Monday, February 11, 2008

केहेंन हुए आहा के जीवन साथी.....


मिथिला बहिन लोकेन के लेल खाश"

एक लड़की के लेल हुनकर विवाह बेहद महत्वपूर्ण क्षण होइत छैन ! अपन माँ - बाबूजी के साथ जीवन बिताबैं के पश्चात जखन ओ दोसर के जीवन संगिनी बैन क हुनकर घर जैत छैथ त निश्चित रूप स हुनका स किछ अपेक्षा रखैत छैथ ! जेय पर खरा उतरे के लेल हुनका एक आदर्श 'जीवन - संगनी ' के दायित्व निभाबे परेत छैन ! हुनकरे भूमिका पर घर के समृधि आर सुख - शान्ति काफी हद तक निर्भर करैत छैन ! कहल गेल अछि की सफल व्यक्ति के सफलता के पीछा स्त्री के हाथ होइत छैन ! अतः आहा एक आदर्श 'जीवन - संगिनी' भो साकेत छ्लो यदि आहा हर कदम पर अपन हम सफर के साथ दियेन आर परिवार म यदि सामंजस्य बनेना राखी ! आबू देखि कोना बनल जैय एक आदर्श 'जीवन - संगिनी'

* आर्थिक आधार पर अपन पति के ओरो स तुलना करब आहाके जीवन म जहर घोइल सके य ! अतः कखनो पाई क सुख आर समृधि के आधार नें समझे के गलती करू ! पाई स सोना के महल खरीद सके छी मुदा निंद नें ! बेहतर हेत यदि आहा अपन पति के जिम्मेदारी आर मज़बूरी क समझे के प्रयाश करी ! हुनकर काम म हाथ बटाबियोंन, अगर आहा पढ़ल - लिखल छी त आर्थिक सहयोग दे क हुनकर तनाव कम करे के प्रयाश करी ! आहक भावनात्मक नैतिक आर आर्थिक सहयोग हुनका आश्वस्त करतेंन की हुनकर जीवन-संगिनी दुःख - सुख म हुनकर साथ दें छैन ! बहिन सब स पैघ सहयोग होई छै भावनात्मक संबल जे एक पति क हुनकर जुझारू ऐवं सुलझल पत्नी के सिवा कियो नै दे सकेत छथिन ! माँ, बहिन के रिश्ता अपन जगह अत्यन्त महत्वपूर्ण होई छै ! खाली अहि के उपस्थिति हुनकर रिश्ता के पूर्ति नै करे छैन ! आहा क इ नै भुल्बाक चाही की हुन्करो अपन माँ - बाबूजी, भाई - बहिन छैन ! जिन्करो देखभाल हुनके केनेय छैन ! एहेंन स्थिति नै आबे दीयोंन की हुनकर परिवारक सदय्श अपना आप क उपेक्षित महसूस करैत !

* वर्तमान युग म संयुक्त परिवार के विघटन होई के एक बहुत बड़ा कारन इ छलें की विवाह के उपरांत अलग गृहस्थी बनाबे के बिचार मस्तिष्क पर हावी भेल जे रहल अछि ! भौतिक प्रतिस्पर्धा, आधुनिक चकाचौध आर अधिक स अधिक वस्तु के संग्रह के क आरामदायी जीवन व्यतीत करे के चाह हमरा सब क रहे या आई पाछा हम सब अपन सब सम्बन्ध क भूले दैत छलो ! हमरा सब क इ सोच्बाक चाही की विवाह के उपरांत अपन सास - ससुर के प्रति उपेक्षा के भावे आई वृधाश्रम के संख्या बढे रहल अछि ! ताहि लेल निक हेत की आहा अपन सब आवश्यकता म संतुलन बनेना राखी ! परिवार क बिखरे स बचाबी !


* अपन पति के योग्यता आर हुनकर क्षमता के तुलना दोसर स नै करबाक चाही ! किये की हुनकर तुलना दोसर स केने स हुनकर स्वाभिमान क ठेस पहुचतैन ! एक बात क सदैव गाठ बैंध क चलुकी आहा के पति चाहे जेहेंन हुवे , हुनका ओही रूप म स्वीकारी ! आपसी सामंजस्य, बुद्धिमत्ता आर सूझबूझ स गृहस्थी के गाड़ी क आगा बढाबी ! हुनकर मेहनत के प्रशंसा कारियोंन आर कन्धा स कन्धा मिले क गृहस्थी के सुख एश्वर्य बनाबे म हुनकर साथ दीयोंन ! याद रहे जिम्मेदारी म साझापन आर विचार म सामंजस्य बनेना राखब पति - पत्नी दुनु के जिमेदारी छी ! आहा यदि इ गुण अपनाबी त कैल अपन मिथिला समाज के दोसरो बहिन आहा स प्रेरित हेती ! उम्मीद करेत छलो हमर ब्लोग आहा सब पसंद करब !


हम जीतमोहन जी के तहे दिल स आभारी छियेंन जे ओ इ मैथिली" ब्लोग बनेलेथ आर ओई पर हमरा किछ लिखे के आग्रह केलेथ !

'विदेह' २३२ म अंक १५ अगस्त २०१७ (वर्ष १० मास ११६ अंक २३२)

ऐ  अंकमे अछि :- १. संपादकीय संदेश २. गद्य २.१. जगदीश प्रसाद मण्‍डलक  दूटा लघु कथा   कोढ़िया सरधुआ  आ  त्रिकालदर ्शी २.२. नन...