Saturday, February 23, 2008

सुख - कोना सुखी रही ?



कोना सुखी रही ? मानव सभ्यता के आरंभ स इ प्रश्न मनुष्य क परेशान केना छई ! दार्शनिक, कवी, लेखक, विचारक, वैज्ञानिक आर नेता इ सब लोकेन अपन - अपन तरीका स अई प्रश्न के उत्तर के खोज आर व्याख्या केलखिन यए ! मुदा आइयो मनुष्य इ प्रश्न अनुत्तरिय अछि ! वर्तमान समय म आई जखन हमरा पास नया युग के आधुनिक चिंतन अछि, नई पीढ़ी के दार्शनिक, मैनेजमेंट मसीहा, आर सब समस्या के तुरंत निदान करै वाला विशेशग्य अछि ! आध्यात्मिक स्वर्ग के सुख दै वाला गुरु आर अई संसार त्वरित मोक्ष के अनुभूति दिलाबे बाला स्वामी सब छैथ ! मुदा सुखी केना रही इ प्रश्न ज्यों के त्यों अछि ! किछ दिन पहिने हम अई प्रश्न के बहुत रोचक आर सुखद आर दुःख पर प्रकाश डाले वाला उत्तर स रु ब रु भेलो जकरा हम अपने सब के बिच बांटे के इक्षुक छलो ! श्री श्री रवि शंकर जी द् आर्ट ऑफ लिविंग संस्था के संस्थापक कहैत छथिन की " अई ठाम दु टा कारण अछि दुःख के ! अतीत के पछतावा आर भविष्य के चिंता ! कतेक पैघ गप कहाल्खिंन ओ ? हम सब अक्शर सोचेत छलो की काश हमर विवाह किनको और स हेतिया ! हम ओ दोसर बाला नोकरी किये न स्वीकार केलो ? आदि आदि ! हमर सब के मस्तिष्क हमेशा अतीत आर भविष्य के बिच उलझल रहैत अछि ! या त हम सब बैह गेल दूध के लेल दुखी होइत छलो या ओई पुल क पार करै के प्रयाश म जाकर तक हम पहुचो नै सके छी ! अनावश्यक रूप स भेल घटना पर अपन माथा पेच्ची करै छी या जे होई बाला य ओकर चिंता मए वर्तमान क व्यर्थ करैत छलो ! बीत चुकल कैल के पश्याताप आर आबे बाला कैल के उत्सुकता मए हम आई के अनमोल पल के हरेनाए जय छी ! त अहि कहू हम सब सुख कोना प्राप्त करब ? श्री श्री रवि शंकर जी के कथन अनुसार हमरा सब कए इ स्वीकार करै परत की वर्तमाने सब किछ अछि ! हमरा वर्तमान के क्षण क पूरा तरह जिवाक चाही आर वर्तमान म हम जे के रहलो य ओई म अपन पूरा क्षमता लगे कए ओही मए अपन पूरा ध्यान केन्द्रित करी ! हमरा सब कए आई आर एखन म विश्वास करैये परत ! की भेल आर की हेत म भो सके य इ बात अपने कए असंभव प्रतीत हुए ! सचमुच म इ सिख लेब कठिन अछि ! जखन भी एक बच्चा एक कागज पर किछ चित्रित करैत छैथ, कागज के नाव पैन मए तैरैत या एक पंक्षी क उडैत देखैत छैथ ! ओई समय म ओ अपन पूरा ध्यान ओही काज मए लगबैत छैथ ! हुनका तनिको चिंता नै रहैत छैन की कियो हुनका देख रहलेंन य या कियो हुनका पर हैस रहलें या ! ओकरा इयो बात परेशान नै करे छई की ओ किछ देर पहिना की केला रहा आर किछ देर बाद की करता ! ओ त खाली अपन काज म मगन रहैत छैथ ! हम सब इ प्रकृति प्रदत्त बिना स्वचेतन भेल बच्चा के तरह वर्तमान के क्षण म जिवई के इ गुण क हरे चुकलो य ! जखन की सबसे बेहतर तरीका अछि जीवन म ख़ुशी ढूढाई के बजाय ओकरा कए हम पैकेज्ड मोक्ष आर ब्रांडेड निर्वाण के लेल भागी !

इ छोट-मोट बात क ध्यान म राखैत जीवन म सदा सुखी रैहसके छी

4 comments:

  1. mamtaa jee,
    shubh sneh. kamaal ke darshan prastut kailoun ahan sukh aa dukh par.aihenaa likhat rahoo. jaldeeye hamhun maithili mein bahut kichh likhay ke prayaas karab

    ReplyDelete
  2. अपने के बहुत - बहुत धन्यवाद की हमर ब्लोग अपने पसंद केलो ! जैन क ख़ुशी मिलल की अपने के रूप म इ मैथिली ब्लोग क एक लेखक मिललाई, ऐहिना अपन मांटी के गौरव बढाबू !

    ReplyDelete
  3. baDDa nik blog achhi ee

    ReplyDelete
  4. ee blog samanya aa gambhir dunu tarahak pathakak lel achhi, maithilik bahut paigh seva ahan lokani kay rahal chhi, takar jatek charchaa hoy se kam achhi.

    dr palan jha

    ReplyDelete

"विदेह" प्रथम मैथिली पाक्षिक ई पत्रिका http://www.videha.co.in/:-
सम्पादक/ लेखककेँ अपन रचनात्मक सुझाव आ टीका-टिप्पणीसँ अवगत कराऊ, जेना:-
1. रचना/ प्रस्तुतिमे की तथ्यगत कमी अछि:- (स्पष्ट करैत लिखू)|
2. रचना/ प्रस्तुतिमे की कोनो सम्पादकीय परिमार्जन आवश्यक अछि: (सङ्केत दिअ)|
3. रचना/ प्रस्तुतिमे की कोनो भाषागत, तकनीकी वा टंकन सम्बन्धी अस्पष्टता अछि: (निर्दिष्ट करू कतए-कतए आ कोन पाँतीमे वा कोन ठाम)|
4. रचना/ प्रस्तुतिमे की कोनो आर त्रुटि भेटल ।
5. रचना/ प्रस्तुतिपर अहाँक कोनो आर सुझाव ।
6. रचना/ प्रस्तुतिक उज्जवल पक्ष/ विशेषता|
7. रचना प्रस्तुतिक शास्त्रीय समीक्षा।

अपन टीका-टिप्पणीमे रचना आ रचनाकार/ प्रस्तुतकर्ताक नाम अवश्य लिखी, से आग्रह, जाहिसँ हुनका लोकनिकेँ त्वरित संदेश प्रेषण कएल जा सकय। अहाँ अपन सुझाव ई-पत्र द्वारा ggajendra@videha.com पर सेहो पठा सकैत छी।

"विदेह" मानुषिमिह संस्कृताम् :- मैथिली साहित्य आन्दोलनकेँ आगाँ बढ़ाऊ।- सम्पादक। http://www.videha.co.in/
पूर्वपीठिका : इंटरनेटपर मैथिलीक प्रारम्भ हम कएने रही 2000 ई. मे अपन भेल एक्सीडेंट केर बाद, याहू जियोसिटीजपर 2000-2001 मे ढेर रास साइट मैथिलीमे बनेलहुँ, मुदा ओ सभ फ्री साइट छल से किछु दिनमे अपने डिलीट भऽ जाइत छल। ५ जुलाई २००४ केँ बनाओल “भालसरिक गाछ” जे http://www.videha.com/ पर एखनो उपलब्ध अछि, मैथिलीक इंटरनेटपर प्रथम उपस्थितिक रूपमे अखनो विद्यमान अछि। फेर आएल “विदेह” प्रथम मैथिली पाक्षिक ई-पत्रिका http://www.videha.co.in/पर। “विदेह” देश-विदेशक मैथिलीभाषीक बीच विभिन्न कारणसँ लोकप्रिय भेल। “विदेह” मैथिलक लेल मैथिली साहित्यक नवीन आन्दोलनक प्रारम्भ कएने अछि। प्रिंट फॉर्ममे, ऑडियो-विजुअल आ सूचनाक सभटा नवीनतम तकनीक द्वारा साहित्यक आदान-प्रदानक लेखकसँ पाठक धरि करबामे हमरा सभ जुटल छी। नीक साहित्यकेँ सेहो सभ फॉरमपर प्रचार चाही, लोकसँ आ माटिसँ स्नेह चाही। “विदेह” एहि कुप्रचारकेँ तोड़ि देलक, जे मैथिलीमे लेखक आ पाठक एके छथि। कथा, महाकाव्य,नाटक, एकाङ्की आ उपन्यासक संग, कला-चित्रकला, संगीत, पाबनि-तिहार, मिथिलाक-तीर्थ,मिथिला-रत्न, मिथिलाक-खोज आ सामाजिक-आर्थिक-राजनैतिक समस्यापर सारगर्भित मनन। “विदेह” मे संस्कृत आ इंग्लिश कॉलम सेहो देल गेल, कारण ई ई-पत्रिका मैथिलक लेल अछि, मैथिली शिक्षाक प्रारम्भ कएल गेल संस्कृत शिक्षाक संग। रचना लेखन आ शोध-प्रबंधक संग पञ्जी आ मैथिली-इंग्लिश कोषक डेटाबेस देखिते-देखिते ठाढ़ भए गेल। इंटरनेट पर ई-प्रकाशित करबाक उद्देश्य छल एकटा एहन फॉरम केर स्थापना जाहिमे लेखक आ पाठकक बीच एकटा एहन माध्यम होए जे कतहुसँ चौबीसो घंटा आ सातो दिन उपलब्ध होअए। जाहिमे प्रकाशनक नियमितता होअए आ जाहिसँ वितरण केर समस्या आ भौगोलिक दूरीक अंत भऽ जाय। फेर सूचना-प्रौद्योगिकीक क्षेत्रमे क्रांतिक फलस्वरूप एकटा नव पाठक आ लेखक वर्गक हेतु, पुरान पाठक आ लेखकक संग, फॉरम प्रदान कएनाइ सेहो एकर उद्देश्य छ्ल। एहि हेतु दू टा काज भेल। नव अंकक संग पुरान अंक सेहो देल जा रहल अछि। विदेहक सभटा पुरान अंक pdf स्वरूपमे देवनागरी, मिथिलाक्षर आ ब्रेल, तीनू लिपिमे, डाउनलोड लेल उपलब्ध अछि आ जतए इंटरनेटक स्पीड कम छैक वा इंटरनेट महग छैक ओतहु ग्राहक बड्ड कम समयमे ‘विदेह’ केर पुरान अंकक फाइल डाउनलोड कए अपन कंप्युटरमे सुरक्षित राखि सकैत छथि आ अपना सुविधानुसारे एकरा पढ़ि सकैत छथि।
मुदा ई तँ मात्र प्रारम्भ अछि।
अपन टीका-टिप्पणी एतए पोस्ट करू वा अपन सुझाव ई-पत्र द्वारा ggajendra@videha.com पर पठाऊ।

'विदेह' २३२ म अंक १५ अगस्त २०१७ (वर्ष १० मास ११६ अंक २३२)

ऐ  अंकमे अछि :- १. संपादकीय संदेश २. गद्य २.१. जगदीश प्रसाद मण्‍डलक  दूटा लघु कथा   कोढ़िया सरधुआ  आ  त्रिकालदर ्शी २.२. नन...