Saturday, November 15, 2008

अंधेर नगरी चौपट राजा - मदन कुमार ठाकुर

एक समयक बात अछि, एक दिन गुरु आर चेला चिंता मणि दुनु गोटे तीर्थयात्रा पर निकललाह बहुत दूर जखन गेला रास्ता मे दुनु आदमी केँ भूख लागि गेल छलनि तs दुनु गोटा एगो मिठाई के दोकान पर गेलाह दोकानदार सँ कहलखिन जे हमरा दुनु आदमी के भोजन करबाक अछि अहाँ कतेक पाई लेब !

दोकानदार कहलकनि हम अहाँ दुनु आदमी सँ ५० - ५० पाई के हिसाब सँs भोजनक रेट लेब ! दुनु आदमी सोचलथि ई नगरी मेs बहुत महगाय छैक आगू जा के कुनू दोसर दोकान पर भोजन करब ! हुनका सभ केँ भूख बहुत जोर लागल छलनि ओ सभ दोसर दोकान पर पहुचला दोकानदार सँs पुछलखिन तँs दोकानदार कहलकनि जे हम अहाँ दुनु आदमीक २५ - २५ पाई केँ हिसाब सँs भोजन करायब !

गुरूजी आ चिंतामणिजी सोचलथि जे ई नगरी मे सबसँ सस्ता छैक अहि सँ सस्ता दोसर नगरी मे नञि भेटत हम भोजन एतहि करब ! अहिठामक भोजन सेहो बहुत स्वादिष्ट होइत अछि ! चिंतामणिजी गुरूजी सँs कहलखिन गुरूजी हम अहि नगरी मे रहब कियेकी अहिठाम सब किछ बहुत सस्ता भेटैत छैक आर भोजन सेहो बहुत स्वादिष्ट होइत अछि ! गुरुजी कहलखिन अहाँ अहिठाम नञि रहू कियेकी अहि नगरी मे भारी संकट आबय बला अछि ! अहाँ केँs अपन जानक बलिदान देबय पड़त ! चिंतामणि गुरुक बात नञि मान्अलथि ओ अपन गुरुजीक संग छोड़ि देलखिन ! चिंतामणि केँs अहिनगरी मे बहुत सुख आर आनंद आबय छलनि ! तहि सँs खा's पीs क' बहुत मोटाक' सिल भ's गेलथि !

समय बितलगेल भादव के महिना सेहो आबिगेल छल, कोसी नदी मेs बाढ़ि सेहो आबी गेल तहि सँs कतेक गाम सेहो दहा गेल छल, ओही नगरीमे सेहो पानि आबिगेल छल ! मंगला अपन जान बचबैक खातिर अपन घर - आँगन छोड़ि के भागिगेल आ बच्चा सभ के सेहो छोड़िक' चलि गेल छल ! ओकर घर - द्वार सभ खसि पड़ल ताहि सँ ओकर बेटाक मृत्यु भ's गेल छलय ! ई बात पूरा गाम मे सोर भ' गेलय जे मंगला अपन जान बचबै के खातिर अपन बेटाक बलिदान द् देलक ई बात ओही नगरी के राजा क's खबर भेलनि त's राजा अपन सेनापति सँs कहलखिन जे मंगला कs खोजि क's ला' हम ओकरा फाँसीक सजा देब ओ बहुत जुर्म केलक हन ! मंगलाक खोजि केs राजदरवार मेs पेस करल गेल ओकरा सँs राजा कहलखिन रोऊ मंगला तू ई गलती किये करले ? !

मंगला बजलथि .... हजूर हम त कुनू गलती नञि केलहुँ, हम त बच्चा केs छोड़िये टा क' भगलहुँ ई गलती तs राजमिस्त्री केलक जे हमर घर के छत ठीक सँs नञि बनेलक !


राजाक हुकुम भेलनि जे जल्दी सँs जल्दी राजमिस्त्री केँ दरवार मेs पेस कर'लए जे ओ बड गलती केलक जे कच्चा मकान बनेलक ........

दोसर दिन राज मिस्त्री राजदरवार मेs हाजिर भेलाह ओ राजा सँs कहलखिन हजूर गलती हम नञि केलहुँ, हम तँs छते टा बनेलहुँ, गिलेबा ख़राब त's हमर हेल्फर चुनचुनमा केलक आब अहीं कहू हमर कतय गलती अछि !

राजा फेर सेनापति केँs आदेश देलखिन जे चुनचुनमा केँs जल्दी बजा'क' लाऊ .......

तेसर दिन चुनचुनमा राजदरवार मेs हाजिर भेल... राजा हुनका सँ पुछलखिन जे रोऊ चुनचुनमा तू एहेंन गलती कियेक केलाह ...?

चुनचुनमा बाजल हजूर सभटा गलती हमही नञि केलहुँ गलती तँs ओही मईटो मेs छल जे ओ मईट बलुवाहा छल तैयो हम मज़बूरी मेs गिलेबा बनेलहुँ कियेकी हमरा पाई के बहुत जरुरत छल ! इहे हमरा सँs गलती भेल ! आब हजूर हमरा अहां जे सजा दी सभ हमरा मंजूर अछि !

राजा चुनचुनमा केs फाँसी के सजा सुनेल्खिन...........

राजा चंडाल केँs चुन्चुनमा के लेल फाँसीक फंदा तैयार करे के आदेश देलखिन चंडाल फाँसीक फंदा अपन हिसाब सँs तैयार केलक, चारिम दिन चुन्चुनमा केँ फाँसी के फंदा पर चढ़ाओल गेल ! फाँसीक फंदा लम्बा - चौरा छल .... चुन्चुनमा बहुत दुबर पातर ताहिसँs ससरिके फाँसीक फंदा सँs निचा उतरि गेल आ बगल मे जा's कएs ठाढ़ भ'sगेल....

सब कियो टकटक देखते रहि गेल ............

चंडाल चुन्चुनमा केँs दुबारा फाँसीक फंदा पर चढ्बए लागल...मुदा राजा ओकरा मना क' देलखिन ! राजा क हुकुम भेलनि जे चुनचुनमा केँs दुबारा सजा नञि हेतनि कियेकी राजदरवारक नियम होइत अछि जे एक आदमी केँs सजा एके बेर होइत छैक.... ताहि दुवारे अहि फंदा पर ओकरा सजा भेटतनि जकर गरदनि अहि फंदा मेs ठीक सँs बैसतैक..... सेनापति केँs राजा आदेश देलखिन जे अहाँ फंदा क हिसाब सँs कुनू आदमी पकड़ि क' लाऊ हम ओकरा फाँसीक सजा देबयs .......

सेनापति पूरा राज मेs घुमलाह हुनका चिंतामणिक गरदनि फंदाक हिसाबे सही बुझेलनि ! राजा केँ जे आदेश रहनि से ओ चिंतामणि सँs सुनेलखिन ! राजाक आदेश सुनि कएs चिंतामणि बहुत चिंतित भेलाह, ओ सोचए लगलाह की आब हम की करी चारू दिस हुनका किछ नञि सुझैत छनि ! तखने हुनका गुरूजीक बात याद परलनि ओ सोचलथि जे आब हमरा अपन जानक बलिदान सँs गुरुवेजी टा बचेताह दोसर कियो नञि !


चिंतामणि गुरुजीक ध्यान करए लगलाह.......

बनदे बोदमयंनितयंग गुरुर शंकर रूपनं !

यमासर्तोही बक्रोपि चन्द्रः सरबस्तर बन्देयेत !!
गुरुर ब्रह्मा गुरुर विष्णु गुरुर देवो महेश्वर: !
गुरुर साक्षात् परम ब्रह्म तस्मै श्री गुरुवे नम: !!
अखंडमंडलाकारंग व्याप्त येनग चराचरम !
तत्पदं दर्शितंग तस्मै श्री गुरुवे नम: !!
अज्ञान तिमरामिराधस्य ज्ञानानां शलाकय: !
चक्षुरपितयेंग तस्मै श्री गुरुवे नम: !! इत्यादि .........


चिंतामणिक स्मरण केला सँs गुरूजी केँ अचानक याद अलयनि जे हमर चेला चिंतामणि काफी संकट मेs फसल छथि ! हुनका अहि संकट सँs उबारनाय हमर धर्म अछि ! गुरूजी फेर ओही नगरी मे वापस आबि गेलाह आ चिंतामणि सँs हुनकर वार्तालाप सेहो भेलनि ! गुरूजी सब बात सँ अवगत भेला के बाद चिंतामणि केँs बोल भरोस देलखिन जे अहाँ चिंता जूनि करू हम आबि गेल छी !

चारिम दिन चिंतामणि राज दरवार मेs हाजिर भेलाह ! राजा हुनका फाँसी के सजा सुनेलकनि .....

तखने गुरूजी राजा सँs अर्जी केलनि हे राजन चिंतामणि एखन नवयुवक छथि हम बृध सेहो भ's गेल छी ताहि दुवारे अहाँ हमरा फाँसी के सजा दिअ जे हम अहि फाँसी पर चढ़ि क's स्वर्गलोक चलि जायब जाहिसे हमर तीनो लोक मेs जय - जय कार होमए लागत !

ई बात सुनि कए राज दरवार मेs जतेक लोक सभ बैसल छल सब कियो बेरा - बेरी राजा सँs अर्जी आर विनती केलथि जे हे राजन अहि फाँसी पर चढ़ि क' हम स्वर्गलोक जायब जाहिसँ हमर जय - जय कार तिनोलोक मेs होयत !

ई बात सुनि क' राजा अपना मोन मेs विचार केलथि जे कियेक नञि हमही अहि फाँसी पर चढ़ि क' स्वर्गलोक चलि जाइ जे हमर जय - जय कार तीनो लोक मेs होयत ! राजा झटसं अपन गद्दी सँ उतरि क's फाँसी क फंदा मे जा's क's लटकि गेलाह आ चंडाल केँs आदेश देलखिन जे फाँसी केँ उठा दे .....

राजा यमलोक चलि गेलाह .....

अहि दुवारे कहल गेल अछि अंधेर नगरी चौपट राजा ......


जय मैथिली, जय मिथिला


मदन कुमार ठाकुर, कोठिया पट्टीटोल, झंझारपुर (मधुबनी) बिहार - ८४७४०४,
मोबाईल +919312460150 , ईमेल -
madanjagdamba@rediffmail.com

9 comments:

  1. bahut nik.....
    khub likhu..
    ahan ke dhanyabad....

    ReplyDelete
  2. फेर एकबेर नीक प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  3. मदन जी बहुत निक लिखलो आशा अछी अहिना लिखैत रहु
    जय मैथिल जय मिथिला

    ReplyDelete
  4. ee blog nirantar rachnatmak aa navin rachna se poorna bujhi me abait achhi, matik sugandhik sang

    ReplyDelete
  5. बहुत - बहुत धन्यवाद पाठक गन के जे ओ अपन किमती व्क्त हमर रचना में देलैन , हम अपनेक सबक के अभारी छी -----
    जय मैथिल जय मिथिला

    ReplyDelete
  6. Anonymous6:19 PM

    bhut sundar bichar se likhlo sab tarhe Aakrshit krait Achhi .
    Gopal jha
    madhubani

    ReplyDelete

"विदेह" प्रथम मैथिली पाक्षिक ई पत्रिका http://www.videha.co.in/:-
सम्पादक/ लेखककेँ अपन रचनात्मक सुझाव आ टीका-टिप्पणीसँ अवगत कराऊ, जेना:-
1. रचना/ प्रस्तुतिमे की तथ्यगत कमी अछि:- (स्पष्ट करैत लिखू)|
2. रचना/ प्रस्तुतिमे की कोनो सम्पादकीय परिमार्जन आवश्यक अछि: (सङ्केत दिअ)|
3. रचना/ प्रस्तुतिमे की कोनो भाषागत, तकनीकी वा टंकन सम्बन्धी अस्पष्टता अछि: (निर्दिष्ट करू कतए-कतए आ कोन पाँतीमे वा कोन ठाम)|
4. रचना/ प्रस्तुतिमे की कोनो आर त्रुटि भेटल ।
5. रचना/ प्रस्तुतिपर अहाँक कोनो आर सुझाव ।
6. रचना/ प्रस्तुतिक उज्जवल पक्ष/ विशेषता|
7. रचना प्रस्तुतिक शास्त्रीय समीक्षा।

अपन टीका-टिप्पणीमे रचना आ रचनाकार/ प्रस्तुतकर्ताक नाम अवश्य लिखी, से आग्रह, जाहिसँ हुनका लोकनिकेँ त्वरित संदेश प्रेषण कएल जा सकय। अहाँ अपन सुझाव ई-पत्र द्वारा ggajendra@videha.com पर सेहो पठा सकैत छी।

"विदेह" मानुषिमिह संस्कृताम् :- मैथिली साहित्य आन्दोलनकेँ आगाँ बढ़ाऊ।- सम्पादक। http://www.videha.co.in/
पूर्वपीठिका : इंटरनेटपर मैथिलीक प्रारम्भ हम कएने रही 2000 ई. मे अपन भेल एक्सीडेंट केर बाद, याहू जियोसिटीजपर 2000-2001 मे ढेर रास साइट मैथिलीमे बनेलहुँ, मुदा ओ सभ फ्री साइट छल से किछु दिनमे अपने डिलीट भऽ जाइत छल। ५ जुलाई २००४ केँ बनाओल “भालसरिक गाछ” जे http://www.videha.com/ पर एखनो उपलब्ध अछि, मैथिलीक इंटरनेटपर प्रथम उपस्थितिक रूपमे अखनो विद्यमान अछि। फेर आएल “विदेह” प्रथम मैथिली पाक्षिक ई-पत्रिका http://www.videha.co.in/पर। “विदेह” देश-विदेशक मैथिलीभाषीक बीच विभिन्न कारणसँ लोकप्रिय भेल। “विदेह” मैथिलक लेल मैथिली साहित्यक नवीन आन्दोलनक प्रारम्भ कएने अछि। प्रिंट फॉर्ममे, ऑडियो-विजुअल आ सूचनाक सभटा नवीनतम तकनीक द्वारा साहित्यक आदान-प्रदानक लेखकसँ पाठक धरि करबामे हमरा सभ जुटल छी। नीक साहित्यकेँ सेहो सभ फॉरमपर प्रचार चाही, लोकसँ आ माटिसँ स्नेह चाही। “विदेह” एहि कुप्रचारकेँ तोड़ि देलक, जे मैथिलीमे लेखक आ पाठक एके छथि। कथा, महाकाव्य,नाटक, एकाङ्की आ उपन्यासक संग, कला-चित्रकला, संगीत, पाबनि-तिहार, मिथिलाक-तीर्थ,मिथिला-रत्न, मिथिलाक-खोज आ सामाजिक-आर्थिक-राजनैतिक समस्यापर सारगर्भित मनन। “विदेह” मे संस्कृत आ इंग्लिश कॉलम सेहो देल गेल, कारण ई ई-पत्रिका मैथिलक लेल अछि, मैथिली शिक्षाक प्रारम्भ कएल गेल संस्कृत शिक्षाक संग। रचना लेखन आ शोध-प्रबंधक संग पञ्जी आ मैथिली-इंग्लिश कोषक डेटाबेस देखिते-देखिते ठाढ़ भए गेल। इंटरनेट पर ई-प्रकाशित करबाक उद्देश्य छल एकटा एहन फॉरम केर स्थापना जाहिमे लेखक आ पाठकक बीच एकटा एहन माध्यम होए जे कतहुसँ चौबीसो घंटा आ सातो दिन उपलब्ध होअए। जाहिमे प्रकाशनक नियमितता होअए आ जाहिसँ वितरण केर समस्या आ भौगोलिक दूरीक अंत भऽ जाय। फेर सूचना-प्रौद्योगिकीक क्षेत्रमे क्रांतिक फलस्वरूप एकटा नव पाठक आ लेखक वर्गक हेतु, पुरान पाठक आ लेखकक संग, फॉरम प्रदान कएनाइ सेहो एकर उद्देश्य छ्ल। एहि हेतु दू टा काज भेल। नव अंकक संग पुरान अंक सेहो देल जा रहल अछि। विदेहक सभटा पुरान अंक pdf स्वरूपमे देवनागरी, मिथिलाक्षर आ ब्रेल, तीनू लिपिमे, डाउनलोड लेल उपलब्ध अछि आ जतए इंटरनेटक स्पीड कम छैक वा इंटरनेट महग छैक ओतहु ग्राहक बड्ड कम समयमे ‘विदेह’ केर पुरान अंकक फाइल डाउनलोड कए अपन कंप्युटरमे सुरक्षित राखि सकैत छथि आ अपना सुविधानुसारे एकरा पढ़ि सकैत छथि।
मुदा ई तँ मात्र प्रारम्भ अछि।
अपन टीका-टिप्पणी एतए पोस्ट करू वा अपन सुझाव ई-पत्र द्वारा ggajendra@videha.com पर पठाऊ।

'विदेह' २३२ म अंक १५ अगस्त २०१७ (वर्ष १० मास ११६ अंक २३२)

ऐ  अंकमे अछि :- १. संपादकीय संदेश २. गद्य २.१. जगदीश प्रसाद मण्‍डलक  दूटा लघु कथा   कोढ़िया सरधुआ  आ  त्रिकालदर ्शी २.२. नन...