Thursday, February 21, 2008

कुर्ता फाड़ होली के तैयारी म लालू

भारतीय रेल के कायापलट म अपन केन्द्रीय भूमिका के लेल वाहवाही बटोरे बला रेल मंत्री लालू प्रसाद कुर्ता फाड़ होली खेलै के तैयारी म छैथ ! उदार बजट पेश के क जानता के प्रशंसा बटोरे वला लालू प्रसाद क हर साल होली के बेसब्री स इंतजार रहैत छैन ! लालू प्रसाद आईएएनएस स बातचीत के दरमियाँन कहल्खिन की अपन ड्रीम बजट पेश करै के बाद ओ बहुत खुश छैथ ! आर अई बेर अपन खास अंदाज म होली मनेता ! हुनकर नेतृत्व म भारतीय रेलवे २०० अरब रुपैया के आमदनी केलकैन य ! अपन चिर परिचित शैली म ठहाका लगबैत लालू प्रसाद कहल्खिन की जखन होली के मौसम हुवे त कुर्ता के चिंता के करैत छैथ ! ओ अइयो बेर कुर्ता फाड़ होली खेलता ! हुनकर कहब छैन जे प्रधान मंत्री मनमोहन सिंह, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गाँधी, वित्त मंत्री पी. चिदंबरम आर देश के करोडो लोकेन हुनकर रेल बजट के तारीफ के चुकाल्खिन य ! तही ले क अई बेर हुनका लेल पूरा सुकून स होली मनेनै आसान छैन ! बिहार म सत्ता गवाबई के बाद लालू प्रसाद के लेल होली अधिक मजेदार नै रैह गेलेंन रहा, लेकिन एक बेर फेर ओ अपन पुरान अंदाज म आर मस्ती के संग इ त्यौहार मनाबई के तैयारी म छैथ ! रेल मंत्री लालू प्रसाद होली अपन पत्नी राबड़ी देवी के आधिकारिक निवास १० सर्कुलर रोड म मनेता ! राबड़ी देवी विधान सभा म विपक्ष के नेता छथिन ! लालू प्रसाद होली क रंगीन बनाबई म जुइट गेला य ! होली के मौका पर लालू प्रसाद अपन पार्टी के नेता सभक कपड़ा फैर क हुनका संग होली खेलैत छैथ ! जखन बिहार म लालू - राबड़ी दंपती के शासन रहेंन, त मुख्यमंत्री निवास के होली चर्चा के विषय रहैत रहेंन ! ढोल के थाप पर झुमैत लालू क कैमरा म कैद करै के लेल फोटो ग्राफर के बिच होड़ रहैत रहेंन किछ ओहिना अइयो बेर के होली हेतै लालू प्रसादक

3 comments:

  1. jeetmohan jee,
    pranam sweekar kail jaau, hum pahile din soun ahanke blog dekh rahal chhe aar prateekhsaa mein chalaun je jaldeea pratikriayaa deb. muda aay maukaa bhetal . bahut khoob ahan aa mamtaa jee dunu gote ke swaagat. hamhun bahut jaldee apan ek ta blog dehati babu kahin par maithili mein post sab likhab mamta jee ke agrah chhaiyan.

    ReplyDelete
  2. भैया हम अपने के अनुज भेलो इ प्रणाम के क शर्मिंदा जून करू ! बहुत ख़ुशी मिलत यदि अपने ब्लोग पर किछ लिखब त अपने के मैथिल और मिथिला ब्लोग पर स्वागत अछि ! हम अपने स आमंत्रण भेज देलो य स्वीकारब जय मैथिली, जय मिथिला

    ReplyDelete
  3. ee blog samanya aa gambhir dunu tarahak pathakak lel achhi, maithilik bahut paigh seva ahan lokani kay rahal chhi, takar jatek charchaa hoy se kam achhi.

    dr palan jha

    ReplyDelete

"विदेह" प्रथम मैथिली पाक्षिक ई पत्रिका http://www.videha.co.in/:-
सम्पादक/ लेखककेँ अपन रचनात्मक सुझाव आ टीका-टिप्पणीसँ अवगत कराऊ, जेना:-
1. रचना/ प्रस्तुतिमे की तथ्यगत कमी अछि:- (स्पष्ट करैत लिखू)|
2. रचना/ प्रस्तुतिमे की कोनो सम्पादकीय परिमार्जन आवश्यक अछि: (सङ्केत दिअ)|
3. रचना/ प्रस्तुतिमे की कोनो भाषागत, तकनीकी वा टंकन सम्बन्धी अस्पष्टता अछि: (निर्दिष्ट करू कतए-कतए आ कोन पाँतीमे वा कोन ठाम)|
4. रचना/ प्रस्तुतिमे की कोनो आर त्रुटि भेटल ।
5. रचना/ प्रस्तुतिपर अहाँक कोनो आर सुझाव ।
6. रचना/ प्रस्तुतिक उज्जवल पक्ष/ विशेषता|
7. रचना प्रस्तुतिक शास्त्रीय समीक्षा।

अपन टीका-टिप्पणीमे रचना आ रचनाकार/ प्रस्तुतकर्ताक नाम अवश्य लिखी, से आग्रह, जाहिसँ हुनका लोकनिकेँ त्वरित संदेश प्रेषण कएल जा सकय। अहाँ अपन सुझाव ई-पत्र द्वारा ggajendra@videha.com पर सेहो पठा सकैत छी।

"विदेह" मानुषिमिह संस्कृताम् :- मैथिली साहित्य आन्दोलनकेँ आगाँ बढ़ाऊ।- सम्पादक। http://www.videha.co.in/
पूर्वपीठिका : इंटरनेटपर मैथिलीक प्रारम्भ हम कएने रही 2000 ई. मे अपन भेल एक्सीडेंट केर बाद, याहू जियोसिटीजपर 2000-2001 मे ढेर रास साइट मैथिलीमे बनेलहुँ, मुदा ओ सभ फ्री साइट छल से किछु दिनमे अपने डिलीट भऽ जाइत छल। ५ जुलाई २००४ केँ बनाओल “भालसरिक गाछ” जे http://www.videha.com/ पर एखनो उपलब्ध अछि, मैथिलीक इंटरनेटपर प्रथम उपस्थितिक रूपमे अखनो विद्यमान अछि। फेर आएल “विदेह” प्रथम मैथिली पाक्षिक ई-पत्रिका http://www.videha.co.in/पर। “विदेह” देश-विदेशक मैथिलीभाषीक बीच विभिन्न कारणसँ लोकप्रिय भेल। “विदेह” मैथिलक लेल मैथिली साहित्यक नवीन आन्दोलनक प्रारम्भ कएने अछि। प्रिंट फॉर्ममे, ऑडियो-विजुअल आ सूचनाक सभटा नवीनतम तकनीक द्वारा साहित्यक आदान-प्रदानक लेखकसँ पाठक धरि करबामे हमरा सभ जुटल छी। नीक साहित्यकेँ सेहो सभ फॉरमपर प्रचार चाही, लोकसँ आ माटिसँ स्नेह चाही। “विदेह” एहि कुप्रचारकेँ तोड़ि देलक, जे मैथिलीमे लेखक आ पाठक एके छथि। कथा, महाकाव्य,नाटक, एकाङ्की आ उपन्यासक संग, कला-चित्रकला, संगीत, पाबनि-तिहार, मिथिलाक-तीर्थ,मिथिला-रत्न, मिथिलाक-खोज आ सामाजिक-आर्थिक-राजनैतिक समस्यापर सारगर्भित मनन। “विदेह” मे संस्कृत आ इंग्लिश कॉलम सेहो देल गेल, कारण ई ई-पत्रिका मैथिलक लेल अछि, मैथिली शिक्षाक प्रारम्भ कएल गेल संस्कृत शिक्षाक संग। रचना लेखन आ शोध-प्रबंधक संग पञ्जी आ मैथिली-इंग्लिश कोषक डेटाबेस देखिते-देखिते ठाढ़ भए गेल। इंटरनेट पर ई-प्रकाशित करबाक उद्देश्य छल एकटा एहन फॉरम केर स्थापना जाहिमे लेखक आ पाठकक बीच एकटा एहन माध्यम होए जे कतहुसँ चौबीसो घंटा आ सातो दिन उपलब्ध होअए। जाहिमे प्रकाशनक नियमितता होअए आ जाहिसँ वितरण केर समस्या आ भौगोलिक दूरीक अंत भऽ जाय। फेर सूचना-प्रौद्योगिकीक क्षेत्रमे क्रांतिक फलस्वरूप एकटा नव पाठक आ लेखक वर्गक हेतु, पुरान पाठक आ लेखकक संग, फॉरम प्रदान कएनाइ सेहो एकर उद्देश्य छ्ल। एहि हेतु दू टा काज भेल। नव अंकक संग पुरान अंक सेहो देल जा रहल अछि। विदेहक सभटा पुरान अंक pdf स्वरूपमे देवनागरी, मिथिलाक्षर आ ब्रेल, तीनू लिपिमे, डाउनलोड लेल उपलब्ध अछि आ जतए इंटरनेटक स्पीड कम छैक वा इंटरनेट महग छैक ओतहु ग्राहक बड्ड कम समयमे ‘विदेह’ केर पुरान अंकक फाइल डाउनलोड कए अपन कंप्युटरमे सुरक्षित राखि सकैत छथि आ अपना सुविधानुसारे एकरा पढ़ि सकैत छथि।
मुदा ई तँ मात्र प्रारम्भ अछि।
अपन टीका-टिप्पणी एतए पोस्ट करू वा अपन सुझाव ई-पत्र द्वारा ggajendra@videha.com पर पठाऊ।

'विदेह' २३२ म अंक १५ अगस्त २०१७ (वर्ष १० मास ११६ अंक २३२)

ऐ  अंकमे अछि :- १. संपादकीय संदेश २. गद्य २.१. जगदीश प्रसाद मण्‍डलक  दूटा लघु कथा   कोढ़िया सरधुआ  आ  त्रिकालदर ्शी २.२. नन...