Tuesday, February 05, 2008

बड़ी मुश्किल स दोस्त मीलैत अछि !!


चाहूँगा मैं तुझे शाम सवेरे, फिर भी कभी अब नाम तो तेरे आवाज़ मैं न दूंगा !!


आहा के साथ किछ एहेंन भेल या की आहा अपन दोस्त क दिन - रैत याद करेत छलो मुदा कुनू मन मुटाव के कारन हुनका स बात नै करे चाहे छी ! आहा क अपन गहरी दोस्ती जरुर याद आबेत हेत , ओ मस्ती भरल शरारत, एक साथ बीतल ओ पल ॥ लेकिन जखन दोस्ती टूटे के याद आबेत हेत त फेर स मन कड़वाहट स भैर जैत हेत ! श्रीमान एहेंन के हेता जिनका अपन दोस्त स झगड़ा नै भेल हेतेंन ! दोस्ती त एहेंन चीज छिये की झगरा के बाद दोस्त स दूर रहेत एक पल चैन कहा होई छई ! मुदा इ हकीकत आइछ की जतेक दोस्ती गहरा होई य ओतेक मुश्किल बढे य ! झगरा के बाद दोस्त स कोना सुलह करबाक चाही जै स की दोस्तक" रिश्ता के मधुरता क बरक़रार राखी आर ओकरा फेर स जीवित करे के लेल आबू किछ बात करी किये की बड़ी मुश्किल स दोस्त मीलैत अछि !

दोस्ती म अहम क भूले दियो.......

अगर अपने अहम क हमेशा तवोज्जा देबेय त कुनू भी रिश्ता कायम राखब मुश्किल हेत ! दोस्ती म अपने क हमेशा पहला कदम बढ़बे के लेल तैयार रहबाक चाही ! यदि अपने स कुनू गलती हुए त ओकर स्थिति समझे के प्रयाश करबाक चाही आर अपन गलती महशुस करबाक चाही ! ऐहेन नै होबाक चाही की छोट - मोट बात पर टूटल दोस्ती के वजह स जिंदगी के कुनू मोड़ पर अपने एक खास दोस्त के कमी हमेशा महसूस करी ! यदि गलती हुनको स होइन त इ नै भुलू की ओहो अहि जाका एक इंसान छैथ ! इ बात यदि आहा जैन जाय त आहा के लेल सॉरी कहब सुलह के पहला कदम बधैब बहुत आसान भो जायत !


एकांत म खुद स किछ सवाल ......

एकांत म याद करी की झगरा के कारन की आइछ ? गलती किंकर छैन ? गलती यदि आहा स भेल आइछ त की आहा वाकई म गलती मनैत माफी मांगे चाहे छी ! आर यदि गलती अपने के दोस्त स भेल छलेन् त की अपने हुनकर गलती क भूले क हुनका माफ के सकैत छी ? अई तरहक सवाल पर बिचार के क सुलह के तरफ कदम बधाइल जे सके य !

बताबियोंन की दोस्ती आहा के लेल मायने राखै य .....


जखन आहा झगड़ा के बाद सुलह करै के लेल अपन दोस्त स मिलेय ल जाय छी त हुनका जताबियोंन की हुनकर दोस्ती आहा के लेल कतेक मायने रखे य आर आहा क हुनकर कतेक परवाह आइछ !

अपन गलती हुनका लग मानियोंन.....


अगर आहा अपन गलती मानेय लय तैयार छी त जखन आहा क दोस्त स मिले के मोका मिला त हुनका कहियोंन की अपने हुनका स माफी मांगे ल चाहे छी ! आर हुनका समझाबे के प्रयाश करू की अपने स ओ गलती कुन परिस्थिति म भेल छले !

दोस्ती चाहे छी ........


आहा दोस्त स कहियोंन की आहा हुनकर दोस्ती छोड़ब नै चाहे छी ! अई तरहक गलती दुबारा आहा स नै हेत ! तखन देखु आहा के दोस्ती कतेक परवान चढ़े य !

'विदेह' २३२ म अंक १५ अगस्त २०१७ (वर्ष १० मास ११६ अंक २३२)

ऐ  अंकमे अछि :- १. संपादकीय संदेश २. गद्य २.१. जगदीश प्रसाद मण्‍डलक  दूटा लघु कथा   कोढ़िया सरधुआ  आ  त्रिकालदर ्शी २.२. नन...