बुझलिऐ। अजय गणेशन आइ भोरसँ मुँह लटकौने अछि”।
“किएक”। रोहिणीक प्रश्नक उत्तर दैत अरिन्दम बाजल।

“इन्टरनेटपर कोनो प्रेमिका संगे कतेक महिनासँ चैटिंग द्वारा प्रेमालाप करैत रहए। आइ पता लगलैक जे ओकरा संगे क्यो दोसर लड़का हँसी कऽ रहल छलैक। प्रेम वियोगमे अदहा बताह बनल अछि”- रोहिणी कहलक।

यादव जी कोनो चीज बिसरि गेल छलाह से लिफ्टसँ तखने कक्षमे आएल रहथि, रोहिणीक गप सुनि लेने छलाह।
“हमरा तँ इन्टरनेटक ई माध्यमे आकाशीय लगैत अछि”- कहैत ओ अपन चश्मा लेलन्हि आ चलि गेलाह।

रोहिणीकेँ फोन रिसीव करबाक ड्युटी लगलन्हि तँ अरिन्दम निश्चिन्त भऽ गेलाह।

“सुनैत छी, एक बेर फोनपर जे अबाज अबैत छैक जे हम यादवजीक पत्नी छी तँ ओहिमे कचबचियाक अबाज गुँजैत छैक आ दोसर बेर जे फोन अबैत अछि जे हम यादव जीक पत्न्नी छी तँ ओहिमे गंभीरता रहैत छैक। की रहस्य अछि किछु ने बुझाइए”।
“लोकक मूड होइत छैक”।
“एहन कोन मूड होइत छैक जे घण्टे-घण्टामे बदलैत रहैत छैक। आ देखू एहि बॉसकेँ। जखन चुलबुलिया मूडमे फोन अबैत छैक तँ ई हँ-हँ हमर सरकार कहि कऽ गप करैत अछि आ जखन गम्भीर स्वरमे पत्नीक फोन अबैत छैक तँ झिरकिकँ बजैत अछि जे ऑफिसक फोनपर फोन किएक केलहुँ- बुझू”।
“ई अपना रहलापर फोन अपने उठबैक प्रयास करैत अछि”।
“कोनो डर छैक ताहि द्वारे”।
“अहाँकेँ तँ ओहिना लगैत रहैए, कथीक डर रहतैक एकरा”।
आब अरिन्दमकेँ लगलैक जे रोहिणी कोनो चीजक अन्वेषणमे लागि गेल अछि।

“दू दिनसँ देवगन तंग कएने अछि दुर्घटना बीमा करेबाक लेल”- रोहिणी बजलीह।
“एजेन्सी लऽ लेलक अछि की?”- अरिन्दम पुछलन्हि। देवगन ऑफिसमे चपरासी छल।
“हँ, एहि नगरमे जतेक पाइ भेटैत छैक ताहिसँ की होएतैक से पत्नीक नामसँ एजेन्सी लेने अछि। कहैत रहए पन्द्रह सालक दुर्घटना बीमा लेबाक लेल”।
“ओ, तखन ई एल.आइ.सी. नहि जी.आइ.सी.क एजेन्सी लेने अछि”।
“कम्मे प्रीमियम छैक लऽ लियौक, हमहू लऽ रहल छी”।

देवगन खुशी खुशी दुनू गोटेकेँ फॉर्म भरबाक लेल देलक आ चाह बनेबाक लेल चलि गेल। तखने यादवजी धरधराइत अएलाह।
“कोन फॉर्म सभ गोटे भरि रहल छी?”
“देवगन कनियाँक नामसँ इन्स्योरेन्सक एजेन्सी लेने अछि, वैह दुर्घटना बीमा करबा रहल अछि सभक”। रोहिणी आ अरिन्दम जेना संगे बाजि उठलाह।
तखने देवगन चाहक ट्रे लेने आएल। यादवजीकेँ फॉर्मक तहकीकात करैत देखि ओकर देह सर्द भऽ गेलैक।

“दू टा फॉर्म हमरोसँ भरबा लिअ”- यादवजी देवगनकेँ कहलखिन्ह।
देवगनकेँ तँ कानपर विश्वासे नहि भेलैक। दौगि कऽ दू टा फॉर्म अनलक।
“एकटा हमरा नामसँ भरू आ एकटा सबीना यादवक नामसँ”।
“मेम साहबक नाम सबीना यादव छन्हि?”
“हँ”।
फॉर्म जखन भराए लागल तँ नॉमिनेशनक कॉलम मे देवगन यादवजी बला फॉर्ममे सबीना यादव आ सबीना यादव बला फॉर्ममे यादव जीक नाम भरि देलक।
“ई की केलहुँ, दुनू फॉर्म चेन्ज करू। नॉमिनेशनक की जरूरति अछि। हमरा पत्नीक पाइक कोनो खगता नहि अछि”।
देवगन दुनू फॉर्म फाड़ि दू टा नव फॉर्म भरलक। अपन फॉर्ममे यादवजी हस्ताक्षर कएलन्हि आ दोसर फॉर्म साइन करेबाक लेल देवगनकेँ पता लिखि कऽ देबऽ लगलाह।
“हमरा अहाँक डेरा देखल अछि साहब”।
“ई दोसर पता छी, राखू”।

रोहिणीक कान ठाढ़ भऽ गेलन्हि। ओ यादवजीक बाहर गेलाक बाद देवगनक कानमे किछु कहलन्हि। अरिन्दम अपन काजमे लागल रहल।

“यादवजी छथि?” फोनपर पारुल रहथि।
“यादवजीक ट्रान्सफर भऽ गेलन्हि”।
“झूठ नहि बाजू, हुनका फोन दियन्हु”।
“हे, नहि तँ हम अहाँक नोकर छी आ नहिये अहाँक यादव जीक।
ई कहैत अरिन्दम फोन पटकि देलक। बीचमे कतेक दिनसँ रोहिणी फोन उठबैत छलीह। आइ ओ कतहु एम्हर-ओम्हर छलीह से अरिन्दमकेँ फोन उठाबए पड़ल रहैक।
रोहिणी तखने पहुँचि गेल छलीह- “अभ्यास खतम भऽ गेने तामस उठि गेल अहाँकेँ”। अरिन्दम स्वीकृतिमे मूड़ी डोलेलक।
आइ ऑफिस अबैत काल रेडियो मिर्ची एफ.एम. पर चलि रहल अण्ट-शण्ट गप नीक लागि रहल छलैक अरिन्दमकेँ।
“हमर बड़का बेटा सुमन्त तेलुगु खूब नीक जकाँ बजैत अछि मुदा छोटका हिन्दी बाजए लागल अछि। हैदराबादसँ दादाक फोन अबैत छैक तँ हुनको हिन्दीयेमे जवाब दैत अछि। हुनका हिन्दी अबिते नहि छन्हि। घरमे पति तेलुगु बजबाक अभियान शुरु कएने छथि”- रोहिणी बाजि रहल छलीह।
“अच्छा”।
“बुझलहुँ, पारुलक फोन आएल रहए। कहैत रहए जे अरिन्दम जीक हम कोनो बकड़ी तँ नहि खोलि लेने छलियन्हि जे ओना कऽ फोनपर झझकारि उठल रहथि”।
“हूँ”।
“आ ई सेहो बाजि रहल छलि जे ओ यादवजी पर विश्वास कए धोखा खएलक”।
“ओ”।
“आ देवगन गेल रहए यादवजीक नवका घर”।
“नवका घर? पुरनका घर बेचि देलन्हि की?”
“नहि। देवगनेक कहल कहैत छी। पुरनका घरमे यादव जीक पहिल पत्नी रहैत छथिन्ह, वैह अहाँक गम्भीर स्वरवाली। आ नवका घरमे नवकी चुलबुली कनियाँ रहैत छन्हि। एकटा कोढ़चिल्को देखलक देवगन। यादवजीक बेटा रहन्हि प्रायः”।

ढहैत भावनाक देबाल

ढहैत भावनाक देबाल

खाम्ह अदृढ़ताक ठाढ़

 

आकांक्षाक बखारी अछि भरल

प्रतीक बनि ठाढ़

घरमे राखल हिमाल-लकड़ीक मन्द्इर आकि

ओसारापर राखल तुलसीक गाछ

प्रतीक सहृदयताक मात्र ।

 

मोन पाड़ैत अछि इनार-पोखरिक महार,

स्विमिंगपूलक नील देबाल, बनबैत पानिकेँ नील रंगक ।

मोनक रंगक अदृश्य देबाल

ढहैत

खाम्ह अदृढ़ताक ठाढ़

बहैत।

पक्काक जाठि

पक्काक जाठि

 

तबैत पोखरिक महार दुपहरियाक भीत,  ,

पस्त गाछ-बृच्छ-केचली सुषुम पानि शिक्त ।

 

जाठि लकड़ीक तँ सभ दैछ पक्काक जाठि ई पहिल,

कजरी जे लागल से पुरातनताक प्रतीक।

 

दोसर टोलक पोखरि नहि,  अछि डबरा वैह,

बिन जाठिक ओकर यज्ञोपवीत नहि भेल कारण सएह ।

 

सुनैत छिऐक मालिक ओकर अद्विज छल,

पोखरिक यज्ञोपवीतसँ पूर्वहि प्रयाण कएल।

 

पाइ-भेने सख भेलन्हि पोखरि खुनाबी,

डबरा चभच्चा खुनेने कतए यश पाबी।

 

देखू अपन टोलक पक्काक जाठि ई,

कंक्रीट तँ सुनैत छी, पानियेमे रहने होइछ कठोर,

लकड़ीक जाठि नहि जकर जीवन होइछ थोड़।

देखैत दुन्दभीक तान

देखैत दुन्दभीक तान

बिच शामिल बाजाक

 

सुनैत शून्यक दृश्य

प्रकृतिक कैनवासक

हहाइत समुद्रक चित्र

 

अन्हार खोहक चित्रकलाक पात्रक शब्द

क्यो देखत नहि हमर चित्र एहि अन्हारमे

तँ सुनबो तँ करत पात्रक आकांक्षाक स्वर

 

सागरक हिलकोरमे जाइत नाहक खेबाह

हिलकोर सुनबाक नहि अवकाश

 

देखैत अछि स्वरक आरोह अवरोह

हहाइत लहरिक नहि ओर-छोर

 

आकाशक असीमताक मुदा नहि कोनो अन्त

सागर तँ एक दोसरासँ मिलि करैत अछि

असीमताक मात्र छद्म, घुमैत गोल पृथ्वीपर,

चक्रपर घुमैत अनन्तक छद्म।

 

मुदा मनुक्ख ताकि अछि लेने

एहि अनन्तक परिधि

परिधिकेँ नापि अछि लेने मनुक्ख।

 

ई आकाश छद्मक तँ नहि अछि विस्तार,

एहि अनन्तक सेहो तँ नहि अछि कोनो अन्त?

तावत एकर असीमतापर तँ करहि पड़त विश्वास!

 

स्वरकेँ देखबाक

चित्रकेँ सुनबाक

सागरकेँ नाँघबाक।

समय-काल-देशक गणनाक।

 

सोहमे छोड़ि देल देखब

अन्हार खोहक चित्र,

सोहमे छोड़ल सुनब

हहाइत सागरक ध्वनि।

 

देखैत छी स्वर, सुनैत छी चित्र

केहन ई साधक

बनि गेल छी शामिल बाजाक

दुन्दभी वादक।

 

*राजस्थानमे गाजा-बाजावलाक संग किछु तँ एहेन रहैत छथि जे लए-तालमे बजबैत छथि मुदा बेशी एहन रहैत छथि जे बाजा मुँह लग आनि मात्र बजेबाक अभिनय करैत छथि। हुनका ई निर्देश रहैत छन्हि जे गलतीयोसँ बाजामे फूक नहि मारथि। यैह छथि शामिल बाजा।

आइ ब्लॉगक एक बरख पूरा भेल ....

प्रिय ब्लॉग प्रेमी बंधुगन ।

आरसी प्रसाद सिंह ०१ आ चन्दा झा ०१

उदयचन्द्र झा'विनोद'

उदयनारायण सिंह'नचिकेता'

उपेन्द्र दोषी

उषाकिरण खान

कांचीनाथ झाकिरण

काशीकान्त मिश्रमधुप

कीर्तिनारायण मिश्र

कुलानन्द मिश्र

गंगेश गुंजन

गोपालजी झा 'गोपेश'

चन्दा झा ०२

जनक किशोर लाल दास

जीवकांत ०१

जीवकान्त ०२

ज्योत्सना चन्द्रम

तारानन्द वियोगी/ आरसी प्रसाद सिंह ०२ / हरिमोहन झा ०१

दिगम्बर झा'दिनमणि'

नारायणजी आ मार्कण्डेय प्रवासी

पाब्लो नेरुदा आ विद्यापति ०२ (बिदेसिया)

प्रतापमल्ल

प्रफुल्ल कुमार सिंहमौन

प्रभास कुमार चौधरी

प्रेम शंकर सिंह

बबुआजी झा 'अज्ञात'

बबुआजी झा 'अज्ञात' 02

बिलट पासवान'विहंगम'

भालचन्द्र झा

मंत्रेश्वर झा

महेन्द्र नारायण राम

रमानन्द रेणु

रवीन्द्रनाथ ठाकुर

राजकमल चौधरी

राजेन्द्र विमल,रामभरोस कापड़ि'भ्रमर' आ रोशन जनकपुरी

रामकृष्ण झा 'किशुन'आ आन कोसी गीत

रामलोचन ठाकुर ०१

रामलोचन ठाकुर ०२ आ आन मैथिली हैकू-हाइकू-क्षणिका

रेवतीरमण लाल/ वृषेश चन्द्र लाल/ हिमांशु चौधरी/ निमिष झा/ धीरेन्द्र प्रेमर्षि/ रूपा धीरू

लिली रे

विद्यापति ०१ -पदावली

विभारानी

वीरेन्द्र मल्लिक

शेफालिका वर्मा

साकेतानन्द

सार्वभौम मानवाधिकार घोषणा : मैथिली अनुवाद रमानन्द झा 'रमण' :भाषा सम्पादन गोविन्द झा

सियाराम झा 'सरस' :महाप्रकाश : रमेश : देवशंकर नवीन

सुन्दर झा 'शास्त्री' :भुवनेश्वर पाथेय : अशोक दत्त : धर्मेन्द्र विह्वल

सुभाषचन्द्र यादव

सोमदेव

हरिमोहन झा- ०२

हृदयनारायण झा


पछिला बरखक रचना सभ :-

मैथिली कथा - कहानी संग्रह Maithili Stories......

पोसपुत, उदाश मोन, सिपाही, धोबीकेँ गदहा-संतोष कुमार मिश्र,पसीझक काँट भाग-१, पसीझक काँट भाग-२, पसीझक काँट भाग-३, अपराजिता-राजकमल चौधरी, आयल गामक याद-मदन कुमार ठाकुर, मधुक एक ठोप, खिस्सा जीवनक-जितमोहन झा, अंधेर नगरी चौपट राजा- मदन कुमार ठाकुर, मजाक- जीतू,11 गोट कथा-गजेन्द्र ठाकुर, पता नहि डोमा पढ़लक आकि नहि- गजेन्द्रठाकुर

मैथिली सामाजिक आलेख Maithili Essays.......


मैथिली कविता POEM Maithili Poetry Poems.......



एहि बरखक रचना सभ :-

मैथिली कथा - कहानी संग्रह
Maithili Stories.......
लिली रे - विधिक विधान,साकेतानन्द - कालरात्रिश्च दारुणा, सुभाषचन्द्र यादव- कनियाँ-पुतरा, की नाम राखी एहि कथाक-गजेन्द्र ठाकुर,चूल्हि- भालचन्द्र झामाउगि- विभा रानी, कबइ इच्छा- अनलकांत ,तर्पण- अनलकांत,श्रीधरम- फानी,विद्यापतिक बिदेसिया, एत’ आ ओत’-अनलकांत ,सत्यानास केलक बिमारी, असोथकित- अनलकांत ,बुढ़ी माता- अमित कुमार 'गोपाल',एक विलक्षण प्रतिभा-कुसुम ठाकुर, एक विलक्षण प्रतिभा जिनका हम सदिखन याद करैत छी(पाँचम कड़ी) कुसुम ठाकुर

मैथिली आलेख Maithili Essays........ मिथिलाक लुप्तप्राय गीत-हृदय नारायण झा, सन्त साहेब रामदास- डॉ. पालन झा, मैथिलीक मानक लेखन-शैली, कम्प्युटरसं मैथिली जोडबाक प्रयास-जितेन्द्र झा 'जनकपुर',अनिलचन्द्र ठाकुर,डॉ.विजयकान्त मिश्र,डॉ.जयकान्त मिश्र

मैथिली कविता POEM Maithili Poetry Poems......... ढहैत भावनाक देबाल- गजेन्द्र ठाकुर, पक्काक जाठि- गजेन्द्र ठाकुर, देखैत दुन्दभीक तान- गजेन्द्र ठाकुर, चारि टा पद्य-गजेन्द्र ठाकुर, निगदति कुसुमपुरे- गजेन्द्र ठाकुर, बतहिया पुछै छै सवाल-दयाकान्त मिश्र, मॉं मिथिले त कनिते रहती-प्रवीण झा, की हमहूँ रहबै कुमार-मदन कुमार ठाकुर नाव आ जीवन आ मौनक शब्द- सतीश चन्द्र झा भ्रमित शब्द-सतीश चन्द्र झा सृजन-सतीश चन्द्र झा सतीशचन्द्र झा - शब्दप्रवीण झा-हमर गाम रूपेश कुमार झा 'त्योंथ'-जागू आब दयाकांत मिश्र-'नहि सोभैया रंगदारी' आ 'हे नेता जी अहाँ के प्रणाम' माय-मनीष झा 'बौआभाइ' आशीष अनचिन्हार- गजल आशीष अनचिन्हार- हे हमर प्रेयसी पेशावर- पंकज पराशर तक्षशिला आ दूबि- पंकज पराशर चान आ चान्नी-विवेकानन्द झा कविता आ की सुजाता-विवेकानन्द झा भगजोगनी आ देह- अनुप्रियाबभनगमाबाली भौजीक जीवनक महत्वपूर्ण घटना सभक एकटा संक्षिप्त विवरणिका-कृष्णमोहन झा हमर प्रेम -कृष्णमोहन झाफूलडालीक कनेर -कृष्णमोहन झा


अपने लोकनि केँ सूचित करैत अपार ख़ुशीक अनुभूति भs रहल अछि, जे मैथिल आर मिथिला (मैथिली ब्लॉग) आइ अपन सफलतम पहिलुक बरख पूरा केलक ! एहि एक बरखमे ब्लॉग केँ जे सफलता प्राप्त भेल ताहि हेतु ब्लॉग परिवार अपने लोकनिक आभारी अछि ! ब्लॉगक सफलताक वर्णन नीचाँ प्रस्तुत अछि ....


१ फरवरी - २००८ सँ १ फरवरी - २००९ (समय- एक बरख)
एक बरखक भीतर ३३ लेखक द्वारा प्रकाशित १२२ लोकप्रिय रचना
एक बरखमे ८४९१ गोटे द्वारा ई ब्लॉग ५,३२,३८७ बेर देखल गेल, जे की मैथिली ब्लॉगक दुनियाँ मे एकटा रिकार्ड स्थापित कएलक!

नीचाँ हम अपन लेखक दलक सभ रचना केँ एक पेज मे संजोगैक प्रयास केने छी । एहिमे कोनो रचना केँ पढबाक लेल शीर्षकक लिंक पर क्लिक करी ....

लेखक दल :
(१) - जितमोहन झा (ब्लॉग व्यवस्थापक)
(२) - गजेन्द्र ठाकुर (ब्लॉग संयोजक)
(३) - मदन कुमार ठाकुर
(४) - मनोज झा "मुक्ति"
(५) - ममता झा
(६) - दयाकांत मिश्र
(७) - डॉ.पंकज पराशर
(८) - डॉ.श्रीधरम
(९) - डॉ.पालन झा
(१०) - विनीत उत्पल
(११) - अजय कुमार झा
(१२) - भवेश झा
(१३) - अंशुमाला
(१४) - सतीश चन्द्र झा
(१५) - आशीष झा
(१६) - उमेश कुमार महतो
(१७) - सुशांत झा
(१८) - मुरारी झा
(१९) - गिरीन्द्र नाथ झा
(२०) - नीलिमा चौधरी
(२१) - अनलकान्त (गौरीनाथ)
(२२) - प्रीति
(२३) - नितेश कर्ण
(२४) - आशीष अनचिन्हार
(२५) - शैलेन्द्र मोहन झा
(२६) - गोविन्द मिश्र
(२७) - प्रवीण झा
(२८) - ब्रजमोहन झा
(२९) - अविनाश झा
(३०) - रानू वर्मा
(३१) - श्यामल सुमन
(३२) - जितेन्द्र झा
(३३) - श्याम सुन्दर "शशि"

प्रस्तुत अछि ३३ लेखक द्वारा ब्लॉग पर प्रकाशित १२२ गोट रचना ...

उदास मोन, आ पोसपुत ( मैथिली कथा संग्रह ) Maithili Stories ... श्री सन्तोष मिश्रजीक प्रस्तुति ..

(१) - पोसपुत भाग-१, (२) - पोसपुत भाग-२, (३) - एकटा ब्यथा पत्रमे, (४) - जखन कनिञा भेलखिन बिमार, (५) - सिपाही, (६) - भाग्य अप्पन अप्पन, (७) - उदाश मोन, (८) - सुभद्रा, (९) - एक कथा स्नेहकें, (१०) - कारी पौलनि करिखा, (११) - अशल खिलाडी, (१२) - मुमफली बाली, (१३) - विवाहक - प्रतीक्षा, (१४) - धोबीक गदहा, (१५) - दाग लागल स्नेहमे, (१६) - हमरा याद अछि, (१८) - डॉक्टर, (१९) - दाग,


व्यंग्य:१ - फूसि-फटक, व्यंग्य:२ - पसीझक काँट भाग-१, भाग-२, भाग-३, व्यंग्य:३ - लालकिलाक भारत रत्न ,

मैथिली भाषा आर कथा - व्यंग्य Maithili Story ..... मदनजीक प्रस्तुति .....

(१) - आयल गामक याद, (२) - खट्टरकाका, (३) - चारिटा टेलीग्राम, (४) - बीसटका सुईद (व्याजक) संग, (५) - बहुत महत्त्व अछि, (६) - अंधेर नगरी चौपट राजा, (७) - देश प्रेम मे आस्था, (८) - रेडिमेडक जमाना, (९) - सत्यानास केलक बिमारी,

मिथिलाक खानपान ..... नीलिमा चौधरीजीक प्रस्तुति ...


(१) - मखानक खीर, (२) - मेथीक परोठा, (३) - मुगलई कोबी, (४) - केसर पुलाव, (५) - मूरक परोठा,

1. दही चूडा चीनी- हरिमोहन झा 2. बाजि गेल रनडंक-श्री आरसी प्रसाद सिंह 3.तारानंद वियोगी-नन्दीग्रामपर पंचकमनोज मुक्तिक प्रस्तुति ...


1. दही चूडा चीनी- हरिमोहन झा 2. बाजि गेल रनडंक-श्री आरसी प्रसाद सिंह 3.तारानंद वियोगी-नन्दीग्रामपर पंचक,


आर मैथिली कथा (कहानी) Maithili Stories

(१) - मजाक - जितमोहन झा,(२) - ११ टा कथा - गजेन्द्र ठाकुर,
(३) - अपराजिता - राजकमल चौधरी, (४) - मधुक एक ठोप - जितमोहन झा,
(५) - चूड़ा-दही-चीनी - हरिमोहन झा, (६) - खिस्सा जीवनक - जितमोहन झा,
(७) - पता नहि डोमा पढ़लक आकि नहि - गजेन्द्र ठाकुर, (८) - बहादुरगंजक लोककथा - उमेश कुमार महतो,
(९) - एत' आ ओत' - अनलकान्त, (१०) - तर्पण - अनलकान्त,
(११) - की नाम राखी एहि कथाक - गजेन्द्र ठाकुर,

ब्लॉगपर उपस्थित मैथिली सामाजिक आलेख Maithili Essays

(१) - मिथिलांचलक विकास - सुशांत झा, (२) - सात फेरा - जितमोहन झा,
(३) - ज़िम्मेदारी - जितमोहन झा, (४) - छोटका भैया - ममता झा ,
(५) - जीवनक उद्देश - रानू वर्मा, (६) - आलोचना - ममता झा,
(७) - जीवन साथी - ममता झा, (८) - एक अलग पहचान - जितमोहन झा,
(९) - किछ बात करी - ममता झा, (१०) - दोस्त बनाबू - जितमोहन झा,
(११) - माँ - जितमोहन झा, (१२) - सासुरक बुराई - ममता झा,
(१३) - कोसी - गजेन्द्र ठाकुर, (१४) - सुख - ममता झा,
(१५) - नशाकेँ नञि कहू - जितमोहन झा, (१६) - रामाश्रय झा - गजेन्द्र ठाकुर,
(१७) - राजमोहन झा - गजेन्द्र ठाकुर, (१८) - मंत्रेश्वर झा - गजेन्द्र ठाकुर,
(१९) - सन्त साहेब रामदास - डॉ. पालन झा, (२०) - विद्यापतिक बिदेसिया - गजेन्द्र ठाकुर,
(२१) - जीवनक सार्थकता - जितमोहन झा, (२२) - आदर्शवादी शिक्षक - जितमोहन झा,
(२३) - मिथिला विभूति - १ - गजेन्द्र ठाकुर, (२४) - मिथिला विभूति - २ - गजेन्द्र ठाकुर,

ब्लॉगपर उपस्थित मैथिली कविता POEM Maithili Poetry Poems

जनकपुरसँ मैथिली कविताक (सनेस) भाग - (१) - जितेन्द्र झा,
भाग - (२) - जितेन्द्र झा, भाग - (३) - जितेन्द्र झा,
(४) - गलती - मदन कुमार ठाकुर , (५) - बजट - अजय कुमार झा,
(६) - फगुआ - अजय कुमार झा, (७) - गोपेशजी - गजेन्द्र ठाकुर,
(८) - आरसी प्रसाद सिंह - हरिमोहन झा, (९) - बौवा कहिया आयब गाम - अजय कुमार झा,
(१०) - आहा के हँसब - जितमोहन झा, (११) - प्रवासी मैथिलकेँ समर्पित (कविता) - गजेन्द्र ठाकुर,
(१२) - जन्मभूमि जननी - गजेन्द्र ठाकुर, (१३) - मिथिलाक ध्वज गीत -गजेन्द्र ठाकुर ,
(१४) - कोशीक बाढ़ि-किछु पद्य - गजेन्द्र ठाकुर, (१५) - ककरा कहैतछै दहेज़ - अजय कुमार झा,
(१६) - कलम - गाछी - अजय कुमार झा, (१७) - हमर आशानन्‍द भाई - प्रवीन झा,
(१८) - मिथिलाक भोज - प्रवीन झा, (१९) - अहर्निश जागि करब हम रक्षा - गजेन्द्र ठाकुर,
(२०) - हर आ' बरद - गजेन्द्र ठाकुर, (२१) - सम्बन्ध - श्यामल सुमन,
(२२) - निरीक्षण - श्यामल सुमन, (२३) - दू गोट कविता - ब्रज मोहन झा,
(२४) - गामक ग़प - विनीत उत्पल, (२५) - किछु गद्य कविता - आशीष अनचिन्हार,
(२६) - रावलपिंडी - पंकज पराशर, (२७) - गप नहि मानलहुं - विनीत उत्पल,
(२८) - नीक लोक - विनीत उत्पल (२९) - विद्यापतिक ३९ टा गीत - गजेन्द्र ठाकुर,
(३०) - ढहैत भावनाक देबाल - गजेन्द्र ठाकुर, (३१) - पक्काक जाठि - गजेन्द्र ठाकुर,
(३२) - देखैत दुन्दभीक तान - गजेन्द्र ठाकुर, (३३) - चारि टा पध - गजेन्द्र ठाकुर,

धर्म - कर्म

(१) - मिथिला दर्शन - गजेन्द्र ठाकुर, (२) - श्लोक संग्रह - गजेन्द्र ठाकुर,
(३) - भगवतीगीत - जितमोहन झा, (४) - सूर्यगीत - गणेशगीत - गजेन्द्र ठाकुर,
(५) - माँदेवीदुर्गाक नौ टा रूप - जितमोहन झा, (६) - प्रतापमल्लक मैथिली गीत - जितेन्द्र झा,






'विदेह' २२४ म अंक १५ अप्रैल २०१७ (वर्ष १० मास ११२ अंक २२४)

ऐ  अंकमे अछि :- १. संपादकीय संदेश २. गद्य २.१. डॉ. कैलाश कुमार मिश्र -    मैथिलानी केर उपराग राम सं आ समाज ...