Sunday, July 05, 2009

पञ्जी प्रबन्ध :३ : गजेन्द्र ठाकुर/ नागेन्द्र कुमार झा/ पञ्जीकार विद्यानन्द झा

जय गणेशाय नम: (१)
अथ पत्र पत्र्जी लिखते: अथ सरिसब ग्राम: देवादित्यि रत्नाकरापत्यघ-छादन।। प्रज्ञाकरापत्य्-बनौली नम समेत।। नितिकर सन्तपति केशवापत्य्दनाद गंगेश्वतरा पत्यय गौरि शौरि कुलपति-बधवास।। महिपाणि सन्तदति-खांगुड़ गयड़ा समेत।। ग्रहेश्वतरापत्य -जोंकी।। गणेश्विरापत्यत-सकुरी।। सोने सन्‍‍तति-कटमा ओ सकुरी।। भवादित्यासपत्‍य-सतैढ़।। रघुनाथापत्य‍-उल्लून।। कौशिक-उल्लू्।। गिरीश्वसरापत्य्-सतैढ़।। वास्तु सुत ऋषि-सतैढ़ सम्प्रसति-फरकीया शिवादित्याघपत्य्-रतवाल मतहनी।। हरादित्याौपत्य्-बलिवास।। श्री करापत्य--ननौर।। शुचिकरापत्यव-जगन्नावथपूर हल्लैिश्वार-रूद्रपुर पैकटोल।। केशब बागे बसुन्धतर-नरघोघ।। रामदेवापत्यढ-सिंडोआ।। कामदेवापत्यढ-डींगरी गयपाणि सन्तैति-गौर वोड़ा।। अथ जजिबाल ग्राम-भासे सन्त‍ति वलिया।। रातु-दिगउन्धस।। कान्हा सन्ताति गोविन्दक-भड़ाम।। सोम सन्त-ति-नाहस।। सुपन वासू-देउथि।। नारायण पुराई-ब्रह्मपुर।। मिश्र रामापत्यत-अचौवेढ़ी।। शु‍चिकरा पत्य्- बलिया ब्रह्मपुर।। छीतू पारू-पीलखा।। शिवाई-महूलिया जहरौली।। ईश्विर नारू-नोहड़।। श्रीधरापत्यर-दिमन्द रा-एते जजिवाल।। ग्राम अथ खण्ड बला ग्राम ठ. हराई सन्‍‍तति-भखराइन।। सोमेश्व-रापत्य‍-बुसवन कछुवा समेत।। ठ. अनन्ति हरि-लखनौर।। भोगीश्व रापत्य् गोपाल सन्तमति-बथई-हरड़ी।। गदाधरापत्य।-पौराम।। रत्नाकरापत्यक-हलधर तेतरिया हरडी खण्डिबला।। ठ. दूबे सन्त‍ति भौर।। लाखूमहिपति-बेहट यमुगाम।। योगीश्व रापत्यय-सोन्देपुर सरपरब कुरहनी वासी डीह खण्डदबला।। शुभदत्तापत्यह-देशुआल।। झाझू सन्तवति-रैयाम गुरदी सोनकहमेरी।। वास्तुध, वागू, हिरू-देउरी गोपालापत्यख-गढ़।। देने सन्त ति-चनुआरी।। पक्षधरपत्यन-तेतरिया।। दिनकरापत्यह-पौराम, बथपी बिहारी-उभय गोराढ़ी-साधु सन्तूति-बथयी।। लक्ष्‍मीपति सन्तईति-खरसा गणेइवरापत्यय-गणेश्वनरापत्यर-गुलदी।। हल्लेसश्वारापत्यत बेलारी।। जीवेश्वषरापत्यत-अलय।।


(२) ''अ''
सोमकंठ-सरपरब।। रबि सन्तुति-गौर ब्रह्मपुर।। जयकर सन्त़ति-सजनी।। भासे-डीह।। देवेश्विरापत्यन-देशुआल।। पक्षीश्वमरापत्यय-यमुगाम।। गिरीश्व रा-मत्यज-देशुआल विन्येेा श्ववरापत्यप-वैकुण्ठुपुर।। शितिकंठ सन्त-ति-खुट्टी ।। रत्ननेश्वकरापत्ययगुलदी।। अथ गंगोलीग्राम-महामहो सुपट सन्त‍ति-गोम कटमा।। होरे सन्तधति-बिसपी।। हारू सन्तनति- देशुआल।। हरि सन्तथति-डुमरा।। दिवाकरापत्यत-दिगउन्धा।। गौरीश्विर सन्तपति जगनाथापत्यि-धर्मपुर।। कुमर-गंगोली वासी।। कमलपाणि-वैगनी, वड़ग्राम।। डालू सन्‍‍तति-सकुरी।। गयन सन्त।ति-खरसौनी ।। एते गंगोली ग्राम।। अपथपबौली ग्राम-रवि सन्तवति-बिरौलि।। उदयकरसन्त्ति-सपता देशुआल।। महिपति सन्त्ति-कोशीपार डुमराही।। हरिपाणि सन्त ति-गोधनपुर।। लक्ष्मीरदत्तापत्यर-गोनोली।। नारू सन्तरति भतौनी डहुआ।। रूद सन्‍‍तति-बछौनी।। रूद सुत पाठक भीम-भीरडोआ।। जागू सन्त्ति-रयपुरा।। विशो सन्त।ति-चणौर।। बासु गौरि सन्‍‍तति-महरैल।। केशव गोविन्दातपत्यर-राजे।। दामोदरापत्यि-राजे।। शिवदत्तापत्यत-बढि़याम।। गोगे सन्तबति-सहुड़ी।। यशोधरापत्यर-मेयाम।। दामू सन्ततति-अम्माग।। पुण्यााकरपत्यप: पैकटोल पनिहथ।। उदयी सन्तनति-धेनु।। मधुकर रत्नाकर प्रभा कर विभाकरापत्या जगति।। एते पर्वपल्लीाग्राम।। अथ सोदरपुर ग्राम-ग्रहेश्वोरापत्य -धउल।। रूद्रेश्वनरापत्यव-विरपुर।। धीरेश्व‍रापत्यआ सुन्द।र विश्वेसश्वारापत्य भवे माधव-हसौली।। रामापत्यश-रमौली।। बाटू-बड़साम।। रूचि बासुदेव-कुसौली।। यटाधरापत्यि-पचही।। गयनापत्यद: रोहाड़:’ बहेड़ा।। रति हरि-टाटी।। बास्तुि सन्ताति-तेतरिहार।। रूपे सन्तुति-सिमरवाड़।। बसाउनापत्यश-कन्हौ्ली।। कामेश्व।र सुरेश्वौर राम नाथा पत्यत-भौआल।।

(३) नाथापत्य)-भौआल।। कान्हापपत्यी-सुखेत।। त्रिपुरे-अकडीहा।। रतिनाथापत्यह डालू-कटका।। बाटू सुत हलधर श्रीधर-केउँटगामा।। सुधाकरा पत्यत-गौर।। म. म. उ. जीवनाथापत्यप-दिगउन्धस।। म. म. उ. भवनाथ प्र. अयाचीसुत म.म.उ. शंकर महो महादेव महो मासे महोदासे सन्त.ति सरिसव अपरा भवनाथ प्र. अचाचीसुत शम्भुूनाथ रूद्रनाथापत्य।-बालि।। महामहो देवनाथापत्य.-दिगउन्ध्।। महो रघुनाथापत्यि-रैयाम।। जोर सन्तउति-विठौली मिसरौली गोपीनाथापत्य-- मानी, जगौर।। म. म. उ. जीवश्व र सुत गणपति हरपति-महिया।। लोकनाथापत्यड-माझियाम खोरि। हरदत्त माधवापत्या रोहाड़ सुहथरि।। देवे सन्त ति-महिया।। एते सोदरपुर ग्राम।। अथ गंगोरग्राम—बीनू वासू कुरूम भौआल केशवापत्यर-अहियारी-पोनद।। सनाथ सन्तशति-विरनी वासी।। भोरे सन्तरति महिन्द्र पुर।। विठू कादि बेकक।।
अय पल्ली‍ ग्राम-हलधर सन्त ति-बनाइनि।। महामहो उँमापति-समौलि, वारी, जरहटिया।। रूपनाथ सन्त ति गिरपति-समौलि’ पशुपति-समौलि।। म. म. उ.।। रघुनाथापत्यन: दड़मपुरा नरहरि, रघुपति सन्त ति-समौलि।। देवधरापत्यर- कछरा, देउरी।। गांगु सन्त ति-देउरी।। दिवाकरापत्यय-देउरी, सकुरी, मोहरी-कटैया।। घोटक रवि सन्तरति-कटैया।। ग्रहेश्व रापत्यग: कछरा।। रामकरापत्य -भालय।। नितिकरापत्यु-राजेमतिश्व।रापत्यक-सिम्भु-नाम।। कान्हापपत्यौ-पड़ौलि।। विरमिश्रापत्यय-ततैल।। रामदत्त सुत केशव सन्तभति-कान्हा-हाटी।। महाई सन्त‍ति-फूलदाहा माधवापत्यय-दिवड़ा।। दूबे सन्‍तति-बेहरा।। नरसिंहापत्यत हरिपुर।। मुरा‍री सन्ततति-मुराजपुर।। भोगीश्व्र राजेश्व्रापत्यम पुरे सन्तरति-अलयी।। वंशधरापत्य्-अलय।। गोविन्दार पत्यग-रैयाम।। कीठो सन्तवति राम सन्त-ति वाटू सन्तयति-नंगवाल।। प्रभाकरापत्यि-पर्जुआरि।। हिताई सन्ततति-विरुपाक्षापत्यद नकेसुता-बैकुंठपुर।। हारू सन्त ति-नैकंधा।। कविराज

(४) ''आ'' सन्त४ति-मछैटा।। सिंहेश्व।रापत्यि-ननौर।। मित्रकरापत्य -ननौर-राजखंड, पाली।। जयकरापत्यं-कुसमाल, पिण्डािरूछ, बारहता, रताहास पाली कछरा माधवा।। पत्यर गौरीश्वयरापत्यर अहियारी, टूपामारी।। गणपति, गांगु सन्तपति-अहियारी।। यशु, डगरू सन्तछति-कुरूम।। बागू सन्तआति-रोहाल, कटैया।। गोविन्दा, पत्यम हचलू सुत दिवाकरा पत्यु-सुदई, पनिहथ।। होराइ सन्तसति-अडि़यारी।। रूद्रेश्विरा पत्यल-भड़गामा। बाटू सन्त ति-सन्दललाही, पाली पाली, विशानन्द, पत्यह-ब्रह्मपुर।। थेतनि सन्त‍ति-जलकौर पाली।। चन्दौात पाली दुर्गादित्यम पत्य -महिषी।। देवादित्य पत्यय-बिहार, महिषी समेत।। रतनू प्रoरत्नादित्यर पत्य -महिषी।। रत्नाकरापत्यय-यशारी।। ततो धोधनि सन्तदति-यशरि।। विशो, श्रीकर, शुचिकरापत्यत-पुरोही।। जीवे सन्त-ति-मोनि।। बाढ़न सन्ताती आसी।। सुधाधरापत्यि मांगुसन्तइति-मोनी।। भवदत्तापत्य -पुरोही।। (१००/०५) शुभंकरा पत्यत- जमदौली।। पाँथू सन्त ति-परसौनी, जरहटिया, सकुरी।। कुसमाकर सन्ततति-जमदौली।। यटाघरा पत्यप-सकुरी।। जीवधर, वंशीधरापत्य।-सकुरी।। बुद्धिधरा पत्यम-ततैल।। कान्हा।पत्य्-अलय, सकुरी।। इनसन्तरति सकुरी।। मुरारी सन्त ति रामापत्यव-महिन्द्र वाड़।। विशो सन्ताति रूद्रेश्वारापत्यि-कोलहट्टा।। गणेश्वकर नन्दीनश्वतरापत्यी-महिन्द्र वाड़।। गोविन्दानयत्यी= हरिपुर।। विरेश्वार नरसिंहापत्यै-राढ़ी श्रीधरापत्यप बेलउँच राढ़ी।। गुणीश्ववरापत्यी-कोइलख।। ग्रहेश्व।रापत्यस चहुँटा।। शोपालापत्या-समैया।। हरिपाणि सन्तरति-समैया।। बाछे सन्तलति होरेश्ववर मतिश्व्र मंगरौनी।। बाटू सन्तहति-कटउना।। जसू, रातू सन्ताति-सकुरी।। गणपति सन्तछति भगवसन्तचति-पचाढ़ी।। गुणाकरापत्य।-बरेहता सोन्द।वाड़।। पुरादित्याि पत्यत-मृगस्थुली एते पल्ली ग्राम

(५)
हरड़ी।। धनेश्वरर-मझियाम, कनईल, लोहना समेत।। लाखू सन्त ति-कनइल।। चाण सन्ताति रतिश्वहर-छामू।। रामकर कृष्णा कर-थुगाम वासी।। भोगे सन्तलति शंकर गुदे-दिवड़ा।। दूबे-जरहटिया।। देवे सन्ताति-रहड़ा।। गोढ़े-रहड़ा।। गोन्दवन चाण-सरिसव।। पुरोहित गोपाल सन्तसति मारू-वरूआड़ सुपे संखवाड।। श्रीकर-पेकटोल।। गौरीश्व रतेकुना।। मिश्र भगव-पुरामनिहरा।। चक्रेश्वतर सन्तनति-दहुड़ा करूहरा। देहरि-ततैल।। सोम-ततैल।। सान्हि सन्‍‍तति- गोधनपुर।। देवे सन्त्ति-कादिकापूर। (ताई-तत्रेव ।। ।। गोना सकराढ़ी-थितिकरापत्यत-आडू.गावासी-मझियाम समेत।। बुधौरा सकराढ़ी, दूबा-सकराढ़ी अन्हाार बरगामा समेत।। एते सकराढ़ी ग्राम।। अथ दरिहरा ग्राम-त्रिपुरारि सन्त्ति-सिंहाश्रम।। हरिकर बु‍द्धिकर रूपनादि विजनपुर।। यशस्पगति सन्त।ति गणपति भड़ैली।। गुणपति सन्त।ति-पठोङगी)।। विद्यापति-पुडरीक-मछदी। केशव-अमरावती। शिरू-कुरूम।। सोने सन्ततति भौआल।। शिव-यमुगाम।। गुणाकर पद्मकर मधुकरपट्टो। प्रज्ञाकरापत्यग-कुसुमार-वड़गाम।। मित्रकरापत्‍य-जरहटिआ।। प्रसाद गौरीश्वारापत्यङ-भरउड़ा सन्हदवाल समेत।। दिवाकरापत्यी-अलई।। दिनकरापत्य सोनतौला।। रतिशर्म्मायपत्यस-सकुरी।। भवशर्म्मा्पत्या-ब्रह्मपुर।। यटाधर-ब्रह्मपुर।। शशिधरापत्यु-पनिहारी।। बागू गांगू तरहट।। गोविन्द्-कान्ह।-पचही।। नारू-यशराजपुर।। बाटू-ब्रह्मपुर।। इन्द्र्पति हरिनगर (आग्ने्य)। झोंटपाली दरिहरा सिमसिम कोइलख। विश्व।नाथापत्यश महिसान कोइलख समेत।। विधुपति-तत्रैव।। होरे उराढ़ वासी।। गांगू-कछरा।। रघुपति सेघ कठरा।। कान्हव-कटैया जाटू सरहरावासी कृष्णरपति गुणीश्व।र: फूलमति।। सुन्द।र गांगू-तंत्रैव।। मतीश्व रापत्य्-सुन्द।रअलई समेत।। सुरपति-गोलहटी, अलय समेत।। गिरीश्व्रापत्य।-उडिसम।। पण्डोटलि दरिहरा-हरिकर सन्तनति सिहौली।। शंकरपरनामक गोढ़े-नवहथ।। कान्हाी पत्यर-नवहथ। आसो-चिलकौरि।। भादू सन्त‍ति-ततैल, तेतरिया, सिमरि।।

(६) ''उ'' कनसम।। गोढि़ सन्त ति-बढि़याम। सुपन सन्त ति-गांगू भिठ़ीट्टी।। विशो-तत्रैव।। हिरू सावे-दीघीया।। धीरेश्व़र सन्त।ति-तारडीह, जलकौर-दरिहरा। मिश्र कान्हाीपत्या-मतउना।। गंगेश्व-र सन्तमति मिश्र दुर्गादित्याघपत्यर-चडुआल।। देवधरापत्यक।। अग्निहोत्रिक महामहोहरि सन्तरति-नेतवाड़।। नारू सुत रूचि-महुआल।। विभाकरापत्यत-सिंधिया।। प्रभाकर सुत जुधे-पटसा।। नोने-जगवाल।। नारू सुत बाटू प्रभृति-अन्दोतली।। गोढि़ सन्तहति-धनकौलि मिश्र हरि सुत चण्डेुश्विर-चंडगामा।। नारायण-उने।। मिश्र मतिकर-बघोली।। धामू सन्‍‍तति-पोआरी।। शूलपाणि-रतौली नीलकंठ-पोखरिया रूपन-रतौली।। खांतर-बड़गाम।। बासू सन्तनति-बाली मुनिप्रo विरश्व्रापत्यर दिवाकर-राजनपूरा।। रविकर-छत्रनछ राजनपुरा, सरिसब समेत।। गुणाकर सिढि़बाला।। प्रसिढि़वाल।। हरिकर-जरहटिया, ततैल समेत।। ब्रह्मेश्वकरापत्या रत्नाकरापत्य -पंत्र्चारी।। विश्वररूपसन्तयति-पनिहारी।। शूलपाणिभ्राता नीलकंठ-बोथरिया।। रूपन सुत भोग गिरी-रतोली।। यवेश्वार-जरहटिया-ब्रहमेश्वार तत्रैव।। एते दरिहरा ग्राम।। अथ माण्डणर ग्राम-गढ़ माण्डगर कामेश्वोरापत्यप-बथया।। महत्तक जोर सन्तशति-बघांत।। सद. भवादित्प त्यम-कनैल, मुठौली समेत।। दिवाकरापत्यर- जोंकी, मढि झमना।। हरदत्त सन्तसति-खनतिया।। गुणाकर, जयकर-खनतिया।। माधवापत्य -अरडिया।। रति, डालू-भौआल, दोलमानपुर।। बेगुडीहा।। खांतू। ठाकुर, सरवाई, केउट्रै सन्तंति-भौआल।। गदाई-दोलमानपुर-केशवापत्यर-असमाँ।। कानहापत्यन-आसमा।। सूपे, विभू-कटमा विभू, भानुकर पिलरवा।। कविराज शुभंकरापत्यक-कटमा।। वागीश्वारापत्यन-महिषी, गांगे।। रूपधरा पत्या=मङत्र्रौनी।। रविदत्तापत्य- विशो-देउरी।।

(७)
हरिकर-विजहरा।। खांत-जरहटिया।। हरि-मङरौना।। होरे-केउँट गामा।। सुधाकर-वारी।। शुभंकर-सकुरी।। पशुपति सन्तरति गुणपति-ओकी।। (१८/०९) (१८/०९) शिवपति इन्द्रापति-रजौर। कृष्णभपति-पतौनी।। रघुपति-(१८/०३) जगौरा।। प्रजापति-अमरावती।। छीतर- जगौर।। आड़नि सन्तौति कुलपति कटैया।। नरपति-दहुला।। रविपति-कटका।। महादेव-सिर खडि़या (श्रीखंड)।। रतिपति-(१८/०३)-सिहौलि)। दूबे-दुबौली।। पाँखू-बिठुआला।। धनपत्यातदि सरहद।। विधूपति-पतनुका।। सुरपति, रतन-कनसम।। सोम-बेहट।। भवे, महेश-कटैया।। गुणीश्व्र-कटाई।। पीताम्बारा पत्यस-कटाई, जमुआल।। देवनाथा पत्यर मिश्र नन्दीि सन्तधति-बेहटा।। जीवेश्वररापत्यु-ओंराम।। सिंगाई-ननौरा।। दुगाई-तेतरिहार।। नगाई-कोइलख।। बागीश्वनरापत्यय-सकुरी।। रूचिकरापत्य‍ शीरू-जरहटिया, मकुरी।। लक्षमीकांतापत्यग-त्रिपुरौली।। हरिकान्ताइपत्यव दहिला।। उमाकन्ताि पत्यर ब्रहम्पु्र सुगन्धौ सन्तवति-कनसी।। महेश्वररापत्यत मझौली।। गुणे मिश्रापत्य‍-थुबे, खरका ।। सोरि मिश्रापत्यस-ब्रहमपुर।। गयन मिश्रा पत्यु, वीरमिश्रापत्यश-वारी सकुरी।। हरिशर्म्मामपत्य् सुधाकरादि-मृगस्थकली थेघ मिश्रापत्यब-अन्दौ ली।। सुरेश्वररापत्यल। ग्रहेश्वशरापत्यत-कटउना।।हरि मिश्रापत्य‍-कटउना।। ऋषि मिश्रापत्य्-बेलउँजा।। यति मिश्रापत्यब-कटउना ।। कीर्तू मिश्रापत्यव मतीश्वहरापत्य‍-गोआरी।। गिरीश्वयरा पखत्य -मिश्ररौली।। हरे मिश्रापत्य।-खयरा ।। बाछेमिश्रापत्यर-हरखौली।। हेलन, नरदेव-लेखद्विया।। शिवाई सन्तयति-वलियास, धयपुरा।। सर्वानन्दह-दलवय, सकुरी।। दलवय स्थित-असगन्धीय।। चन्द्र करापत्य‍-कोवड़ा।। कुलधर, रामकरापत्य।-दिपेती, बेतावड़ी।। चोथू मोथु-परिहार गोआरी समेत गोपाल सज्जशन-ब्रह्मपुर, जगतपुर।। मित्रकरापत्यल, रूपनापत्या-महिषी, सकुड़ी ।। सुथवय सन्ताति-कन पोरवरि, जहरौली।। रतिधरशुमे-कनपोरवरितरौनी।। हरि सन्तुति-निकासी, यमुगाम।। एते माण्ड्र ग्राम:।।

(८) ''ऊ''
अथ बलियास ग्राम:।। भिखे, चुन्नीि, नितिकारपत्यज-चुइनी।। दूबे सकुरी।। सुरानन्दर-बैकक वासी।। रति सन्ताति-खड़का।। शिवादित्यार पत्य मुराजपुर, ओगही, यमुथरि।। शुभंकरापत्यब-ततैल, कमरौली ।। नन्दीा सन्ताति-भौआल, अलय, सतलखा।। सुधाकरापत्यद-जरहटिया।। राम शर्म्मापपत्यथ-जाटू धरौरा।। केशव-यमसम।। शक्ति श्रीधर-सकुरी महिन्द्र पुर समेत।। मद्दु सन्तयति नारायण सिमरी, जालय, खड़का।। महन्था सन्तधतिमाड़र शिरू सन्तनति-बिशाढ़ी।। रूद्रादित्यादपत्य।-विठौली।। रूचि सन्त,ति उदयकरापत्यु-नरसाम।। एते वलियास ग्राम:।। अथ सतलखा ग्राम: गुणाकर-डोक्हौरवासी।। विभू सन्तउति भाष्कररापत्यत-सतौलि।। दिवाकरापत्यर-सतौलि।। चन्द्रेाश्वतरापत्यड-कञ्जोली।। शंकरापत्‍य-सतलरवा लोहटा पत्यस, नन्दीरश्वनरापत्यल, यवेश्ववरापत्यश-कछरा।। अथ एकहरा ग्राम:-श्रीकर-तोड़नय।। जाटू सन्तिति-सरहद।। शुभेसन्त्ति-मैनी।। सोने सन्त ति-मण्डवनपुरा लक्षमीकरापत्य,-संग्राम।। रूद सन्त्ति-आसी।। धाम-नरौंध, जमालपुर।। गढकू-कसरउढ़।। बाटू-सिंधाड़ी।। थिते-खड़का ।। मिते-कन्हौाली।। गणपति पतउना।। जाने-ओड़ा।। कोचे-रूचौवेलि।। शुचिकरापत्यक- मुराजपुर।। चित्रेश्वथरपत्य़-नरौंछ।। एते एकहरा ग्राम।। अथ विल्व।पंचक (बेलउँच) ग्राम: धर्मादित्या।पत्य -सिसौनी ।। रामदत्त हरदत्त, नोना दित्याी सन्तएति- रतिपाड़।। शुधे सन्तसति-सुदई।। शिरू-द्वारम।। गयादित्या्पत्य।-ओगही।। महादित्यु कर्म्मरपुर बछौनी समेत।। जीवादित्य।-उजान।। रूद्रादित्यु-दीप सुदई।। सर्वादित्ययतडि़याड़ी।। देवादित्या-ब्रह्मपुर।। रत्नादित्य्-काको।। मित्रादित्या-पत्य् नारू-काको वासू-देड़ारिया प्राणादित्या पत्यी हरि, गयन-कन्होिली।। शुपे-कोलहट्टा।। रूकमादित्यर-ओझौली।। केउँदू-सकुरी।। महथू-सकुरी।। चौवेबे सन्त।ति-सतलखा।।

(९) अथ हरिअम ग्राम-लाखू सन्त-ति-रखवारी।। केशव-दामू-मंगरौना।। (२५/०७) मांगू-नरसिंह-शिवां।। (१८//०९)-हारू शिवा।। (२७/०५) नरहरिसन्ततति-वलिराजपुर चाण दिनू-कटमा।। परभू लाखू-आहिल।। रति गुणे-कटमा।। माधव सुत सन्त२ति-भच्छीन।। एते हरिअम मूलग्रामा।। अथ टंकवालग्राम् कविराज लक्ष्मी्पाणि-नीमा।। सुरेश्व रापत्यल, दामोदरापत्य -पटनिया गंगोली।। रवि शर्मा खंग लक्ष्मीू शर्म्भाह-ब्रहमपुर।। पतरू, शीरू-पटनियाँ पोखरौनी भौर, सकुरी।। जागे सन्त ति-रतनपुरा।। महाई सन्तमति-परिहार।। देवदत्तापत्य‍-पीलखवाड़।। रविदत्तापत्यभ-बहेड़ा।। पाँखूसन्तनति-सिरखंडिया (श्रीखंड)।। सुपन, मारू सन्ततति-नरधोध।। हराई, शुचिकर, प्रीतकरापत्यप-अकुसी।। हरिव्रह्म- पोराम।। दामोदरपत्यश-बेहटा।। उँमापति सन्‍तति-ततैल।। एते तंकवाल ग्रामा:।। अथ घोसोतग्राम: रतिकान्ही-पचही।। रूचिकरापत्यि-नगवाड़।। रूद सन्त्ति-यमुथरि।। रूद सन्तमति-गन्धतराइनि।। गणपति सन्तरति-घनिसमा।। कृष्ण्पति सन्तरति-खगरी।। पृथ्वीसघरापत्य--सकुरी।। रूद्र चन्द्र -डीह।। एते घोसोत ग्रामा:।। अथ करम्बतहा ग्राम इन्द्रिनाथा पत्य। कोईलख।। शोरिनाथापत्यस-दीघही।। रामशर्म्माहपत्यत-ब्रह्मपुर।। रतिकरापत्य -मझियामा बुद्धिकरैव।। बुद्धिकरापत्य् सन्त।ति कान्हा्पत्यई ककरौड़।। हचलू सन्त‍ति-कनपोखरि।। गणेश्वपरापत्यर-केडरहम।। लान्हीय सन्तिति-गोढि़-रौतालवासी।। सदु-रूचि सन्ताति हरदत्तापत्यथ-घनकौलि।। नितिकरापत्य -बछांत।। नोने सन्तलति-वेला।। लान्हि सन्तरति मुरदी।। सादू सन्तसति-ककरौड़।। मांगू सन्ततति-सोन, कोलखू, मघेता समेत।। मधुकरापत्यत-दोलमानपुर।। सदुo गिरीश्व्र सन्त्ति नरसिंहापत्य‍ नडुआर।। श्रीवत्सक सन्त्ति-बेहट।। सदुo केशव-सिरखंडि़या (श्रीखंड)।। वराह सन्तवति-तरौनी।। रामापत्यह-तरौनी।। कान्हर, श्रीधर-तरौनी।। रघुदत्त रूचिदत्त-रूचौवेलि।। सदुपाध्यारय

(१०) ''इ''
माधवापत्यु-मझौरा।। सदु. रामापत्य)-झंझारपुर।। गुणीश्विरापत्यप-झंझारपुर।। सदुo भवेशवरापत्यी-अनलपुर।। हरिवंशापत्यर-मुजौनिया।। शिववंशापत्या-रोहाड़।। धूर्त्तराज म.म.उ. गोनू सन्त ति-पिण्डोहखडि़।। एते करम्बशहा ग्राम:।। अथ बुधवाल ग्राम:।। रविकरापत्यह-खड़रख सुरसर समेत ।। सुपे सन्त.ति-ब्रहमपुर।। राम चाण-मझियाम।। ढोढ़े-बेलसाम।। डगरू-सतलखा।। कान्हाझपत्य -वेलसाम।। दूबे, हरिकर-हरिना।। दामोदर-सकुरी।। राम दिनू-सुन्द रवाल।। गंगादित्यर विकम-सेतरी।। सदुo भानुसुत गणेश्वररापत्यस-परियाम।। गुणीश्वररापत्यो उजान।। कोने-पीलखा।। गंगेश्व र-मलिछाम।। रूचिकर रतिकर-गंगौरा।। महेश्वसर-फरहरा।। गौरीश्वनर-मदिनपुर।। विशो सुधाकर-डुमरी।। सूर्यकर सन्त‍ति-सिउरी।। ग्रहेश्वंर-महिषी।। भोगीश्व र-चिलकौलि।। बासू-बोधाराम।। उदयकर-आड़ी।। पाँथे धरमू-मुठौली।। कान्हातपत्यि-बुधवाल।। जगन्नावथापत्यम-सिंधिया।। एते वुधवाल ग्राम।। अथ सकौना ग्राम-वाटन सन्तमति- सिंधिया।। हरिश्विरपत्यन-दिवड़ा।। सोमेश्वयरापत्य।-बघांत।। बाबू सन्तथति- डीहा।। रति’ गोपाल दिनपति-तरौनी।। रूद सन्त‍ति-जगन्नाधथपुर।। गुणे-महिपति-सरिरम।। शुचिनाथपत्य- परसा।। गुणे भासे-ततैल।। एते सकौना ग्राम: अथ तिसउँत ग्राम:- पण्डित सुपाई सन्त-ति-तरौनी तरौनी।। रघुपति-पतउना।। जीउँसर सन्त:ति-कुआ।। इतितिसोग्राम अथफनन्दधह ग्राम:श्रीकरापत्यड-बथैया।। कुसुमाकर, मधुकर, किठो सन्ततति, विठो ब्रहनपुर।। हाठू-चाण।। बसौनी-ब्रह्मपुर ।। सुखानन्दत गुणे-सिसौनी गांगू-सकुरी।। सदुo गोंढि़-खनाम।। मतीश्व र, पाँखू-चोपता।। शंकर-खयरा।। महेश्वसर-डीहा सोम गोम माधव केशव-भटगामा।। विरेश्व्रापत्यि सिंहवाड़, सिन्हु वार।। लक्ष्मीू सेवे-सकुरी।। भवाईरूद-वोरवाड़ी, भटुआल, दरिहरा, सिमरवाड़, मुजौना समेत।। एतेफनन्द,ह राम:।।




(११) अथ अलय ग्राम।। बाढ़ अलय, उसरौली, बोड़वाड़ी, सुसँला, गोधोलीच।। शंकरापत्यव-गोधनपुर सिंधिया समेत।। श्रीकरापत्य।-इंजरा।। हेलू सन्तउति-सुखेत मिश्र (मिमांशक) हरि देवधरापत्य।-सिंघिया।। बासू सन्तमति: जरहटिया बाढ़ वासी। रविशर्म्म।-जरहटिया।। धारू सन्त-ति-बेहट।। शिरू-धर्मडिहा, कादिपूरा गोविन्द। सन्ततति-बेहट।। म.म.उ. गदाघर-उसरौली।। परभू वुद्धिकर-बैगनी।। रत्नधर सन्तडति भवदत्त-भटपूरा।। शिवदत्त-अजन्तात।। मिश्रा (मिमांशक) सुधाधरपत्यप उसरौली।। लक्ष्मी धरापत्यश हलधर सन्ताति-यमुगाम।। शशिधर, रघु, जाटू-अलयी।। यवेश्व र-अलयी।। गंगाधरापत्या-यमुगाम।। मिश्र (मिमांशक) लाखू भूड़ी गणेश्वुर-परमगढ़।। सिधू-वाड़ेवन।। दोदण्ड अलयी लोआमवासी।। जसाई-डीहा।। रूद-खड़हर।। रमाई-राजे वासी विश्वेेश्वरर मतिश्विर-उसरौली।। वेद सन्त्ति-मलंगिया नान्यापुर अलई, सिमरी, रोहुआसमेत गंगुआल बाथ राजपुर वासी।। किर्तिधरापत्यश-सकुरी अथ बभनियाम ग्राम जयकरापत्यय-कड़रायिनि।। सुधाकरापत्यर कड़रायिनि, मुराजपुर।। गोनन-कटमा गंगोली बेकक समेत। कोठों कटमा।। साठू विशादी दोलमानपूर।। रूद-गंगोली।। कुशल गुणिया-भटगामाजालय समेत एते बभनियाम ग्राम:।।
अथ खौआल ग्राम: श्रीकरापत्य्-महनौरा।। रतिकर सुधाकरापत्यि-महुआ।। चन्द्रककरापत्य : महुआ।। रूचिकरापत्य:-महुआ महिन्द्रयपुर।। स्थितिकरापत्या: महिन्द्र पुर दिवाकरापत्यस-कोवोली।। हरिकरापत्य।-महुआ।। आदावन-परसौनी।। (बाछे दोढ़े सन्त-ति-रोहुआ।। वेणी सन्तिति: रोहुआ।। उँमापति) (१६/०७) सन्त-ति-नाहस ।। विश्वरनाथापत्यय आहिल।। बुद्धिनाथ रूचिनाथापत्य।-खड़ीक।। रघुनाथापत्यक-द्वारम।। विष्णुि सन्त ति: द्वारम।। नोने जगन्‍नाथापत्य‍-वुसवन।। राम मुरारी शुक सन्ततति-पण्डो।ली।।

(१२) ''ई'' बाटू सन्त्ति-ब्रह्ममपुर तिरहर मौडु।। साधुकरापत्यत-दडि़मा।। हरानन्दि, सन्त ति-अहियारी।। भवादित्यादपत्य -नाहस देशुआल।। पॉंखू-बेहटा।। भवे सन्त ति धर्मकरापत्यम-देशुआल।। डालू सन्तडति-दडि़मा।। दामोदरा पत्य‍-तरहट बह्ममपुर।। राजनापत्यट-यगुआल।। प्रितिकरापत्यच-पचाडीह (पचाढ़ी।। पतौना खौआल दिवाकरापत्या-घुघुआ।। भवादित्यापपत्या-ककरौड़ खंगरैढा समेत।। बैद्यनाथ प्रजाकारक रघुनाथा कामदेव-मौनी, परसौनी।। गोपालापत्यब कृष्णा्पत्यप-कुमरि, खेलई।। शशिधरापत्य नरसिंहापत्यु-बोड़वाड़ी कोकडीह, छतौनिया।। दामोदरापत्यय-कोकडीह।। नयादित्याणपत्यक-बेजौली।। द्वारि सन्त्ति जयादित्याापत्यम = सुखेत, सर्वसीमा।। शुचिकरापत्य्-दिगउन्धह।। आड़ू सन्तयति रघुनाथापत्यक-मुराजपुर ब्रह्मपुर।। जीवेश्वररापत्यत-दिगुम्ध़।। भवेसन्तसति-भिट्टी, सतैढ़, बेहट।। दूबे-सन्त।ति-ब्रह्मपुर।। हेलु सन्तुति-सतैढ़ रविकर सन्तहति तत्रैव।। प्रसाद मधुकर सन्त-ति बेहटा।। दिवाकरापत्य् पिथनपुरा।। गंगेश्विरापत्य -कुरमा, लोहपुर।। लम्बोमदर सन्तवति-कुरमा।। नाइ सन्ततति-पिथनपूरा।। राजपण्डित सह कुरूमा।। रामकर सन्तयति भिट्ठी खंगरैठा, गनाम।। आङनि सन्ततति-सौराठ।। मति गहाई, केउँदू सन्तूति-सिम्वीरवाड़।। एते खौआल ग्राम:।।
अथ संकराढी ग्राम:-महामहोकारू सन्ताति जगद्धर गोविन्दन सकुरी।। प्रितिकर-कादिगामा।। शुभे सन्तकति-अलय महामहो हरिहरापत्या-सुन्दतरौली गोपालपुर।। जयादित्याकपत्य।-भलुनी सरावय।। परमेश्विर-नेयाम।। सदु सुपे-हरड़ी।। रामधरापत्यर-अलय।। हरिशर्म्मद सन्तलति-सिधपमुरहदी।। रेकोरा संकराढ़ी-होरे-चांड़ो-परहट।। सोम-गोम-शक्तिरायपुर।। हरिश्वपर-सकराढ़ी वासी।। जीवेश्व रापत्य -बेला आधगाउ।। गयन द्वारिकादि।।


(१३) विशो, रातू सन्तपति असौली नोने विभू सिंधिया-गढ़ बेलउँच।। सुपन कुनौली।। कौशिक-कुसौली।। लक्षमीपाणि-सुशारी।। पाँथू-देयरही।। एते बेलउँचग्राम:।। अथं नरउनग्राम: बेलमोहन नरउन यटाधरापत्यक-मदनपुर।। रातूसन्‍तति-करियन।। गर्व्वेकश्वलरापत्यत: सिंधिया।। डालू सन्त-ति रूचिकर: मलिछाम।। चन्द्रयकर टुने सन्त ति-सुल्हनी।। विशोसन्त ति-त्रिपुरौली।। हेलूसन्त ति भखरौली।। दिवाकरा पत्यत: सुरसर, कवयी।। दिनकरापत्यन-पुडे।। खांतू कोने-वत्सहवाल।। शक्तिरायपुर नाउन-दामोदरापत्य्-जरहटिया। मुरारी=तेघरा।। योगीश्वेरापत्यस-ओझोलि कसियाम।। जगद्धरापत्यु-वोडि़याल।। चक्रेश्व्रापत्यल-शक्तिरायपुर।। नोने सन्तदति-मलंगिया, करहिया, पंचरूखी।। होरे सन्तपति नयूगामा।। कामेश्व रापत्य। चकौती भवेश्व रापत्यत नयगामा भरवरौलीसमेत।। एते नरउन ग्राम।। ।।अथ परिचोभ ग्राम :- मधुकरापत्यि = तरौनी झौआ, पद्मपुर ।। शिवपति, गुणेश्वकरपरा सुल्ह्नी। देहरिसन्निति = कनौती तरौनी भवेश्वचरा (१४ से) मैलाम।। जौन सन्ततति-आहिल।। यशु आदितू डीहाआहिल।। वावू पाठकादि-भैलाम, कटउना विसपी समेत।। कामेश्वमरापत्यत पौनी, सन्दियाल।। देहरिसन्तरति-कनौती, तरौनी, लान्हूूसन्तभति-उल्लूट।। जगन्नाकथापत्यत हरदत्त-खड़का, वगड़ा बयना समेत।। आङनिसुत पदमादित्या)पत्यस-मंगनी, सिरखडि़या, महालठी, लोही, चकरहट, कर्नमान तनकी समेत।। हरिनाथापत्यव मखनाहा, कत्र्जोली।। चण्डे)श्व।रापत्य- हरिवंश सुत रत्नाकरायपत्यह-बथैया ।। चक्रेश्वैर-कुरमा।। बाटू सन्तरति-चक्रहृदा, सिड़ली बासी।। विरपुर पनिचोभ-रातू सन्त।ति-सुन्दतरवाल।। हारू सन्ताति करियन।। वास्तुि सन्तयति-भिट्ठी।। महेश्वारापत्यक-देशुआल।। दिनकर मधुकरापत्य़-जरहटिया ।। रामेश्वचरसन्तचति चन्द्र करापत्य।-अलदाश।। विर सन्‍‍तति केशवापत्य।-भटौर, शहजादपुर, वलिया समेत।। वासुदेव सन्त।ति ददरी।। सोनेसन्तसति-ब्रहमौलि।। धराई सन्‍‍तति-अमरावती-रातू सन्ततति-करहि-या, उसरौली आदित्यदडीह।। हरिश्वतरापत्‍य-डीहा।। सोमेश्वचर-बधांतडीह।। रधु: रामपुर डीहा रवि गोपाल-तरौनी।। हरिशर्म्माीपत्यत-महुआ।। बाटनापत्य--तरौनी, बैगनी।। रूचिशर्म्माम-जगन्नासथ, भटिरभ।। शुचिनाथापत्ये-ततैल ।। शशिधर-ब्रह्मपुर नेहरा, भवनाथापत्यय पुरसौली।। देवादित्या।पत्या-पुरूषौली।। ऐते पनिचोभ ग्राम:।। अथ कुजौली ग्राम:-गोपाल सन्त।ति-हरिहर यशोधर-बेहटा।। सुपन, नाँथू , पाँथू लक्ष्मीुकर-भरवरौली।। जीवे, जोर-मलंगिया।। मेधाकर-वनकुजौली।। रातू सिम्मु नाम कन्धगराइन सुरपति वड़साम ।। गणपति-दिगउन्धत।। लक्ष्मीयपति-महिन्द्र वाड़।। चण्डेमश्व रहरि-दिगउन्द् साने-लोड़ाम, महोखरि।। विष्णुपकर-परसौनी।। रूपन-कन्‍धरानि।। सोम-लोआम।। राजूसन्ततति सुधाकर-सरावय।। लक्ष्मी्कर सुत प्रज्ञाकर अमृतकर-वेजौली। देवादित्यर-दिशौडि़।। चन्द्ररकरापत्यम-खयरा।। प्रितिकर-बेलहवाड़।। वेदडीह कुजौली।। विरेश्वकर-रूदनिग्राम।। भव:बैकक, मल्दतडीहा।। परान्तप सन्तसति-नेत्राम।। ऐते कुजौली।।

(१४) ''१४''
अथ गोत्र पत्र्जी लिखयते।।:-शाण्डिल्येग दिर्धोष: सरिसब, महुआ, पर्वपल्ली (पबौली) खण्ड-बला, गंगोली, यमुगाम, करियन, मोहरि, संझुआल, भडार:।। पण्डोषली जजिवाल, दहिभत, तिलई, माहव. सिम्मुदनाम सिहांश्रम, ससारव: (सोदरपुर) स्तललित कड़रिया, अल्लाोरि, होईया, समेत तल्हरनपुर, परिसरा, परसंडा, वीरनाम, उत्तमपुर कोदरिया, छतिमन, बरेबा मधवाल, गंगोरश्र, भटौरा, बुधौरा ब्रह्मपुरा कोइयार, केरहिवार, गंगुआलश्च , धोसियाम, छतौनी, मिगुआल ननौती, तपनपुरश्वा।। इति शाण्डिल्पंौ अथ वत्सस गोत्र:-पल्ली‍ (पाली) हरिअम्बं, तिसुरी, राउढ़ टंकबाल धुसौत, जजुआल, पहद्दी जल्ललकी (जालय) भन्दसवाल, कोइयार, केरहिवार, ननौर, डढ़ार प्रथित करमहाबुधवाल, भड़ार लाही, सोइनि सकौना, फनन्द।ह, मोहरी, बढ़वाल तिसउँत वरूआली पण्डोोलि, बहेराढ़ी, बरैवा, भण्डािरिसम, बभनियाम, उचित, तपनपुरा, बिढुवाल नरवाल, चित्रपल्ली , जरहटिया, रतवाल, ब्रह्मपुरा सरौनी।। एते वत्सा गोत्र।। अथ कादूयप गोत्र दानशौर्य्य प्रतापैश्र्च प्रसिद्धा यत्र पार्थिवा: ओइनिसा सर्वत: श्रेष्ठा, स्वीस्वप धर्म प्रवर्तिका:।। ओइनि, खौआला संकराढ़ी, जगति, दरिहरा, माण्डदर बलियास, पचाउट, कटाई, सतलखा पण्डुेआ, मानलिछा मेरन्दीम भदुआल: सकल पकलिया बुधवाल, पिभूया मौरि जनक भूतहरी महा काश्यउपे छादनश्चख, थरिया, दोस्तीर, भरेहा, कुसुमालंच, नरवाल, नगुरदहश्र्प ।। एते काश्यपपे गोत्रा:।।


(१५) अथ पराशरं गोत्र:-नरउन सुरगन सकुरी सुइरी पिहवाल, नदाम महेशरि सकरहोनश्र्च सोइनि तिलै वरेवाचापि।। एतेपराशरगोत्र अथ कात्यारयन गोत्र: कुजौली, ननौती, जल्लतकी, वतिगामश्र्च।। एते कात्याीयन गोत्रा:।। अथ सावर्ण गोत्र: सोन्दरपुर, पनिचोभ वरेवा नन्दोीर मेरन्दीि।। अथ अलाम्वुरकाक्ष गोत्र: वक्ष्यानम्प्रेलाम्बुथकाक्ष कटाई, ब्रह्मपुरा चापि। ।। अथ कौशिक गोत्रे-निखूति अथ कृष्णादत्रयगोत्र: लोहना बुसवन सान्द्रो पोदोनी चo।। अथ गौतम गोत्र:-ब्रह्मपुरा उत्तिमपुर कोइयारं चापि गौतमो।। अथ भारद्वाज गोत्र: एकहरा बेलउँच (विल्वषपंचक) देयामश्रापि कलिगाम भूतहरी गोढ़ार गोधोलिचा।। एते भारद्वाज गोत्रा अथ मौदगल्यच गोत्र: मौदगल्यै) रतवालो मालिछस्तपथा दीर्घोषोपि काप्यप जल्लोकी तत्र वर्त्तते।। एते मोद्गगल्यौ गोत्रा।। अथ वशिष्ठर गोत्र: कौशिल्येल पुनश्चम कोथुआ विष्णुपवृद्धि वाल।। एते वशिष्ठह गोत्रा:।। अथ कौण्डिल्यत गोत्र: एकहटयूविशल्युो पाउन स्पीद गोत्राश्र्च।। एते कौण्डिल्य्गोत्र।। अथ परसातंडी गोत्र-कटाई।।

१६ ''ऐ''
१७
विशद कुसुम तुष्टा। पुण्डतरी कोप विष्टात धवल वसन वेषा मालतीवद्ध केशा।। शशिधर कर वर्णा शुभ्रजातुङत्रवस्त्राच जयतिजीतसमस्ताष भारती वेणु हस्ताग।। सरस्व ती महामायै विद्याकमल लोचिनी। विश्वूरूप विशालाक्षि विद्यान्दे्हि परमेश्व्री।। एकदन्तर महावु‍द्धिः सर्वज्ञोगणनायक: सर्वसिद्धि करोदेवों गौरीपुत्र विनायक: गंगोली सँ बीजी गंगाधर: ए सुतौ वीर (०५/०४) नारायणों। तत्र नारायणसुत: (१८//०२) शूलपाणि। ए सुतौ हाले शॉंईकौ।। थरिया सँकान्हा दौ।। खण्डहबला ग्रामोपार्यक:।। साइँक: शकर्षणा परनामा ए सुता भद्रेश्वतर दामोदर (०५/०६) बैकुण्ठ् नीलकंठ श्रीकंठ ध्यादनकंठा ।। तत्र (०९/०१/) दामोदर एकमावासी बैकुण्ठ् सन्तगति पाठक वासी।। नीलकंठ संतति संसारगुरदी वासी।। श्रीकंठ संतति गुरदी, हरड़ी सरपरब, मौर वासिन्यर:।। श्रीकंठसुता श्यावमकंठ हरिकंठ नित्यांनन्दस गंगेश्वार देवानन्दत हरदत्त हरिकेशा: तत्राद्यो पत्र्चज्येषष्ठ। सकराढ़ी सँ डालू सुत दौपतौनाखौआल सँ गणपति द्दौo अन्यों पतऔना खौआल सँ गणपति दौ।। तत्र गंगेश्वार सुता हल्लेाश्वँर चक्रेश्वौर पक्षीश्वारा: सँ सुत दौ सँ द्दौo हल्ले श्वररो गुरदीवासी।। चक्रेश्व‍रौ हड़री वासी।। ए सुतौ पद्मनाम:।। डीहभण्डाौरिसम सँ शौरि दौ।। तत्र पद्मनाम सुतौ पुरुषोत्तम: गढ़बेउँच सँ अभिनन्द दौ।।

१८
पुरुषोत्तम सुतौ ज्ञानपति: माउँबेहट सँ हरिकर सुत बाटू दौ।। ज्ञानपति सुतौ उँमापति सुरपति एकमा बलियास सँ आङनिसुत बाढ़ू दौ।। एकमा वलियाससँबीजी धरणीधर। ए सुता पद्मनाम श्री निधि श्री नाथाः (१५/०४)।। पदमनाभ सुतौ शुक्ला हरिवंश (०८/०७) हरि शर्म्मधणौ बरेबा सँ पुरुषोत्तम दौ शुक्लहरिवंश सुतौ आङनि जगन्नाडथौ बाढ़ू अलय सँ वर्द्धमान दौ।। आङनि सुतौ बाढ़ूक: महुआ सँ जगन्ना थ दौ।। बाढू सुता बरूआली सँ देहरि दौ वरूआली मराढ़ सँ बीजी दिवाकर: ए सुतौ बाछ श्रीहर्ष:।। श्री हर्ष सन्ताति मराढ़वासी बाछ सन्‍‍तति बरूआली वासी।। बाछ सुतौ ‘'आवस्थिक’’ चन्द्रतकर रत्नाकर (१२//०५) मधुकर साधुकर विरेश्वार धीरेश्वतर गिरीश्वौरा: धनौज सँ जनार्दन दौ।। साधुकर सुतौ धाम: पनिहारी दरिहरा सँ गंगेश्वशर दौ।। अपरौ देहरि: पनिचोभ सँ विध्नेौश्वँर दौ।। सुता दरिहरा सँ गंगेश्वौर दौ।। ठ. सुरपति सुता दूबे लाखू (२७/०१) देहरि महिपतिय (३४/०८): मंगरौनी माण्डदर सँ पीताम्बतर सुत दामू दौ माण्डुर सँ वीजी त्रिनयनभट्ट: ए सुतौ आर्यभट्टः ए सुतौ उदयभट्ट: ए सुतौ विजयभट्ट ए सुतौ सुलोचनभट (सुनयनभट्ट) ए सुतौ भट्ट ए सुतौ धर्मजटीमिश्र ए सुतौ धाराजटी मिश्र ए सुतौब्रह्मजटी मिश्र ए सुतौ त्रिपुरजटी मिश्र ए सुत विघुजटी मिश्र ए सुतौ अजयसिंह: ए सुतौ विजयसिंह: ए सुतौ ए सुतौ आदिवराह: ए सुतौ महोवराह: ए सुतौ दुर्योधन सिंह: ए सुतौ सोढ़र जयसिंहतर्काचार्यास्त्रि महास्त्र विद्या पारङगत महामहोपाध्या।य: नरसिंह:।।

१९ तर्काचायस्त्रि महास्त्र विद्या पारङगत महामहोपाध्यायय (१०/०६) नरसिंह सुता महामहो निधि (०७//०१)।। शिलपाणि (१६१/०१)।। कुलधरा:।। महामहो निधि सुतौ श्री कुमार पाठक वासी कुलधरै कोड़रावासी शिलपाणि मङगरौनीवासी ए सुतौ महोविभाकर: जजिवाल मातृक:।। ए सुता नारायण चन्द्राकर विश्वेरश्वोरा: करिअन सँ धर्माधिकरणीक महा महोपाध्या्य भरथ दौ।। महामहोपाध्या्य नारायण सुता महामहोपाध्या य देवशर्म्म हेलन जगतपुर म.म.उ. नर देवा: आदय: परली पाली सँ जयशर्म्म दौ अन्योो केउँटी राउढ़ सँ धराई दौ।। महामहोउपाō देवशर्म्मध सुता महामहो जगन्नाहथ महांमहोउ. देवनाथ मिश्र (१६/०८) नन्दीा मिश्र (१८/०९) गुणे मिश्र स्थितकरा:आद्यो पोखरौनी टंकवाल सँ नरसिंह दौ अपरौ छादन सरिसब सँ देवादित्य६ दौ अन्यौह भण्डा रिसम सँ रूचिकर दौ।। महामहोउ जगन्ना थ सुता सदुपाध्या य (१९//०५) अमतू सदुपाध्या य (०९/०६) विशो महामहोपाध्यामय बटेशा (१८/०२) गढ़निखूति सँ महामहत्तक विद्याधर दौ मेरन्दीद सँ श्रीधर द्दौ।। अपरौ पीताम्बार: चक्रहद पनिचोभ सँ चन्द्राकर दौ।। पीताम्बदर सुतौ दामू प्रo दामोदर: बेलउँच सँ तीर्थङकर दौ भरेहा सँ विश्वरनाथ दौ दौ (४४/०२) दामू सुता बाढ़ अलय सँ महामहोपाध्याoय रामेश्वमर दौ:।। बाढ़ अलयसँ वीजी पंडित गंगाधर ए सुतौ भरत: ए सुता सीते पदूमवर्द्धमान हाउँका:।। पदूम सुतौ कमलपाणि। ए सुता रतनेश्वमर वत्से श्वरर यवेश्वचर देवेश्वुरा: खौआल सँ नयपाणि दौ एकहरी सँ सोने द्दौ वत्सेेश्‍वर सुतौ (५७//०८) वीरेश्वरर महामहोपाध्या‍य रामेश्वशरौ आद्य: भाण्ड रसँ श्याणमकंठ दौ अन्योा ततैल पण्डु्आ सँ महामहो दिवाकर दौ सोनकरियाम करमहा सँ हरिकेश द्दौo।।


(२०) महामहोपाध्यायय (६०/०२) रामेश्वसर सुता महो (१८/०१) ग्रहेश्व‍र महो लक्ष्मीणधर (५३/०७) महो गंगाधरा: (१६३/०३) मताउन दरिहरा सँ रति दौ।।: मताओन दरिहरा सँ वीजीश्रीकर: ए सुतौ गंगेश्वउर विश्वे।श्वौरों।। गंगेश्वहर सुता विन्ध्य‍येश्व्र यटेश्वमर यवेश्वहर परनामक सर्वेश्वगर पशुपति धर्मेश्वषर गिरीश्वआर गौरीश्व३रा: टकवालमातृक: गिरीश्व र सुतौ देवादित्यर दुर्गादित्योंप अलय सँ रति दौ।। देवादित्ये सुतौ महो रति बिजूकौ: सरिसब सँ भवदेव दौ।। महोरति सुता ठकुराइनि लरिवमा देयीका:।। कोइयार सँ भवशर्म्मद दौ।। ठक्कु र दुबे प्रo श्रीपतिसुता ठ. (१५/०९) हरपति ठ. (८४/०४) नरपति ठ. चन्द्र्पति प्रo चाण: सोन करियाम करमहा सँ श्रीधर दौ सोन करियाम करमाहासँ बीजी महामहोपाध्यााय वंशधर: ए सुता महामहोहरिब्रह्म महामहरिकेश म. म. धूर्त्तराज गोनूका: सकुरी सँ महामहो देयी दौ।। महामहो हरिकेश सुतौ (१२/०४) गोविन्द् नोने को खण्डनबला सँ नित्याानन्‍द दौ।। अपरौ (११/०२) लक्ष्मी।पति लक्ष्मीाकंठो कुजौली सँ बाछे दौ।। अपरै लान्हि रूचिकर हरिवंशा: लखनौर सकराढ़ी सँ पनिहथ ढ़ोंढ़े दौ।। रूचिकर सुतौ हरदत्त नितिकरौ खण्डलबलासँ विश्वैनाथ दौ।। अपरो गिरीश्व:र: मनझीसँ ज्ञातनाम सीत दौ।। गिरीश्वमर सुता गंगेश्वखर भवेश्व४र देवेश्वहरा: (३३/०६) लखनौर सकराढ़ी सँ सर्वेश्वमर दौ।। (६०३/०६) गंगेश्वार सुता (२१//०८) नरसिंह श्रीवत्स‍ केशवा: (२६/०९) (३१/०१) बेलासकo जीवेश्वकर दौ अपरै (२०/०८) वाराह श्रीधर माधव (२९/०३) (३५/०३) रामा: पतौना खौआल सै आङू दौ।। पतऔना खौआल सँ वीजी महामहोपाध्यामय प्रजापति सुतौ महो वाचस्प ति महो उँमापति।। (१२७/०५) वाचस्पीति सुतौ गणपति।।


(२१) धनौज सँ त्रिपुरारि दौ।। गणपति सुता शशिधर (२१/०४) लक्ष्मीमधर सुरानन्दम धर्मधिकरणिक महामहोपाध्याीय (०३/०५) हरिशर्म्म णा:।। शशिधरसुतौ गदाधर: मड़ार सँ रविदौ ।। अपरौ महिघर पृथ्‍वीघरौ गंगोली सँ देवरूपदौ।। अपरै जयकर शिरू गोनू गंगाधरा: सँ प्रियंकर दौ।। गदाधर सुतौ महामहो नयपाणि महो हरिपाणि महुआसँ भीखम दौ।। महो हरिपाणि सुतौ लक्ष्मीरपाणि रतनपाणि उदनपुर जजिवाल सँ शान्तिकर दौ।। अपरौ महिपाणि जयपाणि गंगोली सँ मातृक:।। महामहो रत्नपाणि सुता महो हरादित्यस महामहो भवादित्य (१३/०/०) महामहो नयादित्यद महामहो धरादित्यात गंगोली सँ वंशधर दौ।। अपरे जयादित्यम महामहो (१९१/०९) दैवादित्य३ महो गंगादित्याा गुआल सँ चन्द्रतकर दौ।। महामहो जयादित्या सुता लक्ष्मीाकर शुचिकर आचार्य उदयकरा: बनाइनि पाली सँ भोगीश्वहर दौ (२०/०१) शुचिकर सुता छीतू (७१/०६) बीकू आङूका: भुतहरी निखूति सँ सुत दौ दिघोय सँ पति दौ दौ ।। आङू सुता महथौर अलयासँ गयशर्म्म दौ: महथोर अलय बीजी बाढ़न: ए सुतौ विश्विनाथ: ए सुतौ गयशर्म्मा गुणाकरौ भिगुआल सँ विरेश्व र दौ।। गयशर्म्मा६ सुतौकारू वेदूकौ सकराढ़ी मात्रकौ।। श्रीधरसुतौ (३०/१०) रतिधर (५३/१०६) महिधरो नरउन सँ मुरारि दौ: शक्तिरायपुर नरउनसँ बीजी मनोधर: ए सुतौ बलभद्र: ए सुतौ पनाईत भद्रेश्वआर: केउँटी सँउढ़सँ हरिहर दौ।। ए सुतौ (१०/०१) रामेश्व़र नन्दीदश्व रौ अलयसँ देवपति दौ।। नन्दीशश्वुर सुतौ गौरीश्वणर गोविन्दोँ करूआनी सकराढ़ीया सँ रतिकर दौ: करूआनी सकराढ़ी सँ बीजी हरदत्त: ए सुतौ श्रीकरदशरथ: (१३/०४) मनोरथा:


(२२) दशरथ सुता बलिदेव (८/०५) राम नरसिंहा।। पचहीवासी नरसिहं सुतौ शूलपाणि: सिंहाश्रम सँजाई दौ।। ए सुतौ पद्मपाणि महामहोपाध्या्य कारूकौ आद्य: सुरगण सँ गोवर्द्धन दौ।। अन्योश कोइयार सँदल्‍हन दौ।। महामहोपाध्यापय कारू सुतौमहो गोविन्दिमहो प्रितिकरमहो महो जगद्धरमहो (१४/०७) हरिहरा: करही सँ हरिवंश दौ।। महोप्रितिकर सुतौ लक्ष्मी कर मधुकरौ सरिसब सँमहो हरादित्य दौ।। सरिसबसँ बीजी रत्नपाणि ए सुतौ चक्रपाणि दीधीसँ भीम दौ।। ए सुता श्रीवत्‍स हल्लेयश्व४र वसुन्धँर रामदेवकामदेवा: चक्रहद पनिचोभ सँ छितिशर्म्म्दौ।। श्री वत्स् सुता महो (११/०२) देवादित्य महो (१४/०७) जयादित्य: महो हरादित्याव: भन्ददवाल जल्लशकी सँ उद्योतकर दौ।। अपरौ शिवादित्य : जलकौर पालीसँ श्रीवत्स‍ दौ।। महो हरादित्यि सुता नान्य्पुर खौआल सँ बाछ दौ (०३/०) म. म. धर्माधिकारणिक हरिशर्म्म सुता राछे बाछे नोने गडूर (०२/ ४०/०) जयशर्म्मआणा: नान्यदपुर वासिन्यर: तत्राद्यो गढ़ हृकहरी सँ धनरजय दौ।। अपरौ मङार सँ पीथो मागिनेयः बाछे (१४/०१) बाछे सुता जयदेव कापनि मधवा गंगोली सँ भीम सुत शाकल्‍य दौ धोसियाम सँ धाम दौ दौ अपरौ धाम: अहपूर करमहा सँ नारायण सुत हिंगू दौ।। गौरीश्वरर सुतौ दामोदर मुरारि: टकबाल सँरूद दौ: टंकबाल सँ बीजी हरिपाणि: ए सुतौ शंखपाणि: कीर्तिपाणि: पिहवाल सँ झालोदौ ।। शंखपाणि: नीमावासी।। कीर्तिपाणि सुतौ गोविन्दू शूलपाणि: गोविन्दध पोखरौनीवासी।। ए सुतौ नरसिंह: परिसरा सँ उँमापति दौ।। ए सुतौ वत्सेहश्वरर: बेला सकराढ़ी सँराउल मासो दौ।। अपरौशुक्लद (१७/०६) भिखारीक: गंगोली सँ रतिदेव दौ ।। अपरै हरिहर मुरारी अनन्तद दामोदर श्रीनाथा।।

(२३) तेरहोत सकराढ़ी सँ रामेश्वथर दौ (०३//०९) वत्सेाश्वहर सुतौ रूद: नान्यौपुरखौआल सँ होरिल दौ (०३//०५) गड़ूर सुतौ धर्माधिकरणीक म.म. होरिल: विठुआल सँ रैधर सुत मनोधर दौ।। ए सुतौ धीरेश्वदर: सुइरी सँ धर्माध्यकक्षक देवे दौ।। अपरौ विन्येद श्व र: ।। रूद सुता ओझौली बेलउँच सँ कीर्तिशर्म्मी दौ।। अथ डोम टेकारी ग्राम तत्र चतुर्वेदाध्यामयी कामदेवो बीजी।। ए सुतायाज्ञिक परशुराम दिक्षीत सोमत्रिपाठी कृष्णौ।। कलिगामौ पार्यक परशुराम सुतौश्रीधर बलभद्रो त्रिपाटीसँ कुमर दौ।। बलभद्र सुता शारङ्त्र बनमाली उद्योतकरा: महुआ सँ अग्निहोत्रिक धनञ्ज्यर दौ।। शारङ्त्र सुतौ राम वामनौ।। वामन कलिगाम वासी।। महामहोपाध्याोय राम विल्वहपंचक (बेलउँच) वासी। ए सुतौ संतोष परितोषौ।। (१५१/०१) सन्तोपष सन्त:ति दक्षिण पाटकवासी चाक ग्राम सन्ति।। परितोष सुतौ हरिहर नारायणो दुखनौरीसकराढ़ी सँ बनमाली सुत हरानन्दा दौ।। अन्यौ।। म दरिहरा सँ मातृक:।। नारायण सुतौ देवे (३/०१) भवे कौ एकहरा वासिन्यो।।। हरिहर सुतौ कुश लवौ सकo नित्यामनन्द दौ लभस्तृ बड़यि नाम्नाि प्रसिद्ध गढ़ वासी।। कुश सुतौ शिवदाश कीर्तिशर्म्म।णौ सकराढ़ी सँ लक्ष्मी पाणि दौ।। कीर्तिशर्म्मससुता बलाइनि पाली सँ भोगीश्वकर दौ मुरारी सुता (६२/०२) सुता बागे गोगे मांगुका: तेरहोत सकराढ़ी सँ जाई दौ।। तेरहोत सकराढ़ीसँ बीजी गंगादित्यव एसुतौ भवादित्य( एसुतौ जाई माने कौ गंगोली सँ पणिडत केशव दौ।।


(२४) ''४'' जाई सुतौ हारू गोनूकौ कुजौली सँ राजू दौ।। कुजौली सँ बीजी दान्तिय पुत्र पौत्रादय इन्द्रं चन्द्रि रूद्र तारापति दिनकर पहकरा।। दिनकर सुता कर्ण वासुदेव गंगाधर नरदेव मूलदेव।। कर्ण सुता हरिहर हरिब्रह्म शान्तिब्रह्म शूलपाणि नरसिंह शिवब्रह्माणा:।। शिवब्रह्म सुता (१७//०८) शुभंकर जयकर लक्ष्मीइकर नोने मेधाकर गुणाकरा: मोखरि सँ मधुमन दौ सकुरी सँ महामहो उ. देयी दौ।। मेधाकर सुतौ जानूक: वनगांववासी बलाइनि वासी पाली सँ देल्हकन दौ।। ए सुतौ भीम नन्दीेश्व रौ पकलिया सँ कान्हू दौ।। नन्दीवश्व्र सुतौ (२६/०९) रूद पचटन पण्डु आ सँ मुरारी दौ अपरौ शिव: कपरसिया मातृक: शिव सुतौ राजूक: कुरिसमा सकराढ़ी सँ श्यावमकंठ दौ।। राजू सुता सुधाकर अमृतकर (२३/०७) सोमकर विधुकर चन्द्रनकर शशिकरा: तत्राद्योरेकौरा गंगोली सँ पण्डित केशव दौ।। सोइनि सँ शंकरदाश दौ दौ ठ. (७३//०५) चन्द्रवपति सुता महामहो महादेवा परनामक थेघ महामहो भगीरथा: परनामक मेघ महामहो दामोदर (३२//०७) म.म. महेशा (३०//०५) रेकौरा सकराढ़ी सँ वीर सुत रूद दौ: रेकौरा सकराढ़ी सँ बीजी कपिलानन्द ए सुतौ जयपाणि ए सुतौ ब्रह्मेश्वरर: बरैवा सँ त्रिलोचन दौ।। ए सुतौ गोवर्द्धन नान्यरपुर अलय सँ हरिपाणि दौ ।। ए सुतौबन्धु् वर्द्धन: टूनी नाम्ना ख्याात: नरधोध टकबाल सँ बनमाली दौ।। ए सुता बाटू गोविन्दय माधवा चन्दौदत पाली सँ गंगाधर दौ।। अथ पल्लीट ग्राम तत्र बीजी कपिलदेव: ए सुतौ सोमदेव ए सुतौ वासुदेव: ए सुतौआदिदेव: ए सुतौराउल भृगुक: एतस्यीपत्नीै त्रयम एकस्यक सुतौ अभिमन्युस (०६//०७) (२१/०४) पुरुषोत्तमौ


(२५) अपरा सुतौ ब्रहमेश्वीर महेश्वटरौ।। अपरा सुता शंकरदेव बलदेव वरदेव वासुदेवा: मछैटा ग्रामोपार्यका:।। महेश्वपरसुता किर्तू गुणाकर दिवाकर गर्वेश्व‍रा।। किर्तू सुता नादू सादू शिव छीतर नोनेका: सकराढ़ी सँ नरसिंह दौ।। नादू सुतौ चन्द्ररकर:चन्द्रोितग्रामो पार्यक:।। ए सुता महो (१९/८६) प्रितिकर महामहो शुचिकर आचार्य लक्ष्मीिकर महो गुणाकरा: तत्राद्यास्‍त्रय डीह दरिहरा सँ अभिमन्यु दौ।। अन्यौ९श् खौआल सँ हरिपाणि दौ।। महामहे। शुचिकर सुतौ महोगंगाधर गणपति: आद्यो गंगौर सँ रजदेव दौ अन्योम नहरासँ गांगू दौ।। महो गंगाधर सुतौ महो (१०/०४) हलधर धर्माधिकरणिक म.म. (२३/०१०) नरसिंह।। महामहो (२०/०१) बाछे का: तत्राद्यो मताओन दरिहरा सँ शूलपाणि दौ अन्योध गोरा जजिवाल सँ शिवदत्त दौ।। गोविन्द/ सुता (१३५//०९) होरे चांड़ो सोम हरिश्वहर (३०/०१) हरिश्वार गोमा: गढ़ खण्डमबला सँ कामेश्वदर दौ (०१/०५) बैकुण्ठ सुतौ गंगेश्वरर (०६/०९) भोगीश्वपरौ गढ़ वासिन्योो।। गंगेश्वलर सुता सिद्धेश्वनर सोमेश्वरर रत्नेश्व५र नोने देवेक। तत्रादयाश्चवत्वाररों नरवाल मात्रिक: अन्यो् हरिअम मातृक: ।। सिद्धेश्व।र सुता गढ़वय भगव शिवशर्म्मद विष्णुवशर्म्मेणा: नीमाटक. रत्नपाणिदौ।।भगव सुतौ कामेश्वहर गढ़अलय सँ देवशर्म्म। दौ।। (२८/०४) कामेश्वमर सुता फनन्‍दहसँ गंगेश्वौर दौ: अवहिखण्डह भण्डावरिसम सँ बीजी कुसुमादित्य : ए सुतौ श्रीधर कलपाणि:।। श्रीधर सुता।।


(२६) ''५'' एकादाश: तत्रेक: मैनी वासी।। अपरौ वशिष्ठद: सुरगन सँ सर्वज्ञ आङ्त्र दौ।। अपरौ ओहरी करहीवासी अपरौ रैधर: ए युतो गंगाधर: फनन्दवह वासी।। ए सुतौ लरवाई शशिधरौ।। महो लखाई सुता रत्नेश्वरर (१८//०६) भवेश्व्र: ज्ञानेश्व्रा: कुजौली सँ मेधाकर दौ।। अपरौ हल्ले श्वार बिरेश्व रौ मेंरन्दीव सँ हृषिकेश दौ हल्ले्श्व र सुता गंगेश्वरर घनेश्व्र रामेश्वारा: तेरहोत सकराही सँ कुलेश्व र सुत भवेश्वधर दौ सकुरी सँ महो नयपाणि दौ दौ (२०/०५) गंगेश्वरर सुता सुपटानी गंगोली सँ सुपट दौ (०१/०४) वीर सुता देवधर मासो मुरारि गांगु शिवदेवा:।। देवधरसुता आदिदेव (३४/०७) विश्वररूप पुरुषोत्तम:।। आदिदेव सुतौ (०७/०२) विकर्ण वसुन्धररौ।। तत्र बसुन्ध।र सुतौ देवपाणि:दरिहरा सँ मांगु दौ।। ए सुता शारङ्त्रपाणि श्रीपाणि शूलपाणि वंशीधर धराधर हलधरा: तत्राद्यास्त्रौय बलहि टंकवाल सँ वृहस्प ति दौ।। मित्रवंश भागिनेयो।। धराधर सुतौ देवादित्य : देवहार सरौनीसँ देवनाम दौ।। लोहरा ग्रामोपार्यक ए सुतौ शुज महामहोपाध्यादय सुपटौ रवौआल सँ हरिपाणि दौ।। महामहोपाध्यासय सुपट सुतौ तत्र (०९/०२) सोम गोमों बभनियाम सँ भीखम दौ।। अपरै साबै वीर (२०/०२) धीर परम चांड़ौका बलहिट सँ रतिकर दौ ।। अपरौ गौरीश्व र: बलहिट सँ (आनयादि सात्र) चांड़ो सुता वीर नन्दीर गुणेका: (४०/०६) (४५/०३) उचति सँ अन्दूि सुत हटवय दौ


(२७)
उचित भण्डांरिसमसँ बीजी महिपाणि ए सुतौ धर्मपाणि लखाईकौ:।। लरवाईक: सोहरावासी धर्मपाणि उचति वासी।। ए सुतौ पद्मपाणि नरउन सँ प्रियंकरदौ ए सुतौ पुरुषोत्तम सरिसबसँ कामदेव दौ।। ए सुतौ अन्दूव नोने कौ मालिछ सँ लक्मी०रौकंठ सुत देवकंठ दौ।। अन्दूए सुतौ (२३/०४) थानू हटवयकौ।। आद्यो: गोरा जीजवाल सँ श्रीपति दौ।। अन्यो(ा गुलदी खण्ड बला सँ रत्नाकर दौ।। हटवय सुत सँ (२५/०२) माधव दामोदर श्रीधर (२८/०७) हलधर केशवा: कुजौली सँ शशिकर प्रo शंकर सुत रधु दौ दहिमत हरिहर दौ दौ (४३/०६) वीर सुता रूद्र (३०/०३) राजू सोने का: वभनियामसँ गोनन सुत किलो दौ: वभनियामसँ बीजी हरिशर्म्म६ ए सुतौ झालोक: महजौली मात्रिक: ए सुता शुभंकर जयकर प्रियंकर थोथेका (७५/०४) शुभंकर सुतौ बाछे क: जगति सँ महानिधि दौ।। ए सुतौ रामब्रह्म कृष्णश ब्रहनौ।। रामब्रहम सुता भीम जाई जवे कांगूका: सुइरी सँ कान्ह् दौ।। जायी सुता गोर जयपति (२२/१०) गणपतिय:।। गोर सुतौ वीर (१४/०६) गोननो कोड़रा माण्डनरसँ रत्नेश्व र दौ अन्योस यमुगाम सँ हरिहर दौ।। गोनन सुता (२७/०७) (९२/०९) महिपति किठो ऐंठोका: महवालसँ दिवाकर दौ: महवालसँ बीजी माहवमपत्याब: पत्‍ना ए सुतौ प्रभाकर ए सुतौ बनमालीक: ए सुता ओहरि ढ़ेहरि चक्रधरा:।। ओहरिप्रo रत्नाकर सुतौ दिवाकर जीवाकौ हथियन सकुरी सँ देवपति दौ।। किठो। सुता खण्डनवला सँ रविकर दौ (०५/०६'') भोगीश्वार सुता नारायण रत्नाकर दिवाकर (२२/०१) भवशर्म्म‍ गदाधरा: नीमाटंकo सउँथपाणि दौ।। रत्नाकर सुतौ पक्षधर: कुर्रसमासकo राजू दौ।।


(२८) ''६'' पक्षधर सुतौ हलधर यशोधरौ दरिहरा सँ रत्नाकर दौ।। यशोधर सुतौ रविकर पनिचोभ सँ कोन दौ।। रविकर सुतौ रूद्र श्रीकरौ गढ़ विस्फीश सँ शंकर दौ।। गढ़ विस्फीव सँ बीजी विष्णुर शर्म्माग: ए सुतौ हरादित्यौ ए सुतौ कर्मादित्यक:।। ए सुतौ शान्ति विग्राहिक देवादित्यह राजवल्लिभ भवादित्यो ।। शान्ति विग्रहिकदेवादित्यि सुता रणागारिक वीरेश्व्र वार्तिक नैवांधिक (६४/०५) धीरेश्वदर सप्रक्रय महा सामन्ता धिपति महामहत्तक गणेश्व।र भाण्डावगारिक यटेश्वनर स्थाननान्ररिक हरदत्त मुद्राहस्तयक लक्ष्मीओदत्त राजवल्लरभ शुभ दत्ता: तत्र पार्णागरिक नैवंधिक वीरेश्वतर सप्रक्रय गणेश्व्र राजवल्लरभ शुभदत्ता: नान्य्पुर त्रिपाली सँ कामेश्वओर दौ।। अपरौवार्तिक धीरेश्वथर भाण्डाल गारिक जटेश्वएरों महप्‍पौरवासी माधवभागिनेयो हरदत्त लक्ष्मीलदत्त: मह थौर वासी यमुगाम सँ काटिर्य माने दौ।। हरदत्त सुतौ मुरारीदत्त: बहेराढ़ी सँ लड़ावन दौ।। अपरौ उँमापति दत वरूआली मातृक ।। अपरौ शंकरदत्त अलय सँ देवे दौ।। अपरौ महत्तक होराइक: गढ़ बेल्उँीच सँ शंकरदत्त दो।। शंकरदत्त सुता नरवाल सँ दिवाकर दौ।। रूद सुतौ वेणीक: बहेराढ़ीसँ नरहरिसुत विश्वलम्भउर दौ (०४//०९) अभिमन्युा सुता विकर्ण वरूरूचि सागर पीताम्वगरा: भझौली सकराढ़ी सँ दशरथ दौ।। वररूचिसुता देल्हँण सोल्हभण तिमे मुरारिय: देलहनो (०९/०७) वलाइनि वासी सोल्ह नों मछाँटा वासी तिमे जलकोंर वासी मुरारी बहेराढ़ीवादी ए सुतौ देवपाणि चन्द्रिपति।। देवपाणिसुतौ होरिल देहरि: आद्य: सुरगनसँ गोवर्द्धन दौ।।


(२९) अन्यो९ भिन्नँ मातृक:।। होरिल सुता लक्ष्मीीकंठ जयकंठ शितिकंठ सोखे (०९/०४) लड़ावन श्याौमकंठ हेलना: तत्राद्यो सरिसब सँ कामदेव सुत कानह दौ अन्योी खैआल सँ बाछे दौ।। जयकंठ सुतौस्था)नान्तौरिक रति: पवौली सँ वीर दौ (०५/०४) विकर्ण सुतौ गणपति वाचस्प ति।। वाचस्प०ति पबौली गामोपार्यक: ए सुतौ हरदत्त।। बापटौ आद्य सुरगन सँ गोवर्द्धन दौ अन्यक पंच जेठोरी सकराढ़ीसँ ऐलौदो।। हरदत्त सुता वीर देवे श्रीदत्ता: वीर सुतौ महो (१४/०३) गंगाधरभन्दक वाल सँ हरिदाशदौ।। जलक्ंपयापट्ट राजवासी दामोदरो बीजी ए सुतौ माधव बान्वौ्य ।। माधव सन्तरति भन्द०वालवासी ए सुतौ जानु श्रुतिपरम त्रिलोचन:।। जानू सुता अमिनन्दज दाजू अच्यु त भूधरा:।। दाजू सुतौ हरिदाश:।। हरिदाश सुता सँ दौ।। स्थातन्तारिक रति सुतौ ठ. वासुकी: गढ़ निखूति सँ यगद्धर दौ।। निखूति सँ बीजी त्रिपाठी रूद्र: ए सुता महामहत्तक सुरेश्वार रतनेश्वुर नोने देवेका: सरौनीमातृक:।। महामहत्तक सुरेश्‍वरसुता शान्ति विग्रहिक हरिहर विद्याधर देवधरा: डीह राउढ़ सँ छीतर दौ।। महामहत्तक विधाधर सुता जगद्धर नोने प्रo रत्नधर देवधरा बुधौरा सकराढ़ी सँ गणपति दौ।। छतौनी सँ माधव दौ दौ।। महामहत्तक जगद्धरसुतौ लक्ष्मीह शर्म्मध कीर्तिशर्म्म णों सिंहाश्रम सँ रत्नेश्वरर दौ दुवादए पार पुर सकराढ़ी सँ अनन्तर दौ-दौ।। ठ. वासुकी सुता गोविन्दर नरहरि (१००/१) जनार्दना: तल्ह‍नपुर सँ रत्नाकर दौ : तल्हसनपुर सँ बीजी विष्णुक शर्म्मात: ए सुता शुक्लक ज्ञान रत्नेश्वणर दामोदरा: तत्र दामोदर सुतौ लोरिक: बेलासकराढ़ी सँ मासो दौ।। ए सुतौ चन्द्र कर धर्मकरौ कुजौली सँ विकर्ण दौ।। चन्द्र०कर सुतौ लभशर्म्मर रत्नाकरौ डीह दरिहरासँ लक्ष्मेषश्वुर दौ।। रत्नाकर सुता पोखराम बसहासँ राम सुत देवे दौ।। सुइरीसँ कीर्तिदाश दौ दौ ठ. (२५/०२) नरहरि सुता विश्ववम्भ र (३०//०४) विरखू (२५/०४) गदाधरा: गढ़ माण्ड र सँ बागे दौ


(३०) ''७'' (०२/०१) महामहो निधिसुतौ श्री कुमार पाठक वासी गंगोर सँ चन्द्ररकर दौ।। ए सुतौ दूबे (२६/०२) चौवेबेकौ टकबाल सँ रत्नपाणि दिशि मित्रानन्दर दौ।। (०९//०५) दूबे सुतौ घृतिकर: केउँटराम पण्डोरली सँ रूद दौ।। ए सुतौ रविकर: अलय सँ गोविनद दौ।। एक सुतौ गुणीश्व।र (११/०६) प्रo कोने बागेकौ तिसउँत सँ जगद्धर सुत नारायण दौ तिमेसँ दुर्गादाश दौहित्र दौ।। बागे सुतौ रातूक: गढ़ यमुगाम सँ जीवेश्वौर दौ।। गढ़ यमुगाम सँ बीजी श्रीकर: ए सुतौ हरिकर: ए सुतौ जीवेश्वीर: सकराढ़ीसँ पदमपाणि दौ।। जीवेश्ववर सुतौ आङनि: माङनि: अथरी दरिहरा सँ नरसिंह दौ: दरिहरा सँ बीजी कमल पाणि: ए सुता देवधर धरणीधर माहव (कनिष्ठा।) अपरौ (१४/०७) चिन्तादमणि: (१५/०७) देवधर सुतौ कुसुम (११/०३) रेचन्द्रो कुसुमे सुता सागर पुराई सीधू का: ।। सागर सुतौ पाई दामोदरौ।। दाम्‍मोदर सुतौ बसाईक: ए सुतौ राम: ए सुतौ नरसिंह।। नरसिंह सुता दिधो सँ कर्मादित्यत दौ।। ठ. विश्वौम्भ र सुतौ नाथू (७०/०२) बाटू कौ (५२/०/१०) खौआल सँ विकू सुत रघुपति दौ (०३/०६) विकू सुतौ रघुपति: गंगोर सँ भोरे दौ: गंगोर सँ बीजी शाश्व्त: ए सुतौ दामोदर: ए सुता रघु माधव चन्द्रिधरा: छतौनी सँ श्रृंगार दौ।। चन्द्र धर सुतौ विनू विदू कौ पण्डु्आ सँ राम दौ।। (१९/०४) विदू सुता विश्वरनाथ (१६/०९) श्री नाथ जगन्नारथ देवनाथा: सतलखा सँ महिधर दौ।। श्री नाथ सुतौ गुणीनाथ: राढ़ी कोइयार सँ शान्ति दौ ए सुतौ भोरेक: शीशे पालीसँ ऐलौदौ।। भोरे सुता (१७//०१) शिवनाथ भवनाथ देवनाथा: छतौनी वासी सठवाल सँ देवशर्म्मँदिशि कुसुमाकर दौ छतौनी सँ परमेश्व र दौ दौ (२३/०१) रघुपति सुतौहरपति: (२५/०४) नरउन सँ कोने दौ नरउनसँ बीजी महामहोपाध्यारय महिधर: ए सुता श्री धर मनोधर लक्ष्मीाधरा:।। श्रीधर सुतौ उदयकर प्रियंकरौ।। कुमुदी मातृको।। अपरो त्रिलोचन:।। उदयकर सुता रतनाकर पुण्याीकर रूचिकरा: लखनौर सकo मातृ: रतनाकर सुता पदमाकर भक्रिकर।


(३१) शुचिकर कीर्तिकरा: भक्तिकर सुतौ जयशर्म्मर हरिशर्म्मााणौ।। बत्सउवाल वासिन्यो ।। बुधौरा सकराढ़ी सँ प्रितिकर दौ।। (११/०६) हरिशर्म्मँ सुतौ प्रितिशर्म्मम: पचही जजिवाल सँ लक्ष्मीौश्वबर दौ जजिवाल सँ बीजी दण्ड पाणि: ए सुतौ रत्नपाणिहर्षपाणि:।। रतनपाणि सुता शूलपाणि गोवर्द्धन महेश्वकर शीरू शारङ्ग:।। शूलपाणि सन्तौति पतखौरि वासी।। (०९/०१) गोवर्द्धनो गोरा वासी।। महेश्वधर सुतौ उग्रेश्वङर: पचही वासी।। ए सुता (१७//०३) गौरीश्ववर शुक्ल० कान्हौ सुरेश्‍वर सोमेश्वधरा:।। कान्ह सुतौ लक्ष्मीसश्वीर हरिश्व रौ: सरौनी सँ सर्वानन्द दौ।। लक्ष्मीवश्वरर सुतौ पदमपाणि: पचही सकराढ़ी सँ कारूदौ।। तिसउँत सँ विश्व।म्भ‍र दौ दौ।। प्रितिशर्म्मक सुतौ डालू (०८/०२) कोने कौ करमहा सँ नोने दौ।। (०२/०६) नोने सुता कीर्तिशर्म्म (१४३/०६) रामशर्म्मँ मांगू का: आद्दय: मेरन्दीश सँ कुसुमाकर दौ।। अन्यो। सुरगन सँ विरेश्वसर दौ।। मेरन्दीम सँ बीजी जनार्दन: ए सुतौ बैकुण्ठक हृषिकेशौ।। हृषिकेश सुता मानू पुण्या कर दिवाकर गुणाकरा: परस्पँर भिन्नम मातृका:।। पुण्या।कर सुता दहिभत सँ कान्ह२ दौ (१४/०५) कोन सुतौ उदयकर (२३/०६) श्री करौ वलियासँ भीखे दौ।। (०१/०२) शुक्लस हरिवंश सुता (०९/०३) रतिकर सोमकर लक्ष्मीपकर (१०/०५) साधुकर दिवाकर शुंभकरा: आद्य सिधौली सँ सुरेश्व्र दौ।। अपरैत्रय हडरी खण्‍डबला सँ चक्रेश्व र दौ।। अन्यो५ाा गढ़ बेलउँच सँ चणाई दौ।। दिवाकर सुतौ भिरवेक: तिसउँत सँग्रहेश्वकर दौ तिसउँत सँ बीजी विश्वीम्भ।र: ए सुता हरिहर हल्ले श्वेर (१४/०५) नारायण (१०/०५) पद्मनाम गोधन जीवन दिवाकरा: आद्दय:सरिसब सँ रामदौ।। अन्यौन करनैठा सकराढ़ी सँ रत्नपाणि दौ।। हरिहर सुतौ डालूक: विस्कीत सँ मधुकर दौ।। डालू सुतौ ग्रहेश्व‍र: माण्ड्र सँ चन्‍द्रकर दौ।। ग्रहेश्वभर सुतौ मोतीक:


(३२) ''८'' माण्ड२र सँ नारायण दौ।। (११/०३) भिखे सुता रूद्रपुर सरिसब सँ वीर सुत महादेव दौ वरूआली सँ रामेश्वौर दौ दौ।। एवम ठ. महादेवादि मातृक चक्रम।। महामहोपाध्यातय ठ. भगीरथा परनामक मेघ सुतौमहामहोपाध्याूय ठ. रामभद्र: नाउन सँ रतिपति शुत शोरे दौ (०८/०४) डालू सुता मधुकर (२७/०२) चन्द्रतकर (२४/०७) दिवाकरा: मड़ार सँ सोम सुत यटेश्वुर दौ।। पचदही सिंहाश्रम सँ धाम दौ दौ।। मधुकर सुतौ रूचिकर विश्वेाश्वररौ (५६/०७) करहिया पनिचोभ सँ सोंसे दौ।। करहिया पनिचोभ सँ बीजी चण्डे श्व्र: ए सुतौ भिखेक: ए सुतौ गोंढि: केउँटराम पण्डौाली सँ ग्रहेश्व।र दौ तल्ह नपुर सँ महादेव दौ दौ।। गोंदि सुतौ सोंसेक: सुइरी सँ गुणकर सुत मधुकर दौ।। सोंसे सुतौ प्रितिकर हारू कौ बेला सकo जीवेश्वपर दौ (०३/०१) रामौ बलहि टंकवाल मातृक: ए सुतौ मधुकर चांड़ौ।। (२४//०८) मधुकरसुतौ (५९/०४) राउल मासौ कौ बेलावासी पचही जजिवाल सँ महेश्व र दौ।। राउल मासौ सुता त्रिलोचन कृष्णु नारायणा: कोइयार सँ हरिश्वरर दौ।। त्रिलोचन सुता हरदत्त पुरोहित गोपाल साधुकरा: बुधौरा सँ भोजू दौ।। हरदत्त सुतौ चाण गोननो पनिचोभ सँ सहदेव दौ।। पनिचोभ सँ बीजी मधुमन: ए सुताधूर्ज्जाटि वाचस्पुति वृहस्परति भोजदेवा:।। तत्र धूर्ज्जभटि सन्‍तति तल्लिस्मासग्रामोपार्यक:।। (१०/०२) वाचस्पतति सन्तजति वीरपुर ग्रामौं पार्यक:।। वृहस्प तिसन्तभति यमुनाग्रामौपार्यक:।। भोजदेव सन्त ति चक्रहृद वासी।। हरदत्त करहिया पद्मपुर वासी।। ए सुता छितिशर्म्मीवशिष्ठपदेवशर्म्ममणा:।। वशिष्ठौा हड़हृद वासी।। ए सुतौ रवि शर्म्मद: ए सुतौ महादेव ए सुता सहदेव श्रीदेव आदिदेवा:।। सहदेवसुता सान्हि देहरि आङूका: सँ दौ।। गोनन सुतौ जीवेश्व र धारेश्वहरौ बरूआली सँ चान्दु दौ।। जीवेश्विरसुतौ गिरीश्वेर:


(३३) खण्ड३बला सँ जाई दौ (०७/०५) दामोदर सुतौ महो दधि: पाली मातृक:। ए सुतौ विश्वरनाथ गोननौ।। विश्व्नाथ सुतौ जगन्नातथ शिवनाथौ कुजौली सँ गोनन दौ अपरौ होरेक: दरिहरा सँ विश्व रूप दौ।। होरे सुतौ जाई भवनाथौ।। गम्भीनर होरा वासियों ।। जाई सुता मालिछ सँ देहरि दौ।। मालिछ सँ बीजी वत्सेदश्वार: ए सुतौ हल्लैश्व।र दण्डिका: सुरगन मातृक:।। ए सुतौ पुरुषोत्तम प्रo देहरि: खण्ड‍बला सँ कापनि माधव दौ।। देहरि सुतौ करूणाकर: थुरी जालय सँ धाम दौ।। (५५/०४) रूचिकर सुतौ रतिपति: टकवाल सँ शिरू दौ टकबाल सँ बीजी हरिकंठ: ए सुतौ लक्ष्मीरकंठ: पण्डु।आ सँ शंकर दौ।। ए सुतौ बाढूक: देउरी सँ श्रीनाथ दौ।। ए सुतौ माधव (२५/०६) केशवौ नरवाल सँ यशुदौ भन्द वाल परिसरा सँ कृष्णँ शर्म्म: दौ दौ।। बृहद ब्रहानपुरा सँ विष्णु/करकस्तुकत: माधव सुतौ शिरू मांगु कौ जलकौर दरिहरासँ अन्‍दू सुत सोंदू दौ गाउल करमहा सँ पागु दौ दौ शिरू सुता (२४/०८) रूद रति विश्वे श्वमरा: माण्डँर सँ सुधाकर दौ।। (०२/०५) सदुपाध्यााय (२७//०३) विशोसुतौ (२८/०५) हरिकर सुधाकरौ पालीसँ हलधर दौ (०६/०८) देल्ह न सुतौ गंगादत्त हल्ले श्वमरौ तिलय सँ हरि दौ।। गंगादत्त सुता धारेश्वरर शंकर भोगीश्वीर यवेश्वलर (१२/०१) मोतीश्वसरा: सिंहाश्रम सँ महोदधि पौत्र देहरि सुत गदाधर दौ।। धारेश्वकर सुतौ धीरेश्वशर: दरिहरासँ देव सन्त/ति देवेश्व्र दौ।। ए सुता हलधर देवधर लक्ष्मी धर (१४/०२) श्रीधरा: जगति सँ धारेश्वरर दौ: जगति सँ बीजी जयकर ए सुतौ सगर: ए सुता जलसेन त्रिलोचन अरविन्दार।। जलसेन सुता मधुकर गोधन श्रीकर देल्हवन जीवधरा:।। गोधन सुतौ सिद्धेश्व्र गंगेश्वएरौ।। सिद्धेश्वेर सुता कृष्णद धारेश्वनर रूद्रेश्वोरा: जगति वासिन्य :।। धारेश्वनर सुतौ बोधी कोने को केउँटी राउढ़ सँ हरिहर दौ


(३४) ''९''
केउँटी राउढ़ सँ बीजी मसबास बासूक: ए सुतौ सिंगारूक: ए सुतौवाराह: ।। ए सुता श्री वत्स जगद्धर श्रीधरा: ।।श्रीधर सुता विद्याद्यर लक्ष्मीेधर शशिधर महिधर हरिहरा: सिंहाश्रम सँगंगादित्यर दौ।। हरिहर सुता धोसियाम सँ रतिनन्दरन दौ।। हलधर सुतौ (४२/०१) सौसेक: सुपटानी गंगोली सँ गोम दौ (०५/०७) गोम सुतौ जीवेक: एकमा वलियास सँ रतिकर दौ (०८/०७) रतिकर सुता दिद्यो सँ सान्हू दौ।। (१९/०२) सुधाकर सुता मनोरथ (३६/०८) हरि कान्हस (२८/०१) सोमा बहेराढ़ी सँ रवि दौ (०७/०१) लड़ावन सुतौ राम सुपनो रूद्रपुर सरिसब सँ वीर दौ।। राम सुतौ (२७/०१) त्रिपुर रवि: डीह दरिहरासँ विश्वनम्भ‍र दौ पिहवाल सँ लक्मीनजगपति दौहित्र दौ (१९/०८) रवि सुतौ पुरेक: माण्ड१ सँ विभू दौ (०७/०१) अपरा दूबे सुता गुणाकर शान्तिकरणीक (२२/०७) पाँखू मित्रकरा: मछेटा पालीसँ श्री कंठ दौ।। अपरौ सुपेक: घुसौत सँ राम दौ सुपे सुतौ विभूक: दिघोय सँ जगन्ना।थपुर वासी सुरेश्वकर दौ।। (१०/१०) विभू सुतौ गोरा जजिवाल सँ भवदत्त दौ (०८/०३) गोवर्द्धन सुतौ कापनि प्रo ब्राह्मण: भण्डा।रिसम सँ श्याुम कंठ दौ कोथुआ सँ गोविन्दौ द्दौo।। कापनि सुता भवदत्त गंगादत्त जयदत्ता: सकराढ़ी सँ शारङ्ग दौ।। भांडूल प्रo भवदत्त सुता दूबा सकराढ़ी सँ लभशर्म्मश दौ।। श्री कर सुता जनक बैकुण्ठव धारेश्वदरा:।। जनक सुतौ ऐलो बीठूकौ बरैबा सँ कान्हस दौ।। ऐलो सुता आदिदेव जीवधर वंकेश्व रा: जी सुताअनन्तब रवि सुपेका दूबावासिन्याा: चण्डी। बेहट हरिअमसँ विद्यानिधि उक्तग महि निधि दौ।। रवि सुता शुचिकर गुणाकर शुभंकर लभशर्म्मेणा: बलहिटिसँ शिवादित दौ लभशर्म्मि सुतौ रामशर्म्मह: गढ़ बेलo लक्ष्मीगपाणि सुत पाँचू दौ।। एवम् रतिपति मातृक चंक्र।। रतिपति सुता (४८/०५) गोरे होरे बासू यशुका: बहेराढ़ी सँ जनार्दन।।


(३५) सुत गणपति दौ (०७/०८) (३२/०८) जनार्दन सुतौ गणपति: शक्तिरायपुर नरउन सँ हरिश्ववर दौ (०३/०८) रामेश्वतर सुतौ योगीश्व्र चक्रेश्वकरों (६४/०३) विरपुर पनिचोभ सँ रत्नेश्वहर दौ (०८/०८) वाचस्पमति सुतौ हरिशर्म्मर ए सुतौ (१८/०३) देवशर्म्म् ए सुतौ थानूक: ए सुतौ गौरीश्वशर ए सुतौ महेश्वसर वीरपुर वासी ए सुतौ कामेश्वदर: ए सुतौरत्नेश्व्र ततैल पण्डुृआ सँ गुणाकर दौ।। ए सुतौ विश्व नाथ (१७/०४) विकू कौ तत्रादयो रेकौरा गंगोली सँ जाटू दौ अन्यौस तल्ह नपुर सँ लौरिक दौ।। अपरा सुता करूआनी सकराठी सँ जगद्धर दौ सरिसब सँ राम द्दौ।। भन्दनवाल जल्लोकी सँ उद्योत कर कस्तु।त: योगीश्वरर सुतौ हरिशऽवर: चन्दौतत पाली सँ हलधर दौ (०५/०४) महो हलधर सुतौ (१२/०) प्राणधर: एकमा वलियास सँ साधुकर दौ (०८/०७) (२१/०८) साधुकर सुतौ मित्रकर (१६/०३) चण्डेँश्वदरौ तिसउँत सँ पण्डित सुपाई दौ (०८/०९) नारायण सुतौ पण्डित सुपाईक: पतऔना खौआल सँ गदाधर दौ।। ए सुता भड़ार सँ श्रीनिवास दौ।। हरिश्वँर (२५/०५) सुता चान्दोशवलियास सँ शिवादित्य। दौ।। चान्दोद बलियास सँ बीजी पुरुषोत्तम: ए सुतामहादेव जयदेव महेश्वारा:।। जयदेव सुतौ सुधानिधि एसुतौ महानिधि ए सुतौ जयनिधि रत्नपुर तिलय सँ हरिहर दौ।। जयनिधि सुता अभयनिधि राजनिधि सुपट लक्ष्मीहकरा:।। तत्राद्यो बभनियाम सँ राम दौ।। सुपट कोयली सँ रवि भागिनेयो।। अन्यौस महुआ मातृकौ।। अभयनिधि सुता रत्नेश्वनर रामेश्वनर परमेश्वररा: गंगोली देवरूप दौ।। रत्नेश्वोर सुता सूर्यकर देवदत्त गौरीश्वअर शंकर गदाधरा: तत्राद्यो दिनारी सरीसव सँ राम दौ।। अपरै बभिनियाम सँ नितिकर दौ।। सूर्यकरसुता (४४/०६) रूचिकर शिव (१३/०२) गंगादित्यब महो (२८/०३) हरादित्यन कान्ह प्रo कामेश्वअरा: मछैटा पाली सँ गणेश्वमर दौ गोधवाल गंगोली सँ गंगेश्वरर द्दौ।। शिवादित्य( सुता होरे पुराई धारू भवाई दुर्गादित्यान।।


(३६) ''१०'' धोसियाम सँ जगन्ना थ सुता श्रीरंग दौ लाही सँ श्रीधर द्दौo (४९/०७) गणपति सुता रविकर अमरू कमलू का: बेलउँच सँ महादित्यर दौ (०४/०७) शिवदाश सुतौ दुर्गादित्य् बo (१४/०५) तीर्थरौ डीह दरिहरा सँ विकर्ण सुत नन्दँन दौ सुरगन सँ राय हरिकेश द्दौo दुर्गादित्य सुतौ धरादित्य कपिलेश्व।रौ कुजौली सँ रूचिकर दौ सरिसब सँ वीर द्दौo धरादित्य सुता एकादश महो (१६/०५) धर्मादित्यी महो (३०/०९) जयादित्या महो (२२/०६) गयादित्य महो महादित्यद महो जीवादित्यय (१९/०६) (२५/०५) महो रूद्रादित्य। ।।२५/०५।। पद्मपुर पकलिया सँ सीधू सुत बाछे दौ चिलकौर दरिo भव द्दौo अपरे सुता रत्नादित्य महो मित्रादित्य। (२०/०२) महो प्राणादित्याु: (३३/१०/०) भरेहा सँ गणपति दौ सोहन जल्लईकी सँ लमशर्म्म। द्दौo अपरौ रूक्माहदित्यौ परनामक बाटू प्रo (३५/०२) लाला लहरा गंगोली सँ बारू दौ।। महो महादित्यज सुता विश्वोनाथ (५०/०२) दूबे (६६/०२) मोखे चौवेबे का: माण्ड र सँ गोपाल दौ (०२/०१) अपरा नरसिंह सुतौ चोथू मोथू कौ ।। चौवेथू सुतौ देहरि: जजिबालमातृक: ए सुतौ देवदाश रामपति:।। देवदाश सुतौ रत्नेश्व र ए सुतौ सुथन सथवई कौ नान्यिपुर अलय सँ पाँखू भागिनेयो ।। सुथन सुतौ गणेश्वपर नर देवौ सँ दौ।। नरदेव सुतौ सज्जसन गोपालौ अलयसँ शूलपाणि दौ।। गोपाल सुतौ हरिहर नरसिंहो सरपरब खण्डवबला सँ होरे सुत परमेश्व र दौ बलहा बलियास सँ महादेव द्दौo।। एवम् शोरे मातृक चक्रं।। शोरे सुता वुधवाल सँ कान्हण दौ।। बुधवालसँ बीजी बासुदेव: ए सुतौ विभाकरप्रभाकरौ।। प्रभाकर सुतौ धारेश्वेर: हरिपुर वासी. ए सुता धर्मेश्व रबामन सोमा: गंगोली सँ गणपति दौ बामनसुता पुराश कौशल दूबे हिरू का: सुइरी सँ प्रतिहस्तँ प्रज्ञाकर दौ।। पुराश सुता मधुकर सूर्यकर (३८/०८) उदयकरा: खौआल सँ रत्नपाणि दौ।।


(३७)
मधुकरसुतौ सदुपाध्याबयभानूक: एकमा खण्डसबला सँ सुपे दौ (०९/०१) अपरा विश्वणनाथ सुतौ सुपे गांगुकोदक्षिण खण्डर कटाई सँ भीम दौ।। सुपे सुता जाटू मतिसर (२०/०७) (२०/९१) रातु लाखूका: करमहा सँ लक्ष्मीौपति दौ।। (०२/०६) लक्षमीपति सुता सरिसब सँ देवादित्य। दौ (०३/०२) देवादित्यम सुता (१२/०७) सुता खौआल सँ नोने दौ (०३/०५) (३३/०४) नोने सुत: (१६/०५) कान्हि: गंगोर सँ शाकल्यादौ।। सदुपाध्याोय (१९१/०३) भानू सुता (४५/०६) गणेश्व र (परियामव) (२२/०७) गुणीश्व्र महो गंगेश्वगर (३५/०१) रूचिकर: (४३/०४) रतिकरा: एकमा वलियास सँ भीखे दौ (०८/०१) उपरा भीखे सुता चिन्ता६मणि दिनमणि (१९/०९) हिरमणि धरामणिय: त्रिलाठी धुसौत सँ त्रिलोचन दौ।। त्रिलाठी धुसौत सँ बीजी नरसिंह: ए सुतौ केशव: ए सुता लक्ष्मीतकंठ श्याममकंठ सुपटा: छतौनीसँ विभू दौ।। लक्ष्मीभकंठ सुता चन्द्रिकर भवेश्व्र वसन्ता : आद्यो गोधोली सँ श्रीधर भागिनेयो।। अन्योादहिमत सँ राम दौ।। भवेश्व्र सुतौ त्रिलोचन: दरिo गौढि दौ त्रिलोचन सुता नरउन सँ हरिशर्म्मग दौ (०८/०१/) जजिo लक्ष्मीूश्वुर द्दौo।। महो गंगेश्वभर सुतौ हेलूक गढ़ माण्ड र सँ जीवेश्व।र दौ (०७/०२) कोनेप्रo गुणीश्व र सुतौ जीवेश्वनर: पवौली सँ पुराश दौ (०७/०३) वापट सुता यशोधर जगद्धर (१७/०५) हलधरा: कुसमाल सँ मणिधर दौ।। अपरै उदयकर गुणाकर पद्मकरा: फनन्दरह सँ लखाईभ्रातृ शशिधर दौ।। यशोधरा सुतौ प्रितिकर पुराशो: नीमाटकबाल सँ जगन्नासथ सुत भवनाथ दौ कुजौली सँ पहकर द्दौo वसुआल सँ भवदाशकस्तुात: पुराश सुतौ देवशर्म्मग तिसउँत सँ खुशे दौ।। अपरौ मोहन दामूकौ एकमा वलियास सँ आनन्दुकर दौ भेरहा सँ लड़ावन द्दौo अपरौ वीठू पुण्याौकरौ सकराढ़ी सँ हरपति दौ।। जीवेश्व र सुता टकबाल सँ गोपाल दौ।। अपरा जीवेश्वेर सुतौ सोंसेक: बुधवालसँ (५९/०७) मानू दौ।। जसानन्दँटकबाल सँ बीजी:


(३८)
पाँखूक: ए सुतौ श्री निवास: ए सुतौ हरिहर: उदनपुरजजिवाल सँ आवस्थिक माने दौ।। ए सुतौ बाछेक: गढ़ यमुगाम सँ हरिकर दौ।। सुतौ गोपाल: भिगुआल सँ जाटू सुत मितूदौ सोइनि सँ शंकरदाश द्दौo एकान्तिक गोपाल सुता (४६/०४) नारायण हरि बासुदेवा: नरवाल सँ दिवाकरपौत्र मणिकरसुत होरे दौ भिखौनी कलिगाम सँ कमलपाणि द्दौo अपरौ सुपेक: हड़री खण्डतबला सँ गोनन्दप द्दौo हेलू सुतौ कान्हा: दरिहरा सँ पद्मकर दौ (०७/०४) रेचन्द्र सुतौ योगु मन्डडनौ ।। योगू सुता आर्तिधर मनोधर चतुर्भूजा।। चतुर्भुज सुता पुराक मसवास देवधरा: पाली सँ श्रीपाणि दौ।। पराक श्रीपत्या्: परनामा सुतौ यशस्प ति सिंहाश्रम सँ मनोधर दौ ए सुतौ महामहो रतिपति महो रामपति महो (१२/०/०१) ज्ञानपतिय: ।। गोधूलि अलय सँ शंखपाणि दौ।। ब्रह्मपुरादिधोय सँ सोम द्दौo।। महामहो रतिपति सुता महामहो सुरपति महामहो इन्‍द्रपति महामहो महो धृतिपतिय: जाजी मराड़ सँ लोचन प्रo चन्द्र कर दौ पिहवाल सँ सीधू दौहित्र दौ।। महामहो सुरपति सुता महो किर्तिशर्म्मर महो प्रितिशर्म्मसमहो हरिशर्म्मिमिश्र मित्रशर्म्मदणा: आद्यो महुआ सँ छीतू दौ दरिहरा सँ गंगेश्वोर द्दौo अन्योत करही भण्डाोरिसम सँ देववंश सुतनयवंश दौ।। महामहो प्रितिशर्मा सुता रविकर गांगु दिवाकरा: तत्राद्यो यमुगाम सँ जीवेश्व र दौ।। अन्योँ वतिगाम सँ इशर वाटू सुत जाटू दौ।। रविकर सुता शुभंकर (३४/०५) गुणाकर प्रजाकर (२४/०९) कुसुमाकर पद्माकरा: नदाम सँ महादेव सुत सुधाकर दौ दूबा. सक. मतिदेव द्दौo (३८/०१) पद्मकर सुतौ बाटू प्रo हरीक: (७३/०७) तल्हरनपुर सँ गढवय दौ (०७/०८) शुक्लर जान सुतौ महादेव: चाण्डी टकवाल सँ सोम दौ।। महादेव सुता सोमदेव नरदेव गंगदेवा: कुजौली सँ मनोरथ दौ।। सोमदेव सुतौ चण्डे‍श्वार बर्द्धमानौ।। चण्डेौश्वुर सुतौ यवेश्वार


(३९) (२१/०९) वीरेश्व्रौ: जालय सँ श्रीपति दौ।। यवेश्वहर सुतौ गढ़वयक: मटियानी सँ तारापति दौ।। गढ़वय सुता हरिरवि रतना: पाली सँ छिताई दौ (०९/०७) मोतीश्व।र सुतौ रत्नाकर: दरिo कान्हे दौ।। ए सुतौ छिताई हिताई कौ (४३/०२) सिम्भुमनामकरमहा सँ शंकर दौ।। छिताई सुतौ प्रभाकर: पदमपुर पकलिया सँ बाछेदौ।। पद्मपुर पकलिया सँ बीजी बासुदेव: ए सुता महादेव गंगदेव रामदेव कामदेवा:।। रामदेव सुतौ शितिकंठ श्याामकंठौ।। शितिकंठौ सुतौ सिधूक: यमुगाम मातृक: ए सुतौ गणपति बाछे कौ।। अपरो गिरीश्व र: पाली सुइरी सँ अभिनन्दस दौ।। बाछे सुता भाइ मासे चन्द्रौकरा: चिलकौर सँ भव दौ।। माउँबेहट सँ कान्हु द्दौo कान्हभ सुता हरि शिव शंकरा: उदनपुर जजिवाल सँ गुणे दौ।। उदनपुर जजिवाल सँ बीजी आवस्थिक मानेक: ए सुता शिनिकंठ रति कंठ मयुर कंठ होख कंठ अनन्तच कंठ मणि कंठा: तत्राद्यो मझौरा सकाढ़ी सँ दौ।। अपरै बरेबा सँ शंकर दौ।। शितिकंठ सुता धीर वीर भासे गोपाल हरिहरा: तेरहोत सँ नारायण दौ।। देयाम सँ प्रजाकर पौत्र श्री कर सुत हरिकर दौ।। अन्त् ‍यौ के थोनी टकबाल सँ गुणकर भा‍गिनेयो: गोपाल सुतौ कान्हब: वनाइनि पाली सँ धीरेश्वकर दौ।। ए सुता गोविन्दृ (२०/०९) नारू पुराई रामा: तत्राद्यो जगति सँ गणपति दौ।। अन्योनाइन करूआनी सकराढी सँ नाइ दौ ।। बेलमोहन नरउन सँ तपन सुत कार्यि गंगादाश द्दौo पुराई सुतौ बैजू शंकरों (३८/०४) उचति सँ हटवय दौ।। अपरौडालूक: झोंट पाली दरिहरा सँ रविदत्त द्दौo (११/०५) जानपति झोंटपालीवासी ए सुता महो शिवपति कृष्णँपति वासुदेवा: हरिअमसँ छीतू दौ।। हरिअम्ब सँ बीजी दीक्षित झाँउँक: ए सुतौयाज्ञिक त्रिलोचन: एसुतौ विद्यानिधि देवनिधि।। देवनिधि सुतौ विद्याधर छीतू प्रसिद्ध नामा: खण्डबबला सँ नीलकंठ दौ।। ए सुता हरिहर (१६/०८) माधव गोविन्दाु सुइरी सँ बहलचन्द्रौ।।


(४०) ''१२'' सुइरी सँ बीजी शेखर ए सुता रत्नपाणि वासुदेव लखपतिय:।। वासुदेव सुतौ शंकर:।। ए सुता अमोध कुमार शारङ्पाणिय: शारङ्त्र पाणि सुतौ गौर बहल चन्द्रोद बहल चन्द्रि सुता सँ दौ।। शिवपति सुता डालू विशो होरे हरदत्त जाटू का: आद्या छादन सरिसब सँ गयन दौ।। अपरौगंगौर सँ बराहनाथ दौहित्रदौ होरे सुतौ रविदत्त: गाउल करमहा सँ श्रीदेव दौ।। रविदत्त सुता गांगु कान्ह गोपाला: कोइयार सँहारू दौ।। अपरा सुता करमहा सँ आङनि दौ (०२/०६) गौरी सुतौ अमाँइका: नान्यरपुर खौआल सँ जगदेव दौ।। ए सुतौ आङनि बलहिर सँ देवकंठ दौ।। ए सुतौ हारू क: धोसियाम सँ पराशर दौ।। कलिगाम सँ दिवाकर दौo (३८/०२) डालू सुता गौरी गुणे ग्रहेश्वसरा परनामक अमांइ का: बरूआली सँ रूचिकर दौ (०१/०५) चन्द्र कर सुतौ विश्वानाथ: कन्जौग्राम सकराढ़ी सँ जगन्ना्थ दौ गोविन्द वन पनिचोभ सँ नन्द न सुत गंगेश्वदर द्दौo विश्वसनाथ सुतौ रविकर: (२५/०८) सेरी सिंहाश्रमसँभव दौ।। ए सुतौ रूचिकर: दहिमत सँ राम सुत दूबे दौ भण्डाररिसम सँ हरिहर द्दौo रूचिकर सुता सरिसब सँ नाने दौ अपरौ देवादित्या सुतौ करूणाकर: करूआनी सकराढि सँ मo मo उo कारू दौ।। करूणाकर सुतौ रत्नाकर प्रज्ञाकरौं दहुला सँ श्रीहर्ष दौ।। रत्नाकर सुतौ हरिकर: कटाई सँभीभ दौ।। हरिकर सुतौ नाने क: सरौनी सँ श्रीकर दौ।। नोने सुतौ भवादित्यन पुरादित्यौ जालय सँ राम दौ।। जल्लौकी (जालय) सँ बीजी बान्धाव: एसुता खड़गधर चक्रधर शंखधरा जीवधरा: एतै मातृक कृष्णा:।। खड़गधर सुता विद्याधर कीर्तिघर गंगाधरा: मेरन्दीन मातृक विधाधर सुतौ हरिहर रूचिकरौ विजनपुर दरिo सँ वेद दौ।। हरिहर सुतौ श्रीपति: ए सुतौ विश्वे्श्वगर: मटियानी सँ तारापति दौ।। ए सुतौ भवेश्वुर रामेश्वृरौ वरूआली माण्डदर सँ मo मo उo शंकर दौ।। मo मo उo रामेश्विर सुता महामहत्तक गणपति महामहत्तक रतिधरसदुपाo महिधरा: आद्या पवौली सँ महिपाणि सुत थुवे दौ अन्योम सकo धृतिकर दौ।। गुणे सुता अफेल लाखन रविय: पाली सँ हलधर दौ।। (१०/०४) अपरौ महो हलधर सुतौ।।

(४१) मुरारी एकहरा सँ दिवाकर दौ (०४/०६) देवे सुतौ रत्नेश्वीर: मझौरा सकराढ़ी सँ श्रीकंठ सुत नीलकंठ दौ पवौली सँ वाचस्प)ति द्दौ अपरेसुता सोम धर्ममित्रेश्वतरा थशिया सँ त्रिलोचन दौ महुआ सँ बर्द्धमान द्दौo।। रत्नेश्वीरसुता दिवाकर रूचिकर (२२७/०७) शुचिकर मतिकर मिश्र हरिकरा: मड़ार सँ श्री हर्ष दौ।। दिवाकर सुतौ स्थाकनान्तवरिक सुधाकर रतिकरौ तिलय सँ बराह सुत देवशर्म्मा दौ भण्डायरिसम सँ धारेश्वार द्दौo। अपरा सुता तेरहोत सकराढ़ी सँ कुलेश्वरर सुत भवेश्वार दौ सकुरी सँ लक्ष्मी् द्दौo मुरारी सुतौ पाँखूक: तेरहोत सकराढ़ी सँ गाजो दौ (०३/०९) मनोरथ सुता वनमाली वशिष्ठ् गोविन्दम शुभंकरा: अपरौ शकर्षण। शुभंकर सुता भागीरथ दिवाकर रत्नपति नाईका: तेरहोत वासिन्यस:।। सिंहाश्रम सँविद्यापति द्दौo भागीरथ सुतौ कुलेश्वीर: ए सुता रामेश्व र योगीश्वतर भवेश्व र परमेश्विरा: रामेश्वमर सुतौ जीवधर रतिधरौ महुआ सँ महादेव दौ।। जीवधर सुतौ गाजोक: केउँटी तिलय सँ लक्ष्मी्कर दौ।। ढ़ोढवाल अलय सँ नयदेव द्दौo।। गाजो सुतौ गणपति: अलय सँ यशोधरदौ अलय सँ बीजी धरनीधर: धाउन प्रसिद्धनामा।। ए सुता मनोरथकत्र्जकअमॉइका:।। मनोरथ सुता प्रितिकर श्रीधर वावन रामा: वावन सुतौ शंखधर पुरूषेत्तमो।। गोधूलि वासिन्‍यों पुरुषोत्तम सुतौ भोगीश्वधर: पद्मपुर पकलियासँ राम दौ।। ए सुतौ यशोधर देवधरौ करूआनी सकराढ़ी सँ मo मo उo कारू दौ करही सँ नयवंश द्दौo यशोधरा सुतौसाठूक. नरउन सँ महिधर दौ अपरा सुता खौआल सँ रूद्रपाणि सुतखांजो दौ खण्डयबला सँ होरे द्दौo।। पाँखूसुता गणेश्वमर नन्दी श्वआर वीर गोविन्दं हरिश्वदर: पतऔना खौआल सँ नरसिंह दौ (०३/०४) भवादित्यद सुतौ रति: वभनियाम सँ यवे दौ।। रति सुतौ डालूक: सरौनी सँ हाउँन दौ।। डालू सुतौ शशिधर नरसिंहों तत्राद्यो नगवाड़ धोसोत सँ रति दौ


(४२) ''१३'' अन्यो२नर भण्डा'रिसम सँ सिरटि दौ।। नरसिंह सुतौ नारायण दामोदरौ मुगे नी दिघोय सँ कुमर सुत साठू दौ भूतहरी सँ वल्लाभदाश द्दौo।। गोविन्द सुता होरे नोने भरैवा चान्दो बलियास सँ धारू दौ (१०/१०) गंगादित्या सुता भबाई मंगलधर परनामा।। भवाईं मिश्र, शिवादित्य दत्तकपुत्र: यमुगाम सँ दिनकर दौ अन्त् ‍यो धोसियाम सँ श्रीरंकदौ मंगलधर सुतौ धारूक: फनन्दतह सँ परान सुत रूद दौ यमुगाम सँ चतुर्भुज द्दौo धारू सुतौ चाको रत्नपाणि: कुरहरि करमहा सँ धनेश्वदर दौ।। गाउल करमहा सँ बीजी मुरारी।। एसुता जगद्धर हेमधर मनोधरा:।। हेमधर सुतो महिधर ए सुतौ हरिहर ए सुतो रतिदेव जगदेव श्री देव वासुदेवा: तत्राद्यो पनिहारी दरिहरा सँ कविराज मिसरदौ।। अन्तईयो शक्तिरायपुर नरउन सँ बलभद्र दौ।। श्रीदेव सुतौ चण्डेिश्वनर विश्वै।श्वुरौ।। चण्डीअश्वार सुता प्राणेश्वजर नन्दी श्वशर महेश्वकर रामेश्वदरा: कुरहरिवासियों योग बेहट कुसमाल सँ गोविन्दौ दौ।। रामेश्वगर सुता। गिरीश्वरर धनेश्व्र मतिश्वशर देवेश्वररा: यमुगाम सँ बासुदेव दौ धनेश्व र सुतौ गुणीश्वधर: बेलमोहन नरउन सँ नारायण दौ।। कीर्तिकर सुतो भीखन धाने कौ।। भीखनप्रo रत्नेश्ववर सुता प्रान्ध न डगरू दर्व्वेणश्ववरा: नान्यनपुर विस्फी सँ गुणे दौ।। दर्व्वेखश्व र सुतौ पीताम्बदर: गोविन्दूवन पनिचोभ सँ लखन सुत लक्ष्मीनकर दौ।। ए सुतौ भिखेक: मालिछ मातृक: ।। ए सुतौ नारायण गोविन्दोन उपमन्युे गोत्रे गढ़ एकहरी सँ हरिहर दौ। क्वहचित् राज गुरू भद्रेश्वीर द्दौo।। नारायण सुतौ लक्ष्मीगपति: भन्दसवाल परिसरा सँ नयशर्म्म द्दौ।। एवम् ठ. रामभद्र मातृक चक्रं।।

(४३) अपरा ठ. महामहोपाध्याुय भगीरथ प्रo मेघ सुतौ सुतौ ठ. (१००/०९) कृष्णाशनन्दि: खौआल सँनन्द.न सुत जगन्ना थ दौ।। (०३/०६) अपरा बाछे सुतौ आङनि: पबौली सँ वाचस्प०तिदे आङनि प्रo रत्नाकर सुता दिवाकर गदाधर धृतिकरा: केउँटी राउढ़ सँ हरिहर द्दौo अपरौ लक्ष्मी‍कर: महुआ सँ सिद्धेश्वकरा परनामक दौ।। लक्ष्मी्कर सुतौ नितिकर रूचिकरौ पनिचोभ सँ हरिवंश दौ।। छितिशर्म्मु सुतौ बैकुण्ठर हृषिकेशो:।। हृषिकेश सुतौ हरिवंश माने कौ।। हरिवंश सुता दिवाकर रत्नाकर चन्द्रौकर सूर्यकरा: बलहिटसँ श्याबमकंठ दौ।। नितिकर सुतौ साधुकर: सरौनीसँनाटू सुत भद्रेश्वदर दौ महो (१९/०४) साधुकर सुतौ महो (१४/०२) सुधाकर: तिसउँत सँ शुचिकर दौ।। (०८/०९) हल्लेूश्वुर सुतौबाभन: महुआ सँ बासुदेव दौ।। ए सुतौ गणपति तरूणी वरूआरी माण्डसर सँ विधू दौ।। गणपति सुता रघुपति रामपतिनन्दीवश्वूरा: भरेहा सँ देवे दौ।। रघुपति सुतौ बाछे शुचिकरौ सकराढ़ी सँ महामहोपाध्याुय हरिहर दौ (०३/०२) महामहोपाध्यादय (१२८/०४) हरिहर सुता सदुपाध्यामय (२३/०४) नादू सदुपाध्यािय भादू सदुपाध्याूय (३०/०१) सुपे सदुपाध्या०य चांडोका: सरिसब सँ जयादित्यध दौ (०३//०४) महामहोजयादितय सुतौ (०२/०४) दामूक: देवहार सरौनि सँ सर्वानन्दस दौ।। क्वाचि व्रहमानन्दय दौ ।। शुचिकर सुता विहनगर दरिहरा सँ भोगीश्व र दौ।। (११/०३) मण्ड न सुतौ ऐलौक: भदुआल वासी ए सुता जुहे पदूम अनन्ताव:।। पदूम सुता सोम शर्म्मव भवशर्म्म) उदयशर्म्म४ जयशर्म्म: विष्णुस शर्मणा तत्र सोम शर्म्म सन्त/ति बिहनगर वासी।। सोमशर्म्मन सुता बासुदेव जयदेव कामदेव यशोदेवा: गंगोली सँ पुरुषोत्तम दौ।। बासुदेव सुतौ चण्डेोश्व।र रातू कौ पण्डोतली वासी जल्लजकी सँ।।


(४४) ''१४'' शिवादित्यन दौ।। रातू सुतौ भोगीश्वयर: कंत्र्जोली मातृक।। भोगीश्वरर सुता करमहा सँ हरदत्त दौ।। हरदत्त सुतौ लक्ष्मी्कर हरिकरौ दहुला सँ श्रीहर्ष सुत भवदत्त दौ (१४/०५) (२४//०५) महो सुधाकर सुतौ बुद्धिकर: पाली सँ केशव दौ (०९/०८) श्रीधर सुतौ रामदत्त: गढ़ माण्ड र सँ सुपे दौ दिघोय सँ सुरेश्वौर द्दौo रामदत्त सुता केशव (२१//०२) माधव (४६//०५) नरसिहं मुरारिय: (२०/०९) पबौली सँ बागे दौ (०७/०३) महो गंगाधर सुता पराउँ जीवे लरवाईका: दरिo श्या/मकंठ दौ।। पराउँसुतौ बागे क. गढ़ निखूति सँ जगद्धर दौ (०७/०७) सिंहाश्रम सँ रत्नेश्ववर द्दौo बागे सुतौ धराधर महिधरौ (१९/०७) बुधौरा सकराढ़ी सँ प्रितिकर दौ।। केशव सुतौ सदुपाध्या७य गोढ़ेक: नरउन सँ कोने दौ (०८/०७) अपरा कोने सुता सकo जीवेश्वलर दौ (०८/१०/०) खण्डयबला सँ जाई द्दौo।। महामहोपाध्यावय (४२/०७) बुद्धिकर सुता (२९/०६) (१२६/०५) वृद्धिकर कृष्णककर नन्द०ना: बभनिo रूचिकर दौ (०६/०६) वीर सुता भगव कुमार शीत कान्हाु तत्राद्यास्त्ररय पण्डोगलि दरिहरा सँ बाभन दौ अन्योकद् डीहंदरिहरा सँ लक्ष्मेाश्व६र द्दौo।। कुमर सुतौ वसुकंठ: सकo गिरीश्विर दौ।। वासुकंठ सुता रूचिकर रामकर सुधाकर मित्रकरा दरिo वृद्धादित्य् दौ (०७/०४) चिन्ताुमणि सुतौ अभिमन्युश विकर्णो।। अभिमन्युु सुतौ दिवाकर (३०३/०५) गुणाकरौ दिवाकर सुतौ वाचस्पउति जन्‍मेजयो भोरवरिसँ प्रज्ञाकर दौ।। जन्मे्जय सुता महा महोपाo हरिदेव शितिकंठ श्यारम कंठ लक्ष्मीतकंठ नीलकंठा: अपरौ देवादित्यज गिरीश्वारौ।। महामहोउपाo हरदेवसुता यवेश्व्र विश्वमम्भहर लक्ष्मेपश्व५रा रादी कोइयार सँ सिंधुनाथ देल्ह न दौ।। अपरौ लक्ष्मीयपाणि


(४५) रत्नपाणि सबौर मातृक:।। पाली सँगंगादित्यर दौ।। विश्वoम्भिर सुतौ लौरिक वृद्धादित्यम शिवादित्यषकोचे का (२६/०९) ।। तत्राद्यास्त्रंय रामपुर नरवाल सँ सीनू सुत लक्ष्मीदपतिदौ नरसिंह द्दौo इति श्रीधर पत्र्जी।। सीरदौ इति मंगलधर पत्र्जी।। अन्योत्रं माहव जल्लसकी सँ रविभातृ योगेश्वजर दौ।। लौरिक वृद्धादित्य सुतौ नारू (२८/०४) डालू कौ बुधवाल सँ मधुकर दौ खण्डोबला सँ सुपै द्दौo।। अपरा सुता गोधुलि अलय सँ साठू दौ।। (१३/०८) साठू सुतौ (२१/०६) नारायण (३२/०८) हरिकौ बलहा वलियास सँ रामशर्म्मा दौ (०१/०२) श्री नाथ सुत जयशर्म्मु सुतौ रामशर्म्म्:।। रामशर्म्मय सुता जाटू दूबे (३७/०६) (३०/०७) माधव बाटू का: टकबाल सँ रत्नधर दौ।। (३६/०३) रूचिकर सुता शुभंकर हरिकर शंकरा: जगति सँ केशव दौ।। धोधि सुतौ गणपति नन्दीौ कौ तत्राद्य: गंगोली मातृक अन्योर स राउढ़ मातृक:।। नन्दी सुता शिरू नारू (२७/०७) वाचू मांगुका: नेयाम सुरगन सँ सुरेश्वशर दौ।। शिरू सुतौ माधव केशवौ भण्डा:रिसमसँ धृतिकर द्दौo।। केशव सुता गढ़ खण्ड७बला सँ अनन्त् सुत सुपन दौ फनन्दमह सँ भवाई द्दौo एवंनन्द़न मातृक चक्र।। नन्दनन सुता जगन्नादथ देवनाथ (१३६/०३) हौरिला (११२/०२) सोदरपुर सँ रातु सुत राम दौ।। सिंहाश्रम सँ बीजी महामहोपाध्यानय हलायुध ए सुतौ महो दधि।। ए सुतौ महो जाइक: ए सुतौ महो महिधर ए सुतौ गांगुक: ए सुतौ वागीश्वौर ए सुतौ रत्नेश्वौर रामेश्व रौ नगुरदह सँ विसव दौ।। रत्नेश्व्र सुता महामहोपाध्यारय हल्लेाश्व र महामहोपाध्यावय (१८/०९) सुरेश्वूर महामहोपाध्याुय (२१/०१) जीवेश्वशरा: पारपुरसकराढ़ी सँ अनन्त‍ दौहित्री जयदेवीयुत्रा: सोदरपुर ग्रामौ पार्यका:।। महामहोपाध्याशय हल्लैाश्वार सुतौ राजू हलधरौ गढ़ बेलउँच सँ (२८/०७)


(४६) ''१५'' हल्लै६श्वँर दौ (०४/०५) सन्तो्ष सुतौ लक्ष्मी़पाणि: पाली सँ विकर्ण दौ।। ए सुता हल्लैसश्वार पॉचू नीलकंठ देवकंठा पड़ारियॉं सँ भवादित्य( सुत केशव दौ हल्लैमश्वकर सुता बरैबा सँजयशर्म्मश दौ सकराढ़ी सँ धरानन्दु द्दौo।। (२२१/०५) राजू सुता सदुपाध्याायभोगीश्वुर योगेश्वरर (०३/०३) महेश्वशरा: गढ़ निखूति सँ नोने प्रसिद्ध रत्नधर दौ अन्योलकंठ सकराढ़ी सँ जीवधन द्दौo तिलई सँ लक्ष्मी्कर द्दौo नोने प्रo रत्नधरसुता बहेराढ़ी सँ ठ. जयकंठ द्दौo (०७/०२) पबौली सँ वीर द्दौo सदुपाध्याईय भोगीश्वैर सुता महामहो (२१/०७) ग्रहेश्वनर रूदेश्वदर हिरेश्व र (४०/०७) धीरेश्वसर विश्वेीश्वँरा: (१९//०८) दूबा सकराढ़ी सँ विभू दौ।। बैकुण्ठो सुतौ श्रीवत्से: ए सुतौ सोमेश्व्र ए सुतौ जागेश्वठर देवेश्वतरौ।। देवेश्वौर सुतौ विरेश्वीर: छतौनी सँ माधव दौ।। वीरेश्व्र सुता धीरेश्वसर रजेश्वौर यटेश्वुरा: वभनियाम सँ राम दौ।। रजेश्व्र सुतौ वासुदेव विभूकौ छादन सरिसब सँ शिवादित्यर दौ विभू सुत बुधवाल सँ हिरू दौ रेकौरा गंगोली सँ मण्डवन द्दौo।। पण्डुशआ सँ नित्याौनन्दहकस्‍तुत सदुपाध्याजय विश्वेकश्व्र सुतौ रातूक: पण्डौिली दरिहरा सँ मुनिदौ (०७/०४) अपरा देवधर पण्डौँलीवासी ए सुतौ उदयकर गौढि़जल्लयकी सँ खड़गधर दौ।। गोढि़ सुतौ वाभन: विठुवाल वासी भण्डाौरिसम सँ जगाई दौ।। ए सुता सप्तश: धृतिकर गुणाकर सोमेश्वँर रत्नाकर भीमेश्वदर गुणेश्वतर रज्जेाश्वारा: तत्राद्यो गंगोर सँ नारायणा दौ।। अपरै सुसैला अलय सँ बलभद्रदौ सोमेश्‍वर सुता वत्सेेश्वरर सिद्धेश्ववर (२१/०३) (२२/०४) वीरेश्वार जीवेश्व।रा: तत्राद्यास्त्रनय अहपुर करमहा सँ रूचिकर दौ अन्योे तपनपुर पाली सँ नरसिंह दौ।।


(४७)
वीरेश्वदर सुतौ मुनिर्नाम्ना/ (१९//०१) विदित: ए सुता दिवाकर (२१/०९) रविकर मित्रकरा: (५६/०५) बभनियाम सँ गोनन दौ (०६/०७) महवाल सँ दिवाकर द्दौo।। अपरौ हरिकर: तल्ह(नपुर सँ लमशर्म्मत दौ (०७/०९) लभशर्म्मा। सुता चोटवाल सकराढी सँ गोविन्‍द दौ।। चोटवाल सकराढ़ी सँ बीजी सिद्धेश्वपर: ए सुतौ धृतिवर्द्धन त्रिलोचन प्रo नामा: ए सुतौ हरदत्त: ।। ए सुता महादेव शिवदेव सिद्धेश्वारा:।। महादेव सुतौ व्याुस बासुदेवौ:।। बासुदेव सुतौ कुसुमाकर: बहेराढ़ी सँ जयकंठ दौ।। अपरौ कान्ह : अपरा नीमाटकबाल सँ रत्नेश्व्र दौ।। ए सुता गोविन्दन माधवजगन्नासथा: यमुगामसँ हरदत्त दौ।। गोविन्द‍ सुता सुरगनसँ दुर्गादत्तदौ रात सुता (३५//०६) (४८/०७) (१३५//०२) भवे माधव रामा बेलउँच सँ धर्मादित्य दौ।। (१०//०३) (७२/१०) धर्मादित्यप सुतौ रतिकर वागूकौ खौआल सँ उँमापति दौ (११/०२) कान्ह सुतौ नरसिंह: सुइरी सँ धर्माध्यरक्षक देवे दौ।। अपरौ (२०/०/१०) डालूक: सरौनी सँ धर्माध्यदक्षक गढ़ाउन दौ।। नरसिंह सुतौ धर्माध्यसक्षक लभशर्म्म्: गोधेलि अलय सँ भोगीश्वार दौ।। लभशर्म्मल सुता पनिहत नोने उँमापतिय:गोधोलि अलय सँ देवेस्यैयव दौ।। तैनेवदत्तक:।। अन्योसँपा केथौनी टकबाल सँ जगद्धर सुत कान्ही दौ।। उँमापति सुतौ (२५//०३) रमापति केउँटराम पण्डो ली सँ दामोदर दौ।। ब्रहमपुरा सँ पृथ्वीदधर द्दौo (२७/०४) राम सुता हरिअम सँ नोने सुत दिनू दौ (१२/०/१०) (४१//०९) माधव सुतौ (१८//०८) माई नाई कौ पंचवक विस्फीँ सँ असाउँन दौ।। नाई सुतौ धारूक: गंगोर सँ अनिरूद्ध दौ (०७/०७) विश्व८नाथ सुता लक्ष्मी नाथ शशिनाथ हरिनाथ भवनाथ जगन्नासथा: पाली सँ ऐलो दौ।। शशिनाथसुतौ अनिरूद्ध नोने कौ फनन्दवह सँ लखाई दौ।।

(४८) ''१६'' अनिरूद्ध सुतौ लोकेक सँ सुत दौ सँ द्दौo।। धारू सुतौ नोनेक: माण्डँर सँ कीर्तिधर दौ (०२/०२) अपरा शिलपाणि सुतौ शुभंकर: ए सुतौ रत्नाकर ए सुतौ चांड़ो कीर्तिधरौ नरवालसँ नयधर दौ।। कीर्तिधरसुता श्रीधर पृथ्वीरधर प्राणधर मुक्तिधर धर्मधरा: पनिचोभसँ हरिहर दौ (२५//०८) नोने सुता दिनू (२६//०४) रति मति गुणैका: (४६/०४) एकमा वलियाससँ नितिकर दौ (१०/०५) मित्रकर सुतौनितिकर: ए सुतौ (३०६/०१) चन्द्ररक्रर विभाकरौ (३५/०८) पालीसँ भगव दौ।। गणपति सुतौ भगव: दुबासँ शुचिकर दौo भगव सुता सिम्मुीनाम करमहासँ चारूदत्त दौ।। शाण्डिल्यभ गोत्रे करमहा सँ बीजी सुरेश्वदर: ए सुतौ भूषण: ए सुतौ अमोघ: ए सुतौ गुणदेव: ए सुतौ देहरि: ए सुता महार्णव कारक मo मo उo नारायणा मुरारी खेते का। महार्णव कारक महामर्होपाध्यािय नारायण सुतौ हिंगूक:।। अहपुर वासी मुरारी सुतौश्रीधर ए सुतौ वंशधर ए सुतौ हरदत्त: ए सुता वरदत्त चारूदत्त भवदत्ता: तत्राद पा भिन्नह अन्योो जगतिसँ धारेश्वार दौ।। चारूदत्त सुता जयदत्त ब्रह्मदत्त नोनेका: त्रिलाठी घुसौतसँ देवदत्त दौ (११/०४) सुपर सुतौ देवदत्त खण्ड‍बलासँ विश्वतनाथ दौo।। कटाईसँ भीम द्दौo (२०/१०) मिश्र (२०//०९) दिनू सुता रामकर (७२/०१) हलधर दामोदरा: (५७/०३) माण्ड रसँ लगाई दौ (०२/०४) नन्दीाश्व०र सुतौ जीवेश्वोर वागीश्व रौ तिसुरी सँगंगेश्वलर दौ पदमनाभ तिसुरी वासी ए सुतौ लक्ष्मीेपति: विस्फी सँ मधुकर दौ।। ए सुतौ भवेश्व र: खनौरी सकराढ़ीसँ धर्माध्यगक्षक सर्वानन्दज दौo।। ए सुता गंगेश्व्र जगद्धर शिवशर्म्माफ सुरगनसँ चाकौ दौ।।


(४९) गंगोर सँ साबे द्दौo।। गंगेश्वनर सुतौ गिरीश्वूर नरसिंहो बेला सकराढ़ी सँ हरदत्त दौ पनिचोभ सँ महादेव द्दौo।। (५८/०७) बागेश्वीर सुता दूबे नगाई हिराई का: कुजौली सँ राजू दौ (०४//०५) गंगोली सँ केशव द्दौo।। नगाई सुता श्रीदत्त चाको नरसिंह विश्वेम्भ रा: दिनारी सरिसब सँ चाको दौ।। दिनारी सरिसब सँ बीजी जनार्दन।। जनार्दन सुतौ माने देवे कौ।। माने सुतौ प्राणधर: प्राणधर सुता चांड़ो जीवे दिने भिखे बिठूका: दहुला सँ ब्रहमेश्वेर दौ चांड़ो सुता रूद (२३/०१) जगन्नारथ भवेश्व रा: मछेटा पाली सँ महेश्वुर दौ।। एवं जगन्नारथ मातृक चक्रं।। जगन्नानथ सुतौ (१५५//०९) हरिकेश लक्ष्मीनपति विरपुर पनिचोभ सँ शम्भूा दौ (१०/०३) विश्वानाथ सुतौ (४१//०५) राम: माण्डदरसँ कापनि माधवदौ।। राम सुतौ बाटूक: पबौली सँ मेढू दौ (११/०७) हलधर सुता राम हेढ़ामेढ़ू का: डीह दरिहरा सँ हरिहर दौ मेढू सुता दौ पोखरौनी टकबाल सँ शुक्ल भिखारी दौ (०३/०९) शुक्ल५ भिखारी सुतौ चिलकौर दरिहरा सँ गांगु दौ भानुर सरौनी सँ हरिवंश द्दौ।। बाढ़ू सुता रातू (१४०//०४) हारू महेश्वनर बागू फलहारी (२७//०८) दिनकर मधुकरा:।। तत्राद्यो: पंच पत्उकना खौआल सँ राम दौ अन्यो/ । गढ़ विस्फीनसँमहत्तक होराई दौ।। माहब बरेबा सँ रूद द्दौo।। सिद्धेश्वपर सुतौ राम चाको कौ पिहवाल सँ रूद दौ अलय सँ रूद द्दौo।। राम सुतौ गोपाल मुरारि: कोइयार सँ गुणाकर दौ।। कोइयार सँ बीजी शूलपाणि: ए सुतौ सिधूक: ए सुता देल्हगन विश्व नाथ श्रीनाथा: सिंहाश्रम सँ विद्यापति दौ।। देल्हकन सुतौ जीवधर: ए सुतौ पृथ्वी्धर ए सुतौ गुणाकर: ए सुताहरिसिंहपुर निखूति सँ जीवेश्व र सुत गोंढि दौ।। बागू सुता खांतू (४०//१०) छीतर मितू (२६/०५) गोविन्दस (२६/०५) बाछ लाखू का: (३०//०१) तत्रादया पंच चान्दोौ वलियास सँ होरे दौ गंगोर सँ विश्व६नाथ:द्दौo


(५०) ''१७'' (०७/०८) शिवनाथ सुतौ पद्मनाथ: टकबाल सँ सोनमनि दौ. चाउँटी टकबाल सँ बीजी रत्नेश्विर: ए सुतौ गणेश्वकर ए सुत बलदेव: ए सुतौ रत्नाकर प्रभाकर धर्मकर सूर्यकरा:।। रत्नाकर सुतौ सोनमनि: दोहाइन विस्फी सँ अरविन्दद दौ।। सोनमनि सुतौ नरसिंह हरिसिंहो अलारि दिधोय सँ श्रीधर दौ।। खांतू सुता (८४//०७) डालू (८६/०७) महो सुपे महिधर पॉंखू शम्मूर का: जजिवाल सँ रतिकर दौ (०८/०३) (३७//०६) गौरीश्वार सुतौ आवस्थिक सिद्धेश्व र विन्यैोन श्व७रो माड़र सँ वाहन दौ।। आवस्थिक सिद्धेश्व र सुता गयन घनेश नोने कोचे इन्द्रे का: पकलिया सँ नयदेव दौ।। इन्द्र सुतो सोम भवेकौ बसुआली सँ छीतर दौ।। सोम सुता (३/०२) गोपाल नारू भगव (३१/०५) माधव दामूका: मण्डाुरिसम सँ साठू दौ।। अपरौ रतिकर मांगुकौ पण्डौरली सँ लक्ष्मीखकर दौ रतिकर सुतौ मति हरि: करहिया पनिचोभ सँ प्रितिकर दौ (०८/०५) प्रितिकर सुता थरिया सँ आनू दौ।। थरिया सँ: वीजी त्रिलोचन वीजी त्रिलोचन ए सुतौ होरेक: दिघोय मातृक:।। होरे सुता रविनाथ जगन्नाथथ नयनाथ शक्तिनाथ लक्ष्मीकनाथा कुजौली सँ वर्द्धमान दौ।। रविनाथसुता आनू गोपाल वुद्धिकरा: फेनहथ गंगोली सँ होरे भागिनेय: आनू सुता आदू नादू बासू गांगू का: खजूरी पानिचोभ सँ रघुपतिसुत रताई दौ करहिया वासी कुजौली सँ त्रिपुरे द्दौo शम्भूु सुतौ चिकूक: कुजौली सँ जोर दौ (०४/०२) शुभंकर सुतौ गोंढि पण्डो ली सँ रूद्रभागिनेय: ए सुतौ महिपति वानू कौ विनती सँ पराक् अच्युँत दौ।। बानू सुतौ मानेक: तिसूरी सँ भवेश्वार दौ।। माने सुतौ गोपाल: टकबाल सँ गुणाकर दौ शिलपाणि केथौनीवासी।। ए सुतौ जगदेव वरदेवौ बुधौरा सँ मणिकंठ दौ।। वरदेव सुतौ गुणाकर: दूबासँ शिवशर्म्मँ दौ।। गुणाकर सुता।।

No comments:

Post a Comment

"विदेह" प्रथम मैथिली पाक्षिक ई पत्रिका http://www.videha.co.in/:-
सम्पादक/ लेखककेँ अपन रचनात्मक सुझाव आ टीका-टिप्पणीसँ अवगत कराऊ, जेना:-
1. रचना/ प्रस्तुतिमे की तथ्यगत कमी अछि:- (स्पष्ट करैत लिखू)|
2. रचना/ प्रस्तुतिमे की कोनो सम्पादकीय परिमार्जन आवश्यक अछि: (सङ्केत दिअ)|
3. रचना/ प्रस्तुतिमे की कोनो भाषागत, तकनीकी वा टंकन सम्बन्धी अस्पष्टता अछि: (निर्दिष्ट करू कतए-कतए आ कोन पाँतीमे वा कोन ठाम)|
4. रचना/ प्रस्तुतिमे की कोनो आर त्रुटि भेटल ।
5. रचना/ प्रस्तुतिपर अहाँक कोनो आर सुझाव ।
6. रचना/ प्रस्तुतिक उज्जवल पक्ष/ विशेषता|
7. रचना प्रस्तुतिक शास्त्रीय समीक्षा।

अपन टीका-टिप्पणीमे रचना आ रचनाकार/ प्रस्तुतकर्ताक नाम अवश्य लिखी, से आग्रह, जाहिसँ हुनका लोकनिकेँ त्वरित संदेश प्रेषण कएल जा सकय। अहाँ अपन सुझाव ई-पत्र द्वारा ggajendra@videha.com पर सेहो पठा सकैत छी।

"विदेह" मानुषिमिह संस्कृताम् :- मैथिली साहित्य आन्दोलनकेँ आगाँ बढ़ाऊ।- सम्पादक। http://www.videha.co.in/
पूर्वपीठिका : इंटरनेटपर मैथिलीक प्रारम्भ हम कएने रही 2000 ई. मे अपन भेल एक्सीडेंट केर बाद, याहू जियोसिटीजपर 2000-2001 मे ढेर रास साइट मैथिलीमे बनेलहुँ, मुदा ओ सभ फ्री साइट छल से किछु दिनमे अपने डिलीट भऽ जाइत छल। ५ जुलाई २००४ केँ बनाओल “भालसरिक गाछ” जे http://www.videha.com/ पर एखनो उपलब्ध अछि, मैथिलीक इंटरनेटपर प्रथम उपस्थितिक रूपमे अखनो विद्यमान अछि। फेर आएल “विदेह” प्रथम मैथिली पाक्षिक ई-पत्रिका http://www.videha.co.in/पर। “विदेह” देश-विदेशक मैथिलीभाषीक बीच विभिन्न कारणसँ लोकप्रिय भेल। “विदेह” मैथिलक लेल मैथिली साहित्यक नवीन आन्दोलनक प्रारम्भ कएने अछि। प्रिंट फॉर्ममे, ऑडियो-विजुअल आ सूचनाक सभटा नवीनतम तकनीक द्वारा साहित्यक आदान-प्रदानक लेखकसँ पाठक धरि करबामे हमरा सभ जुटल छी। नीक साहित्यकेँ सेहो सभ फॉरमपर प्रचार चाही, लोकसँ आ माटिसँ स्नेह चाही। “विदेह” एहि कुप्रचारकेँ तोड़ि देलक, जे मैथिलीमे लेखक आ पाठक एके छथि। कथा, महाकाव्य,नाटक, एकाङ्की आ उपन्यासक संग, कला-चित्रकला, संगीत, पाबनि-तिहार, मिथिलाक-तीर्थ,मिथिला-रत्न, मिथिलाक-खोज आ सामाजिक-आर्थिक-राजनैतिक समस्यापर सारगर्भित मनन। “विदेह” मे संस्कृत आ इंग्लिश कॉलम सेहो देल गेल, कारण ई ई-पत्रिका मैथिलक लेल अछि, मैथिली शिक्षाक प्रारम्भ कएल गेल संस्कृत शिक्षाक संग। रचना लेखन आ शोध-प्रबंधक संग पञ्जी आ मैथिली-इंग्लिश कोषक डेटाबेस देखिते-देखिते ठाढ़ भए गेल। इंटरनेट पर ई-प्रकाशित करबाक उद्देश्य छल एकटा एहन फॉरम केर स्थापना जाहिमे लेखक आ पाठकक बीच एकटा एहन माध्यम होए जे कतहुसँ चौबीसो घंटा आ सातो दिन उपलब्ध होअए। जाहिमे प्रकाशनक नियमितता होअए आ जाहिसँ वितरण केर समस्या आ भौगोलिक दूरीक अंत भऽ जाय। फेर सूचना-प्रौद्योगिकीक क्षेत्रमे क्रांतिक फलस्वरूप एकटा नव पाठक आ लेखक वर्गक हेतु, पुरान पाठक आ लेखकक संग, फॉरम प्रदान कएनाइ सेहो एकर उद्देश्य छ्ल। एहि हेतु दू टा काज भेल। नव अंकक संग पुरान अंक सेहो देल जा रहल अछि। विदेहक सभटा पुरान अंक pdf स्वरूपमे देवनागरी, मिथिलाक्षर आ ब्रेल, तीनू लिपिमे, डाउनलोड लेल उपलब्ध अछि आ जतए इंटरनेटक स्पीड कम छैक वा इंटरनेट महग छैक ओतहु ग्राहक बड्ड कम समयमे ‘विदेह’ केर पुरान अंकक फाइल डाउनलोड कए अपन कंप्युटरमे सुरक्षित राखि सकैत छथि आ अपना सुविधानुसारे एकरा पढ़ि सकैत छथि।
मुदा ई तँ मात्र प्रारम्भ अछि।
अपन टीका-टिप्पणी एतए पोस्ट करू वा अपन सुझाव ई-पत्र द्वारा ggajendra@videha.com पर पठाऊ।

'विदेह' २३२ म अंक १५ अगस्त २०१७ (वर्ष १० मास ११६ अंक २३२)

ऐ  अंकमे अछि :- १. संपादकीय संदेश २. गद्य २.१. जगदीश प्रसाद मण्‍डलक  दूटा लघु कथा   कोढ़िया सरधुआ  आ  त्रिकालदर ्शी २.२. नन...