Saturday, October 11, 2008

कान्तिपुर, नेपालक तुलजाभवानी मंदिरक शिलालेख पर अंकित प्रतापमल्लक मैथिली गीत





कवीन्द्र प्रतापमल्ल(१६४१-७४)- नरसिंहमल्लक पश्चात् कान्तिपुरक राजसिंहासनपर बैसलाह। हिनकर भक्तपुर, पाटन आऽ मधेसपर धाक छलन्हि। हिनकर वैवाहिक सम्बन्ध कूचबिहारक राजा वीरनाराय़णक पुत्री रूपमती, कर्णाट-कन्या राजमती, महोत्तरी राज्याधिप कीर्तिनारायणक पुत्री लालमीत ओ अनन्तप्रिया, प्रभावतीक सग छलन्हि। संस्कृत, नेवारी, मैथिली आऽ नेपालीक संग आन भाषा सभक विद्वान् छलाह आऽ तिरहुता समेत पन्द्रह तरहक लिपिक सूचना हुनकर शिलालेखमे प्राप्त होइत अछि।

हेरह हरषि दूष हरह भवानि।
तुअ पद सरण कएल मने जानि।।

मोय अतुइ दीन हीन मति देषि।
कर करुणा देवि सकल उपेषि॥

कुतनय करय सहस अपराध।
तैअओ जननि कर वेदन बाध॥

परतापमल्ल कहए कर जोरि।
आपद दूर कर करनाट किशोरि॥

17 comments:

  1. जितेन्द्र झा (जीतू) जी, अहाँ मिथिला आर मैथिलपर स्वागत अछि। नेपालक मैथिल समाज आऽ साहित्यसँ एहिना आगाँ सेहो अहाँ हमरा लोकनिक परिचय करबैत रहब, से आशा अछि। आइ एहि ब्लॉगमे एकटा आर विशेषता जुड़ि गेल।
    গজেন্দ্র ঠাকুব

    ReplyDelete
  2. आदरणीय झाजी प्रणाम
    मैथिल आर मिथिला पर अपनेक स्वागत अछि ! अपनेकेँ एहीठाम देखि काँ बहुत खुश भेलो जकर दुईगोट कारण अछि, पहिलुक ई जे आहाकेँ आर हमर नाम एके अछि, दोसर अपने नेपालसँ पधारल छी ! सच पुछूतँ आई अपनेक उपस्थितिसँ हम महसूस केलो की हमर मेहनत सफल भोs गेल ! अपनेसँ हमर अनुरोध अछि जे नेपालक सभ मैथिली प्रेमी लोकेनकेँ एहिठाम जोरे के प्रयास करब ....


    धन्यवाद ....

    ReplyDelete
  3. svagat achi jitendra ji, active roop me likhait rahi se aagrah.

    ReplyDelete
  4. Jitu ji, ee blog bad din se dekhi rahal chhi, stutya prayas achhi.

    ReplyDelete
  5. bad nik, dunu jitu bhaiya mil ke jhamka deliyaik.

    ReplyDelete
  6. परतापमल्ल कहए कर जोरि।
    आपद दूर कर करनाट किशोरि॥

    bah, bar nik jitendra ji.

    ReplyDelete
  7. svagat achi jitendra ji.

    ReplyDelete
  8. jitendra ji ahan ke aagman ehi blog ke sundarta me chari chand laga delak

    ReplyDelete
  9. नमस्कार जीतू जी। शुरुआत बड्ड नीक। आब अपन लिखल रचना सेहो पोस्ट करू, बेसब्रीसँ प्रतीक्षा क' रहल छी।

    ReplyDelete
  10. excellent beginning jitendra ji. keep it up.

    ReplyDelete
  11. हेरह हरषि दूष हरह भवानि।
    तुअ पद सरण कएल मने जानि।।

    मोय अतुइ दीन हीन मति देषि।
    कर करुणा देवि सकल उपेषि॥

    कुतनय करय सहस अपराध।
    तैअओ जननि कर वेदन बाध॥

    परतापमल्ल कहए कर जोरि।
    आपद दूर कर करनाट किशोरि॥
    bah

    ReplyDelete
  12. bad nik, apan rachna seho jaldi se post karu.

    ReplyDelete
  13. dhamgijjar kay delho jitendra ji, apan rachna seho pathau, jaldi se

    ReplyDelete
  14. उच्चस्तरीय रचना अछि एतए।

    डॉ. पालन झा

    ReplyDelete
  15. हेरह हरषि दूष हरह भवानि।
    तुअ पद सरण कएल मने जानि।।

    jay ma, jhuma delau jitu bhai, dunu jitu bhai

    ReplyDelete
  16. जितमोहन जी अहां के ब्लोग बहुत मौलिक अईछ.डिजाईन और सन्ग्र्ह अत्यंत उत्तम श्रेणी के अईछ। ब्लोग्गिं जारी राखू । बेस्ट Wishes !

    ReplyDelete

"विदेह" प्रथम मैथिली पाक्षिक ई पत्रिका http://www.videha.co.in/:-
सम्पादक/ लेखककेँ अपन रचनात्मक सुझाव आ टीका-टिप्पणीसँ अवगत कराऊ, जेना:-
1. रचना/ प्रस्तुतिमे की तथ्यगत कमी अछि:- (स्पष्ट करैत लिखू)|
2. रचना/ प्रस्तुतिमे की कोनो सम्पादकीय परिमार्जन आवश्यक अछि: (सङ्केत दिअ)|
3. रचना/ प्रस्तुतिमे की कोनो भाषागत, तकनीकी वा टंकन सम्बन्धी अस्पष्टता अछि: (निर्दिष्ट करू कतए-कतए आ कोन पाँतीमे वा कोन ठाम)|
4. रचना/ प्रस्तुतिमे की कोनो आर त्रुटि भेटल ।
5. रचना/ प्रस्तुतिपर अहाँक कोनो आर सुझाव ।
6. रचना/ प्रस्तुतिक उज्जवल पक्ष/ विशेषता|
7. रचना प्रस्तुतिक शास्त्रीय समीक्षा।

अपन टीका-टिप्पणीमे रचना आ रचनाकार/ प्रस्तुतकर्ताक नाम अवश्य लिखी, से आग्रह, जाहिसँ हुनका लोकनिकेँ त्वरित संदेश प्रेषण कएल जा सकय। अहाँ अपन सुझाव ई-पत्र द्वारा ggajendra@videha.com पर सेहो पठा सकैत छी।

"विदेह" मानुषिमिह संस्कृताम् :- मैथिली साहित्य आन्दोलनकेँ आगाँ बढ़ाऊ।- सम्पादक। http://www.videha.co.in/
पूर्वपीठिका : इंटरनेटपर मैथिलीक प्रारम्भ हम कएने रही 2000 ई. मे अपन भेल एक्सीडेंट केर बाद, याहू जियोसिटीजपर 2000-2001 मे ढेर रास साइट मैथिलीमे बनेलहुँ, मुदा ओ सभ फ्री साइट छल से किछु दिनमे अपने डिलीट भऽ जाइत छल। ५ जुलाई २००४ केँ बनाओल “भालसरिक गाछ” जे http://www.videha.com/ पर एखनो उपलब्ध अछि, मैथिलीक इंटरनेटपर प्रथम उपस्थितिक रूपमे अखनो विद्यमान अछि। फेर आएल “विदेह” प्रथम मैथिली पाक्षिक ई-पत्रिका http://www.videha.co.in/पर। “विदेह” देश-विदेशक मैथिलीभाषीक बीच विभिन्न कारणसँ लोकप्रिय भेल। “विदेह” मैथिलक लेल मैथिली साहित्यक नवीन आन्दोलनक प्रारम्भ कएने अछि। प्रिंट फॉर्ममे, ऑडियो-विजुअल आ सूचनाक सभटा नवीनतम तकनीक द्वारा साहित्यक आदान-प्रदानक लेखकसँ पाठक धरि करबामे हमरा सभ जुटल छी। नीक साहित्यकेँ सेहो सभ फॉरमपर प्रचार चाही, लोकसँ आ माटिसँ स्नेह चाही। “विदेह” एहि कुप्रचारकेँ तोड़ि देलक, जे मैथिलीमे लेखक आ पाठक एके छथि। कथा, महाकाव्य,नाटक, एकाङ्की आ उपन्यासक संग, कला-चित्रकला, संगीत, पाबनि-तिहार, मिथिलाक-तीर्थ,मिथिला-रत्न, मिथिलाक-खोज आ सामाजिक-आर्थिक-राजनैतिक समस्यापर सारगर्भित मनन। “विदेह” मे संस्कृत आ इंग्लिश कॉलम सेहो देल गेल, कारण ई ई-पत्रिका मैथिलक लेल अछि, मैथिली शिक्षाक प्रारम्भ कएल गेल संस्कृत शिक्षाक संग। रचना लेखन आ शोध-प्रबंधक संग पञ्जी आ मैथिली-इंग्लिश कोषक डेटाबेस देखिते-देखिते ठाढ़ भए गेल। इंटरनेट पर ई-प्रकाशित करबाक उद्देश्य छल एकटा एहन फॉरम केर स्थापना जाहिमे लेखक आ पाठकक बीच एकटा एहन माध्यम होए जे कतहुसँ चौबीसो घंटा आ सातो दिन उपलब्ध होअए। जाहिमे प्रकाशनक नियमितता होअए आ जाहिसँ वितरण केर समस्या आ भौगोलिक दूरीक अंत भऽ जाय। फेर सूचना-प्रौद्योगिकीक क्षेत्रमे क्रांतिक फलस्वरूप एकटा नव पाठक आ लेखक वर्गक हेतु, पुरान पाठक आ लेखकक संग, फॉरम प्रदान कएनाइ सेहो एकर उद्देश्य छ्ल। एहि हेतु दू टा काज भेल। नव अंकक संग पुरान अंक सेहो देल जा रहल अछि। विदेहक सभटा पुरान अंक pdf स्वरूपमे देवनागरी, मिथिलाक्षर आ ब्रेल, तीनू लिपिमे, डाउनलोड लेल उपलब्ध अछि आ जतए इंटरनेटक स्पीड कम छैक वा इंटरनेट महग छैक ओतहु ग्राहक बड्ड कम समयमे ‘विदेह’ केर पुरान अंकक फाइल डाउनलोड कए अपन कंप्युटरमे सुरक्षित राखि सकैत छथि आ अपना सुविधानुसारे एकरा पढ़ि सकैत छथि।
मुदा ई तँ मात्र प्रारम्भ अछि।
अपन टीका-टिप्पणी एतए पोस्ट करू वा अपन सुझाव ई-पत्र द्वारा ggajendra@videha.com पर पठाऊ।

'विदेह' २३२ म अंक १५ अगस्त २०१७ (वर्ष १० मास ११६ अंक २३२)

ऐ  अंकमे अछि :- १. संपादकीय संदेश २. गद्य २.१. जगदीश प्रसाद मण्‍डलक  दूटा लघु कथा   कोढ़िया सरधुआ  आ  त्रिकालदर ्शी २.२. नन...