Thursday, March 06, 2008

आहा के हँसब कमाल रहे साथी




आहा के हँसब कमाल रहे साथी !
हमरा आहा पर मलाल रहे साथी !!

दाग चेहरा पर दे गेलो आहा !
हम त सोच्लो गुलाब रहे साथी !!

रैत मs आबई अछि अहि के सपना !
दिन मs अहिके ख्याल रहे साथी !!

उइड़ गेल निंद हमर रैत के !
आहा'क एहने सवाल रहे साथी !!

करै लए गेल छलो दिलक सौदा !
कियो आयल छलैथ दलाल साथी !!

आहा के हँसब कमाल रहे साथी !
हमरा आहा पर मलाल रहे साथी !!

'विदेह' २२८ म अंक १५ जून २०१७ (वर्ष १० मास ११४ अंक २२८)

ऐ  अंकमे अछि :- १. संपादकीय संदेश २. गद्य २.१. डॉ. कैलाश कुमार मिश्र -  गौरी चोरनी ,  गौरी डाईन आ गौरी छिनारि: मधुश्रावणी कथा केर ...