Friday, May 08, 2009

मुखीलाल चौधरी

मुखीलाल चौधरी

सुखीपुर , सिरहा


हाल ः बुटवल बहुमुखी क्‍यापस बुटवल

दिनाड्ढ २०६५ जेठ १४ गते मंगलदिन जनकपुरधाममें लोकार्पण भेल समझौता नेपालक दोसर प्रस्‍तुति गीति एल्‍वम भोर क गीतके संगही समझौता नेपालक निर्देशक नरेन्‍द्रकुमार मिश्रजीक साक्षात्‍कार दिनाड्ढ २०६५ जेठ १८ गते शनिदिन कान्‍तिपुर एफ़एम़के सर्वाधिक लोकप्रिय कार्यक्रम हेलौ मिथिलामें सुनबाक मौका भेटल। संघीय गणतान्‍त्रिक नेपालक भोरमे समझौता नेपालद्वारा प्रस्‍तुत कएल गेल गीति एल्‍बम भोरके लेल समझौता नेपालक निर्देशन नरेन्‍द्रकुमार मिश्रजीके हार्दिक बधाई एवं शुभकामना। आगामी दिनमें समझौता नेपाल मार्फत गीति यात्राकेँ निरन्‍तरततासँ गीत या संगीतक माध्‍यमसँ मिथिलावासी आ मधेशी संगहि सम्‍पूर्ण आदिबासी थारु में जागरण लावय में सफल होवय आओर मिथिलावासी, मधेशी, आदिवासी थारु सगहि सम्‍पूर्ण देशवासीमें सदाशयता, सदभावना, सहिष्‍णुता आ स्‍नेहमें प्रगाढता बढावमें सफलता प्राप्‍त होअए, एकरा लेल साधुवाद।

    गीतकार सभहक गीत उत्‍कृष्‍ट अछि, कोनो गीत वीस नहि सभटा एक्कैस। एकसँ बढी कय एक। गीतकार सभहक गीतके सम्‍वन्‍धमें छोटमें अलग अलग किछु कहय चाहैत अछि

रुपा झाजीक गीत शिक्षा प्रति जागरुकता आ चेतबाक सन्‍देश दरहल अछि। ज्ञान प्रकाश अछि आओर अज्ञान अन्‍धकार। अन्‍धकारसँ वचवाक लेल ज्ञान प्राप्‍त केनाइ आवश्‍यक अछि। केहनो भारी आफत आवौ, ज्ञानेसँ खदेड पाती कोनो समस्‍या किएक नहि विकराल होअए ज्ञान आ वुद्धि सँ समाधान करल जा सकैत अछि।

पूनम ठाकुरजीक गीत सब सन्‍तान समान होइछ, बेटाबेटीमे भेदभाव नहि होयबाक आ करबाह चाही सन्‍देश दरहल अछि। मुदा हो केहनो अबण्‍ड बेटा, कहता कुलक लाल छी सिर्फ एक पातिस आजुक समाजमें बेटाबेटी प्रति केहन अवधारणा अछि, बतारहल छथि।

मिथिलाके माटि बड पावन छै। संस्‍कार आ अचारविचार महान छै। आओर ओएह माटिक सपूत साहिल अनवरजी छथि। जहि माटिमें साहिल अनवरजी जकाँ मनुक्‍ख छथि ओही माटिमे सम्‍प्रदायिकताक काँट उगिए नहि सकैछ। उगत त मात्र सदभावना, सदाशयता, मायाममता, स्‍नेहक गाछ। जेकर गमकसँ सभकेओ आनन्‍दित रहत आ होएत।

 जतय हिन्‍नुओ राखि ताजिया, मान दिअए इसलामके

छठि परमेसरीक कवुलाकय मुल्‍लोजी मानथि रामके

सँ इ नहि लागि रहल अछि ? कि मिथिलाके पावन माटिमें सहिष्‍णुताक सरिता आ बसन्‍तक शीतल बसात बहिरहल अछि। धन्‍य छी हम जे हमर जनम मिथिलाक माटिमें भेल अछि।

धीरेन्‍द्र प्रेमर्षिजीक गीत सकारात्‍मकतासँ भरल अछि। समस्‍या किएक नहि बडका होबय आ कोनो तरहके होय निरास नहि होयवाक चाही आओर सदिखन धैर्यधारणकय सकारात्‍मक सोच राखिकय आगाँ बढवाक चाही। संगहि जाहि तरहसँ माँबाप अपन सन्‍तानक लेल सदिखन सकारात्‍मक दृष्‍टिकोण राखैत छथि, वएह तरहसँ संतानक कर्तव्‍य होइछ जे ओ सभ अपन वुढ माँबाप प्रति वहिनाइते दृष्‍टिकोण अपनावैत। गीतके शुरुके जे चार पाँति

सँझुका सुरूजक लाल किरिनिया, नहि रातिक इ निशानी छै

 छिटने छल जे भोर पिरितिया, तकरे मधुर कहानी छै

सकारात्‍मकताक द्योतक अछि। एकर संगहि

सोना गढीके इएह फल पौलक, अपने बनि गेल तामसन

वाह बुढवा तैओ वाजैए, हमर बेटा रामसन इ पातिसँ माबापके अपन सन्‍तानक प्रति प्रगाढ माया ममताक बोध करारहल अछि।

नरेन्‍द्रकुमार मिश्राजीक गीत इ बतारहल अछि कि संसारमे प्रेम, स्‍नेह, मायाममता अछि तेँ संसार एतेक सुन्‍दर अछि। यदि प्रेम, स्‍नेह, मायाममता हटा देल जाय त संसार निरस भजाएत आ निरस लाग लागत। तेँ हेतु एक दोसरक प्रति प्रेम, स्‍नेहक आदनप्रादान होनाइ आवश्‍यक अछि।

आदान-प्रदान भनाए

आँखि देखय त सदिखन सुन्‍दर सृजन

ठोर अलगय त निकलय मधुरगर बचन

पाती सँ प्रेम आ स्‍नेह वर्षा भरहल अछि, लागि रहल अछि।

वरिष्‍ट साहित्‍यकार, कवि, गीतकार द्वय डा़ राजेन्‍द्र विमल जी आ चन्‍द्रशेखर शेखर जीके गीत अपने अपनमे उत्‍कृष्‍ट आ विशिष्‍ट अछि। हिनका सभक गीत सम्‍बन्‍धमे विशेष किछु नहि कहिके हिनका सभक गीतक किछु पाती उधृत कयरहल छी, सबटा बखान कए देत।

डा़ राजेन्‍द्री विमल जीक पॉंतिक

जगमग ई सृष्‍टि करए, तखने दिवाली छि

प्रेम चेतना जागि पडए, तखने दिवाली छि

रामशक्ति आगुमे, रावण ने टीकि सकत

रावण जखने डरए, तखने दिवाली छि

अपने अपनमे विशिष्‍टता समाहित केने अछि।

ओही तरहे चन्‍द्रशेखर ॅशेखर जीक गीतक निम्‍न पांती अपने अपनमे विशिष्‍ट अछि

साँस हरेक आश भर, फतहक विश्‍वासकर

बिहुँसाले रे अधर, मुक्त हो नैराश्‍यडर

रोक सब विनाशके, ठोक इतिहासकेँ

दग्‍धल निशाँसकेँ, लागल देसाँसकेँ

हमर यानी मुखीलाल चौधरीक गीतके सम्‍बन्‍धमे चर्चा नहि करब त कृतघ्‍नता होएत। हमरद्वारा रचित गीत भोरक संगीतकार धीरेन्‍द्र प्रेमर्षिद्वारा परिमार्जित आ सम्‍पादित कएल गेल अछि। तें एतेक निक रुपमे अपने सभहक आगाँ प्रस्‍तुत भेल अछि। हमर गीतके इएह रुपमे लाबएमे धीरेन्‍द्र प्रेमर्षिजीक उदार या गहन भुमिका छैन्‍ह। एकर लेल प्रेमर्षिजीके हम मुखीलाल चौधरी हार्दिक धन्‍यवाद ज्ञापन करए चाहैत छी।

सभटा गीतके संगीत कर्णप्रिय लगैत अछि। सुनैत छी त मोन होइत अछि फेरफेर सुनी। कतबो सुनलाक वादो मोन नहि अगहाइत अछि। एतेक निक संगीतक लेल धीरेन्‍द्र प्रेमर्षिजीके हार्दिक बधाई आओर आगामी दिन सभमे एहोसँ निक संगीत दय सकैत, एकर लेल शुभकामना आ साधुबाद।

सभ गीतकार, संगीतकार, गायकगायिका इत्‍यादिक संयोजन कय बड सुन्‍दर आ हृदयस्‍पर्शी गीति एल्‍बम भोर जाहि तरहसँ हमरा सभहक आगाँ परोसने छथि, एकर लेल भोरक संयोजक रुपा झा जीके हार्दिक बधाई। अन्‍तमे सभ गीतकार, संगीतकार, गायकगायिका, संयोजक आ समझौता नेपालक निर्देशकके हादिक वधाई।

No comments:

Post a Comment

"विदेह" प्रथम मैथिली पाक्षिक ई पत्रिका http://www.videha.co.in/:-
सम्पादक/ लेखककेँ अपन रचनात्मक सुझाव आ टीका-टिप्पणीसँ अवगत कराऊ, जेना:-
1. रचना/ प्रस्तुतिमे की तथ्यगत कमी अछि:- (स्पष्ट करैत लिखू)|
2. रचना/ प्रस्तुतिमे की कोनो सम्पादकीय परिमार्जन आवश्यक अछि: (सङ्केत दिअ)|
3. रचना/ प्रस्तुतिमे की कोनो भाषागत, तकनीकी वा टंकन सम्बन्धी अस्पष्टता अछि: (निर्दिष्ट करू कतए-कतए आ कोन पाँतीमे वा कोन ठाम)|
4. रचना/ प्रस्तुतिमे की कोनो आर त्रुटि भेटल ।
5. रचना/ प्रस्तुतिपर अहाँक कोनो आर सुझाव ।
6. रचना/ प्रस्तुतिक उज्जवल पक्ष/ विशेषता|
7. रचना प्रस्तुतिक शास्त्रीय समीक्षा।

अपन टीका-टिप्पणीमे रचना आ रचनाकार/ प्रस्तुतकर्ताक नाम अवश्य लिखी, से आग्रह, जाहिसँ हुनका लोकनिकेँ त्वरित संदेश प्रेषण कएल जा सकय। अहाँ अपन सुझाव ई-पत्र द्वारा ggajendra@videha.com पर सेहो पठा सकैत छी।

"विदेह" मानुषिमिह संस्कृताम् :- मैथिली साहित्य आन्दोलनकेँ आगाँ बढ़ाऊ।- सम्पादक। http://www.videha.co.in/
पूर्वपीठिका : इंटरनेटपर मैथिलीक प्रारम्भ हम कएने रही 2000 ई. मे अपन भेल एक्सीडेंट केर बाद, याहू जियोसिटीजपर 2000-2001 मे ढेर रास साइट मैथिलीमे बनेलहुँ, मुदा ओ सभ फ्री साइट छल से किछु दिनमे अपने डिलीट भऽ जाइत छल। ५ जुलाई २००४ केँ बनाओल “भालसरिक गाछ” जे http://www.videha.com/ पर एखनो उपलब्ध अछि, मैथिलीक इंटरनेटपर प्रथम उपस्थितिक रूपमे अखनो विद्यमान अछि। फेर आएल “विदेह” प्रथम मैथिली पाक्षिक ई-पत्रिका http://www.videha.co.in/पर। “विदेह” देश-विदेशक मैथिलीभाषीक बीच विभिन्न कारणसँ लोकप्रिय भेल। “विदेह” मैथिलक लेल मैथिली साहित्यक नवीन आन्दोलनक प्रारम्भ कएने अछि। प्रिंट फॉर्ममे, ऑडियो-विजुअल आ सूचनाक सभटा नवीनतम तकनीक द्वारा साहित्यक आदान-प्रदानक लेखकसँ पाठक धरि करबामे हमरा सभ जुटल छी। नीक साहित्यकेँ सेहो सभ फॉरमपर प्रचार चाही, लोकसँ आ माटिसँ स्नेह चाही। “विदेह” एहि कुप्रचारकेँ तोड़ि देलक, जे मैथिलीमे लेखक आ पाठक एके छथि। कथा, महाकाव्य,नाटक, एकाङ्की आ उपन्यासक संग, कला-चित्रकला, संगीत, पाबनि-तिहार, मिथिलाक-तीर्थ,मिथिला-रत्न, मिथिलाक-खोज आ सामाजिक-आर्थिक-राजनैतिक समस्यापर सारगर्भित मनन। “विदेह” मे संस्कृत आ इंग्लिश कॉलम सेहो देल गेल, कारण ई ई-पत्रिका मैथिलक लेल अछि, मैथिली शिक्षाक प्रारम्भ कएल गेल संस्कृत शिक्षाक संग। रचना लेखन आ शोध-प्रबंधक संग पञ्जी आ मैथिली-इंग्लिश कोषक डेटाबेस देखिते-देखिते ठाढ़ भए गेल। इंटरनेट पर ई-प्रकाशित करबाक उद्देश्य छल एकटा एहन फॉरम केर स्थापना जाहिमे लेखक आ पाठकक बीच एकटा एहन माध्यम होए जे कतहुसँ चौबीसो घंटा आ सातो दिन उपलब्ध होअए। जाहिमे प्रकाशनक नियमितता होअए आ जाहिसँ वितरण केर समस्या आ भौगोलिक दूरीक अंत भऽ जाय। फेर सूचना-प्रौद्योगिकीक क्षेत्रमे क्रांतिक फलस्वरूप एकटा नव पाठक आ लेखक वर्गक हेतु, पुरान पाठक आ लेखकक संग, फॉरम प्रदान कएनाइ सेहो एकर उद्देश्य छ्ल। एहि हेतु दू टा काज भेल। नव अंकक संग पुरान अंक सेहो देल जा रहल अछि। विदेहक सभटा पुरान अंक pdf स्वरूपमे देवनागरी, मिथिलाक्षर आ ब्रेल, तीनू लिपिमे, डाउनलोड लेल उपलब्ध अछि आ जतए इंटरनेटक स्पीड कम छैक वा इंटरनेट महग छैक ओतहु ग्राहक बड्ड कम समयमे ‘विदेह’ केर पुरान अंकक फाइल डाउनलोड कए अपन कंप्युटरमे सुरक्षित राखि सकैत छथि आ अपना सुविधानुसारे एकरा पढ़ि सकैत छथि।
मुदा ई तँ मात्र प्रारम्भ अछि।
अपन टीका-टिप्पणी एतए पोस्ट करू वा अपन सुझाव ई-पत्र द्वारा ggajendra@videha.com पर पठाऊ।

'विदेह' २३२ म अंक १५ अगस्त २०१७ (वर्ष १० मास ११६ अंक २३२)

ऐ  अंकमे अछि :- १. संपादकीय संदेश २. गद्य २.१. जगदीश प्रसाद मण्‍डलक  दूटा लघु कथा   कोढ़िया सरधुआ  आ  त्रिकालदर ्शी २.२. नन...