Monday, July 27, 2009

देश भक्ती गीत - मदन कुमार ठाकुर

कारगील युद्ध क याद में -- २६-०७ -१९९९
आईगो क जेका , मेघओ क जेका , तुफ्फान जेका - --
हमहू तिरंगा ल्हरायब हम --
तुफ्फान जेका - --हमहू तिरंगा ल्हरायब हम --२
नेता बदलते अछी , भाषण बदलते अछी -२
लेकिन हमरो राष्ट्रो क बदल नहीं पायब यो -२
तुफ्फान जेका - --हमहू तिरंगा लहरायब हम --२
आसमानओ से ऊपर हमरो तिरंगा लहरात यो
तुफ्फानो से आगू हमरो कदम त बढ़त यो -२
कारगिल पर चाहे जाय परे , शरहद पर चाहे मरै परे -2
नैय सर झुकाय्ब हम , सर कट्टयब हम -2
हमरो ई वादा छी --
तुफ्फान जेका - --हमहू तिरंगा ल्हरायब हम --२
जखन -2 जुल्मक होयत सामना ,
हम वीर जबान करव सामना -२
आज़ाद अछी हमरो देश , स्वतंत्र हमर ई देश ,
आजादी नै मीटायब यो -------
शहिदो क हम सदा नही भुलायब हम ----
तुफ्फान जेका - --हमहू तिरंगा ल्हरायब हम --२
नाचब और े गायब हम , खुशियाँ मनायब हम ---2
हर पन्द्र्ह अगस्त के दिंन ,---
तिरंगा लहरायब हम ---2
तुफ्फान जेका - --हमहू तिरंगा ल्हरायब हम --२

मदन कुमार ठाकुर
पट्टी टोल , कोठिया , भैरव स्थान , झांझरपुर , मधुबनी , बीहार , भारत
- मेल - madanjagdamba@yahoo.com
mo - 9312460150

5 comments:

  1. kargil ker yodha sabh ke mon pari ahan apan charitrik dridhta dekhelahu, tahi lel dhanyavad,
    kavita bad nik lagal

    ReplyDelete
  2. JAY HIND , JAY BHART

    KARGIL YAD DIYAVAI KE LEL BAHUT-BAHUT DHANYWAD MADNA JI

    ReplyDelete
  3. devendar kumar6:49 PM

    jay hind jay jay bharat

    ReplyDelete
  4. mukund kumar12:34 PM

    ham taiyar hain -2 ho
    jay hind jay bharat

    ReplyDelete
  5. Anonymous10:29 AM

    Mithila hamar bahut bahut bahut mahan aichh. lekin aajkal mithila ke mahan beta je chhathin se mithila ke bhuel gelkhin. phir bhi ham sab mithilabasi milkar apan mithila ke aur mahan banayab.

    ahan sabke bahut dhanywaad ki mithila ke bare mein sochai chhi.

    Keshav Kumar Jha
    Basaitha
    Madhubani

    ReplyDelete

"विदेह" प्रथम मैथिली पाक्षिक ई पत्रिका http://www.videha.co.in/:-
सम्पादक/ लेखककेँ अपन रचनात्मक सुझाव आ टीका-टिप्पणीसँ अवगत कराऊ, जेना:-
1. रचना/ प्रस्तुतिमे की तथ्यगत कमी अछि:- (स्पष्ट करैत लिखू)|
2. रचना/ प्रस्तुतिमे की कोनो सम्पादकीय परिमार्जन आवश्यक अछि: (सङ्केत दिअ)|
3. रचना/ प्रस्तुतिमे की कोनो भाषागत, तकनीकी वा टंकन सम्बन्धी अस्पष्टता अछि: (निर्दिष्ट करू कतए-कतए आ कोन पाँतीमे वा कोन ठाम)|
4. रचना/ प्रस्तुतिमे की कोनो आर त्रुटि भेटल ।
5. रचना/ प्रस्तुतिपर अहाँक कोनो आर सुझाव ।
6. रचना/ प्रस्तुतिक उज्जवल पक्ष/ विशेषता|
7. रचना प्रस्तुतिक शास्त्रीय समीक्षा।

अपन टीका-टिप्पणीमे रचना आ रचनाकार/ प्रस्तुतकर्ताक नाम अवश्य लिखी, से आग्रह, जाहिसँ हुनका लोकनिकेँ त्वरित संदेश प्रेषण कएल जा सकय। अहाँ अपन सुझाव ई-पत्र द्वारा ggajendra@videha.com पर सेहो पठा सकैत छी।

"विदेह" मानुषिमिह संस्कृताम् :- मैथिली साहित्य आन्दोलनकेँ आगाँ बढ़ाऊ।- सम्पादक। http://www.videha.co.in/
पूर्वपीठिका : इंटरनेटपर मैथिलीक प्रारम्भ हम कएने रही 2000 ई. मे अपन भेल एक्सीडेंट केर बाद, याहू जियोसिटीजपर 2000-2001 मे ढेर रास साइट मैथिलीमे बनेलहुँ, मुदा ओ सभ फ्री साइट छल से किछु दिनमे अपने डिलीट भऽ जाइत छल। ५ जुलाई २००४ केँ बनाओल “भालसरिक गाछ” जे http://www.videha.com/ पर एखनो उपलब्ध अछि, मैथिलीक इंटरनेटपर प्रथम उपस्थितिक रूपमे अखनो विद्यमान अछि। फेर आएल “विदेह” प्रथम मैथिली पाक्षिक ई-पत्रिका http://www.videha.co.in/पर। “विदेह” देश-विदेशक मैथिलीभाषीक बीच विभिन्न कारणसँ लोकप्रिय भेल। “विदेह” मैथिलक लेल मैथिली साहित्यक नवीन आन्दोलनक प्रारम्भ कएने अछि। प्रिंट फॉर्ममे, ऑडियो-विजुअल आ सूचनाक सभटा नवीनतम तकनीक द्वारा साहित्यक आदान-प्रदानक लेखकसँ पाठक धरि करबामे हमरा सभ जुटल छी। नीक साहित्यकेँ सेहो सभ फॉरमपर प्रचार चाही, लोकसँ आ माटिसँ स्नेह चाही। “विदेह” एहि कुप्रचारकेँ तोड़ि देलक, जे मैथिलीमे लेखक आ पाठक एके छथि। कथा, महाकाव्य,नाटक, एकाङ्की आ उपन्यासक संग, कला-चित्रकला, संगीत, पाबनि-तिहार, मिथिलाक-तीर्थ,मिथिला-रत्न, मिथिलाक-खोज आ सामाजिक-आर्थिक-राजनैतिक समस्यापर सारगर्भित मनन। “विदेह” मे संस्कृत आ इंग्लिश कॉलम सेहो देल गेल, कारण ई ई-पत्रिका मैथिलक लेल अछि, मैथिली शिक्षाक प्रारम्भ कएल गेल संस्कृत शिक्षाक संग। रचना लेखन आ शोध-प्रबंधक संग पञ्जी आ मैथिली-इंग्लिश कोषक डेटाबेस देखिते-देखिते ठाढ़ भए गेल। इंटरनेट पर ई-प्रकाशित करबाक उद्देश्य छल एकटा एहन फॉरम केर स्थापना जाहिमे लेखक आ पाठकक बीच एकटा एहन माध्यम होए जे कतहुसँ चौबीसो घंटा आ सातो दिन उपलब्ध होअए। जाहिमे प्रकाशनक नियमितता होअए आ जाहिसँ वितरण केर समस्या आ भौगोलिक दूरीक अंत भऽ जाय। फेर सूचना-प्रौद्योगिकीक क्षेत्रमे क्रांतिक फलस्वरूप एकटा नव पाठक आ लेखक वर्गक हेतु, पुरान पाठक आ लेखकक संग, फॉरम प्रदान कएनाइ सेहो एकर उद्देश्य छ्ल। एहि हेतु दू टा काज भेल। नव अंकक संग पुरान अंक सेहो देल जा रहल अछि। विदेहक सभटा पुरान अंक pdf स्वरूपमे देवनागरी, मिथिलाक्षर आ ब्रेल, तीनू लिपिमे, डाउनलोड लेल उपलब्ध अछि आ जतए इंटरनेटक स्पीड कम छैक वा इंटरनेट महग छैक ओतहु ग्राहक बड्ड कम समयमे ‘विदेह’ केर पुरान अंकक फाइल डाउनलोड कए अपन कंप्युटरमे सुरक्षित राखि सकैत छथि आ अपना सुविधानुसारे एकरा पढ़ि सकैत छथि।
मुदा ई तँ मात्र प्रारम्भ अछि।
अपन टीका-टिप्पणी एतए पोस्ट करू वा अपन सुझाव ई-पत्र द्वारा ggajendra@videha.com पर पठाऊ।

'विदेह' २३२ म अंक १५ अगस्त २०१७ (वर्ष १० मास ११६ अंक २३२)

ऐ  अंकमे अछि :- १. संपादकीय संदेश २. गद्य २.१. जगदीश प्रसाद मण्‍डलक  दूटा लघु कथा   कोढ़िया सरधुआ  आ  त्रिकालदर ्शी २.२. नन...