Friday, February 20, 2009

की हमहूँ रहबै कुमार - मदन कुमार ठाकुर

यौ पाठक गण की कहू अपन मिथिला राज्य चौपट भ' गेल ( से कोना यौ ) एक त कमला कोशीक दहार आ दोसर दहेज़ प्रथाक व्यवहार ! कमला कोशी लेलक पेटक आहार त दहेज़ प्रथा केलक आर्थिक लाचार ! कन्यादान से कतेक पिता लोकनि सेहो भेला बीमार आ कतेको बर छथि ओही बाधा सँ सेहो कुमार आ बीमार ! ओही सभ बात के लs क' हम नब युबक संघक बाधा कs ल'क' पाठक गणक समक्ष मैथिल आर मिथिला पर हाजिर छी.......


जय गणेश मंगल गणेश, सदिखन रटलो मंत्र उचार !
सभ बाधाक हरय बाला, कते गेलो अहाँ छोड़ि संसार !!
अपना लेल अगल - बगल मे, हमरा लेल किए दूर व्यवहार !
आब कहू यो गणपति महाराज, की हमहूँ रहबै कुमार... !!


बरख बीत गेल देखते देखते, जन्म कुंडली मे थर्टी ! (३०)
दहेजक आस मे हम नै बैसब, हमरो उम्र भो जेत सिक्सटी !! (६०)
गाम - गाम मे जे के बाजब, बाबू हमर छथि दुराचार !
आब कहू यो बाबू - काका, की हमहूँ रहबै कुमार... !!


ब्रह्म बाबा के सभ दिन गछ्लो, लगाबू अहि लगन मे बेरापार !
ओही खुशी मे अहाँ के देब, हम अपन गाय के दूधक धार !!
हे कुसेश्वर हे सिंघेश्वर, अहाँक महिमा अछि अपरम पार !
अहि लगन मे पार लगाबू, हम आनब दूध दही आ केराक भार !!
आब कहू यो भोले दानी, की हमहूँ रहबै कुमार .......


सौराठ सभा मे जे के बैसलों, सातों दिन आ सातो राति !
कियो नै पुछलक नाम आ गाम, की भेल अपनेक गोत्र मूल बिधान !!
घर मे आबी के खाट पकरलो, नै भेल आब हमर कुनू जोगार !
आब कहू यो बाबा - नाना, की हमहूँ रहबै कुमार !!


दौर - दौर जे पंडित पुर्हित, सभ दिन पूछी राय बिचार !
पंडित जी के मुहँ से फुटलैन ई बकार ..........
जेठ अषाढ़ त बितैते अछि, अघन से परैत अछि अतिचार !!
आब कहू यो पंडित पुर्हित, की हमहूँ रहबै कुमार .....


नै पढ़लो हम आइये - बीए, छी हमहूँ यो मिडिल पास !
डॉक्टर भइया - मास्टर बहिया, ओहो काटलैथ एक दिन घास !!
ओही खान्दानक छी यो हमहूँ, जून करू आब हमर धिकार !
आब कहू यो बाबू - भैया, की हमहूँ रहबै कुमार !!


गोर - कारी सभ के रखबै, लुल्ही - लंगरी से घर के सजेबई !
बौकी पगली के दरभंगा में देखेबाई, कन्ही कोतरी से करब जिन्दगी साकार !!
आब कहू यो संगी - साथी, की हमहूँ रहबै कुमार ..........


अघन के लगन देख हम झूमी उठलो, जेना करैत अछि नाग फुफकार !
लगन बीत गेल माघ फागुन के, गुजैर रहल अछि जेठ अषाढ़ !!
अंतिम लगन ओहिना बितत, नैया डूबत हमरो बिच धार !
आब कहू यो मैथिल आर मिथिलाक पाठक गन, की हमहू रहबै कुमार !!

नब युवक के बातक रखलो मान, शादी.कॉम में लिखेलो अपन नाम !
नै कुनू भेटल कतो से मेल, लागैत अछि जे ईहो भेल फैल !!
कतेक दिन करब मेलक इंतजार........
आब कहू यो कम्पूटर महाराज, की हमहूँ रहबै कुमार !!

भोरे उठी गेलो खेत खलिहान, उम्हरे से केना एलो कमला स्नान
देखलो दुई चैर आदमी के, बात करैत छल कन्यादान !
पीड़ी छुई हम भगवती के, पहुँच गेलो हम अपन दालान !!
हाथ जोरी हम सबके, विनती केलो बारम् बार !
आब कहूँ यो घटक महाराज, की हमहूँ रहबै कुमार !!





मदन कुमार ठाकुर,
कोठिया पट्टीटोला,
झंझारपुर (मधुबनी)
बिहार - ८४७४०४.

21 comments:

  1. Anonymous7:47 PM

    आब लागैत अच्छी जे दहेज़ प्रथा जल्दी ये उठी जायत क्याकि ,
    मदन जी के कविता से लगी रहल अच्छी बास्तव में मिथिला में बर् बहुत कुमार अच्छी ,
    अहिना लिख़त रहू मिथिला के लेखक गन मिथिला के सब दुख दूर भ जायत
    जे मैथिल जे मिथिला

    ReplyDelete
  2. Anonymous7:54 PM

    बरख बीत गेल देखते देखते, जन्म कुंडली मे थर्टी ! (३०)


    दहेजक आस मे हम नै बैसब, हमरो उम्र भो जेत सिक्सटी !! (६०)


    गाम - गाम मे जे के बाजब, बाबू हमर छथि दुराचार !


    आब कहू यो बाबू - काका, की हमहूँ रहबै कुमार... !! नब युवक के बातक रखलो मान, शादी.कॉम में लिखेलो अपन नाम !


    नै कुनू भेटल कतो से मेल, लागैत अछि जे ईहो भेल फैल !!


    कतेक दिन करब मेलक इंतजार........


    आब कहू यो कम्पूटर महाराज, की हमहूँ रहबै कुमार !!

    bahut nik liKhalo madan ji

    ReplyDelete
  3. madan ji ahan te holik rang akhne se aani rahal chhi
    nik prastuti

    ReplyDelete
  4. madan ji ahank rachnak jatek barai huay tatek kam, kono chhadm nahi, saph hriday se likhal sabhta rachna sabh.

    ReplyDelete
  5. madan bhaiya ahan te hila ke raakhi delahu

    ReplyDelete
  6. Anonymous9:44 AM

    madnan ji bahut nik lagal

    hamra Ahi shbdk entjar Achhi


    MUKESH JHA
    JAMU

    ReplyDelete
  7. कमला कोशी लेलक पेटक आहार त दहेज़ प्रथा केलक आर्थिक लाचार
    bahut nik lagal
    mdan Bhaiya

    ReplyDelete
  8. समस्त मिथिला वाशी के हमरो चरण स्पर्श अच्छी -------
    बहुत -बहुत धन्य वाद मैथिल आर मिथिला पाठक गन के जे ओं अपन कीमती वक्त हमारा पर लेखनी में देलानी हम हुनक आभारी छि
    प्रेम से बाजु अपन मैथिलि बोली ,
    स्पस्ट लिखू आब यो मैथिलि बोली
    कम्पूटर लिखया मैथिलि बोली
    दुनिया के स्मझाबैत अच्छी मैथिलि बोली अपन बोली अपन भाषा , काज देत यो अपन भाषा
    जय मैथिल जय मिथिला

    ReplyDelete
  9. दौर - दौर जे पंडित पुर्हित, सभ दिन पूछी राय बिचार !
    पंडित जी के मुहँ से फुटलैन ई बकार ..........
    जेठ अषाढ़ त बितैते अछि, अघन से परैत अछि अतिचार !!
    आब कहू यो पंडित पुर्हित, की हमहूँ रहबै कुमार .....


    वाह मदनजी, कमाल क देलियै यौ । धन्‍यवाद । अहॉं जाहि कुमार लड्काक मन:स्थिति के वर्णन अपना कविता में केलहुँ अछि, से एकदम यथार्थ चित्रण अछि । सत्‍ते, अधिकतर कुमार लडका सबहक मिथिला में यैह स्थिति छै आई-काल्हि । पुन: धन्‍यवाद ।

    ReplyDelete
  10. Anonymous4:55 PM

    bahut sundar Achhi


    manohr jha

    ReplyDelete
  11. Anonymous8:20 PM

    man mohi lelo mdna ji ---
    sab bar bala ke Ahina thesi utair jetan eak din
    tahan Ahina bakba krta ---
    Asha jha

    ReplyDelete
  12. Anonymous6:25 PM

    suni ke dukh dur Bhagel, je hamhita kumar nahi Chhi Aur bahut kumar chhaith

    Randhir kamat
    darbhanga

    ReplyDelete
  13. Anonymous9:47 AM

    kamal ka delo Madan jI

    bahut bahut Dhnywad

    ReplyDelete
  14. Anonymous9:54 AM

    madan ji hamar viwah thik Bhagel
    lagait Achhi je Aab ham kumare nahi rahab
    ahan ke e kavita bahut nika lagal

    ReplyDelete
  15. Anonymous9:56 AM

    madan ji hamar viwah thik Bhagel
    lagait Achhi je Aab ham kumare nahi rahab
    ahan ke e kavita bahut nika lagal

    ReplyDelete
  16. बहुत नीक प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  17. HARE KRISHAN JHA5:23 PM

    भोरे उठी गेलो खेत खलिहान,
    उम्हरे से केना एलो कमला स्नान
    देखलो दुई चैर आदमी के,
    बात करैत छल कन्यादान !
    पीड़ी छुई हम भगवती के,
    पहुँच गेलो हम अपन दालान !!
    हाथ जोरी हम सबके,
    विनती केलो बारम् बार !
    आब कहूँ यो घटक महाराज,
    की हमहूँ रहबै कुमार !!
    harek kumar sabhak eha bat chhain , mazburi me bechara bajata ki , e kavita apan ghar ke lak ke dekhetin ta sab mamla fit bhajetain ,

    ReplyDelete
  18. VINOD THAKR4:46 PM

    ATI SUNDAR VICHAR SE LIKHLO , AHAN KE E KVITA PADTHI KE APAN JINGI KE PRTHAM CHARAN YAD AABAY LAGAL , JE EK DIN HAMARO EHA STHITI CHHALA ,

    ReplyDelete
  19. jagdish kumar5:35 PM

    Ati shundar bichar delo hamr lokain ke lel, je kumar me ki hala t hoyat achi , ohi ke bad tayo bina dheje lenay nahi chhorait achi ,
    OHI ME MARAL JAYT CHI HAM KUMAR AA KUMAIRI LOKAIN , BAHUT DUKHA KE BAT ACHHI JE HAM KIYA KUMAR CHHI ------

    ReplyDelete
  20. munaa2:25 PM

    दौर - दौर जे पंडित पुर्हित,
    सभ दिन पूछी राय बिचार !
    पंडित जी के मुहँ से फुटलैन ई बकार ..........
    जेठ अषाढ़ त बितैते अछि,
    अघन से परैत अछि अतिचार !!
    आब कहू यो पंडित पुर्हित,
    की हमहूँ रहबै कुमार .....
    shahi likhalo madan ji

    ReplyDelete
  21. avinash kumar4:32 PM

    madan ji bastav me ee shochay bala aa padhy bala aa gambhirta se sunai bala sab ke man se aakarshit karait achhi , koshis karav dahej prtha jaldi uthabai ke nahi ta mithila ke har sntan ke eha kah parat '" ki hamhu rahabai kumar "

    ReplyDelete

"विदेह" प्रथम मैथिली पाक्षिक ई पत्रिका http://www.videha.co.in/:-
सम्पादक/ लेखककेँ अपन रचनात्मक सुझाव आ टीका-टिप्पणीसँ अवगत कराऊ, जेना:-
1. रचना/ प्रस्तुतिमे की तथ्यगत कमी अछि:- (स्पष्ट करैत लिखू)|
2. रचना/ प्रस्तुतिमे की कोनो सम्पादकीय परिमार्जन आवश्यक अछि: (सङ्केत दिअ)|
3. रचना/ प्रस्तुतिमे की कोनो भाषागत, तकनीकी वा टंकन सम्बन्धी अस्पष्टता अछि: (निर्दिष्ट करू कतए-कतए आ कोन पाँतीमे वा कोन ठाम)|
4. रचना/ प्रस्तुतिमे की कोनो आर त्रुटि भेटल ।
5. रचना/ प्रस्तुतिपर अहाँक कोनो आर सुझाव ।
6. रचना/ प्रस्तुतिक उज्जवल पक्ष/ विशेषता|
7. रचना प्रस्तुतिक शास्त्रीय समीक्षा।

अपन टीका-टिप्पणीमे रचना आ रचनाकार/ प्रस्तुतकर्ताक नाम अवश्य लिखी, से आग्रह, जाहिसँ हुनका लोकनिकेँ त्वरित संदेश प्रेषण कएल जा सकय। अहाँ अपन सुझाव ई-पत्र द्वारा ggajendra@videha.com पर सेहो पठा सकैत छी।

"विदेह" मानुषिमिह संस्कृताम् :- मैथिली साहित्य आन्दोलनकेँ आगाँ बढ़ाऊ।- सम्पादक। http://www.videha.co.in/
पूर्वपीठिका : इंटरनेटपर मैथिलीक प्रारम्भ हम कएने रही 2000 ई. मे अपन भेल एक्सीडेंट केर बाद, याहू जियोसिटीजपर 2000-2001 मे ढेर रास साइट मैथिलीमे बनेलहुँ, मुदा ओ सभ फ्री साइट छल से किछु दिनमे अपने डिलीट भऽ जाइत छल। ५ जुलाई २००४ केँ बनाओल “भालसरिक गाछ” जे http://www.videha.com/ पर एखनो उपलब्ध अछि, मैथिलीक इंटरनेटपर प्रथम उपस्थितिक रूपमे अखनो विद्यमान अछि। फेर आएल “विदेह” प्रथम मैथिली पाक्षिक ई-पत्रिका http://www.videha.co.in/पर। “विदेह” देश-विदेशक मैथिलीभाषीक बीच विभिन्न कारणसँ लोकप्रिय भेल। “विदेह” मैथिलक लेल मैथिली साहित्यक नवीन आन्दोलनक प्रारम्भ कएने अछि। प्रिंट फॉर्ममे, ऑडियो-विजुअल आ सूचनाक सभटा नवीनतम तकनीक द्वारा साहित्यक आदान-प्रदानक लेखकसँ पाठक धरि करबामे हमरा सभ जुटल छी। नीक साहित्यकेँ सेहो सभ फॉरमपर प्रचार चाही, लोकसँ आ माटिसँ स्नेह चाही। “विदेह” एहि कुप्रचारकेँ तोड़ि देलक, जे मैथिलीमे लेखक आ पाठक एके छथि। कथा, महाकाव्य,नाटक, एकाङ्की आ उपन्यासक संग, कला-चित्रकला, संगीत, पाबनि-तिहार, मिथिलाक-तीर्थ,मिथिला-रत्न, मिथिलाक-खोज आ सामाजिक-आर्थिक-राजनैतिक समस्यापर सारगर्भित मनन। “विदेह” मे संस्कृत आ इंग्लिश कॉलम सेहो देल गेल, कारण ई ई-पत्रिका मैथिलक लेल अछि, मैथिली शिक्षाक प्रारम्भ कएल गेल संस्कृत शिक्षाक संग। रचना लेखन आ शोध-प्रबंधक संग पञ्जी आ मैथिली-इंग्लिश कोषक डेटाबेस देखिते-देखिते ठाढ़ भए गेल। इंटरनेट पर ई-प्रकाशित करबाक उद्देश्य छल एकटा एहन फॉरम केर स्थापना जाहिमे लेखक आ पाठकक बीच एकटा एहन माध्यम होए जे कतहुसँ चौबीसो घंटा आ सातो दिन उपलब्ध होअए। जाहिमे प्रकाशनक नियमितता होअए आ जाहिसँ वितरण केर समस्या आ भौगोलिक दूरीक अंत भऽ जाय। फेर सूचना-प्रौद्योगिकीक क्षेत्रमे क्रांतिक फलस्वरूप एकटा नव पाठक आ लेखक वर्गक हेतु, पुरान पाठक आ लेखकक संग, फॉरम प्रदान कएनाइ सेहो एकर उद्देश्य छ्ल। एहि हेतु दू टा काज भेल। नव अंकक संग पुरान अंक सेहो देल जा रहल अछि। विदेहक सभटा पुरान अंक pdf स्वरूपमे देवनागरी, मिथिलाक्षर आ ब्रेल, तीनू लिपिमे, डाउनलोड लेल उपलब्ध अछि आ जतए इंटरनेटक स्पीड कम छैक वा इंटरनेट महग छैक ओतहु ग्राहक बड्ड कम समयमे ‘विदेह’ केर पुरान अंकक फाइल डाउनलोड कए अपन कंप्युटरमे सुरक्षित राखि सकैत छथि आ अपना सुविधानुसारे एकरा पढ़ि सकैत छथि।
मुदा ई तँ मात्र प्रारम्भ अछि।
अपन टीका-टिप्पणी एतए पोस्ट करू वा अपन सुझाव ई-पत्र द्वारा ggajendra@videha.com पर पठाऊ।

'विदेह' २३२ म अंक १५ अगस्त २०१७ (वर्ष १० मास ११६ अंक २३२)

ऐ  अंकमे अछि :- १. संपादकीय संदेश २. गद्य २.१. जगदीश प्रसाद मण्‍डलक  दूटा लघु कथा   कोढ़िया सरधुआ  आ  त्रिकालदर ्शी २.२. नन...